माथे की झुर्रियां हटाने के लिए 10 घरेलू उपाय – How To Get Rid Of Forehead Wrinkles in Hindi

Medically reviewed by Dr. Zeel Gandhi, BAMS Dr. Zeel Gandhi Dr. Zeel GandhiBAMS
Written by , BA (Journalism & Media Communication) Saral Jain BA (Journalism & Media Communication) linkedin_icon
 • 
 

माथे पर उभरने वाली झुर्रियां बढ़ती उम्र की निशानी होती हैं, लेकिन युवावस्था में इनका नजर आना चिंता का विषय है। ये झुर्रियां खूबसूरती पर दाग से कम नहीं होती हैं। बेशक, ये चेहरे की रोनक को बिगाड़ देती हैं, लेकिन परेशान होने की जगह इससे छुटकारा पाना जरूरी है। बाजार में ऐसे कई कॉस्मेटिक उत्पाद मौजूद हैं, जो इन झुर्रियों को ठीक कर सकते हैं, लेकिन इन केमिकल युक्त प्रोडक्ट की जगह घरेलू उपचार करना बेहतर है। स्टाइलक्रेज के इस आर्टिकल में आपको कुछ ऐसे ही घरेलू नुस्खे बताएंगे, जो न सिर्फ आसान हैं, बल्कि ज्यादा महंगे भी नहीं हैं। साथ ही हम माथे की झुर्रियां हटाने के टिप्स भी बताएंगे।

नीचे विस्तार से पढ़ें

माथे की झुर्रियों के सटीक घरेलू उपाय जानने से पहले माथे की झुर्रियां के बारे में जान लेते हैं।

माथे की झुर्रियां क्या हैं? – What are Forehead Wrinkles in Hindi

माथे की झुर्रियां एक तरह का त्वचा विकार है। इसमें माथे की त्वचा पर लाइंस दिखाई देने लगती हैं, जिसे त्वचा पर दिखाई देने वाली सिलवटें भी कहा जाता है। एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन) की ओर से उपलब्ध शोध के अनुसार, चौड़ाई और गहराई में 1 मिमी से कम झुर्रियों को फाइन रिंकल्स कहा जाता है। वहीं, 1 मिमी से चौड़ी और गहरी लाइनों को मोटी झुर्रियां माना जाता है। इसका अर्थ है कि चेहरे पर बनने वाली सामान्य लाइनें हल्की होती हैं, जबकि झुर्रियां अधिक गहरी होती हैं। माथे समेत पूरे चेहरे और हाथों पर झुर्रियां ज्यादा दिखाई देती है (1)

पढ़ते रहें यह आर्टिकल

आइए, अब झुर्रियों के कारणों पर विस्तार से नजर डालते हैं।

माथे की झुर्रियों के कारण – Causes of Forehead Wrinkles in Hindi

माथे पर झुर्रियां पड़ने के कई कारण हो सकते हैं, जिनमें से मुख्य कारणों के बारे में हम नीचे बता रहे हैं (1) 

  1. फोटोडैमेज: माथे की झुर्रियों का कारण सूरज की अल्ट्रा वायलेट किरणों से पैदा होने वाला फोटोडैमेज हो सकता है। यूवी किरणों के चलते त्वचा के अंदर फ्री रेडिकल्स का निर्माण होता है, जिससे त्वचा की इलास्टिन फाइबर को नुकसान होता है और झुर्रियों बनती हैं।
  2. बढ़ती उम्र : इलास्टिन और कोलेजन नामक फाइबर त्वचा को कोमलता और मजबूती प्रदान करते हैं। जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है, वैसे-वैसे त्वचा में इनकी संख्या कम होती जाती है। इस कारण त्वचा पर झुर्रियां पड़नी शुरू हो जाती हैं (2)।
  3. धूम्रपान : धूम्रपान करने वाले व्यक्ति को धूम्रपान न करने वाले लोगों से अधिक झुर्रियों का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए, धूम्रपान माथे की झुर्रियों का कारण बन सकता है।
  4. माथे पर पड़ने वाले बल : कुछ लोग बात-बात पर अपने माथे को सिकोड़ते रहते हैं। इसके कारण से भी माथे पर झुर्रियां नजर आ सकती हैं।
  5. हार्मोन में बदलाव : समय के साथ-साथ शरीर में होने वाले हार्मोनल परिवर्तन के कारण भी माथे पर झुर्रियां हो सकती हैं। खासकर रजोनिवृत्ति के बाद महिलाओं में यह समस्या ज्यादा देखी जाती है। इसलिए, उन्हें हार्मोन थेरेपी लेने की सलाह भी दी जाती है (3)।
  6. अन्य बीमारियां : माथे की झुर्रियों का कारण अंदरूनी शारीरिक कमी भी हो सकती है। शोध कहते हैं कि किसी बीमारी के लक्षण के रूप में भी माथे पर झुर्रियां दिखाई दे सकती हैं।

आगे है और जानकारी

माथे की झुर्रियों के कारण जानने के बाद अब माथे की झुर्रियां हटाने के घरेलू उपाय पर चर्चा करते हैं।

घर में ही माथे की झुर्रियों से कैसे छुटकारा पाएं – How to Reduce Forehead Wrinkles At Home in Hindi

माथे की झुर्रियों का इलाज त्वचा विशेषज्ञ और सर्जन के पास जाए बिना भी संभव हो सकता है। माथे की ये रेखाएं शुरुआत में अजीब लग सकती हैं, लेकिन माथे की झुर्रियां हटाने के घरेलू उपाय करने से इससे निजात पाया जा सकता है। हां, अगर समस्या गंभीर है और घरेलू उपचार से भी असर नहीं हो रहा, तो त्वचा विशेषज्ञ से मिलना चाहिए। यहां हम स्पष्ट कर दें कि इन घरेलू उपचार पर वैज्ञानिक शोध कम हुए हैं, लेकिन अधिकतर लोग झुर्रियों के लिए इनका इस्तेमाल करते हैं।

1. नारियल का तेल 

सामग्री :

  • ऑर्गेनिक नारियल तेल

कैसे करें इस्तेमाल : 

  • नारियल तेल की कुछ बूंदें लें और अपने चेहरे व माथे पर लगाएं।
  • फिर कुछ मिनट तक हल्की मालिश करें।

कितनी बार करें :

  • रोज रात में सोने से पहले यह प्रक्रिया दोहराएं।

कैसे है लाभदायक :

त्वचा को प्राकृतिक रूप से मॉइस्चराइज करने के लिए नारियल तेल को सबसे बेहतर माना गया है, जिस कारण झुर्रियों की समस्या कुछ कम हो सकती है (4)। साथ ही इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण भी होते हैं, जो फ्री रेडिकल्स को हटाने में मदद कर सकते हैं (5)। हमने लेख में ऊपर बताया भी है कि फ्री रेडिकल्स के कारण झुर्रियों की समस्या होती है।

2. अरंडी का तेल 

सामग्री :

  • अरंडी का तेल

कैसे करें इस्तेमाल :

  • जैतून के तेल की एक-दो बूंदें लें और माथे पर अच्छी तरह लगाएं।
  • रात भर तेल को माथे पर लगा रहने दें।

कितनी बार करें :

  • रात को सोने से पहले या दिन में किसी भी वक्त इस तेल का प्रयोग किया जा सकता है।

कैसे है लाभदायक :

अरंडी के तेल में रिसिनोलिक एसिड पाया जाता है, जिसे बेहतरीन स्किन-कंडीशनिंग एजेंट के रूप में जाना जाता है (6)। यह तेल एंटीऑक्सीडेंट गुण से भी समृद्ध होता है (7), जो माथे की त्वचा को स्वस्थ रखने के साथ-साथ असमय माथे पर पड़ने वाली रेखाओं को भी मुक्त कर सकता है। इसलिए, माथे की झुर्रियां हटाने के घरेलू उपाय के तहत अरंडी का तेल इस्तेमाल किया जा सकता है।

3. सिट्रस फल 

सामग्री :

  • ताजा नींबू का रस
  • कॉटन बॉल

कैसे करें इस्तेमाल :

  • नींबू के रस में रूई डुबोएं और इसे माथे पर लगाएं। अगर आपकी त्वचा संवेदनशील है, तो नींबू के रस के साथ बराबर मात्रा में पानी मिला लें।
  • रस को सूखने दें और बाद में पानी से धो लें।
  • आप सिट्रस फल जैसे नींबू और संतेरे के छिलकों को ग्राइंड कर उसमें गुलाब जल मिलाकर फेस पैक बना सकते हैं। इसके अलावा, अपने भोजन में भी सिट्रस फलों को स्थान दें।

कितनी बार करें :

  • नींबू का रस दिन में एक बार लगाएं।

कैसे है लाभदायक :

नींबू और संतरे जैसे सिट्रस फल को पारपंरिक रूप से त्वचा की देखभाल में इस्तेमाल किया जाता है। इसके छिलके से निकले वाले अर्क में एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-कोलेजन और एंटी-इलास्टेस गुण पाया जाता है। इन गुणों के कारण यह झुर्रियों की समस्या को कुछ हद तक कम कर सकता है। साथ ही सिट्रल फलों में एंटी-एजिंग गुण भी पाया जाता है, जो समय से पहले चेहरे पर आने वाली झुर्रियों से बचा सकता है। इस बात की पुष्टि एनसीबीआई की ओर से उपलब्ध एक रिसर्च पेपर में होती है (8)।

4. मसाज 

सामग्री :

  • जैतून का तेल

कैसे करें इस्तेमाल :

  • 10 मिनट तक हल्के गर्म जैतून के तेल से चेहरे की मालिश करें। मालिश के दौरान उंगलियों को ऊपर और नीचे की ओर ले जाएं।
  • बेहतर परिणाम के लिए आप नारियल तेल की कुछ बूंदें जैतून के तेल में मिला सकते हैं।

कितनी बार करें :

  • आप रोजाना एक या दो बार यह प्रक्रिया दोहराएं।

कैसे है लाभदायक :

नारियल तेल को जैतून तेल के साथ मिलकर एक प्रभावी मॉइस्चराइजर बनाया जा सकता है, जो त्वचा को लंबे समय तक हाइड्रेट रख सकता है (9)। तेल की मालिश से रक्त संचार में सुधार होता है। साथ ही चेहरे की मांसपेशियों को भी आराम मिलता है, जिससे झुर्रियां कम होने में मदद मिल सकती हैं (10)। इसलिए, माथे की झुर्रियां हटाने के उपाय के तौर पर नारियल का तेल एक बार जरूर आजमाकर देखें।

5. अलसी के बीज

सामग्री :

  • अलसी का तेल

कैसे करें इस्तेमाल :

  • एक दिन में दो से चार बार एक चम्मच अलसी के तेल का सेवन करें।

कितनी बार करें :

  • इस प्रक्रिया को दो हफ्ते तक जारी रखें।

कैसे है लाभदायक :

अलसी का तेल ओमेगा-3 फैटी एसिड और एंटीऑक्सीडेंट गुणों से समृद्ध होता है। यह त्वचा को चिकनाई देता है और बाहरी परतों को ठीक करने का काम करता है। आयुर्वेद में भी कहा गया है कि अलसी का तेल त्वचा की इलास्टिसिटी व पीएच स्तर को बेहतर कर सकता है। साथ ही यह त्वचा में मॉइस्चर को बनाए रखता है। इससे झुर्रियों की समस्या कुछ हद तक कम हो सकती हैं (11)। इस प्रकार माथे की झुर्रियां हटाने के घरेलू उपाय के तहत असली को इस्तेमाल करना कारगर साबित हो सकता है।

6. एलोवेरा जेल 

सामग्री :

  • दो चम्मच एलोवेरा जेल
  • एक अंडे का सफेदी वाला भाग

कैसे करें इस्तेमाल :

  • एलोवेरा जेल को अंडे के सफेद भाग में अच्छी तरह से मिला लें।
  • अब इस मिश्रण को माथे पर लगाएं।
  • इसे चेहरे पर भी लगाया जा सकता है।
  • मिश्रण को 10-15 मिनट तक लगा रहने दें और बाद में गुनगुने पानी से धो लें।

कितनी बार करें :

  • हफ्ते में दो-तीन बार इस प्रक्रिया को करें।

कैसे है लाभदायक :

एलोवेरा त्वचा में फाइब्रोब्लास्ट को उत्तेजित करता है, जिससे कोलेजन और इलास्टिन फाइबर का निर्माण होता है। इनके निर्माण से त्वचा में इलास्टिसिटी बढ़ती है और झुर्रियों होने की आशंका कम हो जाती है। साथ ही इसमें मौजूद मॉइस्चराइजर गुण भी झुर्रियों से बचाने में मदद कर सकता है। फाइब्रोब्लास्ट बायोलॉजिकल सेल का एक प्रकार होता है, जो कोलेजन के उत्पादन में मदद करता है (12)। वहीं, अंडे का उपयोग करने से झुर्रियां कम हो सकती हैं, क्योंकि इसमें एंटीऑक्सीडेंट होते हैं, जो कोशिका स्तर पर काम करते हैं। अंडा फ्री रेडिकल्स से हुई क्षति को सुधारने में मदद कर सकता है (13)। इस प्रकार माथे पर पड़ी झुर्रियों को हटाने के लिए एलोवेरा जेल का इस्तेमाल कर सकते हैं।

7. जोजोबा तेल 

सामग्री :

  • जोजोबा तेल की कुछ बूंदें

कैसे करें इस्तेमाल :

  • उंगलियों पर तेल लेकर दो-तीन मिनट तक माथे की मालिश करें।
  • 20 मिनट तक तेल को लगे रहने दें और बाद में गुनगुने पानी से धो लें।

कितनी बार करें :

  • रोज रात को सोने से पहले यह प्रक्रिया दोहराएं।

कैसे है लाभदायक :

माथे की लकीरे हटाने के उपाय के तहत जोजोबा तेल का इस्तेमाल किया जा सकता है। जोजोबा तेल में एस्टर होता है, जो त्वचा पर बढ़ती उम्र के असर को कम कर सकता है। साथ ही इसमें एंटी-एजिंग व मॉइस्चराइजर गुण भी होता है (14)।

8. पेट्रोलियम जेली

सामग्री :

  • पेट्रोलियम जेली (आवश्यकतानुसार)

कैसे करें इस्तेमाल :

  • अपने माथे को हल्का गीला करें और थोड़ी मात्रा में पेट्रोलियम जेली लगाएं।
  • अब माथे की मालिश करें, ताकि त्वचा बहुत चिपचिपी न लगे।

कितनी बार करें :

  • रोजाना रात में सोने से पहले करें।

कैसे है लाभदायक :

माथे की झुर्रियों से निजात पाने के लिए पेट्रोलियम जेली का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। यह एक पेट्रोलियम उत्पाद है, जिसका इस्तेमाल ज्यादातर घरों में किया जाता है। इसमें पेट्रोलेटम होता है, जो त्वचा को हाइड्रेट रखने में मदद करता है और महीन रेखाओं को रोकने का काम कर सकता है (15)। लेख में आगे आप माथे की झुर्रियां हटाने के टिप्स भी जानेंगे, इसलिए यह आर्टिकल अंत तक जरूर पढ़ें।

9. मनुका शहद 

सामग्री :

  • एक-दो चम्मच शहद
  • वाश क्लॉथ
  • गर्म पानी

कैसे करें इस्तेमाल :

  • गर्म पानी में वाश क्लॉथ को डुबाएं और निचोड़कर अतिरिक्त पानी निकाल लें।
  • अब एक-दो मिनट तक कपड़े को अपने माथे पर रखें, ताकि रोम छिद्र खुल जाएं।
  • इसके बाद कपड़े को हटाएं और मनुका शहद की कुछ मात्रा माथे पर लगाएं।
  • शहद को 20 मिनट तक माथे पर लगे रहने दें और बाद में गुनगुने पानी से धो लें।

कितनी बार करें :

  • यह प्रक्रिया रोजाना एक बार दोहराएं।

कैसे है लाभदायक :

मनुका शहद में प्रोटीन, अमीनो एसिड, विटामिन और जरूरी मिनरल पाए जाते हैं। इसमें मौजूद एंटीमाइक्रोबियल गुण के कारण विभिन्न कॉस्मेटिक उत्पादों में इसका इस्तेमाल किया जाता है। खासकर, मनुका शहद में मेथिग्लॉक्सील जैसा एक्टिव कंपाउंड पाया जाता है, जिस कारण यह झुर्रियों को होने से रोकता है और पीएच का स्तर सामान्य बनाए रखता है (16)। इसलिए, माथे की झुर्रियां हटाने के उपाय के तहत एक बार शहद को इस्तेमाल करके देखें।

10. बादाम

सामग्री :

  • 4 बादाम
  • 1 चम्मच मलाई
  • एक गुलाब की कली

कैसे करें इस्तेमाल :

  • तीनों सामग्रियों को मिक्सी में पीसकर पेस्ट बना लें।
  • फिर इस पेस्ट को चेहरे पर समान रूप से लगाएं।
  • सूखने के बाद ठंडे पानी से चेहरा धो लें।
  • इसके अलावा, भोजन में बादाम के तेल का सेवन भी कर सकते हैं।

कितनी बार करें :

  • हफ्ते में 2 बार यह प्रक्रिया दोहराएं।

कैसे है लाभदायक :

बादाम का तेल त्वचा को कोमल बनाता है और इसे जवां रखने में मदद कर सकता है। बादाम को अगर मलाई और गुलाब की कली के साथ लगाया जाए, तो यह सौंदर्य को बनाए रखने में सहायता कर सकता है। यह पेस्ट त्वचा को ब्लीच करता है और इसे अच्छा पोषण दे सकता है। झुर्रियां, ब्लैक हेड्स, त्वचा का सूखापन, मुंहासों से बचाव और चेहरे को तरोताजा रखने के लिए बादाम का इस्तेमाल किया जा सकता है (17)। साथ ही बादाम या बादाम तेल का नियमित रूप से इस्तेमाल करने से संभव है कि रजोनिवृत्ति काल में महिलाओं को झुर्रियों का सामना न करना पड़े (18)। इसलिए, माथे की झुर्रियां हटाने के टिप्स के तौर पर बादाम का इस्तेमाल किया जा सकता है।

लेख को अंत तक पढ़ें

आइए, अब जानते हैं कि माथे की झुर्रियों का इलाज कैसे किया जा सकता है।

माथे की झुर्रियां का इलाज – Treatment of Forehead Wrinkles in Hindi

माथे की झुर्रियां का इलाज घरेलू उपचार के साथ-साथ मेडिकल ट्रीटमेंट से भी किया जा सकता है। मेडिकल ट्रीटमेंट तभी करवाना चाहिए, जब घरेलू उपचार कारगर साबित न हों। झुर्रियों का मेडिकल ट्रीटमेंट दवाइयों व सर्जिकल प्रक्रिया के जरिए किया जाता है। यहां हम इसके दोनों ही तरीके बता रहे हैं (19)।

1. दवाइयां 

  • रेटिनोइड : डॉक्टर ऐसी दवा दे सकते हैं, जिसमें रेटिनोइड होता है। रेटिनोइड एक प्रकार का विटामिन-ए होता है। यह झुर्रियों, दाग-धब्बों व रूखी त्वचा को ठीक करने में मदद कर सकता है। एनसीबीआई की साइट पर उपलब्ध शोध की माने, तो इसमें एंटी-रिंकल प्रभाव भी पाया जाता है (20)।
  • क्रीम : झुर्रियों की समस्या को एंटी-रिंकल क्रीम से भी दूर किया जा सकता है। इस क्रीम में अल्फा-हाइड्रॉक्सी एसिड प्रभाव होता है। अब किसके लिए कौन सी क्रीम बेहतर होती है, इस बारे में डॉक्टर ही बेहतर बता सकते हैं।

2. सर्जिकल प्रक्रिया

  • न्यूरोटॉक्सिन इंजेक्शन: बोटुलिनम टॉक्सिन (बीटी) या बोटोक्स एक न्यूरोटॉक्सिन इंजेक्शन है, जिसे क्लोस्ट्रीडियम बोटुलिनम से बनाया जाता है। स्किन स्पेशलिस्ट इसका इस्तेमाल चेहरे की झुर्रियों और रेखाओं को खत्म करने में करते हैं। माथे की लकीरें हटाने के उपाय के तहत इसे स्थायी समाधान नहीं माना जाता है। इसका असर एक समय बाद खत्म हो जाता है और दोबारा बोटोक्स लेने की जरूरत हो सकती है (21)।
  • लेजर रिसर्फेसिंग: इस विधि में स्किन सर्जन एपिडर्मल (त्वचा) कोशिकाओं को समाप्त करने के लिए एक अल्ट्रा पल्स्ड लेजर बीम का उपयोग करते हैं। इससे झुर्रियों कुछ कम हो सकती है। इसे माथे की झुर्रियों को खत्म करने की कारगर विधि माना गया है (22)।
  • एक्यूपंक्चर: फेशियल कॉस्मेटिक एक्यूपंक्चर (FCA) के नाम से जानी जाने वाली यह प्रक्रिया चेहरे, सिर और गर्दन की इलास्टिसिटी बढ़ाने के लिए अपनाई जाती है। इसे माथे की झुर्रियों के इलाज का अच्छा विकल्प माना जा सकता है (23)।

आगे है और जानकारी

आइए, अब जानते हैं कि माथे की झुर्रियां ठीक करने के लिए किस प्रकार फेस योग करने चाहिए।

माथे की झुर्रियों से राहत पाने के लिए फेस योग

जी हां, वैज्ञानिकों ने इस बात की पुष्टि की है कि चेहरे की एक्सरसाइज या फेस योग करने से चेहरे पर रोनक कायम रखी जा सकती है। फेस योग मांसपेशियों के विकास को प्रेरित कर सकता है (24)। झुर्रियों को कम करने के लिए सिम्हा मुद्रा, जीभ बाधा योग, जालंधर बंध, फिश फेस आदि योगमुद्राएं फायदेमंद हो सकती हैं।

बने रहें हमारे साथ

अब माथे की झुर्रियां से बचने के लिए कुछ उपायों पर एक नजर डाल लेते हैं।

माथे की झुर्रियां से बचने के उपाय – Prevention Tips for Forehead Wrinkles in Hindi

माथे पर झुर्रियां न पड़ें, इसके लिए कुछ बातों का खास ख्याल रखा जा सकता है जैसे :

  • त्वचा रोग विशेषज्ञ से सलाह लेकर एंटी-एजिंग फेशियल का उपयोग कर सकते हैं। फेशियल उत्पाद में कई सक्रिय तत्व होते हैं, जो चेहरे पर फाइन लाइन और झुर्रियों को कम करने में मदद कर सकते हैं।
  • कई अध्ययनों से पता चलता है कि रेटिनोइड्स या विटामिन-ए फाइन लाइन और झुर्रियों को कम करने में मदद कर सकते हैं। इसलिए, आहार में इनका प्रचुर मात्रा में सेवन करें।
  • नियमित वर्कआउट और शारीरिक गतिविधि बनाए रखना भी त्वचा का स्वास्थ्य बढ़ा सकता है।
  • त्वचा को हाइड्रेटेड रखने के लिए आवश्यक है कि पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं।
  • अधिक समय तक सूरज की रोशनी में रहने से बचें, क्योंकि इससे माथे की झुर्रियां बढ़ सकती है।
  • माथे की लकीरे हटाने के उपाय के तहत धूम्रपान और शराब के सेवन जैसी आदतों को छोड़ दें, क्योंकि ये आपकी त्वचा के टिश्यू को नुकसान पहुंचाते हैं। इससे त्वचा समय से पहले बूढ़ी नजर आने लगती है।
  • झुर्रियों से बचाव के लिए पर्याप्त नींद लेना और तनाव से दूर रहना भी जरूरी है।

इससे तो कोई इंकार नहीं करेगा कि तय समय पर हर किसी की त्वचा पर झुर्रियों का प्रभाव नजर आने लगता है। फिर भी इस लेख में बताए गए माथे की झुर्रियां हटाने के उपाय की मदद से इसके असर को कुछ कम जरूर किया जा सकता है। वहीं, अगर आप संतुलित खान-पान और जीवनशैली का पालन करते हैं और नियमित रूप से व्यायाम करते हैं, तो लंबे समय तक इस समस्या से बचा जा सकता है। त्वचा, बाल व स्वास्थ्य से संबंधित और जानकारी के लिए आप हमारे अन्य आर्टिकल पढ़ सकते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

क्या माथे की झुर्रियों से निजात पाया जा सकता है?

हां, सही खान-पान और ऊपर लिखे घरेलू नुस्खों को अपनाने से माथे की झुर्रियों का जोखिम कम किया जा सकता है। साथ ही अगर घरेलू उपचार से प्रभाव नजर न आए, तो मेडिकल ट्रीटमेंट की मदद ली जा सकती है।

क्या बोटोक्स कराने से झुर्रियां और बढ़ सकती है?

बोटोक्स वास्तव में चेहरे की मांसपेशियों को सिकुड़ने से रोकता है, इसलिए यह झुर्रियों की स्थिति सुधार सकता है।

माथे पर झुर्रियां कब दिखाई देती हैं?

माथे पर झुर्रियां पड़ने की कोई निश्चित उम्र नहीं होती। ये 20 साल की उम्र में दिखनी शुरू हो सकती हैं या फिर 50 की उम्र तक भी दिखाई न दें। चेहरे और माथे पर झुर्रियों और रेखाओं का दिखना इस बात पर निर्भर करता है कि आप बाहरी और आंतरिक रूप से अपनी त्वचा का किस प्रकार ध्यान रखते हैं।

References

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. Wrinkles
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4278179/
  2. Forehead wrinkles: a histological and immunohistochemical evaluation
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/25196685/
  3. SKIN WRINKLES AND RIGIDITY IN EARLY POSTMENOPAUSAL WOMEN VARY BY RACE/ETHNICITY: BASELINE CHARACTERISTICS OF THE SKIN ANCILLARY STUDY OF THE KEEPS TRIAL
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3026089/
  4. Anti-Inflammatory and Skin Barrier Repair Effects of Topical Application of Some Plant Oils
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5796020/
  5. Cocos nucifera (L.) (Arecaceae): A phytochemical and pharmacological review
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4671521/
  6. Final report on the safety assessment of Ricinus Communis (Castor) Seed Oil, Hydrogenated Castor Oil, Glyceryl Ricinoleate, Glyceryl Ricinoleate SE, Ricinoleic Acid, Potassium Ricinoleate, Sodium Ricinoleate, Zinc Ricinoleate, Cetyl Ricinoleate, Ethyl Ricinoleate, Glycol Ricinoleate, Isopropyl Ricinoleate, Methyl Ricinoleate, and Octyldodecyl Ricinoleate
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/18080873/
  7. Antioxidant, Antimicrobial, and Free Radical Scavenging Potential of Aerial Parts of Periploca aphylla and Ricinus communis
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3418662/
  8. Evaluation of Skin Anti-aging Potential of Citrus reticulata Blanco Peel
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4908842/
  9. Effect of olive and sunflower seed oil on the adult skin barrier: implications for neonatal skin care
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/22995032/
  10. Effects of a skin-massaging device on the ex-vivo expression of human dermis proteins and in-vivo facial wrinkles
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5383004/#sec024title
  11. Flax and flaxseed oil: an ancient medicine & modern functional food
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4152533/
  12. ALOE VERA: A SHORT REVIEW
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2763764/
  13. Reduction of facial wrinkles by hydrolyzed water-soluble egg membrane associated with reduction of free radical stress and support of matrix production by dermal fibroblasts
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5072512/
  14. Jojoba in dermatology: a succinct review
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/24442052/
  15. Efficacy and Safety of an Anti-aging Technology for the Treatment of Facial Wrinkles and Skin Moisturization
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5774901/
  16. Honey in dermatology and skin care: a review
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/24305429/
  17. Almond : A health diamond
    http://www.researchjournal.co.in/upload/assignments/1_147-151.pdf
  18. Prospective randomized controlled pilot study on the effects of almond consumption on skin lipids and wrinkles
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6916293/
  19. Wrinkles
    https://medlineplus.gov/ency/article/003252.htm
  20. Retinoids: active molecules influencing skin structure formation in cosmetic and dermatological treatments
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6791161/#sec4title
  21. Botulinum Toxin Application in Facial Esthetics and Recent Treatment Indications (2013-2018)
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6489509/
  22. [Facial wrinkles–ultrapulsed CO2 laser: alternative or supplement to surgical face lift?]
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/9333279/
  23. Effect of Facial Cosmetic Acupuncture on Facial Elasticity: An Open-Label, Single-Arm Pilot Study
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3745857/
  24. Association of Facial Exercise With the Appearance of Aging
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5885810/
Was this article helpful?
thumbsupthumbsdown
Dr. Zeel Gandhi is an Ayurvedic doctor with 7 years of experience and an expert at providing holistic solutions for health problems encompassing Internal medicine, Panchakarma, Yoga, Ayurvedic Nutrition, and formulations. She graduated as a top ranker from Dr. D.Y.Patil College of Ayurveda and Research Centre , Navi Mumbai, and is a specialist in Panchakarma therapies. She believes that Ayurveda...read full bio

ताज़े आलेख