सामग्री और उपयोग

मेथी के फायदे, उपयोग और नुकसान – Fenugreek Seeds (Methi) Benefits, Uses and Side Effects in Hindi

by
मेथी के फायदे, उपयोग और नुकसान – Fenugreek Seeds (Methi) Benefits, Uses and Side Effects in Hindi Hyderabd040-395603080 January 10, 2019

सर्दियां आते ही बाजार में मेथी बहुतायत नजर आने लगती है। सब्जी से लेकर पराठे तक में इसका प्रयोग किया जाता है। जहां यह खाने में स्वादिष्ट है, वहीं आयुर्वेद के नजरिए से भी इसके कई फायदे हैं। भारत में सदियों से इसके पत्ते और दानों को आयुर्वेदिक औषधि के रूप में प्रयोग किया जा रहा है। इसका पौधा दो-तीन फुट लंबा होता है और इसकी फली में छोटे-छोटे पीले-भूरे रंग के सुगंधित दाने होते हैं। भूमध्य क्षेत्र, दक्षिण यूरोप और पश्चिम एशिया में इसकी खेती बहुतायत में होती है। स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम मेथी के फायदों (methi ke fayde) के बारे में ही बताएंगे। साथ ही मेथी से नुकसान के बारे में भी जानकारी देंगे।

विषय सूची


मेथी के नाम – Names of Fenugreek Seeds in Hindi

भारत में क्षेत्रवार के अनुसार मेथी को अलग-अलग नामों से बुलाया जाता है। जहां हिंदी, गुजराती, मराठी, बंगाली और पंजाबी में इसे मेथी कहते हैं, वहीं संस्कृत में इसका नाम मेथिका है। कन्नड़ में इसे मेन्तिया, तेलुगु में मेंतुलु, तमिल में वेंडयम, मलयालम में वेन्तियम, अंग्रेजी में फेनुग्रीक और लेटिन में त्रायिगोनेल्ला फोएनम ग्रीकम के नाम से जाना जाता है।

आइए, अब हम सेहत, त्वचा और बालों के लिए मेथी के फायदे (methi ke fayde) जानते हैं।

मेथी के फायदे – Benefits of Fenugreek Seeds in Hindi

1. डायबिटीज :

शुगर के मरीजों को अक्सर अपनी डाइट में मेथी के दाने शामिल करने के लिए कहा जाता है। इसके सेवन से शुगर को नियंत्रित करने में मदद मिलती है।

Diabetes ke Liye Methi Pinit

Shutterstock

कैसे है फायदेमंद

टाइप-2 डायबिटीज के लिए मेथी के दाने किस तरह से फायदेमंद है, इस पर वैज्ञानिकों ने कई शोध किए, जिसके सकारात्मक प्रभाव नजर आए (1)। शोध में पाया गया कि मेथी के दाने में घुलनशील फाइबर होता है, जो पाचन की क्रिया को धीरे कर देता है। यह कार्बोहाइड्रेट के पाचन और अवशोषण की दर को कम कर देता है। मेथी के दाने रक्त में शुगर की मात्रा को नियंत्रित करते हैं और इंसुलिन की संवेदनशीलता को बेहतर करते हैं।

2. कोलेस्ट्रॉल :

शोध के अनुसार मेथी के दानों में कोलेस्ट्रॉल को कम करने की क्षमता है। खासकर, यह एलडीएल यानी खराब कोलेस्ट्रॉल को शरीर से खत्म करने में कारगर है।

कैसे है फायदेमंद

मेथी के दानों में नारिंगेनिन नामक फ्लेवोनोइड होता है। यह रक्त में लिपिड के स्तर को कम कर सकने में सक्षम होता है। साथ ही इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जिस कारण मरीज का उच्च कोलेस्ट्रॉल कम हो सकता है (2)।

3. आर्थराइटिस का दर्द :

उम्र बढ़ने के साथ-साथ जोड़ों में सूजन आने लगती है, जिस कारण असहनीय दर्द होता है। इसे जोड़ों का दर्द या फिर आर्थराइटिस कहा जाता है। इससे निपटने के लिए मेथी रामबाण नुस्खा है, जिसे सदियों से इस्तेमाल किया जा रहा है।

Arthritis Pain ke Liye Methi Pinit

Shutterstock

कैसे है फायदेमंद

मेथी में एंटीइंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं। ये गुणकारी तत्व जोड़ों की सूजन को कम करके आर्थराइटिस के दर्द से राहत दिलाते हैं। मेथी में आयरन, कैल्शियम और फास्फोरस भी भरपूर मात्रा में पाया जाता है। इसलिए, मेथी के सेवन से हड्डियों व जोड़ों को जरूरी पोषक तत्व मिलते हैं और स्वस्थ व मजबूत रहते हैं (3) (4)। मेथी के दानों में पेट्रोलियम ईथर एक्सट्रैक्ट नामक यौगिक भी पाया जाता है। साथ ही लिनोलिक व लिनोलेनिक एसिड भी होता है। इसलिए, मेथी दाने के फायदे (methi dana ke fayde) जोड़ों व हड्डियों में होने वाले दर्द से भी राहत दिला सकते हैं।

4. ह्रदय के लिए :

ह्रदय बेहतर तरीके से काम कर सके, उसके लिए मेथी के सेवन की सलाह दी जाती है। जो लोग नियमित रूप से मेथी का सेवन करते हैं, उन्हें दिल का दौरा पड़ने की आशंका कम होती है और अगर दौरा पड़ भी जाए, तो जानलेवा स्थिति से बचा जा सकता है।

कैसे है फायदेमंद

विभिन्न शोधों में पाया गया है मृत्यु दर के पीछे दिल का दौरा एक प्रमुख कारण होता है। यह तब होता है, जब ह्रदय की धमनियों में रुकावट आ जाती है। वहीं, मेथी के दाने इस स्थिति से बचाने में सक्षम होते हैं। अगर दिल का दौरा पड़ भी जाए, तो ऑक्सीडेटिव तनाव को पैदा होने से रोकते हैं। ह्रदयाघात के दौरान ऑक्सीडेटिव तनाव की स्थिति जानलेवा साबित हो सकती है। साथ ही मेथी के बीच शरीर में रक्त प्रवाह को संतुलित रखते हैं, जिस कारण धमनियों में किसी भी प्रकार की रुकावट पैदा नहीं होती (5)।

5. मासिक धर्म में फायदेमंद :

हर महिला को मासिक धर्म के दौरान असहनीय दर्द से गुजरना पड़ता है। मेथी के दाने इससे राहत दिलाने में कारगर काम करते हैं। साथ ही मासिक धर्म से जुड़ी अन्य समस्याओं से भी राहत दिलाते हैं।

कैसे है फायदेमंद

मेथी के दानों में एंटीइंफ्लेमेटरी व एनाल्जेसिक गुण पाए जाते हैं। वैज्ञानिक शोधों में इस बात की पुष्टि की गई है कि मेथी के ये गुणकारी तत्व मासिक धर्म में होने वाली हर तरह की पीड़ा से राहत दिला सकते हैं (6)। इतना ही नहीं, मेथी के दानों से बना पाउडर भी दर्द को कम कर सकता है और थकावट, सिरदर्द व जी-मिचलाना जैसी समस्याओं को कम करता है। मेथी में सेपोनिन्स व डायोसजेनिन तत्व भी पाए जाते हैं, जो शरीर में एस्ट्रोजन की तरह काम करते हैं। ये मासिक धर्म के समय महिलाओं को होने वाले पेट दर्द से राहत दिलाते हैं।

6. पाचन तंत्र :

आजकल हमारा खान-पान जिस तरह को हो गया है, उसके चलते हमारा पाचन तंत्र लगातार खराब हो रहा है। साथ ही पेट से जुड़ी अन्य बीमारियां भी हो जाती हैं। इससे निपटने के लिए मेथी का सेवन करना बेहतर उपाय है।

Digestive System ke Liye Methi Pinit

Shutterstock

कैसे है फायदेमंद

बदहजमी, कब्ज, एसिडिटी और गैस जैसी समस्याओं को मेथी के सेवन से दूर किया जा सकता है। कब्ज और अल्सर के कारण खराब हुए पाचन तंत्र को ठीक करने में मेथी कारगर घरेलू नुस्खा है। मेथी के दानों में अत्यधिक मात्रा में फाइबर पाया जाता है, जिस कारण यह भोजन को पचाकर पाचन तंत्र को बेहतर करता है। साथ ही यह प्राकृतिक ल्यूब्रिकेंट है, जो पेट व आंतों को चिकना व आरामदायक बना कब्ज जैसी बीमारियों को दूर करता है (7)। इसके सेवन से मल सामान्य होकर आसानी से शरीर से बाहर निकल जाता है। इतना ही नहीं मेथी के दाने एपेंडिक्स के दौरान पेट में जमा हुई गंदगी को भी साफ करने का काम करते हैं। इस प्रकार मेथी दाने के फायदे (methi dana ke fayde) पेट की बीमारियों से राहत दिलाते हैं।

7. कैंसर :

कई अध्ययनों में पाया गया है कि मेथी के दानों से निकला तेल कैंसर से लड़ने में सहायक होता है।

कैसे है फायदेमंद

कैंसर पर किए गए कई अध्ययनों से खुलासा हुआ है कि मेथी में कैंसर से निपटने की क्षमता होती है। मेथी के दाने से निकले तेल में एंटीकैंसर गुण होते हैं, जो कैंसर सेल के प्रभाव को कम कर सकते हैं। मेथी के अर्क का सेवन करने से प्रतिरक्षा तंत्र पहले से ज्यादा सक्रिया हो जाता है और कैंसर कोशिकाओं को नष्ट कर देता है (8)।

8. बढ़ता है स्तन-दूध :

स्तनपान करा रहीं महिलाओं को मेथी का सेवन जरूर करना चाहिए, इससे स्तनों में दूध की मात्रा बढ़ती है। एशिया में शिशुओं को स्तनपान कराने वाली कई माताएं इसका प्रयोग करती हैं।

Breast-Milk increase ke Liye Methi Pinit

Shutterstock

कैसे है फायदेमंद

मेथी प्राकृतिक औषधि की तरह काम करती है। इसे फाइटोएस्ट्रोजन का प्रमुख स्रोत माना गया है। यह स्तपान कराने वाली माताओं में दूध के स्तर को बढ़ाने में मदद करती है (9)। मेथी के दाने की चाय पीने से भी स्तनों में दूध की मात्रा बढ़ सकती है। माना जाता है कि मेथी में मैग्नीशियम और जरूरी विटामिन्स होते हैं, जो माताओं में दूध की गुणवत्ता को बढ़ा देते हैं। इसलिए, यह दूध पीने से नन्हे शिशु को भी जरूरी पोषक तत्व मिल जाते हैं और उसका वजन अच्छा होता है (10)।

9. वजन नियंत्रण :

अगर आप वजन कम करना चाहते हैं, तो मेथी आपकी मदद कर सकती है। इसे आप अपनी डाइट में जरूर शामिल करें।

कैसे है फायदेमंद

मेथी के दाने शरीर में फैट को जमा नहीं होने देते। साथ ही ये लिपिड और ग्लूकोज मेटाबॉलिज्म के स्तर में सुधार लाते हैं, जिससे वजन कम होने लगता है (11)।

10. रक्तचाप में सुधार :

उच्च रक्तचाप कई तरह की बीमारियों का कारण बन सकता है। रक्तचाप अधिक होने पर ह्रदय रोग हो सकते हैं। इससे निपटने के लिए मेथी का सेवन किया जा सकता है।

Blood Pressure ke Liye Methi Pinit

Shutterstock

कैसे है फायदेमंद

उच्च रक्तचाप का एक मुख्य कारण सोडियम है। जब डाइट में इसकी मात्रा बढ़ती है, तो रक्तचाप अधिक हो जाता है। इसलिए, मेथी का सेवन करने की सलाह दी जाती है। एक चम्मच मेथी के दाने में सिर्फ सात मिलीग्राम सोडियम होता है। वहीं, इसके मुकाबले ¼ चम्मच नमक में 581 मिलीग्राम सोडियम होता है। साथ ही मेथी के दानों में अधिक मात्रा में फाइबर होता है। फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद करते हैं (12)।

11. बेहतर किडनी :

कई वैज्ञानिक शोधों में इस बात का दवा किया गया है कि किडनी के लिए मेथी फायदेमंद है। मेथी को अपने भोजन में शामिल करने से किडनियां अच्छी तरह काम कर पाती हैं।

कैसे है फायदेमंद

मेथी के दानों में पॉलीफेनोलिक फ्लेवोनोइड पाया जाता है, जो किडनी को बेहतर तरीके से काम करने में मदद करता है। साथ ही यह किडनी के आसपास एक रक्षा कवच का निर्माण करता है, जिससे इसके सेल नष्ट होने से बच जाते हैं (13)। अगर शरीर में एंटीऑक्सीडेंट का स्तर कम हो जाए, तो ऑक्सीडेटिव तनाव का प्रभाव बढ़ जाता है, जो किडनी पर असर डालता है। इस कारण से भी मेथी का सेवन करने की सलाह दी जाती है, क्योंकि मेथी में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है।

12. लिवर :

शरीर के सभी अंग अच्छी तरह से काम करते रहें, उसके लिए जरूरी है कि लिवर स्वस्थ रहे। लिवर शरीर से सभी विषैले जीवाणुओं को बाहर निकालने का काम करता है। अगर लिवर खराब हो जाए, तो सेहत पर बुरा असर पड़ सकता है। लिवर पर सबसे बुरा असर शराब पीने से होता है। शराब पीने से लिवर की काम करने की क्षमता कम हो जाती है। कई अध्ययनों में पाया गया है कि मेथी के दाने लिवर को शराब के बुरे प्रभाव से बचाते हैं।

कैसे है फायदेमंद

शराब हर लिहाज से सेहत के लिए खराब है। अगर आप चाहते हैं कि लिवर अच्छी तरह काम करे, तो शराब से तौबा करना ही बेहतर है। वहीं, जिनका लिवर शराब पीने से प्रभावित हुआ है, उनके लिए मेथी के दाने कारगर साबित हो सकते हैं (14)। मेथी के दाने में पॉलीफेनोलिक तत्व होता है, जो लिवर को नष्ट होने से बचाता है। लिवर के लिए मेथी दाने के फायदे (methi dana ke fayde) कारगर इलाज हैं।

अब जान लेते हैं कि त्वचा के लिए मेथी किस प्रकार से फायदेमंद है।

त्वचा के लिए मेथी के फायदे – Skin Benefits of Fenugreek Seeds in Hindi

13. कील-मुंहासे :

जिन्हें अक्सर कील-मुंहासों की शिकायत रहती है, उन्हें मेथी का प्रयोग जरूर करना चाहिए। मुंहासों को खत्म करने में मेथी मददगार साबित हो सकती है।

Acne ke Liye Methi Pinit

Shutterstock

सामग्री

  • चार कप पानी
  • चार चम्मच मेथी के दाने

प्रयोग की विधि

  • मेथी के दाने रातभर के लिए पानी में भिगकर रखें।
  • अगले दिन इन्हें पानी में डाल दें और धीमी आंच पर 15 मिनट उबलने दें।
  • इसके बाद पानी को छान लें और सामान्य होने दें।
  • अब सूती कपड़े को इस पानी में भिगोकर दिन में दो बार अपने चेहरे पर लगाएं। अगर पानी बच जाए, तो उसे फ्रिज में रख सकते हैं।

कैसे है फायदेमंद

मेथी के दानों में डायोसजेनिन जैसे जरूरी तत्व होते हैं, जिसमें एंटीइंफ्लेमेटरी व एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं। इस कारण से मेथी मुंहासों को जड़ से खत्म कर सकती है (15)।

14. एंटी एजिंग :

समय के साथ-साथ चेहरे पर बढ़ती उम्र का असर साफ नजर आने लगता है। ऐसे में मेथी का प्रयोग फायेदमंद हो सकता है। यह त्वचा के लिए गुणकारी औषधि है।

सामग्री

  • एक चम्मच मेथी के दाने
  • एक चम्मच साधारण योगर्ट

प्रयोग की विधि

  • मेथी के दानों को रातभर के लिए पानी में भिगोकर रखें।
  • अगली सुबह इन्हें योगर्ट में मिलाकर तब तक ग्राइंट करें, जब तक कि पेस्ट न बन जाए।
  • अब इस पेस्ट को अपने चेहरे पर लगाएं।
  • करीब 30 मिनट बाद चेहरे को ठंडे पानी से धो लें।

कैसे है फायदेमंद

शरीर में फ्री रेडिकल्स के प्रभाव के कारण ही चेहरे पर बढ़ती उम्र का असर नजर आता है। मेथी में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं, जो इन फ्री रेडिकल्स को बेअसर कर देते हैं (16)। वहीं, योगर्ट में लैक्टिक एसिड होता है, जो मृत त्वचा को हटाने का काम करता है। साथ ही त्वचा को मखमली व मुलायम बनाता है (17)।

15. स्किन मॉइस्चराइजर :

अगर आप चाहते हैं कि आपकी त्वचा पर मॉइस्चराइजर कायम रहे, तो मेथी के दाने अच्छा विकल्प हो सकते हैं। मेथी के दाने स्किन को मॉइस्चराइज करने के साथ-साथ जरूरी पोषक तत्व भी देते हैं।

सामग्री

  • एक चम्मच मेथी के दाने का पाउडर
  • एक चम्मच पानी

प्रयोग की विधि

  • पाउडर को पानी में मिक्स कर लें, ताकि पेस्ट बन जाए।
  • अब रूई की मदद से इस पेस्ट को अपने चेहरे पर लगाएं।
  • करीब आधे घंटे बाद पानी से चेहरा धो लें।

कैसे है फायदेमंद

मेथी के दाने चेहरे को धब्बेदार व रूखा होने से बचाते हैं। अगर आप इस विधि से मेथी पाउडर का प्रयोग करते हैं, तो चेहरे का मॉइस्चराइज कहीं नहीं जाएगा (18)।

बालों के लिए मेथी के फायदे – Hair Benefits of Fenugreek Seeds in Hindi

16. झड़ते बाल :

बालों को जड़ों से मजबूत बनाने के लिए मेथी का प्रयोग किया जा सकता है। साथ ही यह बालों के रोम छिद्रों से जुड़ी समस्याओं को भी खत्म करती है।

Hair Fall ke Liye Methi Pinit

Shutterstock

सामग्री

  • एक चम्मच मेथी के दाने
  • एक कप नारियल का तेल

प्रयोग की विधि

  • मेथी के दानों और नारियल तेल को एक जार में डाल दें। अब इस जार को बंद करके किसी ठंडी जगह पर तीन हफ्ते के लिए रख दें। ध्यान रहे कि जार पर सूरज की रोशनी न पड़े।
  • तीन हफ्ते बाद तेल को छान लें और इससे सिर की मालिश करें।

कैसे है फायदेमंद

मेथी के दानों में ऐसे हार्मोंस होते हैं, जो बालों को बढ़ने में मदद करते हैं (19)। मेथी के दाने प्रोटीन और निकोटीन एसिड के प्रमुख स्रोत हैं, जो बालों को जड़ों से मजबूत कर उन्हें झड़ने से रोकते हैं।

17. डैंड्रफ :

डैंड्रफ होना एक आम समस्या और यह किसी को भी हो सकता है। यह समस्या ज्यादातर सर्दियों में होती है। इस समस्या के लिए मेथी का प्रयोग किया जा सकता है।

सामग्री

  • दो चम्मच मेथी के दाने
  • एक चम्मच नींबू का रस
  • एक चम्मच नारियल का दूध

प्रयोग की विधि

  • मेथी के दानों को रातभर के लिए पानी में भिगोकर रख दें।
  • अगली सुबह मेथी के दानों को पीसकर पेस्ट बना लें।
  • इस पेस्ट में नींबू और नारियल का दूध मिला दें।
  • फिर इस पेस्ट को बालों की जड़ों पर लगाकर 20 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • इसके बाद बालों की अच्छी तरह मालिश करें और फिर बालों को शैंपू से धो दें।

कैसे है फायदेमंद

डैंड्रफ मुख्य रूप से सूखे व संक्रमण युक्त स्कैल्प पर होता है। ऐसे में मेथी के दाने इसे ठीक करने में मदद करते हैं (20)।

18. चमकदार बाल :

बालों में चमक बरकरार रखने के लिए मेथी से बने हेयर मास्क का प्रयोग करना चाहिए।

Shiny hair ke Liye Methi Pinit

Shutterstock

सामग्री

  • दो चम्मच मेथी के दाने
  • एक कप पानी

प्रयोग की विधि

  • मेथी के दानों को गर्म पानी में डालकर रातभर के लिए छोड़ दें।
  • अगली सुबह इन्हें ग्राइंड करके पेस्ट बना लें। फिर इस पेस्ट को स्कैल्प व बालों की जड़ों पर लगाएं और फिर पूरे बालों पर लगाएं।
  • इसके करीब 30 मिनट बाद बालों को शैंपू से धो लें।

कैसे है फायदेमंद

मेथी के दानों में लेसिथिन और इम्पलस्फाई पदार्थ होते हैं, जो बालों में नमी बनाए रखने का काम करते हैं (21)। जब इन दानों को पानी में भिगोया जाता है, तो इसमें चिकनापन आ जाता है, जो बालों में चमक लाने का कारण बनता है।

19. समय पूर्व सफेद बालों से बचाव :

कई लोगों के बाल समय से पहले सफेद होने लगते हैं। उन्हें इससे राहत पाने के लिए मेथी का प्रयोग करना चाहिए।

सामग्री

  • दो चम्मच मेथी के दाने
  • मुट्ठीभर ताजा करी पत्ता

प्रयोग की विधि

  • मेथी के दानों को रातभर के लिए पानी में भिगोकर रख दें।
  • फिर सुबह इसे करी पत्ता के साथ ग्राइंड कर लें। अगर पानी की जरूर पड़े, तो उसे डालकर पेस्ट बना लें।
  • करीब आधे घंटे बाद बालों को माइल्ड शैंपू से धो लें।

कैसे है फायदेमंद

मेथी के दानों में पोटैशियम की मात्रा ज्यादा होती है, जिस कारण यह बालों को असमय सफेद होने से बचाता है। साथ ही मेथी के दाने बालों में पिगमेंट के स्तर को कायम रखते हैं (22)।

अब हम जानेंगे कि मेथी में कौन-कौन से पौष्टिक तत्व होते हैं और उनकी मात्रा कितनी होती है।

मेथी के पौष्टिक तत्व – Fenugreek Seeds Nutritional Value in Hindi   

प्रति 100 ग्राम मेथी के दानों में पोषक तत्व
पोषक तत्वमात्राप्रतिशत (%)
ऊर्जा323 कैलोरी16
कार्बोहाइड्रेट58.35g45
प्रोटीन23g41
फैट6.41g21
कोलेस्ट्रॉल0mg0
डाइटरी फाइबर24.6g65
विटामिन्स
फोलेट57mcg14
नियासिन1.640mg7
पायरीडॉक्सीन0.600mg46
रिबोफ्लेविन0.366mg28
थायमिन0.322mg27
विटामिन-ए60iu2
विटामिन-सी3mg5
इलेक्ट्रोलाइट्स
सोडियम67mg4.5
पोटैशियम770mg16
मिनरल्स
कैल्शियम176mg18
कॉपर1.110mg123
आयरन33.53mg419
मैग्नीशियम191mg48
मैंगनीज1.228mg53
फास्फोरस296mg42
सेलेनियम6.3mcg11
जिंक2.50mg23

लेख के इस भाग में हम यह बताएंगे कि मेथी के दानों का सेवन किस तरह किया जाए।

मेथी का उपयोग – How to Use Fenugreek Seeds in Hindi

How to Use Fenugreek Seeds in Hindi Pinit

Shutterstock

आयुर्वेद में कहा गया है कि मेथी के दानों की तासीर गर्म होती है। इसका सीधे सेवन करने से फायदे की जगह नुकसान हो सकता है। इसलिए, मेथी के दानों को कुछ समय के लिए पानी में भिगोकर रखना चाहिए, ताकि उसकी गर्माहट कम हो जाए। इसके बाद मेथी के दानों को प्रयोग में लाना चाहिए।

  • मेथी के दानों को एक-दो मिनट के लिए मध्यम आंच पर भून लें और फिर इसे सब्जी या फिर सलाद के ऊपर डाल दें। इससे न सिर्फ भोजन का स्वाद बढ़ेगा, बल्कि शरीर को जरूरी पोषक तत्व भी मिलेंगे।
  • एक चम्मच मेथी के दानों को रातभर पानी में भिगोकर रखें और अगली सुबह एक गिलास पानी के साथ इनका सेवन करें। जिस पानी में मेथी के दानों को भिगोया था, आप सुबह खाली पेट उसका भी सेवन कर सकते हैं। डायबिटीज के मरीजों के लिए यह फायदेमंद साबित हो सकता है।
  • मेथी के दानों को रातभर पानी में भिगोकर रखने के बाद एक कपड़े में बांधकर रख दें। कुछ दिन ऐसे ही रखने के बाद मेथी के दाने अंकुरित हो जाएंगे। अब आप इसे सलाद में मिलाकर सेवन कर सकते हैं। मेथी का इस तरह से सेवन करना सेहत के फायदेमंद है।
  • सर्दियों में लगभग हर घर में मेथी के पराठे और रोटियां बनाई जाती हैं। मेथी का इस प्रकार से सेवन करने से भी शरीर में जरूरी पोषक तत्वों की पूर्ति होती है।
  • बुखार होने पर मेथी दाने की हर्बल चाय पीने से फायदा होता है। पानी में मेथी के दाने डालकर उसे उबालें। स्वाद के लिए इसमें नींबू और शहद मिला सकते हैं।
  • मेथी दाने से बना तेल भी स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होता है। इससे कई प्रकार की औषधियों का निर्माण होता है।
  • मेथी के दाने कब्ज की समस्या से राहत दिलाने में मदद करते हैं। कब्ज के रोगी को रोज सुबह-शाम एक चम्मच मेथी दाने का सेवन करना चाहिए।

अब लेख के अंतिम भाग हम जानेंगे कि मेथी खाना किस प्रकार नुकसान हो सकता है।

मेथी के नुकसान – Side Effects of Fenugreek Seeds in Hindi

Side Effects of Fenugreek Seeds in Hindi Pinit

Shutterstock

इसमें कोई दो राय नहीं कि मेथी के दाने सेहत के लिए लाजवाब हैं। इसे अपने भोजन में शामिल करने से कई प्रकार के स्वास्थ्य लाभ हो सकते हैं, लेकिन इतने फायदों के साथ-साथ इसके नुकसान भी हैं। कुछ मामलों में इसके सेवन से कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। मेथी से नुकसान के बारे में यहां हम विस्तार से बता रहे हैं।

  1. डायबिटीज : बेशक डायबिटीज के मरीजाें को मेथी का सेवन करने की सलाह दी जाती है, लेकिन इसका अधिक सेवन करने से परेशानी भी हो सकती है। मेथी को जरूर से ज्यादा लेने पर रक्त में शुगर का स्तर प्रभावित हो सकता है।
  2. शरीर व मूत्र से दुर्गंध : अमूमन बैक्टीरिया या फिर किसी संक्रमण के कारण शरीर से बदबू आने लगती है, लेकिन कुछ मामलों में मेथी भी इसका कारण बन सकती है। अधिक मात्रा में मेथी का सेवन करने से शरीर व मूत्र से दुर्गंध आने लगती है।
  3. दस्त : हालांकि, पाचन तंत्र के लिए मेथी के दाने अच्छे होते हैं, लेकिन कई बार यह दस्त का कारण भी बन जाते हैं। जरूर से ज्यादा मेथी खाने से पेट खराब हो सकता है और दस्त लग जाते हैं। अगर स्तनपान कराने वाली महिलाओं को इसे खाने से पेट खराब होता है, तो उससे शिशु को भी दस्त लग सकते हैं। इसलिए, ऐसे कोई लक्षण नजर आते ही इसका सेवन बंद कर दें।
  4. हाइपोग्लाइसीमिया : मेथी के दानों के सेवन से कुछ माताओं को हाइपोग्लाइसीमिया हो सकता है। इसमें रक्तचाप बेहद कम हो जाता है, जिससे मस्तिष्क तक ग्लूकोज की पर्याप्त रूप से आपूर्ति नहीं हो पाती है। इस स्थिति में मस्तिष्क को क्षति हो सकती है या फिर मृत्यु भी हो सकती है।
  5. गर्भाशय संकुचन : जैसा कि इस लेख में पहले बताया गया है कि मेथी दाने की तासीर गर्म होती है। अगर गर्भवती महिला इसका अधिक सेवन करती है, तो समय से पहले गर्भाशय संकुचन जैसी समस्या का सामना करना पड़ सकता है। मेथी के दानों में ऑक्सीटोसिन होता है, जो गर्भाशय संकुचन का कारण बनता है। इसलिए, गर्भवती महिलाएं मेथी दाने का सेवन डॉक्टर की सलाह पर ही करें।
  6. एलर्जी : कुछ लोगों को मेथी दाने के सेवन से एलर्जी हो सकती है। यह एलर्जी चेहरे पर सूजन के तौर पर नजर आ सकती है। वहीं, कुछ को शरीर पर रैशेज हो सकते हैं, सांस फूलने जैसी समस्या हो सकती है और कुछ बेहोश तक हो जाते हैं। इसके अलावा, कई लोगों को मेथी के सेवन से छाती में दर्द जैसी शिकायत होने लगती है। यह तासीर में गर्म होती है, इसलिए कुछ लोगों को बवासीर, गैस व एसिडिटी तक की शिकायत हो जाती है। साथ ही अगर कोई किसी बीमारी के लिए दवा खा रहा है, तो वो मेथी के दानों का सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श जरूर ले।
  7. बच्चों के लिए हानिकारक : बच्चों के लिए मेथी दाने को सुरक्षित नहीं माना गया है। यह तो हम पहले ही बता चुके हैं कि इसे खाने से दस्त लग सकते हैं। वहीं, इसकी हर्बल चाय पीना भी बच्चों के लिए ठीक नहीं है, क्योंकि इससे उनकी मस्तिष्क की क्षमता पर असर पड़ सकता है। इसलिए, बेहतर यही है कि मेथी के सप्लीमेंट्स बच्चों को न दें। अगर देना ही चाहते हैं, तो सब्जियों में डालकर दे सकते हैं।
  8. पुरुषों के लिए : जो पुरुष अस्था से पीड़ित हैं, उन्हें मेथी का सेवन नहीं करने की सलाह दी जाती है। इस अवस्था में मेथी खाने से सांस लेने में दिक्कत हो सकती है। वहीं, जिन्हें थायराइड है, उन्हें भी डॉक्टर की सलाह के बाद ही इसका सेवन करना चाहिए। थायराइड से ग्रस्त ऐसे कई पुरुषों के केस सामने आए हैं, जिन्होंने मेथी का सेवन किया था और उन्हें कई तरह की शारीरिक समस्याओं का सामना करना पड़ा।

बेशक मेथी के दाने दिखने में छोटे-से होते हैं, लेकिन इसके फायदे अनेक हैं, जिनके बारे में आप इस लेख के जरिए जान ही चुके हैं। साथ ही मेथी से नुकसान भी हो सकता है, उसकी जानकारी भी आपको यहां मिल चुकी हैं। इसलिए, अब देरी किए बिना मेथी को अपनी दिनचर्या में शामिल करें। ध्यान रहे कि इन्हें सीमित और नियमित रूप से खाएं और अच्छी सेहत को प्राप्त करें। मेथी से आपको किस प्रकार लाभ हुआ, उस बारे में हमे नीचे दिए कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

और पढ़े:

The following two tabs change content below.

Anuj Joshi

अनुज जोशी ने दिल्ली विश्वविद्यालय से बीकॉम और कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से मास कम्यूनिकेशन में एमए किया है। अनुज को प्रिंट व ऑनलाइन मीडिया जगत में काम करते हुए करीब 10 वर्ष हो गए हैं। इन्हें एडिटिंग व लेखन का अच्छा खासा अनुभव है। हिंदी के कई प्रमुख अखबारों में विभिन्न विषयों पर इनके लेख प्रकाशित हो चुके हैं। मुख्य रूप से यह स्वास्थ्य विषय पर लिखना पसंद करते हैं। साथ ही इन्होंने दूरदर्शन के लिए एक डॉक्यूमेंट्री बनाई थी और आकाशवाणी पर अपना कार्यक्रम भी रेकॉर्ड करवा चुके हैं। इन्हें सुबह उठते ही योग करना सबसे ज्यादा पसंद है और खाली समय को फिल्में देखकर या फिर गाने सुनकर बिताते हैं।

संबंधित आलेख