मूली का फेस पैक लगाने के फायदे और बनाने का तरीका – Radish Face Pack in Hindi

Written by

स्वस्थ त्वचा की चाहत भला किसे नहीं होती है। ऐसे में आजकल लोग कॉस्मेटिक प्रोडक्ट के बजाय घरेलू उपायों व प्राकृतिक सामग्रियों को प्राथमिकता दे रहे हैं। इन्हीं प्राकृतिक सामग्रियों में से एक है मूली। मूली के स्वास्थ्य लाभ के अलावा, त्वचा के लिए भी मूली का उपयोग लाभकारी हो सकता है। ऐसे में स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम आपको त्वचा के लिए मूली का फेस पैक के फायदे के बारे में विस्तार से बता रहे हैं। साथ ही जानेंगे मूली त्वचा के लिए फायदेमंद कैसे हो सकती और मूली का फेस पैक के बारे में भी। तो मूली का फेस पैक के फायदे व उपयोग से जुड़ी पूरी जानकारी के लिए लेख को अंत तक पढ़ें।

स्क्रॉल करें

लेख में सबसे पहले हम बता रहे हैं त्वचा के लिए मूली के फेस पैक के फायदे के बारे में।

मूली का फेस पैक के फायदे – Benefits Of Radish Face Packs in Hindi

मूली का फेस पैक किस प्रकार से त्वचा के लिए फायदेमंद हो सकता है इस विषय पर सीधे तौर पर शोध का अभाव है। ऐसे में यहां हम मूली में मौजूद पोषक तत्वों और औषधीय गुणों के आधार पर त्वचा के लिए मूली का फेस पैक के फायदे बता रहे हैं। तो मूली का फेस पैक के फायदे कुछ इस प्रकार हैं:

1. स्किन डैमेज से बचाव

सूरज की हानिकारक किरणें त्वचा को नुकसान पहुंचाकर स्किन डैमेज का कारण बन सकती है। इससे दाग-धब्बे और यहां तक कि स्किन कैंसर का जोखिम भी हो सकता है (1)। इतना ही नहीं, यू वी किरणें वक्त से पहले भी त्वचा में झुर्रियों का कारण बन सकती हैं (2)। ऐसे में इनसे बचाव के लिए मूली का फेस पैक उपयोगी हो सकता है। दरअसल, मूली में कुछ मात्रा में जिंक मौजूद होता है (3)

वहीं, एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, जिंक त्वचा को सूरज की हानिकारक किरणों के प्रभाव से बचा सकता है। इसके साथ ही यह फोटो डैमेज यानी सूरज की हानिकारक किरणों के कारण त्वचा में वक्त से पहले होने वाली झुर्रियों से भी बचाव कर सकता है (4)। ऐसे में माना जा सकता है कि जिंक युक्त मूली स्किन डैमेज के जोखिम को कम कर सकता है।

2. हाइपरपिग्मेंटेशन कम करे

त्वचा में स्थित मेलानोसाइट्स नामक कोशिकाएं मेलेनिन का उत्पादन करती हैं। कुछ स्थितियों में मेलानोसाइट्स असामान्य हो सकते हैं, जिससे त्वचा की रंगत अत्यधिक गहरी हो सकती है। इसी स्थिति को हाइपरपिग्मेंटेशन कहा जाता है (5)। ऐसे में हाइपरपिग्मेंटेशन से बचाव के लिए विटामिन सी उपयोगी हो सकता है (6)। दरअसल, एक रिसर्च के अनुसार विटामिन सी मेलेनिन के उत्पादन को कम कर हाइपरपिग्मेंटेशन की समस्या में कुछ हद तक मददगार हो सकता है (7)। बता दें, 100 ग्राम मूली में विटामिन सी की 14.8 मिलीग्राम मात्रा पाई जाती है (3)। ऐसे में माना जा सकता है कि मूली में पाया जाने वाला विटामिन सी त्वचा के हाइपरपिग्मेंटेश या डार्क स्पॉट्स को कम करने में मददगार हो सकता है।

3. ड्रायनेस को कम करे

विटामिन सी पानी में घुलनशील विटामिन है। शरीर में विटामिन सी की कमी के कारण ड्रायनेस हो सकती है, जिसकी वजह से त्वचा खुरदुरी और पपड़ीदार हो सकती है (8)। वहीं, मूली का उपयोग त्वचा के रूखेपन यानी ड्रायनेस को कम करने में भी मददगार हो सकता है। दरअसल, मूली में विटामिन सी जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं (3)। मूली में पाया जाने वाला विटामिन सी ड्रायनेस को कम कर त्वचा को स्वस्थ बना सकता है। इतना ही नहीं यह त्वचा के खुरदरेपन पर भी प्रभावकारी हो सकता है (9)। हालांकि, विटामिन सी और त्वचा के रूखेपन को लेकर अभी और शोध की आवश्यकता है।

4. पिंपल्स से बचाव

त्वचा में जो तेल बनता है उसे सीबम कहते हैं, जो त्वचा की रक्षा करने के साथ ही इसे मॉइस्चराइज करने में भी मदद कर सकता है। वहीं, त्वचा में मृत कोशिकाओं के कारण जब पोर्स बंद होते हैं तो यही सीबम त्वचा में ही रह जाते हैं, जिस कारण ब्लैकहैड या व्हाइटहेड बन सकते हैं। वहीं, यदि इसमें सूजन आ जाए तो इसके कारण पिंपल्स और मुंहासों की समस्या हो सकती है। मुंहासे ज्यादातर त्वचा के उन क्षेत्रों को ज्यादा प्रभावित करते हैं, जिनमें अधिक तेल ग्रंथियां होती हैं, जैसे – चेहरा, छाती, पीठ और कंधे (10)

वहीं, इससे जुड़ी जानकारी में इस बात का जिक्र मिलता है कि मूली में मौजूद सिलिकॉन अतिरिक्त सीबम को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है। इसके साथ ही मूली में विटामिन ए भी होता है, जो त्वचा के तेल पर असरदार हो सकता है (4)। ऐसे में अतिरिक्त सीबम के कम होने पर इसके कारण होने वाली पिंपल्स की समस्या में सकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

5. झुर्रियों को कम करे

त्वचा की अन्य समस्याओं को दूर करने के साथ ही मुली का उपयोग झुर्रियों की परेशानी को भी कुछ हद तक कम करने में मददगार हो सकता है। जानकारी के अनुसार, मूली में पाया जाने वाले विटामिन सी यानी एस्कॉर्बिक एसिड में एंटीरिंकल प्रभाव होता है। साथ ही एस्कॉर्बिक एसिड त्वचा के फाइब्रोब्लास्ट के जरिए कोलेजन और इलास्टिन के उत्पादन को बढ़ा सकता है। यह त्वचा को हाईड्रेट करने में भी सहायक हो सकता है। इसके साथ ही मूली में मौजूद सिलिकॉन नामक पोषक तत्व चेहरे की झुर्रियों को कम करने में मदद कर सकता है। यह त्वचा की स्ट्रेंथ और लोच यानी इलास्टीसिटी की रक्षा करने और उन्हें सुधारने में भी लाभदायक हो सकता है (4)

पढ़ना जारी रखें

अब त्वचा के लिए मूली के फायदे जानने के बाद अब मूली का फेस पैक बनाने का तरीका बता रहे हैं।

मूली फेस पैक बनाने का तरीका – Radish Face Packs in Hindi

त्वचा के लिए मूली के फायदे पाने के लिए घर में ही आसानी से मूली का फेस पैक बनाया जा सकता है। ऐसे में नीचे हम मूली फेस पैक बनाने की आसान विधि बता रहे हैं:

सामग्री:

  • एक बड़ी मूली
  • एक चम्मच नींबू का रस
  • ऑलिव ऑयल
  • एक कटोरी

कैसे करें तैयार:

  • सबसे पहले मूली को ब्लेंडर में डालकर अच्छी तरह ब्लेंड करके पेस्ट बनाएं।
  • अब इस पेस्ट को एक कटोरी में निकाल लें।
  • इसके बाद इस पेस्ट में नींबू के रस की कुछ बूंदें डालकर अच्छी तरह मिला लें।
  • अब इसमें ऑलिव ऑयल की चार-पांच बूंद डालकर अच्छे से मिक्स कर लें।
  • बस तैयार है मूली का फेस पैक।
  • इसे सप्ताह में एक बार उपयोग में किया जा सकता है।

पढ़ते रहें

फायदे और उपयोग के बाद जानते हैं मूली का फेस पैक उपयोग करने से पहले ध्यान देने योग्य कुछ टिप्स।

मूली का फेस पैस उपयोग करने से पहले बरती जाने वाली सावधानियां- Precautions To Follow Before Using Radish on Skin in Hindi

त्वचा के लिए मूली का फेस पैस उपयोग करने के पहले कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है, जिनके बारे में हम नीचे बता रहे हैं।

  • मूली का फेस पैस का उपयोग करने के पहले अपने चेहरे को अच्छी तरह से धोकर पोंछ लेना चाहिए।
  • जिनकी त्वचा संवेदनशील है उन्हें और साथ ही सामान्य त्वचा वालों को इसे लगाने से पहले पैच टैस्ट जरूर करें।
  • घाव वाली जगह पर मूली के पैक को न लगाएं।
  • मूली के पेस्ट को सीधे त्वचा पर लगाने से अच्छा है कि इसे डायल्यूट करके ही लगाएं।
  • यदि मूली का उपयोग करने से त्वचा पर किसी प्रकार की समस्या होती है तो उपयोग बंद कर दें और डॉक्टर को दिखाएं।
  • अगर किसी को मूली से एलर्जी है तो मूली फेस पैक के उपयोग से पहले विशेषज्ञ की सलाह लें।

आगे जानें कुछ खास

आर्टिकल के इस हिस्से में हम जानते हैं, मूली फेस पैक के नुकसान के बारे में।

मूली के फेस पैक के नुकसान- Side Effects Of Using Radish On Your Face in Hindi

यह तो हम ऊपर जान ही चुके हैं कि मूली फेस पैक त्वचा की कई समस्याओं से बचाव करने में मदद कर सकता है। हालांकि, किन्हीं मामलों में मूली का फेस पैक हानिकारक भी हो सकता है, जिनके बारे में हम यहां बता रहे हैं।

  • संवेदनशील त्वचा वालों के लिए इसके उपयोग से लाल चक्कत्ते या त्वचा संबंधी समस्या हो सकती है।
  • खुले हुए पोर्स में मूली के पेस्ट को सीधे लगाने पर जलन और खुजली हो सकती है।
  • जिन्हें मूली से एलर्जी है उन्हें भी मूली के फेस पैक का उपयाेग करने पर एलर्जी की समस्या हो सकती है।

अपनी त्वचा और चेहरे की देखभाल करना हर किसी को पसंद होता है। ऐसे में बहुत से लोग आयुर्वेद पर विश्वास करके घरेलू सामग्री का उपयोग करते हैं और लाभ लेते हैं। मूली उन्हीं घरेलू सामग्रियों में से एक है। हालांकि, मूली त्वचा के लिए फायदेमंद हो सकती है, इस विषय पर बहुत ही कम शोध उपलब्ध है। इसलिए इसे उपयोग करने के पहले पैच टैस्ट जरूर करें। यदि आप मूली का फेस पैक बनाना और उपयोग करना चाहते हैं तो लेख में दी गई विधि को फॉलो कर सकते हैं। तो इस लेख को अन्य लोगों के साथ शेयर कर मूली का फेस पैक के फायदे से जुड़ी जानकारी हर किसी को दें।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

क्या त्वचा को निखारने करने के लिए मूली अच्छी है?

हां, मूली में सिलिकॉन पाया जाता है जो त्वचा की गुणवत्ता बनाए रखने और निखारने में मदद कर सकता है (4)

क्या त्वचा पर मूली का उपयोग लाभकारी हो सकता है?

हां, त्वचा पर मूली का उपयोग लाभकारी हो सकता है। यह त्वचा को रुखेपन के साथ ही डैमेज से बचा सकता है। यही नहीं, त्वचा के तैलीयपन को कम करने के लिए भी इसे जाना जाता है (4)

क्या मूली ब्लैकहेड्स को दूर करती है?

हां, मूली में मौजूद सिलिकॉन ब्लैकहेड्स का कारण बनने वाले सीबम के नियंत्रित करके इस समस्या को कम कर सकती है (4)

क्या मूली के कारण मुंहासे होते हैं?

नहीं, मूली के कारण मुंहासे नहीं होते हैं। इसके विपरीत मुंहासों का कारण बनने वाले सीबम के उत्पादन को कम कर मूली मुंहासों की समस्या से छुटकारा दिलाने में मदद कर सकती है।

संदर्भ (Sources):

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. Sun Exposure
    https://medlineplus.gov/sunexposure.html
  2. Sun’s effect on skin
    https://medlineplus.gov/ency/anatomyvideos/000125.htm
  3. Radishes, raw
    https://fdc.nal.usda.gov/fdc-app.html#/food-details/169276/nutrients
  4. Bioactive Compounds for Skin Health: A Review
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC7827176/
  5. Hyperpigmentation 2
    https://medlineplus.gov/ency/imagepages/2973.htm
  6. Vitamin C in dermatology
    https://www.researchgate.net/publication/237061438_Vitamin_C_in_dermatology
  7. The effect of Vitamin C on melanin pigmentation – A systematic review
    https://www.jomfp.in/article.asp?issn=0973-029X;year=2020;volume=24;issue=2;spage=374;epage=382;aulast=Sanadi
  8. Vitamin C
    https://medlineplus.gov/ency/article/002404.htm
  9. Vitamin C and Skin Health
    https://lpi.oregonstate.edu/mic/health-disease/skin-health/vitamin-C#dry-skin
  10. Acne: Overview
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK279211/
Was this article helpful?
The following two tabs change content below.
अर्पिता ने पटना विश्वविद्यालय से मास कम्यूनिकेशन में स्नातक किया है। इन्होंने 2014 से अपने लेखन करियर की शुरुआत की थी। इनके अभी तक 1000 से भी ज्यादा आर्टिकल पब्लिश हो चुके हैं। अर्पिता को विभिन्न विषयों पर लिखना पसंद है, लेकिन उनकी विशेष रूचि हेल्थ और घरेलू उपचारों पर लिखना है। उन्हें अपने काम के साथ एक्सपेरिमेंट करना और मल्टी-टास्किंग काम करना पसंद है। इन्हें लेखन के अलावा डांसिंग का भी शौक है। इन्हें खाली समय में मूवी व कार्टून देखना और गाने सुनना पसंद है।

ताज़े आलेख