Medically Reviewed By Dr. Suvina Attavar, MBBS, DVD
Written by , (एमए इन मास कम्युनिकेशन)

हर कोई बेदाग त्वचा पाना चाहता है। वहीं, विभिन्न त्वचा समस्याओं के कारण चेहरे की रौनक चली जाती है। त्वचा समस्याओं की अगर बात की जाए, तो मुंहासे इनमें सबसे आम हैं, जो त्वचा और चेहरे के आकर्षण को बुरी तरह प्रभावित कर सकते हैं। ऐसे में कुछ खास प्राकृतिक नुस्खों का उपयोग किया जा सकता है, जिसमें एलोवेरा भी शामिल है। स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम मुंहासों के लिए एलोवेरा के फायदे बताने जा रहे हैं। यहां जानिए एलोवेरा का उपयोग किस प्रकार मुंहासों पर लाभकारी असर छोड़ सकता है। वहीं, आपकी सुविधा के लिए मुंहासों के लिए एलोवेरा के विभिन्न उपयोग भी बताए गए हैं। साथ ही, इसके कुछ नुकसान को भी यहां शामिल किया गया है।

शुरू करते हैं लेख

चलिए सबसे पहले जानते हैं, पिंपल्स हटाने के लिए एलोवेरा के उपयोग पर विज्ञान क्या कहता है।

क्या एलोवेरा कील-मुंहासे दूर करने में मददगार है? विज्ञान क्या कहता है?

पिम्पल के लिए एलोवेरा को आज से नहीं, बल्कि वर्षों से औषधि के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है। एलोवेरा को सिर्फ भारत में ही नहीं, बल्कि दुनिया के कई देशों, जैसे – चीन, इजिप्ट, ग्रीस व जापान में प्राकृतिक उपचार के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है। आइए, जानते हैं कि मुंहासों के लिए एलोवेरा के फायदे क्या-क्या हैं और ये कैसे काम करता है।

ऑक्सीडेटीव तनाव एक्ने के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है (1)। बता दें कि एलोवेरा एंटी-ऑक्सीडेंट से भरपूर होता है, जो ऑक्सीडेटिव तनाव को कम कर उससे होने वाली समस्याओं से बचाने में मदद कर सकता है (2)। इस प्रकार पिम्पल्स के लिए एलोवेरा मददगार साबित हो सकता है (3)।

पिम्पल्स हटाने के लिए एलोवेरा की बात की जाए, तो इसमें मौजूद एंटी-बैक्टीरियल गुण मुंहासों का कारण बनने वाले बैक्टीरिया से बचाव का काम कर सकते हैं और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण मुंहासों की सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं (3) (4)।

मुंहासों का एक कारण कब्ज भी हो सकता है (5)। एलोवेरा का सेवन शरीर को डिटॉक्सिफाई करके पेट को साफ रखने में मदद कर सकता है। साथ ही यह खून को भी साफ कर सकता है (6)।

एलोवेरा त्वचा की मृत कोशिकाओं को हटाकर नई परत बनाने में मदद कर सकता है। साथ ही यह मुंहासों के कारण होने वाले काले धब्बों से भी छुटकारा पाने में सहायक हो सकता है (6)।

लेख में बने रहें

आगे हम जानेंगे कि मुंहासों के लिए एलोवेरा का इस्तेमाल किस-किस तरह से किया जा सकता है।

मुंहासों के लिए एलोवेरा का इस्तेमाल कैसे करें – How to Use Aloe Vera for Pimples in Hindi

मुंहासों के लिए एलोवेरा का उपयोग कई तरह से किया जा सकता है। यहां हम बाजार में मिलने वाले एलोवेरा जेल या क्रीम की बात नहीं कर रहे हैं, बल्कि प्राकृतिक एलोवेरा के पत्ते की बात कर रहे हैं। तो चलिए नीचे क्रमवार तरीके से जानिए पिम्पल्स के लिए एलोवेरा का उपयोग किस-किस प्रकार से कर सकते हैं। वहीं, इस बात का ध्यान रखें कि एलोवेरा मुंहासों का इलाज नहीं है, यह केवल इन्हें कुछ हद तक कम करने और इससे बचाव में मददगार हो सकता है। अब पढ़ें आगे :

1. मुंहासों के लिए एलोवेरा

सामग्री :

  • 1 चम्मच एलोवेरा का जेल

उपयोग करने का तरीका :

  • सबसे पहले साफ पानी से चेहरा धो लें और तौलिए से पोंछ लें।
  • अब जेल को प्रभावित जगह पर लगाएं।
  • इसे रात भर लगा रहने दें।
  • सुबह अपने चेहरे को ठंडे पानी से धो लें।
  • यह उपाय रोजाना किया जा सकता है।

कैसे है फायदेमंद :

जैसा कि हमने लेख में बताया कि मुंहासों के लिए एलोवेरा के फायदे कई सारे हैं। इसमें एंटी एक्ने गुण मौजूद होते हैं, जो मुंहासों को पनपने से रोकने में मदद कर सकते हैं। इसके अलावा, एलोवेरा में एंटी बैक्टीरियल (बैक्टीरिया को पनपने से रोकने वाला) गुण और एंटी-इंफ्लेमेटरी (सूजन को कम करने वाला) गुण भी मौजूद होते हैं (3)। ये गुण मुंहासों का कारण बनने वाले बैक्टीरिया को पनपने से रोकने में मदद कर सकते हैं और मुंहासों की सूजन को भी कम करने में मदद कर सकते हैं।

2. एलोवेरा, शहद और दालचीनी

सामग्री :

  • 2 चम्मच एलोवेरा जेल
  • 4 चम्मच शहद
  • दालचीनी पाउडर (आवश्यकतानुसार)

उपयोग करने का तरीका :

  • सारी सामग्रियों को एक बाउल में डालकर अच्छी तरह मिला लें।
  • अच्छी तरह मिल जाने पर इसे पूरे चेहरे पर या सिर्फ प्रभावित जगह पर लगा सकते हैं।
  • इसे 5-10 मिनट तक अपने चेहरे पर लगा रहने दें।
  • सूख जाने के बाद इसे ठंडे पानी से धो लें और सूखे तौलिये से थपथपा कर पोंछ लें।

कैसे है फायदेमंद :

पिंपल हटाने के घरेलू तरीके के तौर पर एलोवेरा के फायदे तो हम बता ही चुके हैं। वहीं, अगर इसमें दालचीनी और शहद का उपयोग किया जाए, तो यह और भी लाभकारी हो सकता है। एनसीबीआई (National Center for Biotechnology Information) की वेबसाइट पर प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, शहद में एंटी माइक्रोबियल गुण (बैक्टीरिया को पनपने से रोकने वाला) मौजूद होता है, जो मुंहासों का कारण बनने वाले प्रोपियोनीबैक्टीरियम एक्ने (Propionibacterium acnes) को पनपने से रोकने में मदद कर सकता है (7)।

वहीं, मुंहासे से निजात के लिए दालचीनी का उपयोग भी फायदेमंद माना जा सकता है। एक रिसर्च के मुताबिक, दालचीनी में एंटी बैक्टीरियल गुण और एंटी-इंफ्लेमेटरी (सूजन को कम करने वाला) प्रभाव मौजूद होते हैं, जो मुंहासों का कारण बनने वाले बैक्टीरिया से बचाव और मुंहासों के कारण होने वाली सूजन को कम करने में प्रभावी हो सकते हैं (8)। इसके अलावा, एक अन्य शोध में इस बात का प्रमाण मिलता है कि दालचीनी और शहद का मिश्रण भी मुंहासे पैदा करने वाली बैक्टीरिया से लड़ने में संभावित रूप से मदद कर सकता है (9)।

नोट: दालचीनी पाउडर से जलन हो सकती है, इसलिए इसका इस्तेमाल त्वचा की सहनशीलता के अनुसार ही करें। अगर इस पैक से हल्की-सी भी जलन महसूस होती है, तो तुरंत चेहरा धो लें। साथ ही इसे लगाने से पहले पैच टेस्ट जरूर करें।

3. एलोवेरा जेल और नींबू

सामग्री :

  • 2 चम्मच एलोवेरा जेल
  • एक चौथाई चम्मच नींबू का रस

उपयोग करने का तरीका :

  • एक बाउल में एलोवेरा जेल और नींबू के रस को अच्छी तरह से मिला लें।
  • इसे प्रभावित जगह पर लगा कर 5-10 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • सूख जाने पर ठंडे पानी से धो लें।

कैसे है फायदेमंद :

मुंहासे हटाने के आसान तरीकों में नींबू का इस्तेमाल भी शामिल है। एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध के अनुसार, मुंहासों के उपचार में नींबू का उपयोग प्रभावी हो सकता है (10)। वहीं, नींबू में एंटी बैक्टीरियल (बैक्टीरिया से लड़ने वाला) प्रभाव भी होता है, जिससे बैक्टीरिया की वजह से होने वाले मुंहासों से बचाव हो सकता है। यही नहीं, नींबू त्वचा को एक्सफोलिएट कर डेड सेल को बाहर निकालने में भी मदद कर सकता है, जिससे त्वचा साफ-सुथरी हो सकती है (11)।

4. एलोवेरा जेल और टी ट्री ऑयल :

सामग्री :

  • 2 चम्मच एलोवेरा जेल
  • 2-3 बूंदें टी-ट्री ऑयल
  • 1 चम्मच साफ पानी

उपयोग करने का तरीका :

  • एक बाउल में एलोवेरा जेल, टी-ट्री ऑयल और साफ पानी मिलाकर उसका मिश्रण तैयार कर लें।
  • इस मिश्रण को 1 मिनट (उससे ज्यादा नहीं) के लिए चेहरे पर लगाए और फिर धो लें।
  • जब तक मुंहासों से आराम नहीं मिलता, इस उपाय को रोजाना एक बार किया जा सकता है।

कैसे है फायदेमंद :

एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध में साफ तौर से इस बात का जिक्र मिलता है कि मुंहासों के उपचार के लिए एलोवेरा और टी ट्री ऑयल का उपयोग प्रभावी हो सकता है (12)। दरअसल, टी ट्री ऑयल में एंटीमाइक्रोबियल गुण मौजूद होते हैं, जो मुंहासे पैदा करने वाली बैक्टीरिया को पनपने से रोकने में मदद कर सकते हैं। यही कारण है कि टी ट्री ऑयल का इस्तेमाल मुंहासे से छुटकारा दिलाने में कारगर साबित हो सकता है (13)।

जारी रखें पढ़ना

5. एलोवेरा स्प्रे या फेस मिस्ट

सामग्री :

  • डेढ़ कप साफ पानी
  • 1 चम्मच एलोवेरा जेल
  • किसी भी एसेंशियल ऑयल की 2 बूंदे

उपयोग करने का तरीका :

  • एक स्प्रे बोतल में एलोवेरा जेल और साफ पानी का मिश्रण तैयार कर लें।
  • चाहें, तो इसमें एसेंशियल ऑयल की 2 बूंदे मिला लें।
  • फिर बोतल को हिलाकर इस मिश्रण को अच्छी तरह मिक्स कर लें।
  • इस मिश्रण को दिन में 3-4 बार अपने चेहरे या प्रभावित स्थान पर लगाएं।
  • याद रखें कि इस्तेमाल से पहले बोतल को जरूर हिलाएं।
  • ध्यान रहे कि इसे छिड़कते समय अपनी आंखें बंद रखें।

कैसे है फायदेमंद :

मुंहासों के लिए एलोवेरा कितना फायदेमंद हो सकता है, इसकी जानकारी तो लेख में हम दे ही चुके हैं। वहीं, अगर इसमें चाहें, तो एसेंशियल ऑयल की कुछ बूंदें मिलाकर इसका इस्तेमाल फेस मिस्ट के तौर पर भी किया जा सकता है। बता दें कि मुंहासों के उपचार के लिए एसेंशियल ऑयल लाभकारी हो सकता है। इससे जुड़े एक वैज्ञानिक अध्ययन में जिक्र मिलता है कि कुछ एसेंशियल ऑयल (लौंग, लेमनग्रास, ग्रेपफ्रूट और नींबू) का उपयोग एक्ने के उपचार में लाभकारी हो सकता है (14)।

6. एलोवेरा, शक्कर और ऑयल स्क्रब

सामग्री :

  • आधा कप जोजोबा तेल
  • आधा कप दरदरी पिसी हुई चीनी
  • एक चौथाई कप एलोवेरा जेल

उपयोग करने का तरीका :

  • एक बाउल में जोजोबा ऑयल और शक्कर को अच्छी तरह मिला लें।
  • अब इसमें एलोवेरा जेल को मिलाकर मिश्रण तैयार कर लें।
  • इस स्क्रब को अपनी हथेली पर लेकर पूरे चेहरे पर या प्रभावित स्थान पर लगाकर हल्के हाथों से मसाज करें।
  • फिर कुछ देर बाद ठंडे पानी से धो कर, सूखे तौलिये से थपथपा कर पोंछ लें।

कैसे है फायदेमंद :

एलोवेरा के साथ जोजोबा ऑयल का उपयोग मुंहासों से आराम दिलाने में मदद कर सकता है। एनसीबीआई की वेबसाइट पर पब्लिश एक रिसर्च की मानें, तो जोजोबा ऑयल में वैक्स एस्टर्स नामक एक तत्व मौजूद होता है, जो मुंहासो के उपचार में मदद कर सकता है। इसके अलावा, इसमें इंफ्लेमेटरी गुण भी मौजूद होता है, जो मुंहासों की सूजन से छुटकारा दिलाने में मदद कर सकता है (15)।

नोट: पिम्पल पर कभी स्क्रब न करें। इससे वो फूट सकते हैं और उनके दाग पड़ सकते हैं।

7. एलोवेरा और सेब का सिरका

सामग्री :

  • 1 चम्मच एलोवेरा जेल
  • डेढ़ चम्मच सेब का सिरका
  • डेढ़ चम्मच साफ पानी
  • 1 कॉटन बॉल

उपयोग करने का तरीका :

  • एक बाउल में सेब का सिरका और साफ पानी मिला लें।
  • फिर इसमें एलोवेरा जेल मिला लें।
  • अब इस मिश्रण को कॉटन बॉल की मदद से प्रभावित जगह पर लगा कर 15-20 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • आखिर में ठंडे पानी से धोकर, साफ तौलिये से पोंछ लें।

नोट : सेब के सिरके में लैक्टिक एसिड मौजूद होता है, जो मुंहासों को दूर करने में मदद कर सकता है (10)। लेकिन, इसे आंखों के आस पास न लगाएं।

कैसे है फायदेमंद :

मुंहासों को कम करने के लिए एलोवेरा के साथ सेब के सिरके का उपयोग भी एक कारगर उपाय हो सकता है। दरअसल, सेब के सिरके में एंटीमाइक्रोबियल (बैक्टीरिया को पनपने से रोकने वाला) गतिविधियां पाई जाती हैं (16)। सेब के सिरके का यह गुण मुंहासें का कारण बनने वाले बैक्टीरिया से बचाव का काम कर सकता है। यही कारण है कि मुंहासों से निजात पाने में सेब का सिरका भी उपयोगी माना जा सकता है।

8. एलोवेरा और बादाम का तेल

सामग्री :

  • 1 छोटा चम्‍मच एलोवेरा जेल
  • बादाम तेल की 3 से 4 बूंदें

उपयोग करने का तरीका :

  • एक बाउल में एलोवेरा जेल लें और उसमें बादाम का तेल मिलाएं।
  • अब इस मिश्रण को प्रभावित जगहों पर लगाएं।
  • 10 से 15 मिनट तक इसे ऐसे ही छोड़ दें।
  • जैसे ही यह सूख जाए, चेहरा पानी से धो कर साफ कर लें।
  • इस प्रक्रिया को दिन में 3 बार दोहराएं।

कैसे है फायदेमंद :

त्वचा के लिए बादाम के तेल के फायदे कई सारे हैं। दरअसल, एक वैज्ञानिक शोध के अनुसार, इसमें एंटी बैक्टीरियल प्रभाव मौजूद होता है, जो बैक्टीरिया की वजह से होने वाले मुंहासों से बचाने में मदद कर सकता है। इस शोध के अनुसार, ग्राम पॉजिटिव और ग्राम-नेगेटिव बैक्टीरिया (gram positive and gram-negative bacteria) पर अन्य तेलों के मुकाबले बादाम का तेल और एलोवेरा ज्यादा प्रभावी हो सकता है (17)।

इसके अलावा, बादाम के तेल में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण भी मौजूद होते हैं, जो मुंहासों के कारण होने वाली सूजन को कम करने में मददगार साबित हो सकते हैं। यही नहीं, बादाम के तेल में एमोलिएंट (त्वचा को मुलायम करने वाला) गुण भी मौजूद होता है (18)।

9. एलोवेरा और गुलाब जल

सामग्री :

  • 1 चम्मच गुलाब जल
  • 2 चम्मच एलोवेरा जेल
  • आधा खीरा (कद्दूकस किया हुआ)

उपयोग करने का तरीका :

  • गुलाब जल, खीरा और एलोवेरा जेल को एक बाउल में मिला लें।
  • इस मिश्रण को अपने हाथों से चेहरे पर लगाएं।
  • सूख जाने पर गुनगुने पानी से धोएं और फिर सूखे तौलिये से थपथपा कर पोंछ लें।

कैसे है फायदेमंद :

त्वचा के लिए गुलाब जल के फायदे भी कई सारे हैं। इसका इस्तेमाल कील-मुंहासों से छुटकारा पाने के लिए किया जा सकता है (11)। वहीं, एनसीबीआई की वेबसाइट पर पब्लिश एक रिसर्च में बताया गया है कि गुलाब में एंटी बैक्टीरियल और एंटी इंफ्लामटरी गतिविधियां पाई जाती हैं (19)। इसमें मौजूद एंटी बैक्टीरियल प्रभाव जहां मुंहासों का कारण बनने वाले बैक्टीरिया को पनपने से रोक सकता है। वहीं, एंटी इंफ्लामटरी गतिविधि मुंहासों के कारण होने वाली सूजन को कम करने में सहायक हो सकती है।

नीचे स्क्रॉल करें

लेख के इस भाग में जानिए, मुंहासों के लिए सबसे अच्छे कुछ एलोवेरा जेल के बारे में।

मुंहासों के लिए सबसे अच्छे कुछ एलोवेरा जेल के नाम

अगर किसी के घर के आसपास एलोवेरा का पौधा नहीं है या किसी को ताजा एलोवेरा नहीं मिल रहा है, तो ऐसे में वे बाजार में मौजूद पिंपल्स के लिए एलोवेरा का इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे भी लाभ मिल सकता है। यहां हम मुंहासों के लिए सबसे अच्छे कुछ एलोवेरा जेल बारे में बता रहे हैं।

1. इनवुड नेचुरल प्योर एंड नेचुरल एलोवेरा जेल (Inwood Pure And Natural Aloevera Gel)

गुण:

  • इसमें एलोवेरा के प्राकृतिक गुण मौजूद होते हैं, जो त्वचा को कोमल और मुलायम बना सकते हैं।
  • मुंहासों से राहत दिलाने के साथ-साथ खुरदरी व जली-कटी त्वचा से भी राहत मिल सकती है।
  • इस क्रीम का टेक्सचर हल्का है और यह त्वचा में आसानी से अवशोषित हो जाती है।

अवगुण:

  • यह क्रीम थोड़ी महंगी है।

किस तरह की त्वचा के लिए बेहतर है?

  • इस क्रीम को हर तरह की त्वचा पर लगाया जा सकता है। खासकर, सूखी त्वचा पर यह क्रीम अच्छी तरह से काम कर सकती है।

रेटिंग : 5/5

(यहां से खरीदें)

2. रिवोना नेचुरल एलोवेरा जेल (Rivona Naturals Aloevera Gel)

गुण:

  • विटामिन से भरपूर इस जेल में 92 प्रतिशत एलोवेरा के गुण हैं, जो पिम्पल और पुराने पिम्पल के दागों से राहत दिला सकते हैं।
  • इसे चेहरे के साथ-साथ हाथ, पैर और पूरे शरीर पर लगा सकते हैं।
  • ये त्वचा को मॉइस्चराइज कर सकता है और नमी बनाए रखने में मदद कर सकता है।

अवगुण:

  • यह रूखी त्वचा को मॉइस्चराइज नहीं कर सकता है।

किस तरह की त्वचा के लिए बेहतर है?

  • सामान्य व तैलीय त्वचा के लिए एक बेहतर विकल्प हो सकता है।

रेटिंग : 5/5

(यहां से खरीदें)

3. नेचर रिपब्लिक एलोवेरा जेल (Nature Republic Aloe Vera Gel)

गुण:

  • विटामिन से भरपूर इस जेल में 92 प्रतिशत एलोवेरा के गुण हैं, जो मुंहासों और पुराने मुंहासों के दागों से राहत दिला सकते हैं।
  • इसे चेहरे के साथ-साथ हाथ, पैर और पूरे शरीर पर लगा सकते हैं।
  • ये त्वचा को मॉइस्चराइज कर सकता है और नमी बनाए रखने में भी मदद कर सकता है।

अवगुण:

  • यह रूखी त्वचा को मॉइस्चराइज नहीं कर सकता है।

किस तरह की त्वचा के लिए बेहतर है?

रेटिंग : 5/5

(यहां से खरीदें)

4. ट्रूफेला क्रिस्टल क्लियर एलोवेरा जेल (TRUFELLA Crystal Clear Aloe Vera Gel)

गुण:

  • यह मुंहासों और सनबर्न जैसी समस्याओं से आराम दिला सकता है।
  • इसमें मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट गुण प्रदूषण से त्वचा को होने वाले नुकसान से बचा सकते हैं।
  • इसे चेहरे के साथ-साथ बालों के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

अवगुण:

  • इसकी गंध थोड़ी तेज है।
  • संवेदनशील त्वचा पर इसे लगाने से जलन हो सकती है।

किस तरह की त्वचा के लिए बेहतर है?

  • यह सामान्य व तैलीय त्वचा के लिए बेहतर साबित हो सकता है।

रेटिंग : 4.5/5

(यहां से खरीदें)

5. अर्बन बॉटेनिक्स प्योर एलोवेरा जेल (Urban Botanics Pure Aloe Vera Gel)

गुण:

  • मुंहासों से लड़ने के साथ-साथ रूखी त्वचा के लिए भी यह बेहतर हो सकता है।
  • साथ ही इसे लगाने से खुजली व जलन से भी राहत मिल सकती है।
  • सिर की खुजली और रूसी से भी निजात दिला सकता है।

अवगुण:

  • संवेदनशील त्वचा के लिए शायद उपयुक्त न हो।

किस तरह की त्वचा के लिए बेहतर है?

  • इसे हर तरह की त्वचा पर इस्तेमाल किया जा सकता है।

रेटिंग : 4.5 / 5

(यहां से खरीदें)

अभी बाकी है जानकारी

लेख के अंत में हम त्वचा पर एलोवेरा के दुष्प्रभाव के बारे में जानेंगे।

कील-मुंहासे पर एलोवेरा लगाने के कुछ दुष्प्रभाव

वैसे तो मुंहासों के लिए एलोवेरा सबसे बेहतरीन आयुर्वेदिक औषधि है, लेकिन फिर भी इसके इस्तेमाल के समय कुछ सावधानी बरतना जरूरी है। नीचे जानिए इसके कुछ संभावित नुकसान:

  • एलोइन और बारबालोइन (aloin and barbaloin) की मौजूदगी के कारण इसका टॉपिकल इस्तेमाल संवेदनशील त्वचा पर जलन, लालिमा और चुभन का कारण बन सकता है (3)।
  • वहीं, लेख में बताए गए पिंपल हटाने के घरेलू तरीके में इस्तेमाल होने वाली किसी भी सामग्री से अगर किसी को एलर्जी है, वो वह पिम्पल्स के लिए एलोवेरा का अन्य उपाय उपयोग में लाए, वरना उस सामग्री से एलर्जी की समस्या हो सकती है।
  • वहीं, सावधानी के लिए पिम्पल्स के लिए एलोवेरा का कोई भी तरीका इस्तेमाल करने से पहले पैच टेस्ट जरूर करें।

एलोवेरा सच में एक चमत्कारी आयुर्वेदिक पौधा है। इस लेख को पढ़ने के बाद आप समझ गए होंगे की मुंहासे हटाने के घरेलू तरीके के तौर पर एलोवेरा का उपयोग किस प्रकार किया जा सकता है। वहीं, ध्यान रखें कि पिंपल्स के लिए एलोवेरा पर पूरी तरह से निर्भर रहना सही नहीं है। अगर मुंहासे की समस्या ज्यादा गंभीर है, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। इस तरह के अन्य घरेलू नुस्खे जानने के लिए जुड़े रहें स्टाइलक्रेज के साथ। अब आगे हम पाठकों द्वारा पूछे गए सवालों के जवाब दे रहे हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल:

क्या मैं मुंहासों और काले धब्बों के लिए एलोवेरा का उपयोग कर सकती हूं?

हां, मुंहासों और काले धब्बों के लिए एलोवेरा का उपयोग किया जा सकता हैं (20)। वहीं, अगर किसी की त्वचा संवेदनशील है, तो इसके इस्तेमाल से पहले पैच टेस्ट जरूर कर लें।

क्या मैं मुंहासों के निशान के लिए एलोवेरा का उपयोग कर सकती हूं?

हां, मुंहासों के निशान के लिए एलोवेरा का उपयोग किया जा सकता है, हालांकि, यह इस काम में कितना फायदेमंद होगा, इससे जुड़े सटीक वैज्ञानिक शोध का अभाव है।

क्या एलोवेरा जेल पीने से मुंहासों में मदद मिलती है?

हां, एलोवेरा जेल पीने से मुंहासों में मदद मिल सकती है। एक शोध के अनुसार, एलोवेरा जूस का सेवन मुंहासों की समस्याओं को कम कर सकता (21)।

Sources

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. Oxidants and antioxidants status in acne vulgaris patients with varying severity
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/24795060/
  2. Aloe vera (L.) Webb.: Natural Sources of Antioxidants – A Review
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6684795/
  3. Aloe Vera: A Short Review
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2763764/
  4. Topical antibacterial therapy for acne vulgaris
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/15481998/
  5. Acne vulgaris, probiotics and the gut-brain-skin axis – back to the future?
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3038963/
  6. Aloe vera : A Potential Herb and its Medicinal Importance
    https://www.jocpr.com/articles/aloe-vera–a-potential-herb-and-its-medicinal-importance.pdf
  7. Honey: A Therapeutic Agent for Disorders of the Skin
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5661189/
  8. Efficacy of topical cinnamon gel for the treatment of facial acne vulgaris: A preliminary study
    http://www.bmrat.org/index.php/BMRAT/article/view/515
  9. Antibacterial Activity of Ethanolic Extract of Cinnamon Bark, Honey, and Their Combination Effects against Acne-Causing Bacteria
    https://www.mdpi.com/2218-0532/85/2/19/htm
  10. Treatment Modalities for Acne
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6273829/
  11. Formulation and evaluation of herbal face mist
    http://www.jipbs.com/VolumeArticles/FullTextPDF/471_JIPBSV7I102.pdf
  12. Treatment of acne with a combination of propolis, tea tree oil, and Aloe vera compared to erythromycin cream: two double-blind investigations
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6298394/
  13. A comparative study of tea-tree oil versus benzoyl peroxide in the treatment of acne
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/2145499/
  14. Commercial Essential Oils as Potential Antimicrobials to Treat Skin Diseases
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5435909/
  15. Anti-Inflammatory and Skin Barrier Repair Effects of Topical Application of Some Plant Oils
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5796020/
  16. Antimicrobial activity of apple cider vinegar against Escherichia coli, Staphylococcus aureus and Candida albicans; downregulating cytokine and microbial protein expression
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5788933/
  17. Antibacterial Activity Of Some Plant Essential Oils Against Pathogenic Bacteria With The Efficacy Of Zinc Oxide Ointment Against Some Skin Infection
    https://www.researchgate.net/publication/329988347_ANTIBACTERIAL_ACTIVITY_OF_SOME_PLANT_ESSENTIAL_OILS_AGAINST_PATHOGENIC_BACTERIA_WITH_THE_EFFICACY_OF_ZINC_OXIDE_OINTMENT_AGAINST_SOME_SKIN_INFECTION
  18. The uses and properties of almond oil
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/20129403/
  19. Pharmacological Effects of Rosa Damascena
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3586833/
  20. Medicinal and cosmetological importance of Aloe vera
    https://www.researchgate.net/publication/233818204_Medicinal_and_cosmetological_importance_of_Aloe_vera
  21. Aloe vera Juice and Acne Vulgaris: A Placebo-Controlled Study
    https://scialert.net/abstract/?doi=ajcn.2014.29.34
Was this article helpful?
thumbsupthumbsdown
The following two tabs change content below.
कविता सिंह ने पंजाब तकनीकी विश्वविद्यालय से मास कम्युनिकेशन में स्नातक हैं। इन्होंने वर्ष 2014 में एक प्रख्यात न्यूज चैनल... more

Dr. Suvina Attavar

(MBBS, DVD)
Dr. Suvina Attavar - I have a thirst for learning and a passion for Dermatology, Cosmetology and hair transplantation. I... more

ताज़े आलेख