घरेलू उपचार

मुल्तानी मिट्टी के फायदे और उपयोग – Fuller’s Earth (Multani Mitti) Benefits and Uses in Hindi

by
मुल्तानी मिट्टी के फायदे और उपयोग – Fuller’s Earth (Multani Mitti) Benefits and Uses in Hindi Hyderabd040-395603080 June 7, 2019

जब बात आए खूबसूरत और चमकदार त्वचा की, तो ‘मुल्तानी मिट्टी’ से बेहतर कोई घरेलू उपचार नहीं हो सकता। बाजार में आसानी से मिल जाने वाली मुल्तानी मिट्टी लगभग हर किसी ने लगाई होगी। सिर्फ घरों में ही नहीं, बल्कि ब्यूटी पार्लर में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है। यहां तक कि कई स्किन केयर उत्पाद में भी यह शामिल होती है। आपको जानकर हैरानी होगी कि मुल्तानी मिट्टी के फायदे न सिर्फ त्वचा के लिए, बल्कि बालों और स्वास्थ्य के लिए भी हैं।

इस लेख में हम मुल्तानी मिट्टी के लाभ के बारे में आपको जानकारी देंगे। साथ ही मुल्तानी मिट्टी लगाने का तरीका भी बताएंगे। अब बिना देर करते हुए त्वचा, बाल और स्वास्थ्य के लिए मुल्तानी मिट्टी के फायदे जानते हैं।

मुल्तानी मिट्टी क्या है?- What is Fuller’s Earth (Multani Mitti)?

What is Fuller's Earth in Hindi Pinit

Shutterstock

इससे पहले कि हम मुल्तानी मिट्टी के फायदे बताएं, आपके लिए यह जानना जरूरी है कि मुल्तानी मिट्टी क्या है। मुल्तानी मिट्टी को इंग्लिश में फुलर्स अर्थ (fuller’s earth in hindi) कहते हैं। मुल्तानी मिट्टी मुख्य रूप से हाइड्रेटेड एल्यूमीनियम सिलिकेट्स का रूप हैं, जिसमें मैग्नीशियम, सोडियम और कैल्शियम जैसे धातु के अणु होते हैं। इस मिट्टी में मोंटमोरिल्लोनाइट (Montmorillonite) के अलावा एटापुलगाइट (attapulgite) और पैलगोरोसाइट (palygorskite) जैसे प्रमुख खनिज भी शामिल हैं (1)। मुल्तानी मिट्टी त्वचा से गंदगी को निकालती है और त्वचा में होने वाले किसी भी प्रकार की खुजली से राहत दिलाती है।

मुल्तानी मिट्टी के लाभ अनेक हैं, जिनके बारे में हम आगे इस लेख में विस्तार से बताएंगे।

मुल्तानी मिट्टी के फायदे – Benefits of Fuller’s Earth in Hindi

जब बात आए मुल्तानी मिट्टी के फायदे की, तो सबसे पहले त्वचा का जिक्र होता है।

त्वचा के लिए मुल्तानी मिट्टी के फायदे – Multani Mitti for Skin in Hindi

यहां हम त्वचा के लिए मुल्तानी मिट्टी के फायदे और मुल्तानी मिट्टी लगाने का तरीका आपको बता रहे हैं।

1. चमकती त्वचा के लिए मुल्तानी मिट्टी के फायदे

Multani Mitti for Glowing skin in hindi Pinit

Shutterstock

सामग्री :
  • एक चम्मच मुल्तानी मिट्टी
  • एक चम्मच टमाटर का रस
  • एक चम्मच चंदन पाउडर
  • एक चौथाई चम्मच हल्दी पाउडर
  • एक तौलिया
बनाने और लगाने का तरीका :
  • अपने चेहरे को अच्छे से धोकर तौलिये से सूखा लें।
  • एक प्लास्टिक या शीशे के कटोरी में सभी सामग्रियों को मिलाकर पेस्ट बना लें।
  • अब इस पेस्ट को अपने चेहरे पर फेस पैक की तरह लगाएं। ध्यान रहे कि यह पैक आंखों और मुंह के आसपास की नाजुक त्वचा पर न लगे।
  • इस पैक को 15 मिनट तक या जब तक न सूखे, तब तक लगा रहने दें।
  • फिर भीगे तौलिये से इसे पोंछ लें और गुनगुने पानी से चेहरा धो लें।
कब लगाएं?

आप हफ्ते में एक या दो बार इसे लगा सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है?

यह फेस पैक न केवल आपकी त्वचा से मृत कोशिकाओं को हटाएगा, बल्कि चेहरे पर तुरंत चमक भी लाएगा। यह आपकी त्वचा के रोमछिद्र को खोलकर त्वचा की अशुद्धियों को साफ करता है। इसके बाद आप जो भी लोशन या क्रीम त्वचा पर लगाएंगे, वो अच्छे से आपकी त्वचा में समा जाएगी।

2. तैलीय त्वचा के लिए मुल्तानी मिट्टी के फायदे

सामग्री :
  • एक चम्मच मुल्तानी मिट्टी
  • एक चम्मच गुलाब जल (आवश्यकतानुसार)
  • एक तौलिया
बनाने और लगाने का तरीका :
  • अपने चेहरे को अच्छी तरह से धोकर तौलिये से पोंछ लें।
  • एक कटोरे में मुल्तानी मिट्टी और गुलाब जल को मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें।
  • अब इस फेस पैक को अपने चेहरे की नाजुक त्वचा जैसे – आंखों और होंठों के नीचे की त्वचा से बचाकर पूरे चेहरे पर लगाएं।
  • जब तक फेस पैक सूख न जाए इसे लगा रहने दें।
  • सूखने के बाद चेहरे को गीले तौलिये से हल्के-हल्के हाथों से पोंछकर गुनगुने पानी से धो लें।
कब लगाएं?

हफ्ते में एक या दो बार आप इस फेस पैक को लगा सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है?

मुल्तानी मिट्टी न सिर्फ त्वचा की गंदगी को निकालने में मदद कर सकती है, बल्कि तैलीय और शुष्क दोनों प्रकार की त्वचा के लिए तेल उत्पादन को नियमित करने में मदद कर सकती है। कई बार त्वचा से अत्यधिक तेल निकलने से त्वचा के रोमछिद्र बंद हो जाते हैं। इसी वजह से कील-मुंहासे होने लगते हैं। ऐसे में मुल्तानी मिट्टी फेस पैक लगाने से त्वचा से निकलने वाला तेल नियंत्रित होगा।

3. शुष्क त्वचा के लिए मुल्तानी मिट्टी के फायदे

Multani Mitti for dry skin in hindi Pinit

Shutterstock

सामग्री :
  • एक चम्मच मुल्तानी
  • एक चम्मच शहद
  • तीन से चार अंगूर के दाने (वैकल्पिक)
बनाने और लगाने का तरीका :
  • अंगूर को मसल लें और एक कटोरी में मुल्तानी मिट्टी व शहद के साथ मिक्स कर लें।
  • ध्यान रहे फेस पैक बनाने के लिए जितनी जरूरत हो उतना ही शहद मिलाएं।
  • अब इस मिश्रण को अपने चेहरे पर लगाएं।
  • इसे 20 मिनट के लिए या जब तक सूखे न, तब तक चेहरे पर लगा रहने दें।
  • सूखने के बाद ठंडे पानी से चेहरा धो लें।
  • फिर मॉइस्चराइजर लगा लें।
कब लगाएं?

आप हफ्ते में एक बार इसे लगा सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है?

मुल्तानी मिट्टी के इस फेस पैक में शहद भी है, जो आपकी त्वचा को नमी देगा। यह त्वचा को मॉइस्चराइज करता है। साथ ही इसमें मौजूद एंटीबैक्टीरियल गुण त्वचा की समस्याओं से छुटकारा दिलाने में मदद करते हैं। यह हुमेक्टैंट का काम करता है यानी आपकी त्वचा में मॉइस्चर को लॉक करता है (2) (3)। वहीं, अंगूर में एंटी-एजिंग गुण होते हैं (4), जो वक्त से पहले त्वचा पर झुर्रियों को होने से रोकते हैं। ऐसे में मुल्तानी मिट्टी का यह फेस पैक शुष्क त्वचा की समस्या से काफी हद तक निजात दिला सकता है।

4. कील-मुंहासों के लिए मुल्तानी मिट्टी के फायदे

सामग्री :
  • दो चम्मच मुल्तानी मिट्टी
  • आधा या एक चम्मच हल्दी पाउडर
  • दो चम्मच शहद
बनाने और लगाने का तरीका :
  • सभी सामग्रियों को मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें।
  • पहले अपने चेहरे को किसी क्लींजर से साफ कर लें।
  • अब इस फेस पैक को अपने चेहरे पर लगाएं।
  • इसे 15 से 20 मिनट या जब तक ये सूखे न, तब तक लगा रहने दें।
  • फिर गुनगुने या ठंडे पानी से चेहरा धो लें।
कब लगाएं?

हफ्ते में दो से तीन बार लगाएं।

कैसे फायदेमंद है?

तैलीय त्वचा के कारण कील-मुंहासे हो जाते हैं। ऐसे में मुल्तानी मिट्टी में त्वचा के तेल को सोखने के गुण होते हैं और इससे कील-मुंहासे पर काफी असर पड़ सकता है। इससे आपकी त्वचा की गंदगी तो बाहर निकलती ही है, साथ ही मुंहासों के फिर से होने की आशंका कम हो जाती है। वहीं, हल्दी में मौजूद एंटीसेप्टिक, एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण त्वचा के लिए फायदेमंद हैं (5)। हल्दी मुंहासों के अलावा कई अन्य त्वचा संबंधी समस्याओं से भी राहत दिलाती है (6)।

5. त्वचा के एक्सफोलिएशन के लिए मुल्तानी मिट्टी के लाभ

Multani Mitti for for Skin Exfoliation in hindi Pinit

Shutterstock

सामग्री :
  • एक चम्मच मुल्तानी मिट्टी
  • एक चम्मच गुलाब जल
बनाने और लगाने का तरीका :
  • पहले अपने चेहरे को साफ कर लें।
  • फिर मुल्तानी मिट्टी और गुलाब जल को मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें।
  • इस पेस्ट को अपने चेहरे पर लगाकर हल्के-हल्के हाथों से मालिश करें।
  • कुछ देर के लिए इसे लगा रहने दें और फिर गुनगुने पानी से धो लें।
कब लगाएं?

हफ्ते में दो से तीन बार उपयोग करें।

कैसे फायदेमंद है?

मुल्तानी मिट्टी अपने बेहतरीन एक्सफोलिएटिंग गुणों के लिए जानी जाती है। यह आपकी त्वचा के मृत कोशिकाओं को बहुत ही कोमलता से हटाकर रोम छिद्रों को खोलती है। इससे त्वचा पर होने वाले मुंहासों से बचा जा सकता है।

6. दाग-धब्बों के लिए मुल्तानी मिट्टी के लाभ

सामग्री :
  • एक चम्मच मुल्तानी मिट्टी
  • दो चम्मच आलू का रस
बनाने और लगाने का तरीका :
  • अपने चेहरे को किसी क्लींजर या पानी से साफ करें।
  • फिर मुल्तानी मिट्टी और आलू के रस को मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें।
  • इस पेस्ट को अपने चेहरे खासकर दाग-धब्बों पर लगाएं।
  • इसे 15 मिनट के लिए या जब तक ये सूखे न चेहरे पर लगा रहने दें।
  • जब सूख जाए तो गुनगुने पानी से धो लें।
कब लगाएं?

आप हफ्ते में एक से दो बार इसे लगा सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है?

मुल्तानी मिट्टी न केवल मुंहासों से छुटकारा दिलाती है, बल्कि दाग-धब्बों पर भी असर करती है। यह त्वचा को नमी देने के साथ-साथ साफ भी करती है। सिर्फ मुल्तानी मिट्टी ही नहीं, बल्कि इस फेस पैक में इस्तेमाल किया गया आलू का रस भी दाग-धब्बों को साफ कर त्वचा में निखार लाता है (7)।

7. त्वचा को साफ करने के लिए मुल्तानी मिट्टी

Multani Mitti for clear skin in hindi Pinit

Shutterstock

सामग्री :
  • एक कप दलिया
  • एक कप नीम पाउडर
  • एक चौथाई कप सफेद चंदन
  • एक चम्मच हल्दी पाउडर
  • एक चम्मच बेसन
  • एक कप मुल्तानी मिट्टी
बनाने और लगाने का तरीका :
  • सारी सामग्रियों को मिलाकर एक पाउडर तैयार कर लें।
  • फिर इसे एक शीशे के एयर टाइट जार में रख लें।
  • साबुन के बदले आप इस पाउडर का उपयोग करें।
  • अपने शरीर व चेहरे पर इस स्क्रब से हल्की-हल्की मालिश करें और फिर गुनगुने पानी से धो लें।
कब लगाएं?

आप हर रोज या हर दूसरे दिन इसे लगा सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है?

मुल्तानी मिट्टी को क्लींजर के रूप में उपयोग किया जा सकता है। यह न सिर्फ त्वचा से गंदगी को निकालती है, बल्कि त्वचा को एक्सफोलिएट कर रंगत को भी निखारती है। इसमें मौजूद नीम त्वचा की समस्याओं से निजात दिला सकती है (8)। वहीं, हल्दी एंटीसेप्टिक, एंटीऑक्सीडेंट व एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों से भरपूर होती है। यह मुंहासों के साथ-साथ त्वचा संबंधी अन्य समस्याओं से भी राहत दिला सकती है (5)(6)।

8. सनटैन के लिए मुल्तानी मिट्टी के फायदे

सामग्री :
  • एक चम्मच मुल्तानी मिट्टी
  • एक चम्मच नारियल पानी (सामग्री की मात्रा आप जरूरत अनुसार ले सकते हैं)
  • एक चम्मच चीनी
बनाने और लगाने का तरीका :
  • मुल्तानी मिट्टी को नारियल पानी और चीनी के साथ मिलाएं।
  • अब इस मिश्रण को सनटैन वाली जगहों पर लगाएं।
  • फिर थोड़े देर बाद गुनगुने पानी से धो दें।
कब लगाएं?

अच्छे परिणाम के लिए इसे हफ्ते में दो बार लगाएं।

कैसे फायदेमंद है?

मुल्तानी मिट्टी और नारियल पानी दोनों की तासीर ठंडी होती है। तपती धूप में नारियल पानी आपके शरीर को अंदर से ठंडा कर देता है। वहीं, जब आप इसको अपनी त्वचा पर लगाते हैं, तो यह आपकी त्वचा को भी आराम दिलाता है। यह फेस पैक आपकी त्वचा को सनटैन से होने वाली जलन, रैशेज या खुजली से राहत दिला सकता है।

9. जलने-कटने के निशान के लिए मुल्तानी मिट्टी के फायदे

सामग्री :
  • एक चम्मच मुल्तानी मिट्टी
  • एक चम्मच गाजर का पल्प
  • एक चम्मच जैतून का तेल
बनाने और लगाने का तरीका :
  • अपनी त्वचा को पहले धोकर तौलिये से पोंछ लें।
  • फिर एक कटोरी में सभी सामग्रियों को मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें।
  • अब इस मिश्रण को प्रभावित त्वचा पर लगाएं।
  • इसे 15 मिनट या थोड़ी देर सूखने दें।
  • फिर भीगे तौलिये या वॉश क्लॉथ से पोंछ लें।
कब लगाएं?

आप इसे एक दिन में दो बार लगा सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है?

मुल्तानी मिट्टी में कई औषधीय गुण मौजूद होते हैं, जो न सिर्फ त्वचा की समस्याओं को दूर करते हैं, बल्कि पुराने जले-कटे के निशान को भी कम कर सकते हैं। हालांकि, यह कहना मुश्किल है कि निशान पूरी तरह मिटते हैं या नहीं, लेकिन हल्के जरूर हो सकते हैं।

10. ब्लैकहेड या व्हाइटहेड के लिए मुल्तानी मिट्टी के फायदे

Multani Mitti for Blackhead or Whitehead in hindi Pinit

Shutterstock

सामग्री :
  • दो से चार बादाम
  • एक चम्मच मुल्तानी मिट्टी
  • एक चम्मच गुलाब जल (सामग्री आप जरूरत अनुसार लें)
बनाने और लगाने का तरीका :
  • बादाम की गिरियों को दरदरा पीसकर सभी सामग्रियों के साथ मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें।
  • फिर अपने चेहरे को धोकर तौलिये से पोंछ लें।
  • अब इस पेस्ट को ब्लैकहेड वाली जगह जैसे – नाक पर लगाकर हल्के-हल्के हाथों से मालिश करें।
  • करीब पांच से दस मिनट बाद गुनगुने पानी से चेहरे को धो लें।
कब लगाएं?

हफ्ते में दो से तीन बार उपयोग करें।

कैसे फायदेमंद है?

मुल्तानी मिट्टी एक स्क्रब के रूप में भी काम करती है और ब्लैकहेड्स व व्हाइटहेड्स से छुटकारा पाने में मदद करती है। इसमें प्यूरीफाइंग यानी शुद्ध करना और क्लींजिंग यानी त्वचा को साफ करने के गुण होते हैं। इस कारण से यह त्वचा की गंदगी और अशुद्धियों को गहराई से निकालकर उसे साफ करती है।

11. त्वचा के गोरेपन के लिए मुल्तानी मिट्टी फेस पैक

सामग्री :
  • एक चम्मच मुल्तानी मिट्टी
  • एक चम्मच शहद
  • एक पपीते का पल्प
बनाने और लगाने का तरीका :
  • मुल्तानी मिट्टी, शहद व पपीते के पल्प को मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें।
  • फिर अपने चेहरे को साफ करके इस पेस्ट को लगाकर छोड़ दें।
  • जब यह पैक अच्छी तरह से सूख जाए, तो चेहरे को पानी से धो लें।
कब लगाएं?

आप गोरी व निखरी त्वचा पाने के लिए महीने में दो से तीन बार इस मुल्तानी मिट्टी फेस पैक को लगाएं।

कैसे फायदेमंद है?

मुल्तानी मिट्टी आपकी त्वचा को गहराई से साफ कर सारी अशुद्धियों को बाहर निकालती है और त्वचा की रंगत में निखार लाती है। वहीं, पपीते का गुद्दा आपकी त्वचा को चमकदार बनाने और उसे स्वस्थ रखने में मदद करता है। यह एक्सफोलिएटर की तरह काम करता है। इसमें स्किन व्हाइटनिंग और एंटी-एजिंग गुण मौजूद होते हैं (9)। इसके अलावा, यह त्वचा को धूप की हानिकारक किरणों से होने वाली क्षति से भी बचाता है (10)। इस मुल्तानी मिट्टी फेस पैक में शहद का भी उपयोग किया गया है, जो त्वचा को मॉइस्चराइज कर त्वचा की नमी को बरकरार रखता है (3)। इस प्रकार मुल्तानी मिट्टी फेस पैक बहुत लाभकारी हो सकता है।

आइए, अब बालों के लिए मुल्तानी मिट्टी के फायदे जान लेते हैं।

बालों के लिए मुल्तानी मिट्टी के फायदे – Multani Mitti for Hair in Hindi

त्वचा के साथ-साथ बालों की खूबसूरती और मजबूती भी बहुत जरूरी है। खूबसूरत बाल व्यक्तित्व को और निखारते हैं। वहीं, जब बाल रूखे व बेजान होकर टूटने लगते हैं, तो चिंता का कारण बन जाते हैं। ऐसे में मुल्तानी मिट्टी फायदेमंद साबित हो सकती है। नीचे हम बालों के लिए मुल्तानी मिट्टी के लाभ बता रहे हैं।

1. रूसी के लिए मुल्तानी मिट्टी के लाभ

Multani Mitti for Dandruff in hindi Pinit

Shutterstock

सामग्री :
  • चार चम्मच मुल्तानी मिट्टी
  • छह चम्मच मेथी दाना
  • एक चम्मच नींबू का रस
बनाने और लगाने की विधि :
  • मेथी दानों को रातभर पानी में भिगोकर रखें।
  • सुबह मेथी दानों को पीसकर पेस्ट बना लें और इस पेस्ट में मुल्तानी मिट्टी व नींबू का रस मिलाकर अच्छे से पैक बना लें।
  • अब इस पैक को अपने स्कैल्प पर लगाएं। ध्यान रहे कि यह पैक बालों की जड़ों से लेकर ऊपरी सिरे तक लगे।
  • इस पैक को लगाकर कम से कम आधे घंटे तक सूखने के लिए छोड़ दें।
  • पैक आपके कपड़ों पर न लगे, इसके लिए आप शॉवर कैप से सिर को कवर कर लें।
  • जब पैक सूख जाए, तो हल्के शैम्पू और ठंडे या गुनगुने पानी से बालों को धो लें। कोशिश करें कि शैंपू सल्फेट फ्री हो।
  • इसके बाद कंडीशनर लगाकर बालों को धो लें।
कब लगाएं?

आप हफ्ते में एक बार इस पैक का उपयोग कर सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है?

मेथी के बीज रूसी के लिए सबसे अच्छे उपचारों में से एक हैं। जब इन्हें मुल्तानी मिट्टी के साथ मिलाया जाता है, तो ये आपके स्कैल्प की सभी अशुद्धियों निकाल देते हैं। वहीं, नींबू का रस आपके हेयर फॉलिकल्स यानी बालों के रोम को मजबूत बनाता है और डैंड्रफ को भी कम करने में मदद करता है (11)।

2. दो मुंहे बालों के लिए मुल्तानी मिट्टी फेस पैक

Multani Mitti for Split ends in hindi Pinit

Shutterstock

सामग्री :
  • चार चम्मच मुल्तानी मिट्टी
  • तीन चम्मच जैतून का तेल
  • एक कप दही
बनाने और लगाने की विधि :
  • रात को सोने से पहले जैतून के तेल से अपने बालों की मालिश करें।
  • सुबह दही और मुल्तानी मिट्टी को मिलाकर पैक बना लें और इस मिश्रण को अपने बालों में लगाएं।
  • इसे 20 मिनट तक लगा रहने दें और फिर बालों को गुनगुने पानी से धो लें।
  • फिर अगले दिन बालों को शैम्पू से धो लें।
कब लगाएं?

आप हफ्ते में एक बार इस पैक को लगाएं।

कैसे फायदेमंद है?

मुल्तानी मिट्टी तो बालों को फायदा पहुंचाती ही है, साथ ही इस पैक में उपयोग किया गया जैतून का तेल और दही बालों को कंडीशन करता है। ये बालों को नुकसान होने से बचाते हैं और उन्हें स्वस्थ रखते हैं।

3. ड्राई बालों के लिए मुल्तानी मिट्टी पैक

Multani Mitti for dry hair in hindi Pinit

Shutterstock

सामग्री :
  • चार चम्मच मुल्तानी मिट्टी
  • आधा कप दही
  • आधे नींबू का रस
  • दो चम्मच शहद
बनाने और लगाने की विधि :
  • एक कटोरी में सभी सामग्रियों को डालकर मिक्स करें और पेस्ट तैयार कर लें।
  • अब इस पैक को अपने स्कैल्प, बालों की जड़ों और सिरे पर लगाएं।
  • इसे लगाकर शॉवर कैप पहन लें और 15 से 20 मिनट तक लगा रहने दें।
  • इसके बाद हल्के शैम्पू से बालों को धो लें और कंडीशनर लगा लें। कोशिश करें कि शैंपू सल्फेट फ्री हो।
कब लगाएं?

आप हफ्ते में एक से दो बार लगा सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है?

अगर बालों को कंडीशनिंग करने की बात आए, तो दही अच्छी सामग्री है। वहीं, शहद आपके बालों की नमी को लॉक करता है और उसे बरकरार रखता है। इस हेयर पैक में मौजूद नींबू का रस विटामिन-सी के साथ-साथ आपके स्कैल्प को पोषण देता है, जो स्वस्थ बालों के विकास में मदद करता है। मुल्तानी मिट्टी का यह हेयर पैक बालों में चमक लाता है और उन्हें स्वस्थ बनाता है।

आगे जानिए कि सेहत के लिए मुल्तानी मिट्टी किस प्रकार लाभकारी है।

सेहत के लिए मुल्तानी मिट्टी के फायदे – Health Benefits Multani Mitti in Hindi

Health Benefits Multani Mitti in Hindi Pinit

Shutterstock

आपको बता दें कि त्वचा और बालों के साथ-साथ सेहत के लिए मुल्तानी मिट्टी फायदेमंद है। नीचे हम आपको सेहत के लिए मुल्तानी मिट्टी के लाभ बता रहे हैं।

1. रक्त प्रवाह के लिए मुल्तानी मिट्टी के लाभ

सामग्री :
  • दो चम्मच मुल्तानी मिट्टी
  • एक चम्मच पानी
  • एक तौलिया
बनाने और लगाने का तरीका :
  • एक कटोरी में सभी सामग्रियों को मिलाकर पेस्ट बना लें।
  • अब इस पेस्ट को अपने शरीर के किसी भी अंग पर लगाकर 10 से 15 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • जब पेस्ट सूख जाए, तो भीगे तौलिये से या वॉश क्लॉथ से पोंछ दें।
कब लगाएं?

आप हर दिन इसे लगा सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है?

मुल्तानी मिट्टी आपकी त्वचा को उत्तेजित करके रक्त के संचार को बेहतर बनाने में मदद करती है। जब आपके शरीर में सही ब्लड सर्कुलेशन होगा, तो आपका शरीर भी फिट महसूस करेगा और कई तरह की बीमारियों से आपका बचाव होगा।

2. गर्मी से राहत दिलाए मुल्तानी मिट्टी

Multani Mitti for Heat Resistance in Hindi Pinit

Shutterstock

सामग्री :
  • तीन से चार चम्मच मुल्तानी मिट्टी
  • ठंडा पानी (आवश्यकतानुसार)
बनाने और लगाने का तरीका :
  • एक कटोरी में मुल्तानी मिट्टी और पानी को मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें।
  • अब इस पेस्ट को अपने शरीर पर लगाएं।
  • ध्यान रहे कि यह पेस्ट आप अपने सीने और गले पर न लगाएं, क्योंकि मुल्तानी मिट्टी ठंडी होती है और इससे सांस संबंधी समस्याएं हो सकती हैं।
  • इस पेस्ट को 15 से 20 मिनट के लिए लगा रहने दें।
  • जब यह सूख जाए, तो आप इसे गुनगुने पानी से धो दें।
कब लगाएं?

हफ्ते में दो से तीन बार या जब भी शरीर में जलन की समस्या हो।

कैसे फायदेमंद है?

मुल्तानी मिट्टी में शरीर को ठंडा रखने के गुण मौजूद होते हैं। जब आपका शरीर गर्म होता है या आपके शरीर से गर्माहट निकलती है, तो यह आपके शरीर को ठंडा करता है। यह तब बहुत काम आता है, जब आप गर्म क्षेत्र में रहते हैं या आपको सनबर्न से तुरंत राहत चाहिए हो।

3. मुल्तानी मिट्टी ठंडे या गर्म सेंक की तरह

जोड़ों में या हड्डियों में दर्द हो, तो गर्म सेंक या पट्टी लेने की जरूरत होती है। वहीं, अगर कहीं कट लग जाए, चोट लग जाए या जल जाए, तो ठंडी पट्टी की जरूरत होती है। मुल्तानी मिट्टी ठंडे और गर्म दोनों तरह से सेंक लेने के काम आ सकती है। नीचे हम इसी विधि के बारे में आपको बता रहे हैं।

मुल्तानी मिट्टी गर्म सेंक की तरह

सामग्री :
  • दो चम्मच मुल्तानी मिट्टी
  • एक चम्मच गुनगुना या गर्म पानी
  • एक तौलिया
लेप बनाने और लगाने की विधि :
  • मुल्तानी मिट्टी और पानी को मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें।
  • अब इस पेस्ट को दर्द वाली जगह पर लगाएं।
  • इसे 15 मिनट लगा रहने दें।
  • फिर गर्म पानी से भीगे तौलिया से पोंछ दें।
कैसे दर्द में फायदेमंद?

यह लेप आपको जोड़ों, हड्डियों और मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द से आराम दिला सकता है।

मुल्तानी मिट्टी का ठंडा लेप

सामग्री :
  • दो चम्मच मुल्तानी मिट्टी
  • ठंडा पानी (आवश्यकतानुसार)
  • एक तौलिया
लेप बनाने और लगाने की विधि :
  • एक कटोरी में मुल्तानी मिट्टी और पानी को मिलाकर लेप बना लें।
  • अब इस पेस्ट को प्रभावित जगह पर लगाएं।
  • इसे 15 मिनट तक लगा रहने दें।
  • फिर गीले तौलिये या वॉश क्लॉथ या वाइप से पोंछ लें।
कैसे दर्द में फायदेमंद?

आप इसे कहीं चोट लगने पर, रैशेज पर, सनटैन या सनबर्न पर लगा सकते हैं। इसके अंदर ठंडक दिलाने के गुण हैं, जो आपको दर्द या जलन से राहत दिलाएंगे।

4. मुल्तानी मिट्टी एंटीसेप्टिक की तरह

Multani Mitti as antiseptic in hindi Pinit

Shutterstock

मुल्तानी मिट्टी में बेहतरीन एंटीसेप्टिक गुण होते हैं। यह गंदगी और संक्रमण को अवशोषित करता है और आपकी त्वचा को साफ व स्वस्थ महसूस कराता है। इसमें मौजूद यह गुण मुंहासों के उपचार में भी फायदेमंद है।

नोट: ऊपर बताई गईं सामग्रियों की मात्रा आप अपनी जरूरत के अनुसार ले सकते हैं। साथ ही अगर इन सामग्रियों में से किसी से भी आपको एलर्जी होती है, तो उसे इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें। इसके अलावा, आप किसी भी मुल्तानी मिट्टी फेस पैक के उपयोग से पहले उसका पैच टेस्ट भी कर सकते हैं।

मुल्तानी मिट्टी के उपयोग से जुड़ी कुछ जरूरी बातें – Tips to Use Multani Mitti in Hindi

हालांकि, मुल्तानी मिट्टी के नुकसान कुछ खास नहीं हैं, लेकिन कुछ सावधानियां बरतनी जरूरी हैं। नीचे हम इन्हीं कुछ बातों की जानकारी आपको दे रहे हैं।

  1. हमेशा अच्छे ब्रांड के मुल्तानी मिट्टी का चुनाव करें।
  1. मुल्तानी मिट्टी को गर्म जगह पर न रखें, बल्कि किसी एयर टाइट डिब्बे में रखें। आप मुल्तानी मिट्टी को फ्रिज में भी रख सकते हैं।
  1. मुल्तानी मिट्टी लगाते वक्त ध्यान रखें कि वो आपके मुंह में न जाए। मुल्तानी मिट्टी से किडनी स्टोन या पेट की परेशानी हो सकती है।
  1. रूखी त्वचा के लिए मुल्तानी मिट्टी का उपयोग थोड़ा संभलकर करें, क्योंकि यह त्वचा को और रूखा बना देती है। रूखी त्वचा के लिए मुल्तानी मिट्टी उपयोग करने का आसान तरीका यह है कि आप उसमें बादाम का दूध मिला लें। ऐसा करने से त्वचा रूखी नहीं होगी।
  1. मुल्तानी मिट्टी ठंडी होती है, इसलिए ठंड के मौसम में या जब सर्दी-खांसी व बुखार हो, तो इसके उपयोग से बचें।
  1. मुल्तानी मिट्टी फेस पैक लगाने के बाद मॉइस्चराइजर लगाना न भूलें, इससे त्वचा में नमी बरकरार रहेगी।

हमें उम्मीद है कि मुल्तानी मिट्टी के फायदे जानने के बाद इसे उपयोग करने की आपकी दिलचस्पी बढ़ गई होगी। इसलिए, आप आज से ही मुल्तानी मिट्टी फेस पैक का इस्तेमाल करें और अपनी त्वचा, बाल व सेहत में फर्क देखें। अगर सही तरीके से मुल्तानी मिट्टी का इस्तेमाल किया जाए, तो इसके नुकसान न के बराबर हैं। इसलिए, मुल्तानी मिट्टी के लाभ के लिए ऊपर दिए गए मुल्तानी मिट्टी फेस पैक का उपयोग कर अपने अनुभव हमारे साथ नीचे कमेंट बॉक्स में शेयर करें।

और पढ़े:

The following two tabs change content below.

Arpita Biswas

अर्पिता ने पटना विश्वविद्यालय से मास कम्यूनिकेशन में स्नातक किया है। इन्होंने 2014 से अपने लेखन करियर की शुरुआत की थी। इनके अभी तक 1000 से भी ज्यादा आर्टिकल पब्लिश हो चुके हैं। अर्पिता को विभिन्न विषयों पर लिखना पसंद है, लेकिन उनकी विशेष रूचि हेल्थ और घरेलू उपचारों पर लिखना है। उन्हें अपने काम के साथ एक्सपेरिमेंट करना और मल्टी-टास्किंग काम करना पसंद है। इन्हें लेखन के अलावा डांसिंग का भी शौक है। इन्हें खाली समय में मूवी व कार्टून देखना और गाने सुनना पसंद है।

संबंधित आलेख