नाक से खून आने के कारण, लक्षण और घरेलू इलाज – Home Remedies To Stop Nose Bleeding in Hindi

Written by

खून देखकर अक्सर लोग घबरा जाते हैं। वहीं जब खून नाक से बहने लगता है, तो लोगों को गंभीर बीमारी का डर भी सताने लगता है। वैसे नाक से खून निकलना ज्यादा गंभीर समस्या नहीं है, लेकिन लगातार नाक से खून बहे तो स्वास्थ्य के प्रति सचेत होने की आवश्यकता होती है। यह स्वास्थ्य से जुड़ी किसी गंभीर समस्या का संकेत हो सकता है। यही वजह है कि स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम आपको नाक से खून निकलने के कारण, इलाज और यह समस्या कब गंभीर हो सकती है, इस बारे में बताने जा रहे हैं।

पढ़ते रहें लेख

तो आइए नाक से खून आने के कारण से पहले हम नाक से खून आने के प्रकार जान लेते हैं।

नाक से खून आने के प्रकार – Types of Nose Bleed in Hindi

नाक से खून बहने की समस्या को दो प्रकारों में बांटा गया है। आइए इन दोनों प्रकार के बारे में विस्तार से जानते हैं (1):

एंटीरियर (Anterior) : नाक से खून निकलने का यह सबसे सामान्य प्रकार है। इस दौरान नाक के अंदर की सतह की रक्त वाहिनियां (ब्लड वेसल्स) फटने के कारण नाक से खून बहने लगता है। इन ब्लड वेसल्स को किसेलबाक प्लेक्सस (Kiesselbach plexus) के नाम से जाना जाता है। इसे सामान्य भाषा में नकसीर फूटना भी कहते हैं।

पोस्टीरियर (Posterior) : यह बीमारी की वजह से होने वाली ब्लीडिंग होती है। इस दौरान नाक की भीतरी और दिमाग से जुड़ने वाली नसें प्रभावित होती हैं। इस कारण नाक से खून आने के इस प्रकार में खून काफी ज्यादा बहने लगता है। इस अवस्था में नाक से खून आने के इलाज के लिए बिना देर किए डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

पढ़ना जारी रखें

नाक से खून आने के लक्षण, कारण और घरेलू उपचार जानने के लिए पढ़ते रहें यह लेख।

नाक से खून आने का लक्षण – Nosebleeds Symptoms in Hindi

यहां हम कुछ बिंदुओं के माध्यम से नाक से खून आने के लक्षणों के बारे में जानकारी दे रहे हैं (1)।

  • नाक एक या दोनों सुराखों से खून का बहना।
  • गले के पीछे तरल पदार्थ बहने का अनुभव होना।
  • बार-बार निगलने की इच्छा का पैदा होना।

और भी है बहुत कुछ

नाक से खून आने के लक्षण के बाद अब बारी है, इसके कारणों को समझने की।

नाक से खून आने के कारण – Causes of Nose Bleed in Hindi

नाक से खून आने के कई कारण हो सकते हैं। इसमें एलर्जी और नाक में जलन से लेकर गंभीर स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं शामिल हैं। नीचे हम बात करेंगे, नाक से खून आने के विभिन्न कारणों के बारे में (3)।

  • सर्दी, छींक या साइनस (Sinus) की समस्या के कारण नाक में होने वाली जलन
  • ठंडी या गर्म हवा
  • उच्च रक्तचाप
  • जोर लगाकर नाक साफ करना या खींचना
  • नाक में किसी कीड़े या वस्तु का फंसना
  • नाक में चोट या घाव लगना
  • साइनस या पिट्यूटरी ट्यूमर सर्जरी
  • डिविएट सेप्टम
  • विटामिन के की कमी
  • दवाओं का रासायनिक प्रभाव
  • नोस स्प्रे का ओवर डोज
  • नेसल कन्नुला (Nasal Cannulas) से ऑक्सीजन ट्रीटमेंट

आगे पढ़ें लेख

चलिए अब नाक से खून आने के इलाज के रूप में किन घरेलू उपायों को अपना सकते हैं, यह जान लेते हैं।

नाक से खून निकलना कम करने के लिए घरेलू उपाय- Home Remedies To Stop Nose Bleeding in Hindi

नाक से खून आने की समस्या को दूर करने के लिए कुछ आसान घरेलू उपायों को अपनाया जा सकता है। हालांकि, यह उपाय समस्या का इलाज नहीं है, लेकिन समस्या को कुछ हद तक कम करने में यह मददगार हो सकते हैं।

1. कोल्ड कंप्रेस

 सामग्री :

  • कुछ बर्फ के टुकड़े
  • एक मुलायम तौलिया

उपयोग का तरीका :

  • तौलिये में बर्फ के टुकड़े लपेटें और इसे नाक पर रखें।
  • बीच-बीच में तौलिये से नाक को हल्का-हल्का दबाएं।
  • 4-5 मिनट तक इस प्रक्रिया को दोहराते रहें।
  • बर्फ के टुकड़े को सीधे तौर पर इस्तेमाल नहीं करें।

कैसे है लाभदायक :

नाम से खून बहने की समस्या में बर्फ के टुकड़े का उपयोग फायदेमंद हो सकता है। एनसीबीआई पर प्रकाशित एक रिसर्च में पाया गया कि बर्फ की ठंडक रक्तस्राव को कम कर देती है। इससे ब्लीडिंग रुक जाती है (4)। इससे हम यह मान सकते हैं कि नाक से बहने वाले खून को रोकने के लिए बर्फ का टुकड़ा फायदेमंद हो सकता है। हालांकि, बर्फ के टुकड़े को सीधे त्वचा पर उपयोग नहीं करना चाहिए। इसे किसी नर्म कपड़े में लपेट कर ही इस्तेमाल में लाएं।

2. सेब का सिरका

सामग्री :

  • 2 चम्मच सेब का सिरका
  • एक गिलास पानी

उपयोग का तरीका :

  • सिरके को पानी में डालें।
  • अच्छे से मिलाकर इसे पी लें।

कैसे है लाभदायक :

जैसा कि हम ऊपर बता चुके हैं कि नाक से खून निकलने का कारण रक्तचाप बढ़ना भी है (3)। वहीं, सेब का सिरका ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में मदद करता है। इसमें पाया जाने वाला एसिटिक एसिड रक्तचाप को नियंत्रित करने में मददगार हो सकता है (5)। यहां बता दें कि इस संबंध में अभी और वैज्ञानिक शोध की आवश्यकता है, इसलिए इसे प्रयोग करने से पहले डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

3. केयेन पेपर (Cayenne Pepper)

सामग्री :

  • 1 चम्मच केयेन पेपर
  • एक गिलास गर्म पानी

उपयोग का तरीका :

  • पानी में केयेन पेपर डालकर मिक्स करें।
  • अब इस पानी को पी जाएं।

कैसे है लाभदायक :

अगर नाक से खून ब्लड प्रेशर के बढ़ने के कारण आ रहा है, तो केयेन पेपर इस समस्या को कम करने में मदद कर सकता है। दरअसल, केयेन पेपर रक्त वाहिकाओं को खोलकर रक्त प्रवाह को बढ़ाने में मदद करता है, जिससे रक्तचाप कम होता है (6)। बता दें, केयेन पेपर को सामान्य भाषा में लाल मिर्च कहा जाता है।

4. बिच्छू बूटी (Nettle Leaf)

सामग्री :

  • 1 चम्मच बिच्छू बूटी की पत्तियां
  • 1 कप गर्म पानी
  • एक रुई का टुकड़ा

उपयोग का तरीका :

  • गर्म पानी में बिच्छू बूटी की पत्तियां डालें।
  • जब पानी ठंडा हो जाए, तो इसमें रुई डुबोएं और इसे नाक पर रखें।
  • ब्लीडिंग न रुकने तक रुई को नाक पर ही रखा रहने दें।

कैसे है लाभदायक :

बिच्छु बूटी का उपयोग एक हर्बल उपचार के रूप में नाक से बहते खून को रोक सकता है। दरअसल, इसमें फेनोलिक कंपाउंड होते हैं, जो रक्तचाप को रोकने में मदद करते हैं। इसलिए, रक्तचाप की वजह से ब्लीडिंग को रोकने में इसे सहायक माना जाता है (7)। हालांकि, इसको लेकर अभी और शोध की जरूरत है।

5. ह्यूमिडफायर (Humidifier)

सामग्री :

  • ह्यूमिडफायर उपकरण

उपयोग का उपयोग का तरीका :

  • शुष्क हवा को नरम करने के लिए ह्यूमिडफायर का इस्तेमाल किया जा सकता है।

कैसे है लाभदायक :

जैसा कि आपने ऊपर पढ़ा कि अक्सर शुष्क हवा भी नाक से खून बहने का कारण बन सकती है। ऐसे में ह्यूमिडफायर मददगार हो सकता है। रिसर्च में इस बात की पुष्टी हुई है कि ह्यूमिडफायर की मदद से आसपास की रूखी हवा को नम कर नकसीर फटने को रोका और इसके कारण खून बहने की समस्या को कम किया जा सकता है (8)।

6. एसेंशियल ऑयल

सामग्री :

  • लैवेंडर तेल की 2-3 बूंदें
  • एक कप पानी
  • बर्फ का एक छोड़ा टुकड़ा
  • एक तौलिया

उपयोग का तरीका :

  • पानी में तेल की बूंदें डालें।
  • इस मिश्रण में पेपर टॉवल या कोई अन्य तौलिया डुबोएं।
  • पानी निचोड़कर तौलिये में बर्फ के टुकड़े लपेटें और नाक पर रखें।
  • धीरे-धीरे इससे नाक को दबाएं।

कैसे है लाभदायक :

लैवेंडर तेल का उपयोग भी घाव के कारण नाक से बहने वाले खून को रोकने में किया जा सकता है। इस विषय पर हुए शोध के अनुसार लैवेंडर तेल कोलेजन के स्तर को बढ़ा सकता है, जिससे घावों को जल्दी भरने में मदद मिल सकती है (9)। वहीं नाम में घाव की वजह से भी नाक से खून आने की समस्या देखी जा सकती है (3)। इस आधार पर यह माना जा सकता है कि लैवेंडर तेल का यह घरेलू उपाय घाव के कारण नाक से खून बहने की समस्या को रोकने में मददगार हो सकता है।

7. प्याज

सामग्री :

  • प्याज के रस की कुछ बुंदें या कटा हुआ एक टुकड़ा
  • रुई का एक टुकड़ा

उपयोग का तरीका :

  • प्याज को पीसकर उसका रस निचोड़ लें।
  • रस में रुई को डुबोकर इसे नाक पर 3-4 मिनट के लिए रखें।
  •   इसके अलावा नाक के पास एक प्याज का टुकड़ा रखकर इसकी गंध भी ले सकते हैं।

कैसे है लाभदायक :

प्याज का इस्तेमाल बंद नाक को खोलने, बहती नाक को ठीक करने के साथ-साथ ब्लड प्रेशर को कम करने में किया जाता है (10)। वहीं लेख में आपको पहले ही बताया जा चुका है कि हाई बीपी के कारण नाक से खून आने की समस्या हो सकती है (3)। इस आधार पर माना जा सकता है कि प्याज का रस नाक से खून बहने की समस्या को रोकने में मदद कर सकता है।  

8. स्लाइन स्प्रे (Saline Spray)

सामग्री :

  • 1/2 चम्मच नमक
  • 1/2 चम्मच बेकिंग सोडा
  • डेढ़ कप पानी
  • एक सिरिंज

उपयोग का तरीका :

  • पानी में नमक और बेकिंग सोडा मिलाएं।
  • सिरिंज की मदद से इस पानी को एक नासिका में डालें और दूसरी नासिका को बंद रखें।
  • इसके बाद सिर को आगे की तरफ झुकाएं और सारा पानी बाहर निकाल दें।
  • इस प्रक्रिया को एक से दो बार दोहराएं।

कैसे है लाभदायक :

स्लाइन स्प्रे संक्रमणों को दूर करने में मदद करता है। संक्रमण को दूर करने के साथ ही  इसका उपयोग नाक से खून बहने की समस्या में भी किया जा सकता है। शोध के अनुसार यह नाक की नली में आने वाले खून को बंद करने में मदद कर सकता है (8) (11)।

9. विटामिन

सामग्री :

  • विटामिन ई कैप्सूल

उपयोग का तरीका :

  • कैप्सूल काटकर तेल को एक छोटे कटोरे में डालें।
  • इस तेल को अपनी नासिका में लगाएं।
  • इसे रात भर लगा रहने दें।
  • जब तक नाक ड्राई लगे, तब तक इसे लगाते रहें।

कैसे है लाभदायक :

मौसम के शुष्क होने की वजह से भी नाक से खून बहने लगता है। ऐसे में विटामिन ई के इस्तेमाल से नाक की झिल्ली को मॉइस्चराइज कर सकते हैं। विटामिन ई में हाइड्रेट करने का गुण मौजूद होता है (12)। वहीं विटामिन ई को नकसीर की समस्या में दवा के रूप में भी उपयोग किया जा सकता है (1)।

10. गोल्डन सील (Goldenseal)

 सामग्री :

  • गोल्डनसील के कुछ पत्ते
  • एक कप गर्म पानी

उपयोग का तरीका :

  • गर्म पानी में पत्तियों को डुबोकर हर्बल चाय तैयार करें।
  • 4-5 मिनट के लिए इस चाय की भाप लें।

कैसे है लाभदायक :

इस जड़ी-बूटी की मदद से हेमोरेजिक डिसऑर्डर जैसे रक्तस्राव विकारों का इलाज किया जा सकता है। इसमें रोगाणुरोधी (एंटीमाइक्रोबियल), एस्ट्रिंजेंट और हेमोस्टैटिक (रक्तस्राव को रोकना) गुण होते हैं। वहीं इस जड़ी-बूटी का इस्तेमाल सर्दी-जुकाम की दवा व स्प्रे बनाने के लिए भी किया जाता है। साथ ही यह श्वसन तन्त्र से संबंधित आंतरिक रक्त स्त्राव की समस्या रोकने में भी सहायक मानी गई है (13)। इस आधार पर यह माना जा सकता है कि नाक से खून बहने की समस्या में यह जड़ी बूटी सहायक साबित हो सकती है।

11. विच हैजल

सामग्री :

  • विच हैजल के रस की कुछ बूंदें
  • रुई का एक टुकड़ा

उपयोग का तरीका :

  • विच हेजल के रस में रुई को भिगोएं और इसे नाक पर रखें।
  • कुछ मिनट बाद रुई को हटा दें।
  • आवश्यकता पड़ने पर इसका दोबारा इस्तेमाल करें।

कैसे है लाभदायक :

विच हेजल एक पौधा है। पत्ती, छाल और टहनियों के साथ ही विच हेजल का उपयोग औषधि बनाने के लिए किया जाता है। इसमें मौजूद एस्ट्रिंजेंट केमिकल रक्त वाहिकाओं को सिकोड़ने का काम करता है। विच हेजल का यह प्रभाव त्वचा के फटने और घाव भरने की प्रक्रिया को तेज कर सकता है (14)। वहीं नाक में चोट या घाव के कारण भी नाक से खून आने की समस्या हो सकती है (3)।  इस आधार पर माना जा सकता है कि विच हेजल के रस का उपयोग घाव के कारण नाक से खून आने की समस्या में सहायक हो सकता है।

12. नमक का पानी

सामग्री :

  • नेटि पॉट, जिसे नोजल कप के नाम से भी जानते हैं।
  • एक चम्मच नामक
  • 100 एमएल गुनगुना पानी

 उपयोग का तरीका :

  • सबसे पहले एक बाउल में नमक और गुनगुने पानी को अच्छी तरह से मिला लें।
  • इस मिश्रण को नोजल कप में डालें।
  • अब सिर को थोड़ा आगे झुकाते हुए नाक के एक सुराख में नोजल कप की टोंटी डालें।
  • अब मुंह से सांस लेते हुए, नोजल कप को हल्का सा उठाएं, ताकि मिश्रण नाक में चला जाए।
  • अब सिर को सीधा रख इस मिश्रण को नाक से बाहर निकल जाने दें।
  • अगर जलन का अनुभव हो तो नमक की मात्रा को कम कर सकते हैं।

कैसे है फायदेमंद :

नोजल कप में नामक डालकर नाक से खून बहने की समस्या का उपचार किया जा सकता है। इस विधि के द्वारा क्रोनिक साइनस की समस्या को भी कुछ हद तक कम किया जा सकता है (15), जो नाक से खून बहने का एक कारण हो सकती है (3)। ऐसे में माना जाता है कि नाक में होने वाली सूजन और इन्फेक्शन को दूर कर यह प्रक्रिया इस समस्या में राहत पहुंचा सकती है। हालांकि, यह केवल अनुमान मात्र है। वाकई में यह विधि किस प्रकार से कार्य करती है, इस संबंध में अभी और शोध की आवश्यकता है (15)।

13. तुलसी

सामग्री :

  • तुलसी के रस की कुछ बूंदें

उपयोग का तरीका :

  • तुलसी के रस को खून निकलने वाले नाक के छेद में डालें।
  • इसके अलावा तुलसी की पत्तियों को चबा भी सकते हैं।

कैसे है लाभदायक :

तुलसी का इस्तेमाल लंबे समय से आयुर्वेद में होता आया है। इसमें शरीर को सर्दी-जुकाम से बचाने के गुण हैं। तुलसी में एंटीबैक्टीरियल, एंटीऑक्सीडेंट, एंटीइंफ्लेमेटरी और एनाल्जेसिक गुण होते हैं, जो घाव को भरने, संक्रमण को रोकने और दर्द से रहत दिलाने में मदद कर सकते हैं (16)। वहीं नाक में चोट या घाव की वजह से भी नाक से खून आने की समस्या हो सकती है (3)। वहीं तुलसी से जुड़े एक शोध में इसे सीधे तौर पर नाक से खून आने की समस्या में उपयोगी माना गया है (17)। इस आधार पर यह कहना गलत नहीं होगा कि नाक से खून आने की समस्या में तुलसी का उपयोग प्रभावी हो सकता है।

नीचे स्क्रॉल करें

नाक से खून बहने के घरेलू उपायों के बाद आइए इसके इलाज के बारे में जान लेते हैं।

नाक से खून निकलने का इलाज – Nosebleed Treatment in Hindi

नाक से खून बहने का उपचार इसके कारण पर निर्भर करता है। यहां हम बता रहे हैं, नाक से खून बहने के उपचार के बारे में (3):

  • बेहतर इलाज के लिए डॉक्टर नाक की गहराई से जांच भी कर सकते हैं।
  • इस समस्या से राहत के लिए रक्तचाप को नियंत्रित रखने की सलाह दी जा सकती है।
  • गर्मी, इलेक्ट्रिक करेंट या सिल्वर नाइट्रेट स्टिक का उपयोग करके रक्त वाहिकाओं को बंद करने का प्रयास किया जा सकता है।
  • कुछ गंभीर स्थितियों में नाक से खून आने की समस्या को रोकने के लिए नाक की पैकिंग भी की जा सकती है।
  • किसी दुर्घटना के कारण नाक से खून आने की समस्या में डॉक्टर टूटी हुई नाक का उपचार कर सकते हैं। वहीं अगर नाक में कोई फॉरेन बाॅडी (किसी चीज का टुकड़ा) मौजूद हो तो उसे निकालने के लिए इलाज प्रक्रिया को अपनाया जा सकता है।
  • एस्पिरिन या इस जैसी अन्य खून को पतला करने वाली दवाओं का कोई उपयोग कर रह है तो नाक से खून आने की स्थिति में उसे इन दवाओं का इस्तेमाल बंद करने की सलाह दी जाती है।
  • इसके साथ ही इलाज की प्रक्रिया में डॉक्टर उन समस्याओं का इलाज भी कर सकते हैं, जिससे खून के सामान्य गाढ़ेपन को बरकरार रखने में मदद मिल सके।

अंत तक पढ़ें लेख

नाक से खून बहने के घरेलू उपाय जानने के बाद अब हम कुछ बचाव संबधी उपायों की बात करेंगे।

नाक से खून निकलने से बचने के उपाय – Prevention Tips for Nose Bleed in Hindi

नाक से खून निकलने को कुछ आसान तरीकों से रोका जा सकता है। इस दौरान आपको बिना हड़बड़ाए इन झटपट तरीकों को अपनाने की जरूरत है। जानें, क्या हैं ये तरीके (3):

  • अगर सीधी मुद्रा में बैठते हैं, तो नाक से बहते खून को रोका जा सकता है।
  • हल्का आगे झुककर मुंह से सांस लेने के बजाय नाक से सांस लें। इससे भी नाक से बहते खून को रोका जा सकता है।
  • नाक को अंगूठे और उंगली की मदद से करीब 10 मिनट तक हल्का दबाकर रखें। इससे रक्त प्रवाह कम होगा और रक्तस्राव रुक जाएगा।
  • नसल स्प्रे का उपयोग कर कभी-कभी नाक के खून को बहने से रोका जा सकता है।

अगर किसी वजह से नाक से खून बहने लगे, तो घबराएं नहीं, बल्कि धैर्यपूर्वक इस लेख में दिए गए घरेलू उपायों और टिप्स को अपनाएं। अगर इन घरेलू उपायों के बाद भी खून नहीं रुकता, तो बिना देर किए तुरंत डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। आशा करते हैं कि सभी को हमारा यह लेख पसंद आएगा। आइए, चलते-चलते पाठकों के कुछ सवालों के जवाब भी जान लेते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

नाक से खून बहने के दुष्प्रभाव

हालांकि, इस बात का कोई स्पष्ट प्रमाण उपलब्ध नहीं है, फिर भी अधिक खून आने की स्थिति में निम्न स्थितियां पैदा हो सकती हैं, जिसे नाक से खून आने के दुष्प्रभाव के रूप में देखा जा सकता हैं-

  • जी मिचलाना
  • सांस की नली में बाधा उत्पन्न होना।
  • नाक से निकला खून गले में पहुंचकर पेट में जलन पैदा कर सकता है।

क्या गर्भावस्था में नाक से खून आना आम है?

जी हां, प्रेगनेंसी में नाक से खून आना आम है। गर्भावस्था के दौरान, श्वास नलिका (रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट) में ज्यादा खून आने लगता है, जिससे नाक में भारीपन का एहसास होता है। इस खून के जमा होने के कारण गर्भवतियों के नाक से खून बहने लग सकता है। इसके अलावा, नाक में रक्त की मात्रा बढ़ने से नाक की छोटी रक्त वाहिकाएं को नुकसान होता है। इस कारण से भी नाक से खून बहने लगता है (18)।

किस वजह से अचानक वयस्कों के नाक से खून आता है?

रक्त वाहिकाएं को नुकसान पहुंचने की वजह से खून आता है (18)। इसके अलावा मौसम का ज्यादा ठंडा या गर्म होना भी नाक से खून आने (नकसीर) का कारण बन सकता है (3)।

क्या एलर्जी के कारण नाक से खून आ सकता है?

हां, नाक से खून आने का एक कारण एलर्जी भी हो सकती है (3)।

क्या ठंड के मौसम के कारण नाक से खून आ सकता है?

हां, मौसम का ज्यादा ठंडा होना भी नाक से खून बहने का कारण बन सकता है (3)।

क्या आप निम्न रक्तचाप के कारण नाक से खून आने की समस्या से परेशान हो सकते हैं?

नहीं, निम्न रक्तचाप के कारण नाक से खून नहीं आता है। मगर, उच्च रक्तचाप नाक से खून आने का कारण बन सकता है (3)।

और पढ़े:

18 Sources

18 Sources

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.
सरल जैन ने श्री रामानन्दाचार्य संस्कृत विश्वविद्यालय, राजस्थान से संस्कृत और जैन दर्शन में बीए और डॉ. सी. वी. रमन विश्वविद्यालय, छत्तीसगढ़ से पत्रकारिता में बीए किया है। सरल को इलेक्ट्रानिक मीडिया का लगभग 8 वर्षों का एवं प्रिंट मीडिया का एक साल का अनुभव है। इन्होंने 3 साल तक टीवी चैनल के कई कार्यक्रमों में एंकर की भूमिका भी निभाई है। इन्हें फोटोग्राफी, वीडियोग्राफी, एडवंचर व वाइल्ड लाइफ शूट, कैंपिंग व घूमना पसंद है। सरल जैन संस्कृत, हिंदी, अंग्रेजी, गुजराती, मराठी व कन्नड़ भाषाओं के जानकार हैं।

ताज़े आलेख

scorecardresearch