सामग्री और उपयोग

ओरेगेनो के 15 फायदे, उपयोग और नुकसान – Oregano Benefits, Uses and Side Effects in Hindi

by
ओरेगेनो के 15 फायदे, उपयोग और नुकसान – Oregano Benefits, Uses and Side Effects in Hindi Hyderabd040-395603080 November 8, 2019

ओरेगेनो एक गुणकारी पौधा है, जिसका इस्तेमाल विभिन्न प्रकार के व्यंजनों के साथ-साथ आयुर्वेदिक उपचार में भी किया जाता है। ओरेगेनो का पौधा तुलसी और पुदीने की तरह ही होता है (1)। दुनियाभर में ओरेगेनो का पौधा लगभग 60 अलग अलग प्रजातियों में पाया जाता है और उन सभी के अलग-अलग फायदे हैं (2)। स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम ओरेगेनो की पत्तियों के फायदे की बात करेंगे। इस लेख में ऐसी कुछ समस्याएं बताई गई हैं, जिनसे राहत पाने में ओरेगेनो कुछ हद तक मदद कर सकता है, लेकिन यह किसी भी बीमारी का पूर्ण इलाज नहीं है। बीमारी का इलाज करने के लिए घरेलू उपचार के साथ मेडिकल ट्रीटमेंट भी जरूरी है। इस लेख में आप जानेंगे कि घर में ओरेगेनो का उपयोग किस प्रकार किया जा सकता है और सही तरीके से उपयोग न करने पर नुकसान क्या-क्या हो सकते हैं।

आइए, सबसे पहले ओरेगेनो के फायदे के बारे में बात करते हैं।

ओरेगेनो के फायदे – Benefits of Oregano in Hindi

ओरेगेनो का उपयोग शरीर से जुड़ी कई समस्याओं से निपटने में किया जा सकता है, जैसे खांसी, अस्थमा, कुछ प्रकार की एलर्जी, ब्लोटिंग व कब्ज इत्यादि। इसके अलावा, ओरेगेनो का तेल त्वचा के लिए लाभकारी साबित हो सकता है। यह आपको मुंहासों, फंगस संक्रमण और त्वचा से जुड़े अन्य संक्रमण को कुछ हद तक कम कर सकता है। साथ ही ओरेगेनो के तेल के उपयोग से रूसी की समस्या को भी कम किया जा सकता है (1)। ओरेगेनो की पत्तियों के फायदे की बात करें, तो इसमें एंटीमाइक्रोबियल, एंटीऑक्सीडेंट, एंटी इंफ्लेमेटरी और दर्दनिवारक जैसे गुण पाए जाते हैं, जो आपके स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं। साथ ही ओरेगेनो के अर्क को प्राकृतिक फूड प्रिजर्वेटिव के रूप में भी उपयोग किया जा सकता है (2)।

अब जानिए कि स्वास्थ्य के लिए ओरेगेनो की पत्तियों के फायदे क्या हैं।

सेहत/स्वास्थ्य के लिए ओरेगेनो के फायदे – Health Benefits of Oregano in Hindi

1. हृदय स्वास्थ्य के लिए ओरेगेनो के फायदे

कार्डियोवस्कुलर समस्याएं एक तरह की क्रोनिक इंफ्लेमेटरी परिस्थिति होती हैं, जिसमें कोशिकाओं को स्वस्थ होने में सामान्य से ज्यादा समय लगता है (3)। यह कई वजह से हो सकता है, जैसे धूम्रपान, मधुमेह और इन्फ्लेमेशन। ओरेगेनो के एसेंशियल ऑयल में एंटी इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो इन्फ्लेमेशन और हृदय रोग के खतरे को कम करते हैं। साथ ही, इसमें कार्डियोप्रोटेक्टिव गुण भी होते हैं, जो हृदय को स्वस्थ रखने में मदद कर सकते हैं (4)।

2. कैंसर के खतरे को करे कम

ओरेगेनो की पत्तियों के फायदे में कैंसर के खतरे को कम करना भी शामिल है। ओरेगेनो में थाइमोल, कार्वाक्रोल और कुछ अन्य एंटी-कैंसर गुण पाए जाते हैं। ये कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकते हैं और कैंसर के खतरे को कम करते हैं (5)। खासकर, पेट के कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकने के लिए ओरेगेनो के फायदे बहुत लाभकारी साबित हो सकते हैं। इसमें प्रॉपॉपोटिक प्रभाव (Proapoptotic effects) होते हैं, जो कैंसर कोशिकाओं को खत्म कर सकते हैं और इनकी मदद से कैंसर का खतरा भी कम हो सकता है (6)।

3. रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाए

ओरेगेनो की पत्तियों के फायदे आपको रोगों से लड़ने में भी मिल सकते हैं। ओरेगेनो में कई पोषक तत्व पाए जाते हैं, जैसे विटामिन-ए, विटामिन-सी और विटामिन-ई (7)। इन तीनों ही विटामिन को प्रभावी एंटीऑक्सीडेंट माना जाता है। ये विटामिन शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद कर सकते हैं। ये शरीर पर फ्री-रेडिकल्स के प्रभाव को कम कर सकते हैं और कोशिकाओं को उनके प्रभाव से बचा सकते हैं (8)। इसके लिए आप एक गिलास पानी में ओरेगेनो की पत्तियों को उबाल कर, उस पानी का सेवन कर सकते हैं।

4. पेट दर्द को कम करे

कई बार खान-पान में गड़बड़ी, कब्ज, अपचन, फूड पॉइजनिंग और अन्य कई कारणों की वजह से पेट में दर्द हो सकता है (9)। ऐसे में, ओरेगेनो के फायदे आप पेट दर्द से आराम पाने के लिए भी उठा सकते हैं। ओरेगेनो के एसेंशियल ऑयल में मोनोटेरेपिक फिनोल (Monoterpenic Phenol) नाम का एक कंपाउंड पाया जाता है, जो पेट दर्द को कुछ हद तक कम करने में मदद कर सकता है (10)। इसके लिए आप एक गिलास पानी या जूस में एक से दो बूंद ओरेगोने का तेल डालकर सेवन कर सकते हैं।

5. जोड़ों के दर्द से आराम दिलाए

अगर आप जोड़ों के दर्द से पीड़ित हैं, तो ओरेगेनो का पौधा आपके लिए संजीवनी बूटी से कम नहीं है। ओरेगेनो में कारवाक्रोल नाम का मोनोटेरेपिक फिनोल कंपाउंड पाया जाता है। इस कंपाउंड में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं, जो ऑस्टियोअर्थराइटिस (Osteoarthritis) की वजह से जोड़ों में होने वाली सूजन को कम कर सकता है। जोड़ों के दर्द में ओरेगेनो की पत्ते के फायदे को आप उसकी चाय बनाकर उठा सकते हैं (11)। इसके लिए रोज सुबह एक कप पानी में इसके कुछ पत्ते उबाल लें और उस पानी का सेवन करें। आप चाहें तो ओरेगेनो के एसेंशियल ऑयल से मसाज भी कर सकते हैं।

6. पीरियड क्रेम्प्स को कम करे

माहवारी के दौरान पेट में दर्द आम समस्या है, जिसका सामना लगभग हर महिला को करना होता है। इस दर्द को और पेट की ऐंठन को कम करने के लिए कई घरेलू नुस्खे काम आते हैं और ऐसा ही एक नुस्खा है ओरेगेनो के पत्ते के फायदे। ओरेगेनो के पत्तों को पानी में उबाल कर पीने से पेट दर्द के साथ-साथ माहवारी की ऐंठन से भी कुछ आराम मिल सकता है। शोध में पाया गया है कि माहवारी में पेट की ऐंठन से राहत दिलाने में ओरेगेनो लाभदायक साबित हो सकता है (12)। फिलहाल, ऐसा कोई शोध उपलब्ध नहीं है, जो यह बता सके कि किस गुण के कारण ओरेगेनो यह काम कर सकता है।

आप चाहें तो अदरक की चाय में अजवायन की ताजी पत्तियां डालकर उसका सेवन कर सकती हैं। इसके अलावा, आप दो चम्मच नारियल के तेल में ओरेगेनो एसेंशियल ऑयल की एक या दो बूंद मिलाकर उससे अपने एब्डोमेन (पेट के निचला हिस्सा) पर कुछ देर मसाज कर सकती हैं।

7. अपच से आराम

ओरेगेनो के एसेंशियल ऑयल में कई बायोलॉजिकल गुण होते हैं, जैसे एंटीमाइक्रोबियल, एंटी इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेटिव, जो आपके शरीर के लिए फायदेमंद हो सकते हैं। ये आंत को नुकसान पहुंचाने वाले बैक्टीरिया जैसे ई. कोलाई की संख्या को कम करता है और आंत की इम्यून क्षमता को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। इसके अलावा, यह आंत की इन्फ्लेमेशन को भी कम करने में मदद कर सकता है (13), जिससे अपच की समस्या से कुछ हद तक आराम मिल सकता है।

ओरेगेनो एसेंशियल ऑयल में मौजूद एंटीऑक्सीडेटिव गुण आंत के ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करके आंत को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं (14)। इसके लिए आप एक कप पेपरमिंट या लेमन टी में एक या दो बूंद ओरेगेनो ऑयल डालकर, उसका सेवन कर सकते हैं। इस प्रकार ओरेगेनो का तेल अपच की समस्या को कुछ कम कर सकता है, लेकिन इस पर अभी और शोध की आवश्यकता है।

8. जुकाम और बुखार से आराम

जुकाम, बुखार और कॉमन कोल्ड के लक्षणों को कम करने के लिए ओरेगेनो का उपयोग किया जा सकता है। ओरेगेनो के एसेंशियल ऑयल में एंटी इन्फ्लुएंजा गुण होते हैं, जो कॉमन कोल्ड के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकते हैं। इसके साथ ही ओरेगेनो का पौधा एंटीवायरल और एंटीबैक्टीरियल गुणों से भरपूर होता है, जो संक्रमण फैलाने वाले वायरस व बैक्टीरिया से लड़ता है और कॉमन कोल्ड को कम कर सकता हैं। ध्यान रहे कि इसका उपयोग करने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर लें (15)।

9. एनीमिया से राहत दिलाए

शरीर में आयरन की कमी एनीमिया का कारण बनती है। आयरन शरीर में हीमोग्लोबिन का निर्माण करता है, जो एक प्रकार का प्रोटीन होता है (16)। एनीमिया से पीड़ित लोगों के लिए ओरेगेनो के पत्ते के फायदे देखे जा सकते हैं। ओरेगेनो की पत्तियों में समृद्ध मात्रा में आयरन पाया जाता है, जो आयरन की कमी को पूरा करने में मदद कर सकता है (7)। इसके लिए आप ओरेगेनो की सूखी पत्तियों को पानी में उबाल कर, उस पानी का सेवन कर सकते हैं।

10. हड्डियों को स्वस्थ रखे

ओरेगेनो के पत्ते के फायदे की बात करें, तो यह आपकी हड्डियों को स्वस्थ रखने में लाभदायक साबित हो सकता है। हड्डियों को स्वस्थ रखने के लिए कई पोषक तत्वों की जरूरत होती है। इसमें सबसे ऊपर नाम आता है, कैल्शियम का और ओरेगेनो की पत्तियों में कैल्शियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है। इसके अलावा, इसमें और भी पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो हड्डियों को स्वस्थ और मजबूत बनाए रखने में मदद कर सकते हैं, जैसे मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटैशियम, जिंक, कॉपर और मैंगनीज। इसके साथ ही ओरेगेनो में हड्डियों के लिए लाभदायक विटामिन भी पाए जाते हैं, जैसे विटामिन-सी, विटामिन-ए और विटामिन-के (7) (17)।

ओरेगेनो का पौधा स्वास्थ्य के लिए तो लाभदायक होता ही है, साथ ही यह आपकी त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद साबित हो सकता है। लेख के अगले भाग में जानिए त्वचा के लिए ओरेगेनो के फायदे।

त्वचा के लिए ओरेगेनो के फायदे – Skin Benefits of Oregano in Hindi

1. त्वचा के संक्रमण से दिलाए आराम

त्वचा से जुड़े संक्रमण से बचने या अगर संक्रमण है, तो उसके प्रभाव को कम करने के लिए ओरेगेनो के एसेंशियल ऑयल का उपयोग किया जा सकता है। इसमें एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं, जो संक्रमण फैलाने वाले बैक्टीरिया को खत्म करते हैं (18)। साथ ही इसमें एंटी इंफ्लेमेटरी और इम्यूनोमॉड्यूलेटरी (Immunomodulatory) गुण पाए जाते हैं, जो त्वचा में आई सूजन को कम कर सकते हैं। इसमें एंटी-कैंसर गुण भी होते हैं, जो आपको त्वचा के कैंसर के खतरे से बचा सकते हैं (19)।

सामग्री :
  • दो बूंद ओरेगेनो ऑयल
  • दो चम्मच नारियल/जैतून का तेल
  • रूई
विधि :
  • एक बाउल में दोनों तेलों को मिला लें।
  • रूई की मदद से उसे प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं।
  • पूरी तरह आराम न मिल जाने तक इस प्रयोग को दिन में दो बार दोहराएं।

आप चाहें तो गर्म पानी में ओरेगेनो ऑयल की चार से पांच बूंदें डालकर, उससे 10 मिनट तक भाप भी ले सकते हैं। इस भाप लेते समय सावधानी बरतना जरूरी है।

2. मुंहासों को कम करे

अगर आप मुंहासों की समस्या से पीड़ित हैं, तो उससे निजात पाने के लिए ओरेगेनो के एसेंशियल ऑयल का उपयोग करना एक अच्छा विचार हो सकता है। ओरेगेनो एसेंशियल तेल में एंटीमाइक्रोबियल गुण होते हैं, जो मुंहासों के जीवाणु से लड़ते हैं और उन्हें पनपने से रोकते हैं। साथ ही इस तेल में हीलिंग गुण होते हैं, जो मुंहासों के घाव को जल्दी भरने में मदद करते हैं (20)। जैसा कि हम पहले ही बता चुके हैं कि इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण भी पाए जाते हैं, जो त्वचा की सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं (19)।

सामग्री :
  • एक से दो बूंद ओरेगेनो ऑयल
  • एक चम्मच नारियल/जैतून का तेल
  • रूई
विधि :
  • एक बाउल में दोनों तेलों को मिला लें।
  • रूई की मदद से उसे मुंहासों से प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं।
  • पूरी तरह आराम न मिल जाने तक इस प्रयोग को दिन में दो से तीन बार दोहराएं।

अगर आपकी त्वचा तैलीय है, तो मुंहासों के लिए ओरेगेनो का उपयोग आप नीचे बताए गए तरीके से कर सकते हैं।

सामग्री :
  • एक से दो बूंद ओरेगेनो ऑयल
  • दो से तीन चम्मच गुलाब जल
  • रूई
विधि :
  • एक बाउल में दोनों सामग्रियों को अच्छी तरह मिला लें।
  • रूई की मदद से रोज रात को इस घोल से चेहरा साफ करें।
  • अंत में साफ पानी से चेहरे को धोएं और मॉइस्चराइजर लगा लें।

ओरेगेनो के फायदे के आखिरी भाग में जानिए कि बालों के लिए ओरेगेनो का उपयोग किस तरह किया जा सकता है और यह किस तरह फायदेमंद है।

बालों के लिए ओरेगेनो के फायदे – Hair Benefits of Oregano in Hindi

1. स्कैल्प की खुजली को कम करे

स्कैल्प में खुजली होने के कई कारण हो सकते हैं। कई बार यह धूल, मिट्टी या पसीने की वजह से हो सकती है और कुछ मामलों में इसका कारण त्वचा से जुड़ी कुछ बीमारियां जैसे सोरायसिस या कोई संक्रमण जैसे फंगल इन्फेक्शन भी हो सकता है (19)। अगर खुजली किसी बीमारी की वजह से है, तो पर्याप्त इलाज की जरूरत होती है। इलाज के साथ-साथ आप ओरेगेनो के तेल का उपयोग कर सकते हैं। शोध में पाया गया है कि ओरेगेनो का एसेंशियल ऑयल सोरायसिस जैसी बीमारियों और फंगल इन्फेक्शन को कम करने में मदद कर सकता है (20)।

2. बालों का झड़ना कम करे

अगर आप बालों के झड़ने की समस्या से जूझ रहे हैं, तो ओरेगेनो का उपयोग आपके लिए लाभकारी साबित हो सकता है। शोध में पाया गया है कि ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस बालों के झड़ने का एक कारण हो सकता है (21)। जैसा कि हम आपको लेख में पहले भी बता चुके हैं कि ओरेगेनो एक प्रभावी एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम कर सकता है, इसलिए यह कहा जा सकता है कि इसके एंटीऑक्सीडेंट गुण ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करके और बालों के झड़ने की समस्या को रोकने में मदद कर सकते हैं (12)।

3. रूसी से छुटकारा दिलाए

जैसा कि हम आपको पहले भी बता चुके हैं कि ओरेगेनो के एसेंशियल ऑयल में एंटीफंगल और एंटीमाइक्रोबियल गुण पाए जाते हैं (22)। रूसी से लड़ने में ये दोनों गुण बहुत लाभकारी साबित हो सकते हैं। एक शोध में भी पाया गया है कि ये दोनों गुण एंटी डैंड्रफ की तरह काम करते हैं (23) (24)।
बालों के लिए ओरेगेनो के एसेंशियल ऑयल का उपयोग आप कुछ इस प्रकार कर सकते हैं।

सामग्री :
  • दो से तीन बूंद ओरेगेनो एसेंशियल ऑयल
  • तीन से चार चम्मच नारियल/जैतून का तेल
विधि :
  • एक बाउल में तीन से चार चम्मच नारियल/जैतून का तेल का तेल लें और उसे हल्का गर्म कर लें।
  • गर्म करने के बाद उसमें दो से तीन बूंद ओरेगेनो एसेंशियल ऑयल मिला लें।
  • अब इस तेल से लगभग 20 मिनट तक बालों में मसाज करें।
  • मसाज करने के बाद लगभग 10 मिनट के लिए तेल को बालों में रहने दें।
  • अंत में शैम्पू लगा कर, बालों को ठंडे पानी से धो लें।

ओरेगेनो के तेल और ओरेगेनो की पत्तियों के फायदे जानने के बाद, आइए आपको इसके पोषक तत्वों के बारे में बता दें।

ओरेगेनो के पौष्टिक तत्व – Oregano Nutritional Value in Hindi

नीचे बताए गए पोषक तत्व ओरेगेनो की पत्तियों (सूखी हुई) के बारे में हैं (6)।

पोषक तत्वमात्रा प्रति 100 ग्राम
पानी9.93 ग्राम
ऊर्जा265 kcal
प्रोटीन9 ग्राम
फैट4.28 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट68.92 ग्राम
फाइबर42.5 ग्राम
शुगर4.09 ग्राम
मिनरल
कैल्शियम1597 मिलीग्राम
आयरन36.8 मिलीग्राम
मैग्नीशियम270 मिलीग्राम
फास्फोरस148 मिलीग्राम
पोटैशियम1260 मिलीग्राम
सोडियम25 मिलीग्राम
जिंक2.69 मिलीग्राम
कॉपर0.633 मिलीग्राम
मैंगनीज4.99 मिलीग्राम
सिलेनियम4.5 माइक्रोग्राम
विटामिन
विटामिन सी2.3 मिलीग्राम
थियामिन0.177 मिलीग्राम
राइबोफ्लेविन0.528 मिलीग्राम
नियासिन4.64 मिलीग्राम
विटामिन – बी 61.044मिलीग्राम
फोलेट237 माइक्रोग्राम
विटामिन-ए , आरएई85 माइक्रोग्राम
विटामिन-ए,आईयू1701 आईयू
विटामिन ई (अल्फा टोकोफेरॉल)18.26 मिलीग्राम
विटामिन-के621.7मिक्रोग्राम
लिपिड
फैटी एसिड टोटल सैचुरेटेड1.551 ग्राम
फैटी एसिड टोटल मोनोअनसैचुरेटेड0.716 ग्राम
फैटी एसिड टोटल पॉलीअनसैचुरेटेड1.369 ग्राम

ओरेगेनो के पोषक तत्वों के फायदे और उनकी मात्रा जानने के बाद, लेख के अगले भाग में जानिए कि आप ओरेगेनो का उपयोग कैसे कर सकते हैं।

ओरेगेनो का उपयोग – How to Use Oregano in Hindi

ओरेगेनो के फायदे उठाने के लिए आप नीचे बताए गए तरीकों से इसका उपयोग कर सकते हैं :

  • आप ओरेगेनो की चाय बना सकते हैं। इससे आपको ओरेगेनो के पत्ते के फायदे मिल सकते हैं। इसके लिए ओरेगेनो की पत्तियों (ताजी या सूखी) को एक कप पानी में डाल कर उबाल लें। अच्छी तरह उबल जाने के बाद पानी को छान लें और उसका सेवन करें।
  • आप चाहें तो अदरक या मसाला चाय में भी ओरेगेनो की कुछ पत्तियां डाल सकते हैं।
  • ओरेगेनो की पत्तियों के फायदे उठाने के लिए आप खाने में जैसे चिकन, सब्जी, पिज्जा, पास्ता और अन्य व्यंजनों में इसे मसाले की तरह उपयोग कर सकते हैं।
  • आप ओरेगेनो की पत्तियों को सूप में डाल कर भी सेवन कर सकते हैं। इसकी पत्तियां सूप को एक अलग फ्लेवर देंगी।
  • नारियल या जैतून के तेल में मिलाकर आप ओरेगेनो के तेल का उपयोग शरीर और बालों की मालिश करने के लिए कर सकते हैं।

कितना उपयोग करें :

  • खाने में आप इसका उपयोग मसाले की तरह (स्वादानुसार) कर सकते हैं।
  • चाय बनाने के लिए ओरेगेनो की दो से तीन ताजी पत्तियों या आधा छोटा चम्मच सूखी पत्तियों का उपयोग कर सकते हैं।
  • त्वचा या बालों के लिए आप ओरेगेनो एसेंशियल ऑयल की दो से तीन बूंद नारियल या जैतून के तेल में मिला कर उपयोग कर सकते हैं।

नोट : ओरेगेनो की उचित मात्रा के बारे में आप एक बार डायटिशियन या फिर डॉक्टर से जरूर पूछें।
लेख के आखिरी भाग में जानिए ओरेगेनो के नुकसान के बारे में।

ओरेगेनो के नुकसान – Side Effects of Oregano in Hindi

नियंत्रित रूप से ओरेगेनो का उपयोग करना पूरी तरह सुरक्षित है, हालांकि कुछ मामलों में इसका उपयोग करने से ओरेगेनो के नुकसान उठाने पड़ सकते हैं, जो कुछ इस प्रकार हो सकते हैं (1):

  • गर्भावस्था और स्तनपान : गर्भवती और स्तनपान करवाने वाली महिलाओं के लिए ओरेगेनो का सेवन करना नुकसानदायक हो सकता है। माना जाता है कि गर्भावस्था के दौरान ओरेगेनो का ज्यादा सेवन करना गर्भपात का कारण बन सकता है।
  • रक्तस्राव की समस्या : रक्तस्राव जिसे ब्लीडिंग डिसऑर्डर भी कहा जाता है। इसमें चोट लगने के बाद खून बहना आसानी से बंद नहीं होता। इस समस्या में शरीर में प्लेटलेट्स की मात्रा कम हो जाती है, जिससे त्वचा पर ब्लड क्लॉट नहीं बन पाता और खून बहना बंद नहीं होता। ऐसा होने पर माहवारी, चोट लगने व सर्जरी आदि के दौरान भी सामान्य से अधिक रक्तस्राव होता है (25)। ओरेगेनो का सेवन रक्तस्राव से पीड़ित लोगों की समस्या को बढ़ा सकता है।
  • एलर्जी : जिन लोगों को लामियासीए (Lamiaceae) के परिवार की औषधियां जैसे बेसिल, लैवेंडर, पुदीना और सेज से एलर्जी होती है, तो उन्हें ओरेगेनो से भी एलर्जी हो सकती है, क्योंकि ओरेगेनो भी इसी परिवार से आता है।
  • ब्लड शुगर का स्तर : ओरेगेनो का सेवन ब्लड शुगर के स्तर को कम कर सकता है, इसलिए इसका उपयोग नियंत्रित मात्रा में न करने से ओरेगेनो के नुकसान का सामना करना पड़ सकता है।
  • पेट खराब : कुछ मामलों में इसका उपयोग नियंत्रित मात्रा में न करने से ओरेगेनो के नुकसान पेट खराब करने में भी देखे गए हैं।
  • त्वचा पर जलन : ओरेगेनो के तेल को सीधा त्वचा पर लगाना त्वचा पर जलन का कारण बन सकता है, इसलिए इसे हमेशा किसी अन्य ऑयल जैसे नारियल या जैतून के तेल में मिला कर इस्तेमाल करना चाहिए।

अब आप अच्छी तरह समझ चुके होंगे कि पिज्जा और पास्ता में डालने के अलावा, ओरेगेनो के पत्ते के फायदे आप किस तरह उठा सकते हैं। लेख के माध्यम से आपको ओरेगेनो के फायदे के साथ ओरेगेनो के नुकसान के बारे में भी जानकारी मिल गई होगी। ओरेगेनो बाजार में आसानी से उपलब्ध हो जाता है और आप चाहें तो ओरेगेनो का पौधा घर में एक गमले में भी लगा सकते हैं। तो इंतजार किस बात का है? आज ही बाजार से ओरेगेनो ले आएं और डॉक्टर से परामर्श कर के, उसका उपयोग करना शुरू कर दें। साथ ही, अगर अब भी आपके मन में ओरेगेनो का उपयोग करने या उससे जुड़ा कोई भी और सवाल है, तो आप कमेंट बॉक्स में लिख कर हमसे पूछ सकते हैं।

The following two tabs change content below.

Soumya Vyas

सौम्या व्यास ने माखनलाल चतुर्वेदी विश्वविद्यालय, भोपाल से इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में बीएससी किया है और इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ जर्नलिज्म एंड न्यू मीडिया, बेंगलुरु से टेलीविजन मीडिया में पीजी किया है। सौम्या एक प्रशिक्षित डांसर हैं। साथ ही इन्हें कविताएं लिखने का भी शौक है। इनके सबसे पसंदीदा कवि फैज़ अहमद फैज़, गुलज़ार और रूमी हैं। साथ ही ये हैरी पॉटर की भी बड़ी प्रशंसक हैं। अपने खाली समय में सौम्या पढ़ना और फिल्मे देखना पसंद करती हैं।

संबंधित आलेख