फूल गोभी के 15 फायदे, उपयोग और नुकसान – All About Cauliflower (Phool Gobhi) in Hindi

Medically Reviewed By Neelanjana Singh, Nutrition Therapist & Wellness Consultant
Written by
553948

दुनिया भर में अपने स्वाद के लिए मशहूर फूल गोभी (Phool Gobhi) का उपयोग सब्जी बनाने से लेकर, पराठे और पकौड़े बनाने तक में होता है। इसके अलावा भी कई ऐसे व्यंजन हैं, जिनमें फूल गोभी का स्थान खास होता है। क्या आप जानते हैं कि स्वादिष्ट फूल गोभी खास गुणों से भरपूर है। यह हमारे स्वास्थ्य के लिए कइ तरह से फायदेमंद है। स्वास्थ्य के क्षेत्र में फूल गोभी के फायदे बेहद खास हैं। स्टाइलक्रेज के इस आर्टिकल में हम आम दिखने वाली फूल गोभी के फायदे, उपयोग और फूलगोभी के नुकसान के बारे में ही बात करेंगे।

नीचे स्क्रॉल करें

नीचे स्क्राल करें

जानकारी शुरू करने से पहले फूल गोभी से परिचय कर लेते हैं।

फूल गोभी क्या है?

गोभी कई तरह की होती हैं, जैसे फूलगोभी, गांठ गोभी, बंद गोभी या पत्ता गोभी, ब्रोकली आदि। इन तीनों तरह की गोभी के अलग-अलग फायदे हैं। फिलहाल, हम यहां फूलगोभी की बात कर रहे हैं। यह सफेद रंग की सब्जी है, जो ब्रैसिका (Brassica) प्रजाति से संबधित है। इसका वानस्पतिक नाम ब्रैसिका ओलेरासिया वार बोट्राइटिस (Brassica oleracea var। botrytis) है। भारत समेत कई एशियाई देशों में गोभी एक प्रमुख सब्जी है, जिसका सेवन मुख्य रूप से सर्दियों में किया जाता है। इसमें कैरोटीनॉयड, फ्लेवोनोइड, एस्कॉर्बिक एसिड, एंटी-ऑक्सीडेंट, विटामिन-सी व जरूरी मिनरल होते हैं। अब इसे खाने से क्या-क्या औषधीय लाभ मिल सकते हैं, उस बारे में आप आगे लेख में विस्तार से जान पाएंगे (1)

अधिक जानकारी है आगे

लेख के अगले हिस्से में जानते हैं कि फूल गोभी खाने के फायदे शरीर के लिए क्यों अच्छे होते हैं

फूल गोभी आपके सेहत के लिए क्यों अच्छी है?

फूल गोभी में पाए जाने वाले पोषक तत्व शरीर के लिए फायदेमंद हाेते हैं। इसमें कई तरह के विटामिन पाए जाते हैं। फूलगोभी में फाइटोकेमिकल्स (जैसे सल्फोराफेन और कैरोटेनॉयड्स) होते हैं, जो शरीर में एंटीऑक्सीडेंट और एंटीइंफ्लेमेटरी गतिविधि में इजाफा कर सकते हैं। गोभी की सब्जी शरीर को पर्याप्त ऊर्जा दे सकती है, क्योंकि 100 ग्राम की फूलगोभी में लगभग 20 कैलोरी होती है। साथ ही इसमें डाइटरी फाइबर और फोलेट की भी अच्छी मात्रा पाई जाती है। इन्हीं गुणों के चलते फूल गोभी खाने के फायदे अनेक हैं, जिनके बारे में हम इस लेख में जानेंगे (2)

स्क्रॉल करके आगे पढ़ें

गोभी का फूल क्यों सेहतमंद है, यह जानने के बाद अब एक नजर डालते हैं गोभी खाने के फायदे पर। 

फूल गोभी के फायदे – Benefits of Cauliflower (Phool Gobhi) in Hindi

फूलगोभी खाने के फायदे के बारे में जानने से पहले हम अपने पाठकों को बताना चाहते हैं कि गोभी का फूल किसी रोग का इलाज नहीं है। जो लोग गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं से घिरे हुए हैं, उन्हें डॉक्टरी इलाज को प्राथमिकता देनी चाहिए। फूलगोभी मुख्य रूप से सेहतमंद बनाए रखने में मदद करती है। साथ ही लेख के अंत में फूल गोभी खाने के नुकसान के बारे में भी बताया गया है, तो उसे भी ध्यानपूर्वक पढ़ें।

1. हृदय को स्वस्थ रखने में कारगर

क्रुसिफेरस सब्जियां कार्डियोवैस्कुलर डिजीज यानी हृदय रोगों से बचाव में सहायक हो सकती हैं। क्रुसिफेरस सब्जियां ब्रैसिका प्रजाति से संबंधित होती हैं, जिसमें फूलगोभी भी शामिल है। यह जानकारी एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन) की वेबसाइट पर प्रकाशित में शोध में उपलब्ध है। इसमें कहा गया है कि क्रुसिफेरस सब्जियों में प्राकृतिक रूप से आइसोथियोसाइनेट्स (Isothiocyanates) नामक मॉलिक्यूल पाया जाता है। यह मॉलिक्यूल हृदय को स्वस्थ रख सकता है (3)। इसलिए, कहा जा सकता है कि फूल गोभी खाने के फायदे हृदय के लिए लाभकारी हो सकते हैं। 

2. कैंसर से बचाने में सहायक

कैंसर एक गंभीर स्वास्थ्य समस्या है, जिसके इलाज के लिए लंबे मेडिकल ट्रीटमेंट की जरूरत होती है। इसलिए, कैंसर से बचे रहना ही सबसे बेहतर विकल्प है और इस काम में फूल गोभी लाभदायक साबित हो सकती है। इस संबंध में एनसीबीआई की साइट पर एक रिसर्च पेपर उपलब्ध है। इस रिसर्च पेपर में कहा गया है कि फूल गोभी में मौजूद सल्फोराफेन नामक तत्व में एंटीकैंसर प्रभाव पाया जाता है। इस प्रभाव के कारण फूल गोभी कोलन और प्रोस्टेट कैंसर के साथ ही कई अन्य कैंसर के खिलाफ सुरक्षा प्रदान कर सकती है। वैज्ञानिक अध्ययन में देखा गया है कि सल्फोराफेन ट्यूमर को पनपने से रोकने में भी मदद कर सकता है (4)। इसलिए, अगर कोई कैंसर से बचना चाहता है, तो फूल गोभी का सेवन करे। 

3. हड्डियों को करे मजबूत

फूल गोभी में विटामिन-के पाया जाता है, जो हड्डियों को मजबूती दे सकता है। साथ ही इसमें कई ऐसे बायोएक्टिव कंपाउंड पाए जाते हैं, जो हड्डियों के घनत्व (बोन डेंसिटी) में सुधार करके फ्रैक्चर के जोखिम को कम कर सकते हैं। एक मेडिकल रिसर्च कहती हैं कि विटामिन-के का प्रतिदिन सेवन फ्रैक्चर के जोखिम को कम रख सकता है। इसलिए, फूलगोभी के फायदे में हड्डियों को मजबूती देना भी शामिल है (5)।

4. वजन कम करने में कारगर

फूल गोभी में अच्छी मात्रा में फाइबर पाया जाता है और इसका ग्लाइसेमिक लोड (GL) भी कम होता है। पाठकों की जानकारी के लिए बता दें कि किसी भोजन का ग्लाइसेमिक लोड (जीएल) एक संख्या होती है, जो अनुमान लगाती है कि भोजन खाने के बाद किसी व्यक्ति के खून में शुगर का स्तर कितना बढ़ा है। अध्ययन में पाया गया है कि उच्च-फाइबर और कम ग्लाइसेमिक लोड वाली सब्जियों का अधिक सेवन वजन कम करने में सहायक हो सकता है। फूलगोभी ग्लूकोज, इंसुलिन प्रतिक्रियाओं और शरीर में वसा बढ़ने की स्थिति में सुधार कर सकती है और ऊर्जा बढ़ा सकती हैं (6) 

5. सूजन को कम करने में सहायक

फूलगोभी में प्रचुर मात्रा में फ्लेवोनोइड कंपाउंड पाया जाता है, जो मानव शरीर पर एंटी-इंफ्लेमेटरी (सूजन-रोधी) प्रभाव दिखा सकता है। 100 ग्राम ताजी फूलगोभी में 267.21 मिलीग्राम फ्लेवोनोइड पाया जाता है। ध्यान रहे कि फूल गोभी को अलग-अलग तरीके से पकाने पर फ्लेवोनोइड की मात्रा कम हो सकती है। इसलिए, फूल गोभी का अधिक से अधिक फायदा लेना चाहते हैं, तो इसे पूरी तरह पानी में उबालने की जगह हल्का कच्चा या भूनकर खाएं (7)

6. ब्रेन फंक्शन को बूस्ट करता है

फूल गोभी कोलिन का एक अच्छा स्रोत है और मस्तिष्क विकास में कोलिन की अहम भूमिका होती हैं। इसलिए, फूल गोभी खाने के फायदे याददाश्त, मनोदशा, मांसपेशियों पर नियंत्रण, मस्तिष्क के विकास और न्यूरोट्रांसमीटर सिस्टम को सही रखना शामिल है। ये सभी स्वस्थ मस्तिष्क के लिए जरूरी हैं (8)।

7. कोलेस्ट्रॉल को करे नियंत्रित

बहुत से लोग कोलेस्ट्रॉल के बारे में चिंता करते हैं, क्योंकि रक्त में उच्च कोलेस्ट्रॉल का स्तर हृदय रोग के जोखिम को बढ़ा सकता है (9)। वहीं, फूल गोभी के सेवन से कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित रखा जा सकता है। वैज्ञानिक अध्ययन कहते हैं कि गोभी में हाइपोकोलेस्टेरॉलिक (कोलेस्ट्रॉल कम करने वाला) प्रभाव पाया जाता है। इसलिए, भोजन में फूल गोभी का सेवन कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने के लिए प्रेरित कर सकता है (10)

8. पाचन तंत्र होता है मजबूत

फूलगोभी खाने के फायदे में यह भी हैं कि इसके सेवन से पाचन तंत्र मजबूत होता है, क्योंकि इसमें फाइबर की उच्च मात्रा पाई जाती है। एक शोध के अनुसार, फाइबर पाचन क्रिया को बेहतर बनाने के लिए कई कार्य करता है, जैसे – पाचन तंत्र में भोजन को अच्छी तरह पचाता है, मल को भारी बनाता है ताकि वो आसानी से बाहर आ सके और आंतों के पीएच को संतुलित रखता है। इसलिए, कहा जा सकता है कि गोभी का सेवन शरीर में फाइबर की पूर्ति करके पाचन तंत्र को स्वस्थ बना सकता है (11)

9. लिवर और किडनी के लिए जरूरी

फूल गोभी में कोलिन मौजूद होता है। अगर इसे उचित मात्रा में लिया जाए, तो यह लिवर व किडनी को संक्रमण आदि समस्याओं से बचा सकता है (8) (12)। वहीं, कुछ वैज्ञानिक अध्ययन गुर्दे की पथरी या गुर्दे की बीमारी में फूलगोभी से बचने के लिए कहते हैं, क्योंकि इसमें यूरिक एसिड ज्यादा होता है (13)। इसलिए, बेहतर यही होगा कि अगर किसी को लिवरी व किडनी से जुड़ी कोई समस्या है, तो वो डॉक्टर की सलाह पर ही फूल गोभी का सेवन करे। 

10. आंखों के लिए फूल गोभी के फायदे

आंखों की रक्त वाहिकाओं के लिए विटामिन-सी अच्छा होता है। वैज्ञानिक शोध के अनुसार, यह मोतियाबिंद होने के जोखिम को कम कर सकता है। 100 ग्राम फूल गोभी में इसकी मात्रा 48.2 मिलीग्राम होती है (14)। विटामिन-सी, एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करता है, जो बढ़ती उम्र के साथ आंखों को होने वाले नुकसान से बचा सकता है (15)। 

11. रक्त प्रवाह सुधारने में फूल गोभी

एक शोध में पाया गया है कि फूल गोभी में कुछ मात्रा नाइट्राइट की पाई जाती है। नाइट्राइट रक्तचाप को नियंत्रित करता है, जिससे हृदय ठीक तरह से काम कर पाता है और धमनियों में रक्त का प्रवाह भी ठीक रहता है (16)।

12. हार्मोन को संतुलित करे फूल गोभी

फूल गोभी जैसे फाइटोएस्ट्रोजन युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करने से हार्मोन संतुलित हो सकते हैं। इसका सेवन करने से रजोनिवृत्ति के बाद महिलाओं के शरीर में टेस्टोस्टेरोन हार्मोन का स्तर संतुलित रह सकता है। इस प्रकार असंतुलित हार्मोन के कारण होने वाली बीमारियों से बचा जा सकता है (17)। 

13. विषाक्त पदार्थों को करे दूर

क्रुसिफेरस सब्जियों में सेंकड्री मेटाबोलाइट्स (एक प्रकार के छोटे अणु) होते हैं, जिन्हें ग्लूकोसाइनोलेट्स कहा जाता है। ये ग्लूकोसाइनोलेट्स, लिवर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने वाले एंजाइमों को बढ़ाते हैं। इससे लिवर को डिटॉक्स करने और विषाक्त पदार्थों को शरीर से बाहर निकालने में मदद मिल सकती है (18)। 

14. डायबिटीज

क्रुसिफेरस सब्जियां, विशेष रूप से ब्रैसिका परिवार की सब्जियां टाइप 2 डायबिटीज के रोगियों के लिए लाभकारी हो सकती हैं। इनमें फूल गोभी भी शामिल है। चूहों पर किए गए रिसर्च के अनुसार, इनमें पाए जाने वाले फेनोलिक कंपाउंड में एंटी-डायबिटिक, एंटीलिपिडेमिक और एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव होंते हैं। इनके चलते टाइप 2 डायबिटीज में राहत मिल सकती है (19)।  

15. त्वचा और बालों के लिए फूल गोभी के फायदे

फूल गोभी में मौजूद विटामिन-सी कोलेजन के उत्पादन में सुधार कर सकता है (20)। कोलेजन को एंटीऑक्सीडेंट माना जाता है, जो त्वचा को मॉइस्चराइजिंग गुण प्रदान कर सकता है। इतना ही नहीं यह बढ़ती उम्र के साथ त्वचा पर नजर आने वाली समस्याओं (सूखापन, ढीलापन और झुर्रियों) के प्रभाव को भी कम कर सकता है (21)। विटामिन-सी से युक्त आहार का सेवन बालों को झड़ना भी कम कर सकता है (22)। इस आधार पर कहा जा सकता है कि त्वचा और बालों की सुरक्षा के लिए गोभी खाना फायदेमंद हो सकता है।

अंत तक जरूर पढ़ें 

इतना सब जानने के बाद अब फूल गोभी में पाए जाने वाले पौष्टिक तत्वों पर चर्चा करते हैं।

फूल गोभी के पौष्टिक तत्व – Cauliflower Nutritional Value in Hindi

यहां हम टेबल के जरिए बता रहे हैं कि फूलगोभी में कौन-कौने से पोषक तत्व पाए जाते हैं और उनकी मात्रा कितनी होती है (14)।

पोषकतत्वमात्रा प्रति 100 ग्राम
ऊर्जा25 कैलोरी
कार्बोहाइड्रेट4.97 ग्राम
वसा0.28 ग्राम
प्रोटीन1.92 ग्राम
कोलेस्ट्रॉल0 मिलीग्राम
फाइबर2.0 ग्राम
फोलेट57µg
नियासिन0.507 मिलीग्राम
पैंटोथेनिक एसिड0.667 मिलीग्राम
पाइरिडोक्सिन0.184 मिलीग्राम
राइबोफ्लेविन0.060 मिलीग्राम
थियामिन0.050 मिलीग्राम
विटामिन-सी48.2 मिलीग्राम
विटामिन-ई0.08 मिलीग्राम
विटामिन-के15.5 माइक्रोग्राम
सोडियम30 मिलीग्राम
पोटैशियम299 मिलीग्राम
कैल्शियम22 मिलीग्राम
कॉपर0.039 मिलीग्राम
आयरन0.42 मिलीग्राम
मैग्नीशियम15 मिलीग्राम
मैंगनीज0.155 मिलीग्राम
जिंक0.27 मिलीग्राम
ल्यूटिन-जेक्सैंथिन1 माइक्रोग्राम

जानकारी बाकी है

आइए, अब जानते हैं कि फूल गोभी के फायदे के लिए इसका उपयोग कब, कैसे और कितनी मात्रा में करें। 

फूल गोभी का उपयोग – How to Use Cauliflower (Phool Gobhi) in Hindi

फूल गोभी का उपयोग मुख्य रूप से सब्जी बनाने में किया जाता है, लेकिन आप निम्न तरीकों से भी इसे अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं :

  • आप इसे शिमला मिर्च, किशमिश व सफेद सिरका आदि के साथ मिक्स करके सलाद बना सकते हैं।
  • आप फूल गोभी को मैरीनेट करने के बाद ग्रिल करके भी सेवन कर सकते हैं।
  • फूल गोभी में क्रीम और चीज़ को मिक्स करने से एक नई डिश बन सकती है। जो न सिर्फ स्वादिष्ट होगी, बल्कि पौष्टिक भी होगी।
  • आप गोभी के पराठे भी बना सकते हैं, जो खासकर सर्दियों में हर किसी पसंद होते हैं।
  • शलजम व गाजर के साथ मिलाकर फूल गोभी का आचार भी डाला जा सकता है। इसे भोजन के साथ लेने से खाने का स्वाद कई गुना बढ़ जाता है।
  • फूल गोभी से बना सूप भी स्वादिष्ट और सेहतमंद होता है।

गोभी के फूल का सेवन कब करें : गोभी के फूल का सेवन कभी भी किया जा सकता है। इससे बने व्यंजन को दोपहर या रात के खाने में शामिल करें। गोभी से बने हेल्दी स्नैक्स सुबह नाश्ते में आराम से खाए जा सकते हैं।

फूलगोभी का सेवन कितनी मात्रा में करें : विशेषज्ञों का कहना है कि जब गोभी का सीजन हो तो एक स्वस्थ और वयस्क व्यक्ति को सप्ताह में एक बार गोभी का सेवन जरूर करना चाहिए, लेकिन इस बारे में कोई ठोस वैज्ञानिक रिसर्च उपलब्ध नहीं है।

पढ़ते रहें यह आर्टिकल

लेख के अगले हिस्से में हम फूल गोभी और ब्रोकली में अंतर बता रहे हैं।

फूल गोभी और ब्रोकली में से क्या बेहतर है?

फूल गोभी और ब्रोकली दोनों ही स्वास्थ्य के लिए बेहतर हैं, लेकिन ब्रोकली में फूल गोभी की तुलना में अधिक पोषक तत्व पाए जाते हैं। वहीं गोभी आसानी से उपलब्ध है और ब्रोकली से सस्ती भी मिलती है, इसलिए फूल गोभी के महत्व से इंकार नहीं जा सकता है (23)

लेख में आगे फूल गोभी से संबंधित और जानकारी है। 

फूल गोभी का चयन और सुरक्षित रखने का सही तरीका

फूल गोभी को खरीदने और इसे सुरक्षित रखने के लिए कुछ बातों का खास ख्याल रखना चाहिए जैसे –

  • गोभी खरीदते समय हमेशा गोभी के फूल को अच्छी तरह देखें। इसमें हरे और सफेद रंग के कीड़े छुपे हो सकते हैं।
  • बिल्कुल सफेद गोभी का चयन करें, इसमें गन्दगी जमा होने की आशंका कम होती है, जबकि काली और चितकबरी गोभी में जीवाणु हो सकते हैं, जो दिखाई नहीं देते।
  • हमेशा बड़े सिर वाली गोभी चयन करें।
  • गोभी को सुरक्षित रखने के लिए इसे अच्छी तरह धोकर और सुखाकर एक ढीले प्लास्टिक बैग में रखें।
  • गोभी को प्लास्टिक बैग में रखकर फ्रिज में 7 दिन तक आराम से स्टोर किया जा सकता है।
  • इसे बनाने से पहले एक बार अच्छी तरह धो लें।

नीचे स्क्रॉल करें

आइए, अब एक नजर डालते हैं फूलगोभी के नुकसान पर। 

फूल गोभी के नुकसान – Side Effects of Cauliflower in Hindi

फूलगोभी के सेवन के कुछ नकारात्मक प्रभाव हो सकते हैं, खासकर अगर इसे अधिक मात्रा में खाया जाए।

किडनी स्टोन का कारण: इसमें यूरिक एसिड की मात्रा ज्यादा होती है। अगर इसे अधिक मात्रा में खाया जाए, तो किडनी में पथरी बनने की आशंका हो सकती है (15)।

गैस की समस्या: फूल गोभी में कार्ब्स होते हैं, जो आसानी से नहीं टूटते। इसलिए, फूल गोभी के अधिक सेवन से गैस की समस्या हो सकती है (24)।

रक्त के थक्के का डर: विटामिन-के रक्त के थक्के को जमाता है और फूल गोभी में विटामिन-के पर्याप्त मात्रा में होता है (25) (14)। इसलिए, जो खून को पतला करने की दवा खा रहे हों, उन्हें डॉक्टर की सलाह पर ही फूल गोभी का सेवन करना चाहिए।

स्तनपान कराने वाली मां के लिए हानिकारक: जो महिलाएं अपने शिशु को स्तनपान करवा रही हैं, उन्हें फूल गोभी जैसे गैस बनाने वाले खाद्य पदार्थों से दूर रहना चाहिए (26)।

इस आर्टिकल के माध्यम से हमने फूलगोभी से जुड़ी कई अहम जानकारियां आप तक पहुंचाने का प्रयास किया है। इससे आप इतना तो समझ गए होंगे कि स्वास्थ्य के लिहाज से फूल गोभी फायदेमंद है। यह स्वादिष्ट है और इसे डाइट में आसानी से शामिल किया जा सकता है। हम उम्मीद करते हैं कि आपको यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा। इसलिए, यह जानकारी दोस्तों के साथ जरूर साझा करें। 

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

फूल गोभी की तासीर कैसी होती है?

फूल गोभी की तासीर ठंडी होती है।

क्या गोभी डायबिटीज के रोगियों के लिए अच्छी होती है?

हां, अगर संतुलित मात्रा में ली जाए, तो गोभी डायबिटीज के रोगियों के लिए अच्छी हो सकती है। गोभी में कैरोटीनॉयड, ल्यूटिन व बीटा-कैरोटीन जैसे स्वास्थ्यकारी तत्व होते हैं, इसलिए यह डायबिटीज में लाभकारी हो सकती है (27)

क्या फूल गोभी के पत्ते खाए जा सकते हैं?

हां, फूल गोभी के पत्ते खाने योग्य होते हैं, इन्हें शाक सब्जी के रूप में खाया जा सकता है।

फूल गोभी में कितनी कैलोरी होती हैं?

100 ग्राम कच्ची फूल गोभी में 25 कैलोरी होती है, जबकि 100 ग्राम उबली गोभी की सब्जी में 23 कैलोरी होती है (14) (28)।

फूल गोभी कब तक चल सकती है?

अगर कच्ची और ताजी फूल गोभी को फ्रिज में रखा जाए, तो यह 7 दिन तक चल सकती है। वहीं फ्रिज में रखी गोभी की सब्जी 2 दिन तक खाई जा सकती है।

पर्पल फूल गोभी क्या है?

यह फूल गोभी की ही एक प्रजाति है। फूलगोभी की इस प्रजाति में एंथोसायनिन नामक तत्व होता है, जो इसे बैंगनी रंग देता है (30)

फूल गोभी में कौन-कौन से विटामिन पाए जाते हैं?

फूलगोभी में विटामिन ए, बी कॉम्प्लेक्स के विटामिन जैसे थायमिन, राइबोफ्लेविन, नियासिन और विटामिन सी पाया जाता है (1)

फूल गोभी के कौन कौन से हिस्से खाए जा सकते हैं?

फूल गोभी का फूल, पत्ते और डंठल खाए जा सकते हैं।

क्या रोजाना फूल गोभी खाई जा सकती है?

हां, अगर कोई व्यक्ति स्वस्थ है, तो रोजाना संतुलित मात्रा में गोभी खाई जा सकती है।

क्या कच्ची या पकी फूल गोभी खाना बेहतर है?

दोनों तरह की गोभी में कम कैलोरी पाई जाती है, इसलिए मोटापा कम करने के लिए दोनों ही बेहतर हैं।

क्या फूल गोभी मेटाबॉलिज्म को धीमा कर सकती है?

नहीं, गोभी का फूल मेटाबॉलिज्म को धीमा नहीं करता, बल्कि इसमें बायोटिन नामक विटामिन पाया जाता है, जो प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और फैट मेटाबॉलिज्म को बढ़ा सकता है (31)

ज्यादा फूल गोभी खाने से क्या होता है?

ज्यादा फूल गोभी खाने से पेट में गैस की समस्या हो सकती है (32)

थायराइड के रोगियों को गोभी क्यों नहीं खानी चाहिए?

गोभी में प्राकृतिक रूप से गोइट्रोगन पाए जाते हैं। गोइट्रोगन ऐसे तत्व होते हैं, जो थायरायड ग्रंथि में आयोडीन के असर को कम करके थायराइड हार्मोन के उत्पादन को बाधित करते हैं। इसलिए, कहा जाता है कि थायराइड के रोगियों को अधिक मात्रा में गोभी नहीं खानी चाहिए, क्योंकि यह थायराइड हार्मोन संतुलन को बिगाड़ सकता है (33)। हालांकि सीमित मात्रा में इसे आहार का हिस्सा बनाया जा सकता है।

31 Sources

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. Bioactive Compounds and Antioxidant Activity of Fresh and Processed White Cauliflower
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3793502/
  2. Cauliflower
    https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/ingredientsprofiles/Cauliflower
  3. Cardiovascular Health Benefits of Specific Vegetable Types: A Narrative Review
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5986475/
  4. Multi-targeted prevention of cancer by sulforaphane
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2579766/
  5. Nutritional Aspects of Bone Health and Fracture Healing
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5804294/
  6. Changes in Intake of Fruits and Vegetables and Weight Change in United States Men and Women Followed for Up to 24 Years: Analysis from Three Prospective Cohort Studies
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4578962/
  7. Bioactive Compounds and Antioxidant Activity of Fresh and Processed White Cauliflower
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3793502/
  8. Choline
    https://ods.od.nih.gov/factsheets/Choline-HealthProfessional/
  9. High cholesterol: Overview
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK279318/
  10. Hypocholesterolemic Effects of the Cauliflower Culinary-Medicinal Mushroom Sparassis crispa (Higher Basidiomycetes) in Diet-Induced Hypercholesterolemic Rats
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/26756188/
  11. Dietary fibre in foods: a review
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3614039/
  12. Choline
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2518394/
  13. Hasaat-e- Kuliyah (Nephrolithiasis)
    https://www.nhp.gov.in/hasaat-e-kuliyah-nephrolithiasis_mtl
  14. Cauliflower
    https://fdc.nal.usda.gov/fdc-app.html#/food-details/169986/nutrients
  15. Vitamin C
    https://ods.od.nih.gov/factsheets/VitaminC-HealthProfessional/
  16. Food sources of nitrates and nitrites: the physiologic context for potential health benefits
    https://academic.oup.com/ajcn/article/90/1/1/4596750
  17. Usual consumption of plant foods containing phytoestrogens and sex hormone levels in postmenopausal women in Wisconsin
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/9631492/
  18. The synergistic upregulation of phase II detoxification enzymes by glucosinolate breakdown products in cruciferous vegetables
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/11446830/
  19. Antihyperglycemic antihyperlipidemic and antioxidant activity of phenolic rich extract of Brassica oleraceae var gongylodes on streptozotocin induced Wistar rats
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4439412/
  20. Vitamin C
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK225480/
  21. Collagen Hydrolysates for Skin Protection: Oral Administration and Topical Formulation
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC7070905/
  22. The Role of Vitamins and Minerals in Hair Loss: A Review
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6380979/
  23. Nutrition Information for Raw Vegetables
    https://www.fda.gov/food/food-labeling-nutrition/nutrition-information-raw-vegetables
  24. Symptoms & Causes of Gas in the Digestive Tract
    https://www.niddk.nih.gov/health-information/digestive-diseases/gas-digestive-tract/symptoms-causes
  25. Vitamin K: the effect on health beyond coagulation – an overview
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3321262/#:~:text=Vitamin%20K%2C%20the%20blood%20coagulation
  26. Maternal food restrictions during breastfeeding
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5383635/
  27. Functional foods-based diet as a novel dietary approach for management of type 2 diabetes and its complications: A review
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4058731/
  28. Cauliflower cooked boiled drained with salt
    https://fdc.nal.usda.gov/fdc-app.html#/food-details/168520/nutrients
  29. The Purple Cauliflower Arises from Activation of a MYB Transcription Factor
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2971621/
  30. Vitamins
    https://www.accessdata.fda.gov/scripts/interactivenutritionfactslabel/assets/InteractiveNFL_Vitamins&MineralsChart_March2020.pdf
  31. Symptoms & Causes of Gas in the Digestive Tract
    https://www.niddk.nih.gov/health-information/digestive-diseases/gas-digestive-tract/symptoms-causes

और पढ़े:

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

Neelanjana Singh

(Nutrition Therapist & Wellness Consultant)
Neelanjana Singh has over 30 years of experience in the field of nutrition and dietetics. She created and headed the nutrition facility at PSRI Hospital, New Delhi. She has taught Nutrition and Health Education at the University of Delhi for over 7 years.   She has authored several books on nutrition: Our Kid Eats Everything (Hachette), Why Should I Eat... more

ताज़े आलेख

553948