पिस्ता के 16 फायदे, उपयोग और नुकसान – All About Pista in Hindi

Medically reviewed by Neelanjana Singh, Nutrition Therapist & Wellness Consultant
by

सूखे मेवों की बात हो और पिस्ता का जिक्र न किया जाए, यह तो संभव ही नहीं है। इसका हल्का नमकीन स्वाद भला किसे पसंद नहीं होता। वहीं, मिठाइयों, खीर व हलवे आदि में पिस्ता हो, तो फिर इनके स्वाद के क्या कहने। यह तो बात हुई इसके स्वाद की, लेकिन पोषक तत्वों की बात की जाए, तो इस मामले में भी पिस्ता नंबर-1 है। इसके स्वास्थ्य संबंधी कई सारे फायदे भी हैं, जिसकी वजह से भी पिस्ता को खास सूखे मेवे की लिस्ट में गिना जाता है। इसके अलावा भी पिस्ते की कई सारी खूबियां हैं। स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम पिस्ता बादाम खाने के फायदे और पिस्ता के नुकसान के बारे में बताएंगे। पिस्ता खाने से हम स्वस्थ रह सकते हैं, वहीं कुछ शारीरिक समस्याओं में भी फायदेमंद है, लेकिन गंभीर बीमारी की अवस्था में डॉक्टरी उपचार ही एकमात्र सही विकल्प है।

नीचे स्क्रॉल करें

इस लेख के पहले भाग में जानेंगे कि पिस्ता कहा किसे जाता है।

पिस्ता क्या है? – What are Pistachios in Hindi

पिस्ता हरे रंग का सूखा मेवा है। इसका प्रयोग मिठाइयों का स्वाद व खूबसूरती बढ़ाने के लिए किया जाता है। विभिन्न फायदों के कारण यह ड्राई फ्रूट्स में एक खास स्थान रखता है। पिस्ता पोषक तत्वों से भरपूर होता है। इसका सेवन वजन को संतुलित करने से लेकर, रक्तचाप व इंसुलिन के स्तर को नियंत्रित रखने तक किया जा सकता है। इसका वैज्ञानिक नाम पिस्टेसिया वेरा (Pistacia vera) है। यह ईरान, अफगानिस्तान, सयुंक्त राज्य अमेरिका और सीरिया में बड़े स्तर पर पाया जाता है। दुनिया में सबसे ज्यादा पिस्ते की पैदावार ईरान में होती है (1)

आगे है और जानकारी

आइए, अब जानते हैं कि पिस्ता हमारे सेहत के लिए अच्छा क्यों है।

पिस्ता हमारे सेहत के लिए अच्छा क्यों है?

पिस्ता कई तरह के स्वास्थ्यवर्धक पोषक तत्वों से समृद्ध होता है। इसमें सैचुरेटेड फैटी एसिड, पॉलीअनसैचुरेटेड फैटी एसिड, मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड, ओलिक व लिनोलिक एसिड, प्रोटीन, विटामिन और फाइबर होता है। यह स्वास्थ्य स्थिति में सुधार करने के साथ ही कई गंभीर समस्याओं को दूर रखने का भी काम कर सकता है (1)। लिहाजा, यह कहा जा सकता है कि पिस्ता खाने से कई बीमारियों से बचना आसान हो सकता है। इसके फायदों के बारे में विस्तार से जानने के लिए लेख को अंत तक जरूर पढ़ें।

इस लेख के अगले हिस्से में पिस्ता खाने के फायदों के बारे में ही बताया गया है।

पिस्ता खाने के फायदे – Benefits of Pista in Hindi

पिस्ता खाने के फायदे कई सारे हैं, जिनके बारे में ज्यादातर लोगों को पता नहीं होता है। यहां हम पिस्ता खाने के फायदों के बारे में विस्तार से बता रहे हैं। इन्हें जानकर आप पिस्ते को अपने आहार में शामिल करने से रोक नहीं पाएंगे।

1. हृदय स्वास्थ्य के लिए

पिस्ता के फायदे में हृदय को स्वस्थ रखना शामिल है। पिस्ता पौष्टिक तत्वों से भरपूर होता है। एनसीबीआई (National Center for Biotechnology Information) की वेबसाइट पर पब्लिश एक वैज्ञानिक अध्ययन के अनुसार, पिस्ता के सेवन से प्लामा टोटल कोलेस्ट्रॉल में सुधार हो सकता है। दरअसल, पिस्ता के सेवन से लो- डेंसिटी लिपोप्रोटीन (नुकसानदायक कोलेस्ट्रॉल) कम हो सकता है। वहीं, पिस्ता हाई-डेंसिटी लिपोप्रोटीन (लाभकारी कोलेस्ट्रॉल) को बढ़ाने का काम कर सकता है। लो- डेंसिटी लिपोप्रोटीन के कम होने पर कोरोनरी हार्ट डिजीज और इस्केमिक हार्ट डिजीज का जोखिम कम हो सकता है (1)। वहीं, एक अन्य शोध के मुताबिक पिस्ता में फैटी एसिड जैसे कई फाइटोकेमिकल्स होते हैं, जो हृदय को स्वस्थ रखने में मदद कर सकते हैं (2)

2. आंखों को स्वस्थ रखने के लिए

आंखें पूरे शरीर का सबसे अहम हिस्सा होती हैं। इन आंखों की देखभाल के लिए पिस्ता का प्रयोग किया जा सकता है। दरअसल,  पिस्ता के गुण में ल्यूटिन और जेक्सैंथिन जैसे कैरोटीनॉयड शामिल है, जो आंखों के रेटिना के लिए लाभकारी हो सकते हैं। आहार में ल्यूटिन और जेक्सैंथिन की कमी के कारण बढ़ते उम्र के साथ होने वाले ऐज रिलेटेड मैकुलर डिजनरेशन (एएमडी) की समस्या उत्पन्न हो सकती है, जिसमें ठीक तरह से दिखाई देना कम हो सकता है। ऐसे में पिस्ता के सेवन कर ल्यूटिन और जेक्सैंथिन की पूर्ति हो सकती है, जो एएमडी की समस्या को दूर रखने का काम कर सकते हैं (3)

3. वजन घटाने में मददगार

बढ़ते हुए वजन को हर कोई रोकना चाहता है, लेकिन यह जानकर हैरानी होगी कि पिस्ता खाने के फायदे में वजन घटाने का फायदा भी शामिल है। इसी संबंध में एनसीबीआई की वेबसाइट पर एक शोध प्रकाशित किया गया है। पिस्ता खाने की सही विधि पर हुए शोध के अनुसार, इसे खाने से कैलोरी की मात्रा को नियंत्रित किया जा सकता है। इससे वजन को बढ़ने से रोका जा सकता है (4)। वहीं, एनसीबीआई की एक दूसरे शोध के अनुसार, 12 हफ्ते तक पिस्ता के सेवन से बॉडी मास इंडेक्स (बीएमई) में कमी आ सकती है। पिस्ता में एंटीओबीस प्रॉपर्टीज भी होती है, जिससे स्टार्च ब्लॉकेज, भूख में कमी, वसा का अवशोषण और लो एनर्जी डेंसिटी का काम कर सकता है। इससे वजन को नियंत्रित रखा जा सकता है (5)

4. मधुमेह में कारगर

मधुमेह से बचाने में पिस्ता बादाम अपनी सक्रिय और प्रभावी भूमिका निभा सकता है। पिस्ता खाने की विधि पर आधारित एक वैज्ञानिक रिपोर्ट के मुताबिक, पिस्ता टाइप 2 मधुमेह के रोगियों में रक्त शर्करा और इंसुलिन प्रतिरोध पर सकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। इससे मधुमेह की स्थिति में कुछ हद तक सुधार हो सकता है। इस वैज्ञानिक शोध के अनुसार, पिस्ता में एंटी-डायबिटिक गतिविधि भी होती है, जो मधुमेह की समस्या को दूर रखने का काम कर सकती है (5)

5. सूजन से राहत

शरीर पर चोट लग जाने की वजह से कभी-कभी प्रभावित जगह पर सूजन आ जाती है, लेकिन पिस्ता बादाम का उपयोग करके सूजन से राहत मिल सकती है। एक वैज्ञानिक अध्ययन के अनुसार, पिस्ता में मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी एंड एंटीऑक्सीडेंट गुण सूजन से राहत पहुंचाने का काम कर सकते हैं (6)। इसके अलावा, पिस्ता में वुंड हीलिंग गतिविधि भी पाए जाते हैं, जो घाव को जल्दी ठीक कर सूजन को कम कर सकता है (7)

6. मस्तिष्क स्वास्थ्य और तंत्रिका तंत्र में सहायक

पिस्ता बादाम खाने के फायदे मस्तिष्क स्वास्थ्य और तंत्रिका तंत्र के लिए भी हो सकते हैं। एक मेडिकल रिसर्च के मुताबिक, पिस्ता में फेनोलिक कंपाउंड होता है, जिसमें एंटीइंफ्लेमेटरी, एंटीऑक्सीडेंट और न्यूरोप्रोटेक्टिव गुण होते हैं, जो एड्रेनाजिक (तांत्रिक कोशिकाओं से संबंधित) और नॉरएड्रेनाजिक (मस्तिष्क संबंधी हार्मोन) रिसेप्टर फंक्शन में उम्र से संबंधित परिवर्तन को प्रभावित कर सकते हैं। इससे मस्तिष्क को स्वस्थ रखा जा सकता है। इसके अलावा, पिस्ता में फ्लेवोनॉएड भी होता है, जो याददाश्त और न्यूरोकॉग्निटिव को बेहतर कर सकता है (8)

7. कैंसर से बचाने में सहायक

पिस्ता के फायदे कैंसर के जोखिम को बचाने में भी हो सकते हैं। एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक वैज्ञानिक रिसर्च के मुताबिक, पिस्ता केमो प्रिवेंटिव (chemopreventive) गुणों से समृद्ध होता है। इस प्रभाव के कारण यह कैंसर सेल को पनपने से रोकने में मदद कर सकता है (9)। एक अन्य शोध में दिया हुआ है कि पिस्ता में मौजूद पी-टोकोफेरोल (विटामिन-ई का एक रूप) और एंटीऑक्सीडेंट कैंसर के खिलाफ सुरक्षा प्रदान कर कैंसर के जोखिम को कम कर सकता है (1)। वहीं, किसी को कैंसर होने की अवस्था में घरेलू उपचार की जगह डॉक्टर से इलाज करवाना चाहिए।

8. प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने के लिए

पिस्ता के लाभ में शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बेहतर करना भी शामिल है। एक वैज्ञानिक अध्ययन के अनुसार, पिस्ता में मैग्नीशियम की भरपूर मात्रा पाई जाती है। मैग्नीशियम प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर करने वाली बीमारियों को रोकने में मदद कर सकता है। साथ ही पिस्ते में मौजूद टोकोफेरॉल प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहतर कर सकता है (10)। इस प्रकार पिस्ता का सेवन करने से इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाए रखने में मदद मिल सकती है।

9. हीमोग्लोबिन के लिए फायदेमंद

सही से खान-पान न करने के कारण खून में हीमोग्लोबिन की कमी हो जाती है, लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी कि हीमोग्लोबिन के लिए भी पिस्ता के गुण मददगार हो सकते हैं। एक अध्ययन के मुताबिक, हीमोग्लोबिन की कमी आयरन की कमी के कारण होती है। वहीं, पिस्ता के सेवन से शरीर में आयरन की पर्याप्त मात्रा पहुंचती है, जिससे हीमोग्लोबिन बढ़ सकता है (11)

10. हड्डी को मजबूत बनाने में

हड्डियों के स्वास्थ्य में सुधार करने में भी पिस्ता के फायदे नजर आ सकते हैं। एक शोध में दिया हुआ है कि पिस्ता में स्ट्रोन्शियम होता है, जो एक तरह का ट्रेस मिनरल होता है। स्ट्रोन्शियम को कैल्शियम के स्थान पर लिया जा सकता है। यह मिनरल हड्डियों और दांतों के बनावट में सुधार कर सकता है। साथ ही यह हड्डी के विकास और घनत्व को भी बढ़ावा देने का काम कर सकता है। दरअसल, स्ट्रोन्शियम ओस्टियोब्लास्ट (हड्डियों की कोशिकाओं का निर्माण) और ओस्टियोक्लास्ट (हड्डियों का निर्माण) की भूमिका निभा सकता है (12)।

11. यौन स्वास्थ्य में लाभदायक

यौन स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए पिस्ता का प्रयोग किया जा सकता है। ऐसा माना जाता है कि पिस्ता खाने से यौन स्वास्थ्य पर प्रभाव पड़ सकता है। वैज्ञानिक शोध के अनुसार, पिस्ता में एंटीऑक्सीडेंट और आर्गिनिन (Arginine) (एक तरह का एमिनो एसिड) पाया जाता है, जो इरेक्टाइल डिस्फंक्शन में सुधार करने का काम कर सकता है। इरेक्टाइल डिस्फंक्शन के कारण शारीरिक संबंध बनाने में समस्या आती है। ऐसे में पिस्ता के सेवन से यौन स्वास्थ्य में तेजी से परिवर्तन आ सकता है (13)। इसलिए, कहा जा सकता है कि पिस्ता खाने के आयुर्वेदिक फायदे यौन स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद हो सकते हैं।

12. एस्ट्रोजन के स्तर को संतुलित रखने के लिए

एस्ट्रोजेन एक तरह का स्टेरॉयड हार्मोन है, जो महिलाओं के प्रजनन अंगों से जुड़ा होता है। एस्ट्रोजेन का संतुलित रहना प्राइमरी ओवेरियन इंसफिशिएंसी, हाइपोगोनाडिज्म, मेनोपॉज के लक्षण, ऑस्टियोपोरोसिस और प्रोस्टेट कैंसर की समस्या को दूर रखने के लिए जरूरी होता है (14)। एस्ट्रोजेन को संतुलित रखने के लिए पिस्ता का सेवन फायदेमंद साबित हो सकता है। इसमें फाइटोएस्ट्रोजेन होते हैं, जो शरीर में एस्ट्रोजेन की मात्रा को संतुलित रखने का काम कर सकते हैं (15)

13. गर्भावस्था और ब्रेस्टफीडिंग में पिस्ता का उपयोग

गर्भवती को कई पोषक तत्वों की जरूरत होती है, जिनमें से एक ओमेगा फैटी एसिड भी है। इससे होने वाले शिशु को स्वस्थ रखा जा सकता है। वहीं, पिस्ता में ओमेगा-3 फैटी एसिड की भरपूर मात्रा पाई जाती है। इसके अलावा, ब्रेस्टफीडिंग के दौरान पिस्ता के सेवन से शिशुओं में आयरन की पूर्ति हो सकती है। इसलिए, ब्रेस्टफीडिंग के दौरान पिस्ता का सेवन लाभदायक हो सकता है। फिलहाल, इस बात की पुष्टि करने के लिए किसी तरह के वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं है।

14. कोलेस्ट्रॉल और रक्तचाप के लिए

पिस्ता बादाम के फायदे कोलेस्ट्रॉल और रक्तचाप को कम करने के लिए हो सकते हैं। एनसीबीआई की वेबसाइट पर पब्लिश एक मेडिकल रिसर्च की मानें, तो पिस्ता कुल कोलेस्ट्रॉल में सुधार करने का काम कर सकता है। वहीं, इस शोध से यह भी पता चला कि पिस्ता के 1 महीने की नियमित रूप से सेवन से सिस्टोलिक ब्लड प्रेशर (SBP) में काफी कम आई। वहीं, इससे डायस्टोलिक ब्लड प्रेशर में किसी तरह का परिवर्तन दिखाई नहीं दिया (1)

15. त्वचा के लिए उपयोगी

त्वचा के लिए भी पिस्ता के फायदे देखे जा सकते हैं । एक शोध के मुताबिक, पिस्ता के सेवन से त्वचा के स्वास्थ्य में सुधार हो सकता है। दरअसल पिस्ता में एंटीऑक्सीडेंट की भरपूर मात्रा पाई जाती है, जो त्वचा को ऑक्सीडेटिव इंजरी और सूरज के अल्ट्रावायलेट किरणों से सुरक्षा प्रदान करने का काम कर सकता है (16)। इसलिए, पिस्ता के लाभ त्वचा के लिए भी हो सकते हैं।

16. बालों के लिए

पिस्ता के उपयोग से बालों की भी देखरेख की जा सकती है। एनसीबीआई की वेबसाइट पर मौजूद एक वैज्ञानिक शोध के अनुसार, पिस्ता एमिनो एसिड का अच्छा स्रोत होता है, जो बालों के लिए जरूरी होता है। एमिनो एसिड बालों को मजबूती प्रदान कर बालों का झड़ना रोक सकता है (17)। इसलिए, पिस्ता के लाभ बालों पर नजर आ सकता है।

बने रहें हमारे साथ 

यह तो आप जान गए हैं कि पिस्ता खाने से क्या फायदा होता है। अब, पिस्ता के पौष्टिक तत्व की बात करते हैं।

पिस्ता के पौष्टिक तत्व – Pistachios Nutritional Value in Hindi

पिस्ता खाने के लाभ इसमें मौजूद पोषक तत्वों के कारण होते हैं। इस बारे में हम नीचे टेबल की माध्यम से बता रहे हैं (18)

पोषक तत्वमात्रा प्रति 100 g
ऊर्जा571 kcal
प्रोटीन21.43 g
टोटल लिपिड (फैट)46.43 g
कार्बोहाइड्रेट28.57 g
फाइबर10.7 g
शुगर7.14 g
कैल्शियम107 mg
आयरन3.93 mg
मैग्नीशियम, Mg125 mg
फास्फोरस, P500 mg
पोटैशियम, K1036 mg
कॉपर, Cu1.429 mg
मैगनीज, Mn1 mg
थायमिन1 mg
विटामिन बी-61.786 mg
फैटी एसिड, टोटल सैचुरेटेड5.36 g
फैटी एसिड, टोटल मोनोसैचुरेटेड25 g
फैटी एसिड, टोटल पोलीअनसैचुरेटेड14.29 g

आगे है और जानकारी

इसके आगे हम बताएंगे कि पिस्ता कितना खाना चाहिए और पिस्ता खाने का तरीका क्या है।

पिस्ता का उपयोग – How to Use Pistachios in Hindi

पिस्ता एक सूखा मेवा है, जिसे रोजाना खा सकते हैं। पिस्ता कैसे खाना चाहिए और पिस्ता कब खाना चाहिए यहां हम इस बारे में बता रहे हैं। पिस्ता के अन्य कई उपयोग भी हैं, जिनके बारे में नीचे बताया गया है।

कैसे खाएं:

  • पिस्ता को सामान्य रूप में खाया जा सकता है।
  • पिस्ता को रोस्ट करके सेवन किया जा सकता है।
  • पिस्ता को कुकीज और केक बनाते समय इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • पिस्ता को आप खीर जैसे मीठे पकवानों को बनाने में भी उपयोग कर सकते हैं।
  • पिस्ता का उपयोग घर में बनने वाली मिठाई में भी कर सकते हैं।
  • पिस्ता को दूध में डालकर पी सकते हैं।
  • पिस्ता को रात में भिगोकर सुबह खाने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं।

कब खाएं:

  • सुबह भीगा हुआ पिस्ता का सेवन किया जा सकता है।
  • पिस्ता से बने मिठाई और केक को शाम के स्नैक्स में लिया जा सकता है।
  • रात में सोने से पहले दूध में पिस्ता डालकर सेवन किया जा सकता है।
  • पिस्ता को मिलकर बनाए गए मिठाई को दोपहर और रात में खाने के बाद लिया जा सकता है।

कितना खाएं:

  • प्रतिदिन 35 से 45 ग्राम पिस्ता के सेवन से शरीर को जरूरी पोषण मिल सकता है। साथ ही शरीर के वजन और स्वास्थ्य पर किसी तरह का नकारात्मक प्रभाव नहीं डालता है (19)। हालांकि, सभी की आहार क्षमता एक जैसी नहीं होती है, इसलिए रोज कितना पिस्ता खाना चाहिए या नहीं, इस बारे में आहार विशेषज्ञ से संपर्क कर सकते हैं।

पढ़ते रहें यह आर्टिकल

आइए, अब जानते हैं कि पिस्ता को घर में सुरक्षित कैसे रखा जा सकता है।

पिस्ता का चयन कैसे करे और लंबे समय तक सुरक्षित कैसे रखें?

अच्छा पिस्ता खरीदना भी एक कला है। साथ ही इसे संभाल कर रखना भी जरूरी है, ताकि ये खराब न हों। इसलिए, पिस्ता खरीदते समय नीचे बताए गए टिप्स को फॉलो करने से फायदा हो सकता है।

पिस्ता का चयन कैसे करें:

  • पिस्ता छिला हुआ न हो। छिलके वाले पिस्ते लंबे समय तक ताजे रहते हैं।
  • अगर पिस्ता छिला हुआ है, तो उसमें दाग धब्बे न हों।
  • पिस्ता का रंग हरा होना चाहिए।
  • पिस्ता में कीड़े के द्वारा छेद न किया गया हो।

पिस्ता को लंबे समय तक सुरक्षित कैसे रखें:

  • पिस्ता को एयर टाइट बैग में सील करके लंबे समय तक रखा जा सकता है।

नीचे स्क्रॉल करें

लेख के अगले भाग में पिस्ता के नुकसान के बारे में बताया गया है।

पिस्ता के नुकसान – Side Effects of Pista in Hindi

पिस्ता के फायदे और नुकसान इस बात पर निर्भर करते हैं कि इसे कितना मात्रा में लिया जा रहा है। वहीं, पिस्ता कैसे खाना चाहिए, पिस्ता कब खाना चाहिए को बिना जाने और अधिक मात्रा में इसका सेवन करने से ये नुकसानदायक भी हो सकते हैं।

  • पिस्ता का सेवन मधुमेह के इलाज में मदद कर सकता है, लेकिन इसके अधिक मात्रा में सेवन से लो ब्लड शुगर की समस्या हो सकती है (5)
  • कुछ बच्चों को पिस्ता के सेवन से एलर्जी हो सकती है (20)
  • छोटे बच्चे के गले में पिस्ता फंस सकता है, इसलिए उन्हें पिस्ता पाउडर के रूप में देना चाहिए। साथ ही बच्चों को पिस्ता का पाउडर देने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें ।

यह तो अब स्पष्ट हो गया है कि पिस्ता गुणों का खजाना है। अगर इसे सीमित मात्रा में खाया जाए, तो यह कई शारीरिक समस्याओं में रामबाण इलाज साबित हो सकता है। इसलिए, जब अगली बार ड्राई फ्रूट्स खरीदने बाजार जाएं, तो साथ में थोड़े-से पिस्ता भी जरूर ले आएं। फिर चाहे इसे ऐसे ही खाएं या फिर पकवान में डालें। बेशक, पिस्ता गुणकारी है, लेकिन जरूरत से ज्यादा खाने पर नुकसान भी पहुंचा सकता है। इसे कैसे खाना है, वो हम इस लेख में बता ही चुके हैं। वहीं, अगर कोई किसी समस्या से पीड़ित हैं, तो इसका सेवन करने से पहले एक बार डॉक्टर से बात जरूर कर लें।

इस लेख के अंतिम हिस्से में पिस्ता से जुड़े पाठकों के कुछ सवाल और उनके जवाब दिए गए हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

पिस्ता कितने समय तक खाने योग्य रहता है?

अगर पिस्ता को एयरटाइट कंटेनर में रखते हैं, तो यह दो से तीन महीनों तक खाने योग्य रह सकता है।

पिस्ता महंगे क्यों होते हैं?

पिस्ता शरीर के लिए जरूरी पोषक तत्वों से समृद्ध होता है और इसका अधिक मात्रा में उत्पाद नहीं होता है, इसलिए इसकी कीमत अधिक होती है।

अगर पिस्ता खराब हो, तो उसका पता कैसे चलता है?

अगर पिस्ता खराब हो गया है, तो उसके स्वाद में परिवर्तन हो जाता है। खराब पिस्ता खाने में कड़वा लगता है। 

क्या पिस्ता के शेल (छिलका) जहरीले होते हैं?

जी नहीं, पिस्ता का छिलका जहरीला नहीं होता, लेकिन इसे खाने के लिए उपयोग नहीं किया जा सकता है। इसका कारण यह है कि इसका खोल कठोर होता है। इसे चबाना मुश्किल होता है।

क्या भुना हुआ पिस्ता नट्स अच्छा होता है?

जी हां, भुना हुआ पिस्ता सेहत के लिए अच्छा हो सकता है। इसमें कम मात्रा में फैट (वसा) होता है, जो मुख्य रूप से सैचुरेटेड फैटी एसिड, पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड और मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड से बना होता है। यह स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होता है (1)

क्या कच्चा पिस्ता खाना सुरक्षित है?

जी हां, कच्चा पिस्ता खाना सुरक्षित होता है, लेकिन गंभीर समस्या से जूझ रहे व्यक्ति को इसे डॉक्टर की सलाह के बिना नहीं लेना चाहिए।

क्या पिस्ता पेट की चर्बी कम करने में आपकी मदद करता है?

जैसा कि हमने ऊपर विस्तार से बताया है कि पिस्ता में कम मात्रा में फैट पाया जाता है और यह वजन को कम करने में मदद कर सकता है। इस आधार पर कहा जा सकता है कि पिस्ता पेट की चर्बी को कम कर सकता है।

पिस्ता का वैज्ञानिक नाम क्या है?

पिस्ता का वैज्ञानिक नाम पिस्टेसिया वेरा (Pistacia vera) है (1)

पिस्ता की तासीर कैसी होती है?

पिस्ता की तासीर गर्म होती है। इसलिए, गर्मी के मौसम में इसे अधिक मात्रा में न खाएं।

20 संदर्भ (Source):

Stylecraze has strict sourcing guidelines and relies on peer-reviewed studies, academic research institutions, and medical associations. We avoid using tertiary references. You can learn more about how we ensure our content is accurate and current by reading our editorial policy.

और पढ़े:

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

Bhupendra Verma

भूपेंद्र वर्मा ने सेंट थॉमस कॉलेज से बीजेएमसी और एमआईटी एडीटी यूनिवर्सिटी से एमजेएमसी किया है। भूपेंद्र को लेखक के तौर पर फ्रीलांसिंग में काम करते 2 साल हो गए हैं। इनकी लिखी हुई कविताएं, गाने और रैप हर किसी को पसंद आते हैं। यह अपने लेखन और रैप करने के अनोखे स्टाइल की वजह से जाने जाते हैं। इन्होंने कुछ डॉक्यूमेंट्री फिल्म की स्टोरी और डायलॉग्स भी लिखे हैं। इन्हें संगीत सुनना, फिल्में देखना और घूमना पसंद है।

ताज़े आलेख

scorecardresearch