क्या गर्भावस्था में बैंगन खाना सुरक्षित है? – Brinjal (Egg Plant) In Pregnancy in Hindi

by

गर्भवती महिला पर बड़ी जिम्मेदारी होती है। अपने गर्भस्थ शिशु को सही पोषण और स्वस्थ शरीर देना मां के हाथ में होता है। अगर थोड़ा व्यायाम और सही खान-पान अपनाया जाए, तो गर्भवती महिलाएं चिंतामुक्त होकर गर्भावस्था का पूरा आनंद उठा सकती हैं। गर्भावस्था के दौरान अधिकतर गर्भवती महिलाएं क्या खाएं और क्या न खाएं, जैसे सवालों में उलझी रहती हैं। इसलिए, हम स्टाइलक्रेज के माध्यम से आपकी अधिकतर आशंकाओं का समाधान करने का प्रयास करते रहते हैं। अपने इस लेख में हम बात करेंगे बैंगन के बारे में। बैंगन को ब्रिंजल (Brinjal), एग प्लांट (Egg plant) और ऑबर्जिन (Aubergine) आदि नामों से जाना जाता है। वहीं, वैज्ञानिक भाषा में इसका नाम सोलनम मेलोंगेना (Solanum melongena) है।

स्क्राल करें

गर्भावस्था में बैंगन खाना कितना सुरक्षित है, आइए जानते हैं।

क्या गर्भावस्था में बैंगन खाना सुरक्षित है?

प्रेगनेंसी में बैंगन सुरक्षित है या नहीं इसका कोई ठोस वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है, लेकिन इसमें मौजूद पोषक तत्वों से भी इनकार नहीं किया जा सकता। इसमें ऐसे कई पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो गर्भावस्था के दौरान भ्रूण को पोषित कर सकते हैं। बैंगन में फाइबर और फोलेट पाया जाता है, जो भ्रूण के विकास में फायदेमंद हो सकता है। इसलिए, सीमित मात्रा में बैंगन का सेवन कुछ हद तक लाभदायक हो सकता है (1) (2)

वहीं, एक अन्य शोध में बताया गया है कि बैंगन में कई फाइटोहार्मोन (प्राकृतिक रसायन) होते हैं, जो गर्भपात का कारण बन सकते हैं। इसलिए, गर्भावस्था के शुरूआती दिनों में कम मात्रा में बैंगन का सेवन करने से कुछ गर्भवती महिलाओं और भ्रूण को समस्या हो सकती है (3)

कई शोध ये भी कहते हैं कि गर्म खाद्य पदार्थों का सेवन गर्भपात का कारण बन सकता है और इन खाद्य पदार्थों में बैंगन शामिल है (4)। इसीलिए, प्रेगनेंसी में बैंगन के सेवन से पहले एक बार डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

अधिक जानकारी आगे है

आइए, जानते हैं कि गर्भावस्था में बैंगन खाने के फायदे क्या-क्या हो सकते है।

प्रेगनेंसी में बैंगन खाने के फायदे – Benefits of Eating Brinjal (Egg Plant) in Pregnancy In Hindi

बैंगन में कई ऐसे पोषक तत्व हैं, जो गर्भस्थ शिशु और गर्भवती महिला के लिए फायदेमंद हो सकते हैं। आइए, जानते हैं कि गर्भावस्था में बैंगन खाने के फायदे गर्भस्थ शिशु और मां के लिए कैसे लाभकारी हो सकते हैं। यहां हम एक बार फिर स्पष्ट कर दें कि गर्भावस्था में बैंगन को खाने और उसके फायदों के संबंध में अधिक वैज्ञिक प्रमाण मौजूद नहीं हैं।

1. शुगर लेवल को नियमित करने में बैंगन के फायदे

खून में शुगर की मात्रा को सामान्य रखने में बैंगन मदद कर सकता है। इसलिए, जिन गर्भवती महिलाओं को मधुमेह की समस्या है, वो इसका सेवन कर सकती हैं। बैंगन या ऑबर्जिन (Aubergine) एक कम कैलोरी वाली सब्जी है। कम कैलोरी का आहार डायबिटीज के खतरे को कम कर सकता है (5)। 100 ग्राम बैंगन में केवल 25 कैलोरी मौजूद है। इसलिए, प्रेगनेंसी में बैंगन खाने के फायदे में शुगर लेवल को कम करना शामिल है (1)

2. ब्लड प्रेशर में बैंगन के फायदे

बैंगन में एक तत्व पाया जाता है, जिसका नाम है कोलीन एस्टर (Choline ester)। इसमें एंटीहाइपरटेंसिव गुण पाया जाता है। चूहों पर किए गए एक रिसर्च में रक्तचाप को सामान्य रखने में यह तत्व फायदेमंद पाया गया है (6)। एक अन्य शोध में बैंगन के सेवन को ह्रदय रोग और ब्लड प्रेशर के जोखिम को कम करने में सहायक बताया गया है (7)। हालांकि, मनुष्य और गर्भवती महिलाओं पर इसका क्या प्रभाव पड़ता है, यह जानने के लिए और शोध किए जाने की जरूरत है।

3. पाचन के लिए बैंगन का प्रयोग

गर्भवतियों में पाचन और कब्ज की समस्या आम समस्या है (8)। ऐसे में बैंगन का सेवन इससे निजात दिला सकता है। बैंगन में कुछ मात्रा फाइबर की होती है, जिसका पाचन में अहम योगदान माना जाता है (6)। बैंगन में मौजूद फाइबर पाचन को मजबूत कर सकता है और कब्ज के जोखिम से बचा सकता है (9)

4. बैंगन में है फोलेट

बैंगन को फोलेट का अच्छा स्रोत माना गया है और गर्भवती महिलाओं के लिए फोलेट जरूरी है। फोलेट को विटामिन-बी कॉम्प्लेक्स का हिस्सा माना गया है। इसका सेवन भ्रूण के विकास के लिए जरूरी है। फोलेट का सेवन गर्भस्थ शिशु में जन्मजात मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी में विकार (न्यूरल ट्यूब विकार) के जोखिम को कम कर सकता है (10)। इसलिए, कहा जा सकता है कि फोलेट की पूर्ति के लिए संतुलित मात्रा में बैंगन का सेवन किया जा सकता है।

आगे है महत्वपूर्ण जानकारी

प्रेगनेंसी में बैंगन खाने के फायदे जानने के बाद, अब पता करते हैं कि आहार में बैंगन को कैसे शामिल करें।

गर्भावस्था में बैंगन कब और कितनी मात्रा में खाएं?

गर्भावस्था में बैंगन का सेवन संतुलित मात्रा में ही करना चाहिए। गर्भवतियों को बैंगन का कितनी मात्रा में सेवन करना चाहिए, इसका वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं है। हां, इसका सेवन नियमित रूप से न करें, क्योंकि इसके कुछ नुकसान भी हो सकते हैं जिनके बारे में आगे लेख में बताया गया है।

इसके अलावा, बैंगन विटामिन-बी6 का अच्छा स्रोत है। केवल 75 ग्राम बैंगन से विटामिन-बी6 की दैनिक जरूरत को पूरा किया जा सकता है। विटामिन-बी6 आपके रक्त, मस्तिष्क और पूरे शरीर में मौजूद कई टिश्यू के लिए महत्वपूर्ण पोषक तत्व है (11)

गर्भावस्था के आहार में बैंगन को कैसे शामिल करें?

बैंगन ऐसी सब्जी है] जिसका प्रयोग कई तरीकों से किया जा सकता है जैसे (11)

  • बैंगन को तलकर, भूनकर या उबाल कर सब्जी बनाई जा सकती है।
  • बैंगन को दही में डालकर रायता बनाया जा सकता है।
  • बैंगन को अन्य सब्जियों के साथ पुलाव में डाला जा सकता है।
  • बैंगन के बीज पीसने पर कड़वे हो सकते, इसलिए इन्हें मैश या ग्राइंड करने से बचें।
  • बैंगन बनाने से पहले इसके कटे टुकड़ों पर नमक लगाया जा सकता, जिससे सब्जी बनाते समय ये ज्यादा तेल नहीं सोंखते।

लेख में आगे जानते हैं गर्भावस्था में बैंगन खाने के नुकसान क्या क्या हो सकते हैं।

गर्भावस्था में बैंगन खाने के नुकसान- Side Effects of Brinjal in Pregnancy In Hindi

गर्भावस्था के दौरान बैंगन के कुछ नुकसान भी नजर आ सकते हैं, जैसे:

  • अधिक मात्रा में खाए जाने पर बैंगन के फाइटोहार्मोन गर्भपात का कारण बन सकते हैं(3)
  • बैंगन और इसके छिलके में एलर्जन (एलर्जी करने वाले तत्व) मौजूद होता है, जिसकी वजह से इसका सेवन एलर्जी का कारण बन सकता है (12)
  • बैंगन में फाइबर होता है और फाइबर का अधिक सेवन आंतों में गैस (पेट फूलना), सूजन और पेट में ऐंठन पैदा कर सकता है (9)

इस लेख में आपने जाना कि गर्भावस्था में बैंगन खाने से शरीर पर क्या असर होता है और गर्भावस्था में बैंगन खाने के नुकसान क्या हैं। गर्भावस्था के दौरान बैंगन खाने से पहले डॉक्टर से सलाह लेना न भूलें, क्योंकि सभी की गर्भावस्था एक जैसी नहीं होती। किसी को बैंगन का सेवन करने से कोई नुकसान नहीं होता, तो जरूरी नहीं की बैंगन का सेवन करना सभी गर्भवतियों के लिए सुरक्षित है। ये पूरी तरह आपके स्वास्थ्य पर निर्भर करता है। उम्मीद करते हैं कि गर्भावस्था में बैंगन के सेवन को लेकर ये लेख आपका मार्गदर्शन करेगा। गर्भावस्था में और क्या-क्या खाया जा सकता है, यह जानने के लिए गर्भावस्था से जुड़े स्टाइलक्रेज के अन्य लेख जरूर पढ़ें।

12 सन्दर्भ

Stylecraze has strict sourcing guidelines and relies on peer-reviewed studies, academic research institutions, and medical associations. We avoid using tertiary references. You can learn more about how we ensure our content is accurate and current by reading our editorial policy.

और पढ़े:

scorecardresearch