प्रेगनेंसी में केला खाना चाहिए या नहीं?- Banana In Pregnancy in Hindi

by

प्रेगनेंसी के समय महिला को हर फैसला सोच समझकर लेना होता है। यही वजह है कि आजकल महिलाएं इतनी जागरूक हो गई हैं कि वो खुद और गर्भस्थ शिशु के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए किसी भी चीज को यूं ही नहीं खाती हैं। कुछ ऐसा ही केले के साथ भी है। इस पौष्टिक फल को लेकर महिलाओं में काफी दुविधा है। गर्भवतियों के मन में यह सवाल उठता है कि प्रेगनेंसी में केला खाना चाहिए या नहीं। केले को लेकर यह प्रश्न आपके मन में भी है, तो स्टाइलक्रेज का इस लेख में आपको इसका जवाब मिलेगा। यहां प्रेगनेंसी में केले से संबंधित सभी जानकारी मौजूद है।

स्क्रॉल करें

लेख के शुरुआत में जान लेते हैं कि गर्भावस्था में केला खाना चाहिए या नहीं।

क्या गर्भावस्था में केला लेना सुरक्षित है?

विशेषज्ञ प्रेगनेंसी डाइट में केले को शामिल करने की सलाह देते हैं। ब्रेकफास्ट, भोजन (Mini Meal) और स्नैक्स में केला लेने को कहा गया है (1)। साथ ही जेस्टेशनल डायबीटीज के दौरान भी डाइट में केले को शामिल करना अच्छा बताया गया है (2)। ऑस्ट्रेलियन डाइट्री गाइडलाइन के मुताबिक भी गर्भवतियां अपने आहार में केले को जगह दे सकती हैं (3)। केले को सीरियल्स के साथ भी नाश्ते में शामिल करने की सलाह दी जाती है (4)।

पढ़ते रहें लेख

अब आगे पढ़ते हैं कि गर्भावस्था के समय केले का सेवन करने से क्या-क्या फायदे होते हैं।

प्रेगनेंसी में केला खाने के फायदे – Benefits of Eating Banana in Pregnancy In Hindi

गर्भवती को आहार में केला शामिल करने से कई तरह के फायदे हो सकते हैं। इन सभी फायदों के बारे में हम लेख में आगे विस्तार से बताएंगे। चलिए, आगे पढ़ते हैं कि गर्भावस्था में केला खाना कितना फायदेमंद है।

1. मॉर्निंग सिकनेस

प्रेगनेंसी में मॉर्निंग सिकनेस यानी उल्टी और मतली जैसी समस्या से परेशान हैं, तो केले का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसकी प्यूरी बनाकर एक-एक चम्मच थोड़ी-थोड़ी देर में खाने से उल्टी और मतली से कुछ राहत मिल सकती है (5)। कहा जाता है कि केला पेट में होने वाली बेचैनी को दूर कर सकता है। इससे उल्टी होने की समस्या और जी मिचलाना कम हो सकता है (6)।

2. ऊर्जा का स्रोत

केला ऊर्जा का अच्छा स्रोत होता है (7)। सौ ग्राम केले में  116 kcal एनर्जी होती है। इसके अलावा, केले में तीन प्राकृतिक शुगर यानी सुक्रोज, फ्रुक्टोज और ग्लूकोज होते हैं। इनकी मदद से शरीर को दिनभर ऊर्जा मिलती रहती है। इसी वजह से इसे तुरंत ऊर्जा पाने का अच्छा माध्यम माना जाता है। इसी वजह से गर्भावस्था के दौरान ऊर्जात्मक महसूस करने के लिए केले का सेवन किया जा सकता है (5)।

3. कब्ज के लिए

गर्भावस्था में कब्ज की समस्या आम है। इस परेशानी को दूर करने में केला मदद कर सकता है। दरअसल, केला फाइबर से भरपूर होता है। यह बॉवल मूवमेंट को बेहतर करके मल निकासी को आरामदायक बना सकता है। इसके अलावा, डायरिया की परेशानी से गुजर रहे लोगों के लिए भी केला अच्छा साबित हो सकता है। इसे रोजाना सुबह खाने से यह लैक्सेटिव प्रभाव दिखाता है। इसी वजह से कब्ज को दूर करने में केले को अच्छा माना जा सकता है (5)।

4. रक्तचाप नियंत्रण

गर्भावस्था में केला खाना ब्लड प्रेशर के लिए भी अच्छा माना जाता है। एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध के मुताबिक, केले में डाइटरी फाइबर, पोटैशियम और मैग्नीशियम होते हैं। इन पोषक तत्वों का ब्लड प्रेशर पर सकारात्मक असर पड़ सकता है। इसी वजह से केले को ब्लड प्रेशर के लिए अच्छा फल कहा जा सकता है (8)।

5. एसिडिटी और हार्ट बर्न

केले का सेवन करने से शरीर में प्राकृतिक एंटासिड प्रभाव पड़ता है। इस प्रभाव से गैस्ट्रिक जूस की एसिडिटी यानी अम्लता को बेअसर व न्यूट्रलाइज करने में मदद मिलती है। साथ ही यह पेट में मौजूद एसिड की मात्रा को भी कम कर सकता है (9)। एक अन्य रिसर्च के अनुसार, केला पेट की परत में बलगम के उत्पादन को बढ़ावा देता है। यह बलगम पेट की परत और एसेडिक गैस्ट्रिक जूस के मध्य रहता है, जिससे एसिडिटी के कारण होने वाले हार्ट बर्न को कम करने में मदद मिल सकती है (10)।

6. हड्डी स्वास्थ्य

केले में मौजूद पोषक तत्वों को हड्डी के लिए अच्छा माना जाता है। एक रिसर्च पेपर के मुताबिक, केला बोन मिनरल डेंसिटी यानी हड्डी के घनत्व को बनाए रखने में मदद कर सकता है (11)। केले में हड्डी के स्वास्थ्य के लिए जरूरी विटामिन ए और पोटैशियम होते हैं। साथ ही केले में फ्रक्टुलिगोसैकेराइड्स प्रोबायोटिक्स होते हैं, जो शरीर में कैल्शियम अवशोषण में मदद कर सकते हैं (5)।

लेख में बने रहें

आगे बढ़ते हुए जानिए कि प्रेगनेंसी में केले को डाइट में किस तरह से शामिल किया जाना चाहिए।

गर्भावस्था के आहार में केला को कैसे शामिल करें

गर्भावस्था में केला खाना चाहिए, यह तो आप जान ही गए हैं। अब आगे हम इसे आहार में शामिल करने के कुछ तरीके बता रहे हैं। वैसे आप सीधे इसे फल के रूप में खा सकते हैं। इसके अलावा, गर्भावस्था में केला खाने के अन्य तरीके कुछ इस प्रकार हैं।

  • केले को अन्य फलों के साथ मिलाकर फ्रूट सलाद के रूप में खा सकते हैं।
  • गर्भावस्था में केले का उपयोग करके बनाना स्मूदी बना सकते हैं।
  • ओटमील बनाते समय उसमें ऊपर से केला डाल सकते हैं।
  • केले से मिल्क शेक बनाकर पी सकते हैं।
  • गर्भवती दिनभर में एक केला कभी भी खा सकती है (3)।

अब गर्भावस्था में केले का सेवन करने से होने वाले नुकसान पढ़िए।

प्रेगनेंसी में केला खाने के नुकसान- Side Effects of Banana in Pregnancy In Hindi

गर्भवती को केले का सेवन करके फायदे ही होते हैं। जबतक इसका अत्यधिक सेवन न किया जाए, तो इससे किसी तरह का नुकसान नहीं होता है। हां, अगर कोई अधिक संवेदनशील है, तो उसे केले से एलर्जी हो सकती है (12)।

इस लेख को पढ़कर आप समझ ही गए होंगे कि प्रेगनेंसी में केला खाना कितना फायदेमंद हैं। इन सभी फायदों की

वजह से केले को गर्भावस्था के लिए पौष्टिक फल कहना गलत नहीं होगा। गर्भवती को दिनभर ऊर्जा देने के साथ ही यह फल महिला और उसके गर्भस्थ शिशु को स्वस्थ रखने में मदद कर सकता है। अगर प्रेगनेंसी में किसी तरह की जटिलता हो या महिला को किसी तरह की शारीरिक समस्या हो, तो केले के संबंध में अपने आहार विशेषज्ञ से सलाह जरूर लें।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

प्रेगनेंसी में केला खाना चाहिए या नहीं?

हां, प्रेगनेंसी में केला खाना चाहिए। इससे होने वाले फायदों के बारे में हमने ऊपर लेख में बताया है।

क्या एक गर्भवती महिला खाली पेट केले खा सकती है?

प्रेगनेंसी के समय केले को खाली पेट खाया जा सकता है या नहीं, यह स्पष्ट नहीं है। अगर कोई महिला गर्भावस्था में खाली पेट केला खाना चाहती है, तो एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

क्या गर्भावस्था में रोज केला खा सकते हैं।

हां, अन्य फलों के साथ रोज केला भी खा सकते हैं (3)।

गर्भवती महिला के लिए केला क्या-क्या कर सकता है?

गर्भावस्था में केला महिला और गर्भस्थ शिशु को स्वस्थ रखने में मदद कर सकता है। साथ ही इसे खाने से लेख में बताए गए फायदे भी मिल सकते हैं।

12 Sources

Was this article helpful?

ताज़े आलेख

scorecardresearch