पुदीना के तेल के फायदे, उपयोग और नुकसान – Peppermint Oil Benefits and Side Effects in Hindi

Medically reviewed by Neelanjana Singh, Nutrition Therapist & Wellness Consultant
Written by

बारिश के मौसम में पुदीने की चटनी पकोड़ों का स्वाद बढ़ा देती है। जायके के लिए कई भारतीय और विदेशी व्यंजनों में इसका इस्तेमाल किया जा जाता है। पुदीना का प्रयोग खाद्य पदार्थों से अलग आयुर्वेदिक औषधियों में भी किया जाता है। खासकर, पुदीना का तेल स्वास्थ्य के लिए लाभकारी माना जाता है। आम भाषा में, पेपरमिंट ऑयल के नाम से भी जाना जाने वाला यह एक गुणकारी तेल है। स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम शरीर के लिए पेपरमिंट ऑयल के फायदे के बारे में आपको बताएंगे। साथ ही इस लेख में आप सीमित मात्रा में इस्तेमाल न करने पर पुदीना के तेल के नुकसान और सही ढंग से इसके उपयोग के बारे में भी जान सकेंगे।

पेपरमिंट ऑयल के फायदे, उपयोग और नुकसान जानने से पहले, आइए आपको बता दें कि पुदीना का तेल क्या है।

पुदीना का तेल क्‍या है – What is Peppermint Oil in Hindi

जैसा कि नाम सुन कर ही आपको समझ आ रहा होगा कि पेपरमिंट ऑयल पेपरमिंट की पत्तियों से बनाया जाता है। यह साधारण पेपरमिंट नहीं होता, बल्कि इसे वाटरमिंट और स्पीयरमिंट (पुदीना के दो प्रकार) को मिला कर बनाया जाता है। पेपरमिंट ऑयल में मेंथॉल की अधिक मात्रा होने की वजह से इसकी महक भी मेंथॉल की ही तरह होती है। यह रंग में हल्का पीला और तरलता में पानी की तरह होता है (1)। पुदीना के तेल का उपयोग कई चीजों के लिए किया जाता है, जिसके बारे में हम लेख के आने वाले भागों में बताएंगे।

पुदीना का तेल क्या है, इस बारे में जानने के बाद जानिए पुदीना के तेल के फायदे के बारे में बात करते हैं।

पुदीना के तेल के फायदे – Benefits of Peppermint Oil in Hindi

Shutterstock

पुदीना के तेल के फायदे के बारे में बात करें, तो यह आपके स्वास्थ्य, त्वचा और बालों के लिए फायदेमंद हो सकता है। आसान भाषा में कहें, तो पुदीना के तेल का उपयोग आप अपने पूरे शरीर के लिए कर सकते हैं। इसमें कई गुण होते हैं, जो आपके स्वास्थ के लिए लाभदायक हो सकते हैं, जैसे एंटीसेप्टिक, एंटी इंफ्लेमेटरी, एंटीमाइक्रोबियल आदि। स्वास्थ के लिए पुदीना के तेल के फायदे की वजह से ही इसका उपयोग आयुर्वेदिक दवाइयों, टूथपेस्ट, पेन बाम, परफ्यूम और खाद्य पदार्थों में किया जाता है (1)।

सेहत के साथ पुदीना के तेल का उपयोग त्वचा और बालों को खूबसूरत बनाने के लिए भी किया जा सकता है। यह दाग-धब्बे और मुंहासों को हटाकर चेहरे को साफ करने में मदद कर सकता है। साथ ही यह बालों का झड़ना रोक कर और उन्हें घना बनने में मदद कर सकता है। इन सभी के बारे में आपको लेख में बताया जाएगा।

आगे जानिये स्वास्थ्य के पुदीना के तेल के फायदे।

सेहत/स्वास्थ्य के लिए पुदीना के तेल के फायदे – Health Benefits of Peppermint Oil in Hindi

1. पाचन शक्ति बेहतर करे

Shutterstock

पेपरमिंट ऑयल का उपयोग पुराने समय से पाचन तंत्र बेहतर करने के लिए, डायरिया, गैस और शिशु में पाचन की समस्या का इलाज करने में किया जा रहा है। इसके साथ यह इर्रिटेबल बॉउल सिंड्रोम (Irritable Bowel Syndrome) का इलाज करने के लिए इस्तेमाल लिया जाता है (1)।

2. श्वसन तंत्र के लिए पुदीना का तेल

पुदीने का तेल बंद नाक को खोल कर बेहतर तरीके से सांस लेने में मदद कर सकता है। यह फेंफडों में ऑक्सीजन लेने की क्षमता को बढ़ाता है। साथ ही, पुदीना के तेल का उपयोग करने से श्वसन तंत्र की मांसपेशियां मजबूत बनती हैं। यही वजह है कि इसका उपयोग इन्हेलर व जुखाम की दवाइयों में किया जाता है (1)।

3. सिरदर्द करे कम

Shutterstock

अगर आपको चिंता की वजह से सिरदर्द रहता है, तो आप पेपरमिंट ऑयल का उपयोग कर सकते हैं। एक शोध से पता चला है कि पुदीना के तेल के फायदे चिंता के कारण हो रहे सिरदर्द को कम करने में मदद कर सकते हैं। इसके प्रभावों को सिरदर्द के लिए बनी एलोपैथिक दवाइयों जितना प्रभावशाली माना गया है (2)।

4. रक्त संचार बढ़ाए

अपनी त्वचा पर पुदीना के तेल का उपयोग करने से आपका रक्त संचार बेहतर तरीके से होगा। इसमें मौजूद मेंथॉल त्वचा में आसानी से अवशोषित (Absorb) हो जाता है और आपके ब्लड फ्लो को बढ़ाने में मदद करता है (1) (3)।

5. मौखिक स्वास्थ बनाए रखे

Shutterstock

पुदीना का एक पत्ता चबाने से ही मुंह में ताजगी आ जाती है। इस बात की पुष्टि शोध में भी की गई है कि पुदीना और पुदीना का तेल में एंटीबैक्टीरियल और एंटी फंगल गुण होते हैं, जो मुंह में संक्रमण फैलाने वाले बैक्टीरिया को बढ़ने से रोक सकते हैं और आपकी सांस को महका कर मुंह में ताजगी बनाए रखने का काम कर सकते हैं (1)।

6. तनाव और दर्द से आराम

चिंता से हो रहे सिरदर्द के अलावा, पुदीने का तेल थकान या काम के वजह से हो रहे तनाव और दर्द को कम करने में भी मददगार साबित हो सकता है। माना जाता है कि पेपरमिंट ऑयल आपके सेंट्रल नवर्स सिस्टम (Central Nervous System) पर सकारात्मक प्रभाव डाल कर तनाव और थकान के दर्द से आराम दिला सकता है। इनके लिए पेपरमिंट ऑयल की अरोमाथेरेपी का उपयोग किया जा सकता है (41) (1)।

7. साइनसाइटिस के लिए पेपरमिंट ऑयल के फायदे

साइनसाइटिस, नाक की मांसपेशियों (साइनस) में होने वाले ब्लॉकेज को कहा जाता है। यह एक प्रकार का संक्रमण होता है, जिसकी वजह से नाक के अंदर वाले भाग में सूजन आ जाती है। इससे आपको नाक में दर्द होता है और सांस लेने में तकलीफ होती है (5)। साइनसाइटिस से आराम पाने में पुदीना का तेल लाभकारी हो सकता है। माना जाता है कि गर्म पानी में इसकी कुछ बूंदें डालकर भाप लेने से साइनस का ब्लॉकेज खुल सकता है, जिससे आपको सांस लेने में आसानी होगी (1) (6)। हालांकि, इसका कोई वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं कि यह कितना लाभकारी हो सकता है।

8. मांसपेशियों को आराम पहुंचाए

Shutterstock

पुदीना के तेल का उपयोग मांसपेशियों को आराम दिलवाने और थकान को कम करने में लाभकारी साबित हुआ है। पुदीना में एंटी-स्पास्मोडिक (Antispasmodic) और दर्दनिवारक गुण होते हैं, जो मांसपेशियों की ऐंठन और दर्द को दूर करते हैं (1)। इसके लिए आप पेपरमिंट ऑयल की कुछ बूंदें प्रभावित मांसपेशियों पर लगाकर मालिश कर सकते हैं।

9. मलती से आराम

एक वैज्ञानिक प्रयोग में जी मिचलाने से आराम पाने के लिए पेपरमिंट ऑयल के फायदे देखे गए हैं। इस प्रयोग में  यह पाया गया कि पुदीना के तेल की अरोमाथेरेपी लेने से मलती से आराम मिल सकता है (7)। यहां, इसमें मौजूद एंटी-एमेटिक गुण काम करते हैं, जो मलती के प्रभाव को कम करते हैं और आपको बेहतर महसूस कराने में मदद करते हैं (1)।

10. एलर्जी और संक्रमण से आराम दिलवाए

पुदीना के तेल का उपयोग आपको कई प्रकार की एलर्जी और संक्रमण से आराम दिलवाने में लाभदायक साबित हो सकता है। इसमें मौजूद मेंथॉल एलर्जी को कम करते हैं। साथ ही पेपरमिंट ऑयल में एंटी-माइक्रोबियल, एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-फंगल गुण होते हैं, जो संक्रमण फैलाने वाले बैक्टीरिया और फंगस को खत्म करने का काम कर सकते हैं (1)।

स्वास्थ्य के लिए पेपरमिंट ऑयल के फायदे जानने के बाद, अब जानिये त्वचा के लिए पुदीना के तेल के फायदे।

त्वचा के लिए पुदीना के तेल के फायदे – Skin Benefits of Peppermint Oil in Hindi

1. रंग साफ करे

Shutterstock

धूप और यूवी किरणों के कारण त्वचा का रंग काला पड़ सकता है। ऐसे में पेपरमिंट ऑयल में मौजूद विटामिन-सी त्वचा का रंग साफ करने में मदद कर सकता है (7)। विटामिन-सी एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करता है, जो डिपिगमेंटेशन और ऑक्सिडेटिव स्ट्रेस को कम करके त्वचा का रंग साफ करने में मदद करता है (8)।

कैसे उपयोग करे:

  • रंग साफ करने में पुदीना के तेल के फायदे लेने के लिए आप इसकी कुछ बूंदें हथेली में लेकर चेहरे की मसाज कर सकते हैं।

2. मुंहासों से आराम दिलाए

पेपरमिंट ऑयल में एंटी-माइक्रोबियल गुण होते हैं, जो मुंहासे फैलाने वाले बैक्टीरिया से लड़ते हैं और आपको पिम्पल से निजात दिलाने में मदद करते हैं। इसके अलावा, इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो मुंहासों की सूजन को कम कर सकते हैं (9) (1)।

कैसे उपयोग करे:

  • रूई की मदद से इस तेल को संक्रमित क्षेत्र पर लगाएं।

3. स्क्रब में मदद करे

Shutterstock

पेपरमिंट ऑयल में विटामिन-ए पाया जाता है (7)। यह त्वचा पर बढ़ती उम्र के लक्षण जैसे झुर्रियों और महीन रेखाएं कम करने में मदद करता है (9)। इसके साथ काला या सेंधा नमक और जैतून का तेल मिलाकर स्क्रब किया जा सकता है। नमक त्वचा के रोमछिद्र खोलेगा और जैतून का तेल त्वचा के ऑक्सिडेटिव स्ट्रेस को कम करने में मदद करेगा (10) (11)।

सामग्री:

  • पेपरमिंट ऑयल की चार बूंदें
  • दो चम्मच जैतून का तेल
  • तीन चम्मच काला नमक

कैसे उपयोग करे :

  • एक बाउल में पेपरमिंट ऑयल, जैतून का तेल और काला नमक मिला लें।
  • अब इस मिश्रण से हाथ-पैरों की त्वचा को स्क्रब करें।
  • अंत में ठंडे पानी से चेहरा धो लें।

4. प्राकृतिक टोनर

पुदीना का तेल और सेब का सिरका मिलकर त्वचा के लिए प्राकृतिक टोनर की तरह काम कर सकते हैं। पेपरमिंट ऑयल में पाए जाने वाला मेंथॉल त्वचा को ठंडक पहुंचाता है (1)। वहीं, सेब के सिरके में मौजूद एंटी-बैक्टीरियल गुण मुंहासों को बढ़ने से रोकता है और इसमें पाए जाने वाले लैक्टिक और मैलिक एसिड त्वचा का पीएच बैलेंस बनाए रखते हैं (12)।

सामग्री:

  • तीन चौथाई बोतल डिस्टिल वाटर
  • एक चौथाई बोतल सेब का सिरका
  • 40 बूंदें पेपरमिंट ऑयल
  • एक स्प्रे बोतल

कैसे उपयोग करे:

  • सभी सामग्रियों को मिला कर एक स्प्रे बोतल में भर लें।
  • जब भी चेहरे पर थकान या ऑयल महसूस हो, तो इस टोनर को चेहरे पर स्प्रे कर लें।
  • इसके बाद बोतल को फ्रिज में रख दें।

5. फेस मास्क :

आप खीरा, मुल्तानी मिट्टी और पेपरमिंट ऑयल को मिलाकर फेस पैक बना सकते हैं। इस फेस मास्क में पेपरमिंट ऑयल की कुछ बूंदें मिलाने से आप उसके मौजूद पोषक तत्वों का लाभ उठा सकते हैं।  पेपरमिंट में विटामिन-सी, विटामिन-ए जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो त्वचा को स्वस्थ बनाने का काम करते हैं। ये त्वचा को यूवी रेडिएशन से बचाने के साथ-साथ डर्मेटाइटिस और इन्फ्लेमेशन जैसी समस्याओं से बचाते हैं (7) (13)। इसके अलावा, खीरा त्वचा को ठंडक पहुंचाता है और मुल्तानी मिट्टी मृत कोशिकाओं को हटाकर चेहरे को चमकदार बनाने का काम करती है (14) (15)।

सामग्री:

  • दो चम्मच मुल्तानी मिट्टी
  • पेस्ट बनाने के लिए आवश्यकतानुसार खीरे का रस
  • पेपरमिंट ऑयल की दो बूंदें

कैसे उपयोग करे:

  • एक बाउल में सारी सामग्रियों को अच्छी तरह मिलाकर पेस्ट बना लें।
  • इस पेस्ट को उंगलियों की मदद से चेहरे पर लगाएं और 10-15 मिनट तक सूखने दें।
  • अच्छी तरह सूख जाने के बाद, चेहरे को ठंडे पानी से धो लें।
  • अंत में तौलिये से थपथपा कर चेहरा पोंछ लें।

त्वचा के लिए पुदीना के तेल का उपयोग तो आप समझ गए होंगे। आइए, अब आपको बताते हैं बालों के लिए पेपरमिंट ऑयल के फायदे के बारे में।

बालों के लिए पुदीना के तेल के फायदे – Hair Benefits of Peppermint Oil in Hindi

1. बालों को बढ़ने में मदद करे:

पुदीने में ऐसे कई पोषक तत्व पाए जाते हैं, जिनकी कमी बाल झड़ने का एक कारण बन सकती है, जैसे विटामिन-सी, आयरन और जिंक (7)। ये सभी तत्व बालों को पोषण देने के साथ-साथ उन्हें प्रदूषण के दुष्प्रभावों से बचा कर झड़ने से रोकते हैं (16)। इसके साथ, पुदीना का तेल स्कैल्प में आसानी से समाकर रक्त संचार बेहतर करता है और बालों बढ़ने में मदद करता है (3)।

सामग्री:

  • नारियल/जोजोबा/जैतून का तेल
  • पेपरमिंट ऑयल

कैसे उपयोग करें:

  • नारियल/जोजोबा/जैतून के तेल में कुछ बूंदें पेपरमिंट ऑयल की मिला लें।
  • इस तेल से सिर की 15-20 मिनट तक मसाज करें।
  • फिर 10 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • अंत में बालों को ठंडे पानी से शैम्पू करके धो लें।

2. रूखे स्कैल्प के लिए

Shutterstock

पुदीना का तेल त्वचा में नमी बनाए रख सकता है। पेपरमिंट ऑयल के फायदे की वजह से इसका उपयोग मॉइस्चराइजिंग उत्पादों में किया जाता है (17)। इसके अलावा, पेपरमिंट में मेंथॉल, जिंक और सिलेनियम भी होते हैं, जो स्कैल्प पर एंटीफ्लैक गुणों (जो स्कैल्प पर पपड़ी बनने से रोकता है) की तरह काम करते हैं (18)। पुदीना का तेल बालों में ठंडक का एहसास बनाए रखता है और रूसी से निजात पाने में मदद करता है (19)।

कैसे उपयोग करें:

ड्राई स्कैल्प और रूसी के लिए आप पुदीना के तेल का उपयोग बालों का झड़ना रोकने के लिए बताए गए तरीके से ही कर सकते हैं।

3. सभी प्रकार के बालों के लिए लाभदायक

यह सभी प्रकार के बालों, जैसे रूखे, तैलीय या नॉर्मल के लिए लाभदायक हो सकता है। हालांकि, इस बात की पुष्टि के लिए सटीक वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं कि पेपरमिंट ऑयल के फायदे किस प्रकार के बालों के लिए कितने लाभदायक रहेंगे।

लेख में अब तक आप जान चुके हैं कि पुदीना का तेल क्या है। साथ ही आप यह भी समझ गए होंगे कि स्वास्थ्य, त्वचा और बालों के लिए पेपरमिंट ऑयल के फायदे क्या हैं। आइए, अब आपको इसके उपयोग के बारे में बताते हैं।

पुदीना का तेल का उपयोग – How to Use Peppermint Oil in Hindi

पुदीने की पत्तियों का उपयोग आप कई प्रकार के व्यंजनों में कर सकते हैं, लेकिन पुदीना के तेल का उपयोग भोजन में ही किया जाता है। इसके अलावा, पुदीना के तेल का उपयोग कई दवाइयों और इन्हेलर्स में होता है (20)। इसके अलावा, आप पेपरमिंट ऑयल का इस्तेमाल इस प्रकार भी कर सकते हैं:

  • डिफ्यूजर में कुछ बूंदें डालकर अरोमाथेरेपी
  • मांसपेशियों की मसाज
  • स्कैल्प की मसाज
  • फेस पैक
  • हेयर मास्क
  • मॉइस्चराइजर में मिला कर

इसके सभी फायदों के साथ पुदीना के तेल के नुकसान के बारे में जानना भी जरूरी है। इस बारे में जानिए लेख के अगले भाग में।

पुदीना का तेल के नुकसान – Side Effects of Peppermint Oil in Hindi

जहां एक तरफ पुदीना के तेल स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है, वहीं अगर इसका सही ढंग से उपयोग न किया जाए, तो आपको पुदीना के तेल के नुकसान झेलने पड़ सकते हैं। पुदीना के तेल का उपयोग अगर सही और सीमित मात्रा में न किया जाए,  तो उससे नीचे बताए गए नुकसान हो सकते हैं (19):

  • गैस की समस्या
  • मलती और उल्टी
  • शरीर में कंपन
  • अवसाद (Depression)
  • लिवर में समस्या
  • सांस लेने में तकलीफ
  • पेट दर्द
  • दस्त
  • मूत्र में रक्त
  • चक्कर आना
  • बेहोशी
  • शरीर का संतुलन बनाए रखने में समस्या
  • विषाक्त प्रभाव
  • बच्चों को खसतौर पर 7 साल से कम उम्र के बच्चों को इसका उपयोग न कराएं।
  • गर्भवती या स्तनपान कराने वाली महिलाएं पुदीने के तेल का उपयोग नहीं करना चाहिए।
  • इसका उपयोग आंखों में भूलकर भी न करें।

नोट: इन सभी नुकसानों के साथ-साथ हर्निया व पित्ताशय के रोग से पीड़ित मरीजों, गर्भवती महिलाओं और बच्चों को इसका सेवन न करने की सलाह दी जाती है। साथ ही इसका सही डाइलूशन होना भी जरूरी है। शरीर के जिस भी अंग में पुदीने के तेल का उपयोग कर रहे हैं, उसी अंग के अनुसार डाइलूशन होना चाहिए। वहीं, इसका मौखिक खुराक आमतौर पर 6-12 बूंदे हो सकती है। हालांकि, बेहतर है इसके सेवन से पहले विशेषज्ञ की सलाह ली जाए। इसका कारण यह है कि सभी का शरीर अलग होता है। ऐसे में हो सकता है किसी को यह सूट करे और किसी को नहीं। ऐसे में इसके उपयोग से पहले डॉक्टरी सलाह आवश्यक है।

अब तो आप पुदीना का तेल के फायदे जान गए होंगे। पेट की समस्या से आराम पाना हो, बालों का झड़ना कम करना हो या निखरी खूबसूरत त्वचा पानी हो, पुदीना के तेल का उपयोग आप कर सकते हैं। बस ध्यान रखिये कि किसी भी चीज की अति नुकसानदायक हो सकती है और ऐसा ही पेपरमिंट ऑयल के साथ भी होता है। अगर सीमित मात्रा में उपयोग न किया जाए, तो आपको पुदीना के तेल के नुकसान का सामना करना पड़ सकता है। तो इसका सुरक्षित तरह से उपयोग करें और इस लेख को अन्य लोगों के साथ भी जरूर शेयर करें।

और पढ़े:

20 Sources

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Check out our editorial policy for further details.

    1. Therapeutic Uses of Peppermint –A Review
      https://www.jpsr.pharmainfo.in/Documents/Volumes/vol7Issue07/jpsr07071524.pdf
    2. Peppermint oil in the acute treatment of tension-type headache
      https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/27106030/
    3. Peppermint Oil Promotes Hair Growth without Toxic Signs
      https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4289931/#B020
    4. Ambulation-promoting effect of peppermint oil and identification of its active constituents
      https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/11509195/
    5. Sinusitis
      https://medlineplus.gov/sinusitis.html
    6. Treating acute sinusitis
      https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK279483/
    7. The Use of Peppermint Oil to Reduce the Nausea of the Palliative Care and Hospice Patient
      https://digitalcommons.gardner-webb.edu/cgi/viewcontent.cgi?article=1142&context=nursing_etd
    8. Vitamin C Prevents Ultraviolet-induced Pigmentation in Healthy Volunteers: Bayesian Meta-analysis Results from 31 Randomized Controlled versus Vehicle Clinical Studies
      https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6415704/
    9. Commercial Essential Oils as Potential Antimicrobials to Treat Skin Diseases
      https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5435909/
    10. HALITE; THE ROCK SALT: ENORMOUS HEALTH BENEFITS
      https://wjpr.net/admin/assets/article_issue/1480495868.pdf
    11. Anti-Inflammatory and Skin Barrier Repair Effects of Topical Application of Some Plant Oils
      https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5796020/
    12. Apple Cider Vinegar Could Benefit Your Health
      http://www.aztecnm.gov/senior-community/nutrition/AppleCiderVinegar.pdf
    13. Role of Micronutrients in Skin Health and Function
      https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4428712/
    14. Phytochemical and therapeutic potential of cucumber
      https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/23098877/
    15. In-House Preparation and Standardization of Herbal Face Pack
      https://pdfs.semanticscholar.org/1ca2/5c17343fd28d0dfa868e2abd0919f8e986dd.pdf
    16. The Role of Vitamins and Minerals in Hair Loss: A Review
      https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6380979/
    17. Amended Safety Assessment of Mentha Piperita (Peppermint)-derived Ingredients as Used in Cosmetics
      https://www.cir-safety.org/sites/default/files/peppermint.pdf
    18. Potential of Herbals As Antidandruff Agents
      https://irjponline.com/admin/php/uploads/vol-issue3/3.pdf
    19. A REVIEW ON PEPPERMINT OIL
      https://www.researchgate.net/profile/Alankar_Shrivastava/publication/237842903_A_REVIEW_ON_PEPPERMINT_OIL/links/00b7d51be7ec239993000000.pdf
    20. Peppermint Oil
      https://www.nccih.nih.gov/health/peppermint-oil
Was this article helpful?
The following two tabs change content below.
सौम्या व्यास ने माखनलाल चतुर्वेदी विश्वविद्यालय, भोपाल से इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में बीएससी किया है और इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ जर्नलिज्म एंड न्यू मीडिया, बेंगलुरु से टेलीविजन मीडिया में पीजी किया है। सौम्या एक प्रशिक्षित डांसर हैं। साथ ही इन्हें कविताएं लिखने का भी शौक है। इनके सबसे पसंदीदा कवि फैज़ अहमद फैज़, गुलज़ार और रूमी हैं। साथ ही ये हैरी पॉटर की भी बड़ी प्रशंसक हैं। अपने खाली समय में सौम्या पढ़ना और फिल्मे देखना पसंद करती हैं।

ताज़े आलेख

scorecardresearch