50+ Ramadan Mubarak Quotes In Hindi : रमजान की शायरी | Ramzan Ka Chand Mubarak | ईद मुबारक

Written by , (एमए इन मास कम्युनिकेशन)

त्योहार कोई भी हो जब तक अपनों को बधाई न दो, तब तक वह अधूरा ही लगता है। रमजान के साथ भी कुछ ऐसा ही है। इस पाक महीने में ऊपर वाले की इबादत कर रहे प्रियजनों को आप रोजा रखने की बधाई दे सकते हैं। साथ ही इबादत के इस महीने की खुशी को रमजान शायरी की मदद से बयां किया जा सकता है। ऐसा करने के लिए आप इस लेख में दिए गए रमजान की शायरी और मैसेज की मदद ले सकते हैं। यहां 50 से भी ज्यादा रमजान की शायरी का कलेक्शन मौजूद है।

आगे पढ़ें

चलिए, शुरू करते हैं रमजान शायरियों का सिलसिला

50+ रमजान मुबारक कोट्स : Ramzan Ki Shayari | Ramadan Status In Hindi | रमजान का चांद मुबारक

रमजान के पाक महीने में हर तरफ उत्सव का माहौल होता है। इस समय लोग एक-दूसरे को घर जाकर या फोन के माध्यम से बधाई देते रहते हैं। इस बार आप ये बधाइयां इन रमजान की शायरी के माध्यम से भी अपनों को दे सकते हैं।

  1. सुबह की अजान सुनकर पैगाम भेजा है
    पैगाम में सम्मान और प्यार भेजा है,
    रमजान के इस पाक पर्व में,
    हमने आपको प्यार भरा मुबारकबाद भेजा है। ,
  1. रमजान का महीना आया है,
    संग ये अपने बरकत लाया है,
    हमेशा खुश रहो तुम कुछ ऐसे,
    जैसे तुमने खुदा को पाया है।
  1. चांद का जब दीदार हो,
    सभी अपने तुम्हारे साथ हों,
    हम हमेशा मांगते हैं दुआ आपके लिए,
    इस बार हमारी दुआ स्वीकार हो।
  1. चांद निकल आया है,
    प्रकाश आसमान पर छाया है ,
    खुशियां धरती पर बिखरी हैं,
    ऐसा रमजान का महीना आया है।
  1. हमेशा जल्दी ही अरमान गुजर जाता है,
    प्यास नहीं लगती और इफ्तार गुजर जाता है,
    अल्लाह की इबादत से मन नहीं भरता है,
    और देखते-ही-देखते रमजान गुजर जाता है।
  1. चांद की रोशनी बिखर गई है आसमान में,
    खुशियों का माहौल है सारे जहान में,
    हर कोई अल्लाह की इबादत कर रहा है,
    ऐसी बरकत छाई है रमजान में।
  1. इस रमजान हो आपकी मुराद पूरी,
    कभी न रहे कोई ख्वाहिश अधूरी,
    परिवार में सभी के बीच प्यार बढ़े,
    न आए कभी एक-दूसरे के बीच दूरी।
  1. रमजान के दिनों में फरियाद खाली नहीं जाती,
    नमाज पढ़कर वक्त की बर्बादी नहीं होती,
    यही तो समय होता है खुशियां बांटने का,
    इस समय दिल में नफरत रखी नहीं जाती।
  1. रमजान की मुबारकबाद,
    तुम रहो हमेशा आबाद,
    कभी गम न आए तुम्हारे जीवन में,
    ऐसी करता हूं खुदा से मैं फरियाद।
  1. रमजान की बेला है नमाज पढ़ते रहिए,
    खुदा को हर लम्हा याद करते रहिए,
    होगी हर मुराद पूरी इस समय,
    बस दूसरों के लिए भी फरियाद करते रहिए।
  1. अपनी सांसों में अल्लाह का नाम बसा लो,
    उसकी इबादत को अपना काम बना लो,
    दिल में सबके लिए प्यार जगा लो,
    बुराई से चार कदम दूरी बना लो।
  1. फरियादों की झोली कभी खाली नहीं जाएगी,
    अल्लाह का नाम लेने से हर मुराद पूरी हो जाएगी,
    पढ़ते रहिए नमाज हर दिन,
    हर सांस में खुशियां रम जाएगी।
  1. ईद का चांद मुबारक हो,
    रमजान मुबारक हो,
    कभी आपकी आंखें न रोए,
    जीवन में इतनी खुशियां हो।
  1. फिर से रमजान का दिन आ गया है,
    खुशियां मना,ओ रमजान की मुबारकबाद दो,
    क्योंकि खुदा आपके घर आ गया है।

Shutterstock

  1. रमजान का पवित्र पर्व है,
    हमें आप पर बहुत गर्व है।
    रमजान मुबारक हो!
  1. ए-चांद उनको मेरा पैगाम देना,
    उनके हिस्से का गम मेरे नाम कर देना,
    उन्हें सुख समृद्धि से तोल देना,
    मेरी तरफ से रमजान मुबारक कह देना।
  1. सुबह-शाम चेहरे पर हो मुस्कान,
    हर कोई करे आपका सम्मान,
    खुदा की भी बन जाएं आप जान,
    हो इतनी बरकत इस रमजान।
  1. घर से बाहर आकर देख हर तरफ खुशियां छाईं हैं,
    इस साल फिर से रमजान की बेला आई है।
  1. सुबह की अजान सुनकर खुदा तेरा नाम लेता हूं,
    तू ही मेरी दुनिया-जहान है सबसे कहता हूं।
  1. चांद को चांदनी मुबारक हो,
    फूलों को खुशबू मुबारक हो,
    परिंदों को आसमान मुबारक हो,
    आपको रमजान का महीना मुबारक हो।
  1. कभी इफ्तार का इंतजार नहीं रहता है,
    हर दम मन अल्लाह-अल्लाह कहता है,
    रमजान एक ऐसा पावन महीना है,
    खुदा हर किसी की दुआ कबूलता है।
  1. सितारों ने चांद को सलाम भेजा है,
    हमने बुजुर्गों को सम्मान भेजा है,
    किसी को भूले नहीं इस अवसर पर,
    आपको भी रमजान मुबारक संदेश भेजा है।
  1. तुम्हें जीते जी जन्नत नसीब हो,
    हमेशा तुम अपनों के करीब रहो,
    तुम्हारे सभी सपने पूरा हों,
    इतनी ताकत मेरी दुआओं में हो।
  1. अल्लाह तुम पर मेहरबान हो,
    तुम्हारा हर काम आसान हो,
    जीवन में हरदम रोशनी आए तुम्हारी,
    ऐसा ही तुम्हारा पूरा साल और रमजान हो।
  1. तेरा घर ही मक्का-मदीना बन जाए,
    तू खुदा का सबसे पाक इंसान कहलाए,
    कुछ इस तरह का चमत्कार इस साल रमजान दिखाए।
  1. तेरा कर्म बदल जाएगा,
    जब तू अल्लाह के घर आएगा,
    मन शांत हो जाएगा,
    जब तू इफ्तार खाएगा ।
  1. आ गया वो दिन जिसका सबको था इंतजार,
    पहन लो नए कपड़े और हो जाओ तैयार,
    रमजान की बहुत-बहुत मुबारकबाद यार।
  1. खुदा गूंगे को जुबान देता है,
    पढ़ने को कुरान देता है,
    गुनाहों की माफी के लिए,
    रमजान का महीना देता है।

Shutterstock

  1. उसके साये में बहुत शांति मिलती है,
    मुरझाई कलियां भी फिर से खिलती है,
    वो खुदा भी तुझे अपना बना ले,
    ऐसी मेरी जुबां से दुआ निकलती है।
  1. हर वक्त उनके धुन में रहता हूं,
    अल्लाह-अल्लाह कहता रहता हूं,
    तुम और तुम्हारा परिवार खुश रहे,
    ये मैं अपने हर नमाज में कहता हूं।
  1. तोहफे में तुम्हें खुशियां मिले,
    तुम्हारे आंगन में फूल खिले,
    अच्छी हो हर फसल तेरी,
    खुदा से ऐसी बरकत मिले।
  1. जितना काजी को कुरान से होता है,
    शिक्षक को अपने ज्ञान से होता है,
    उतना ही लगाव हमें आपसे है,
    आपके बिना पूरा हमारा रमजान नहीं होता है।
  1. उसके नाम से अधूरे काम पूरे हो जाएंगे,
    पुकार कर तो देखो अल्लाह खुद आएंगे,
    उनकी निगाहें भक्तों पर रहती है हमेशा,
    आकर वो आपके घर खाना भी खाएंगे।
  1. जब आसमान पर चांद आया,
    तब सारा जग खुशियों से जगमगाया,
    वह दिन बाद में रमजान कहलाया।
    रमजान मुबारक हो!
  1. हर घर हो रही है इफ्तार की तैयारी,
    रास्ते पर निकली है खुशियों की सवारी,
    बैर मिटा दो इस रमजान सबसे,
    बना लो उन्हें भी अपनी खुशियों की सवारी।
  1. अपनों को खुश रखना,
    किसी को दुख न देना,
    खुद को खुदा में खो देना,
    घर वालों को मेरी तरफ से रमजान की बधाई देना।
  1. रमजान का पवित्र पर्व आया है,
    जीवन में फिर खुशियां लाया है,
    हमने इस रमजान की शायरी से,
    आपको अपने घर बुलाया है।
  1. तुम्हारा रोजा खाली न जाए,
    हर दुआ कबूल हो जाए,
    जो भी चाहो तुम,
    वो तुम्हारे पास आ जाए।
  1. चांद रोशन करे रमजान तुम्हारा,
    खुशियों से जगमगाए जीवन तुम्हारा,
    यही है खुदा से फरियाद हमारी,
    पूरी हो हर आरजू तुम्हारी।
    रमजान मुबारक हो!
  1. तुम्हारी हर नमाज कबूल हो,
    कोई भी बातें फिजूल न हो,
    जो भी मांगो तुम खुदा से,
    वो सब कबूल हो।
  1. खुदा से यही दुआ है हमारी,
    पूरी हो हर ख्वाहिश तुम्हारी,
    कभी अधूरा न हो कोई काम,
    हर काम में हो खुदा की भागीदारी।
  1. सदा चेहरे पर हो मुस्कान,
    अपनों को हो तुम पर अभिमान,
    हो इतनी तरक्की तुम्हारी,
    कि सबको हो तुम्हारी पहचान।

Shutterstock

  1. अल्लाह आपके परिवार पर रहमत बरसाए,
    आपका पूरा परिवार हमेशा मुस्कुराए।
    रमजान मुबारक हो!
  1. खुशियों का गीत गाओ,
    रमजान आया त्योहार मनाओ,
    अपनों को खाने पर बुलाओ,
    आप भी हमारे घर आओ।
  1. मुबारक हो रमजान,
    खुशियां मना रहा जहान,
    अब न बनो हमसे अनजान,
    एक गलती माफ कर दो भाईजान।
  1. चांद आसमान में आ गया है,
    हर तरफ प्रकाश छा गया है,
    त्योहार की तैयारी कर लो,
    रमजान का महीना आ गया है।
  1. खुदा दस्तक दे तुम्हारे घर में,
    अल्लाह की रहमत हो तुम्हारे घर में,
    जिसे पूरी दुनिया ढूंढती है,
    उस खुदा का निवास हो तुम्हारे घर में।
  1. हमेशा सलामत रहे तुम्हारा परिवार, ऐसी दुआ है हमारी,
    कभी मुसीबत न आए, ऐसी जिंदगानी हो तुम्हारी।
    रमजान मुबारक हो!
  1. खुदा से दिल लगा लो, कभी टूटेगा नहीं,
    कभी भी खुदा तुमसे रूठेगा नहीं।
  1. हर लम्हा खुदा तेरी फिक्र करता है,
    क्योंकि, तू अपनी हर बात में उसका जिक्र करता है,
    तुझ जैसे खुदा को मानने वाले के लिए ही,
    हर साल रमजान का महीना आता है।
  1. तेरा जीवन कामिल हो जाएगा,
    जब तू खुदा को अपनाएगा,
    हर रोडा तेरे पास आने से पहले,
    राह पर ही थम जाएगा।
  1. ए-खुदा मेरी दुआ कबूल कर ले,
    इस रमजान यार की झोली भर दे,
    उसके राह में जितने भी कांटे हों,
    उन सबको फूल बना दे।

इस रमजान के महीने सबके साथ खुशियां बांटें और सारे गिले-शिकवे भुलाते हुए लोगों को गले लगाकर रमजान की बधाइयां दें। इसके लिए आप लेख में दी गई रमजान की शायरी की सहायता ले सकते हैं। इन्हें आप अपने दोस्तों को भेजने के साथ ही स्टेटस के रूप में लगा सकते हैं। हम दुआ करते हैं कि इस रमजान के महीने में आपके जीवन में खूब खुशियां आएं। अगर आप ऐसी ही और बेहतरीन शायरियां पढ़ना चाहते हैं, तो स्टाइलक्रेज से जुड़े रहें।

और पढ़े:

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

ताज़े आलेख