रामबुतान और उसके छिलके के फायदे, उपयोग और नुकसान – Rambutan Benefits, Uses and Side Effects in Hindi

Medically reviewed by Neha Srivastava (Nutritionist), Nutritionist
Written by

दक्षिण-पूर्व एशिया में बहुतायत रूप में पाया जाने वाला रामबुतान एक स्वादिष्ट और गुणकारी फल है। आपको जानकर हैरानी होगी कि सामान्य-सा दिखने वाला यह फल कई गंभीर बीमारियों से बचाव करने में मदद कर सकता है। रामबुतान खाने के फायदे कई सारे हैं और यह इसके खास औषधीय गुणों के कारण हैं। ऐसे में स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम पाठकों को रामबुतान फल से जुड़ी ज्यादा से ज्यादा जानकारी देने की कोशिश कर रहे हैं। यहां रामबुतान फल के फायदे से लेकर इसके नुकसान तक के बारे में विशेष जानकारी मिलेगी। तो रामबुतान फल से जुड़ी सभी खास बातों को जानने के लिए लेख को अंत तक जरूर पढ़ें।

शुरू करते हैं लेख

सबसे पहले समझते हैं कि रामबुतान क्या है।

रामबुतान क्या है? – What is Rambutan in Hindi

रामबुतान सैपिनडेसिया (Sapindaceae) परिवार के अंतर्गत आने वाला एक मध्यम आकार का उष्णकटिबंधीय फल है। वैज्ञानिक रूप में इसे नेफेलियम लैपेसियम (Nephelium Lappaceum) के नाम से जाना जाता है । इसकी लगभग 1,400-2,000 प्रजातियां होती हैं। रामबुतान फल अंडाकार आकार का होता है। यह विभिन्न प्रकार के रंगों का होता है, जैसे- गुलाबी से लाल, पीला से नारंगी, चमकीला लाल से मरून या पीले से लाल रंग का भी हो सकता है (1)। यह फल और भी कई नामों से जाना जाता है, जैसे रामबोटन (Rambotan), रामबाउटन (Ramboutan) व रामबुस्तान (Rambustan) आदि। यह फल अन्य उष्णकटिबंधीय फलों जैसे लीची, लोंगान और मैमोनिलो (Mamoncillo) जैसा होता है। रामबुतान की बाहरी परत पर बाल जैसे रेशे होते हैं। लेख में आगे आप जानेंगे रामबुतान फल का सेहत के लिए लाभकारी होने की वजह।

पढ़ते रहें

लेख के इस भाग में रामबुतान किस प्रकार लाभदायक है, इसकी जानकारी देंगे ।

रामबुतान आपके के लिए क्यों अच्छा है?

रामबुतान फल को एक औषधीय और चिकित्सकीय फलों की श्रेणी में रखा जा सकता है। ऐसा इसलिए, क्योंकि विशेषज्ञों के द्वारा किए गए एक वैज्ञानिक शोध के अनुसार यह देखा गया है कि रामबुतान फल में फाइटोकेमिकल्स (Phytochemicals – पौधों में पाया जाने वाला एक सक्रिय यौगिक) होते हैं। इस कारण से इसमें एंटी-कैंसर (कैंसर की कोशिकाओं को पनपने से रोकने वाला), एंटी-एलर्जिक (एलर्जी से बचाने वाला), एंटीडायबिटिक (डायबिटीज से बचाव या इसके लक्षणों को कम करने वाला), एंटी-एचआईवी (एचआईवी संक्रमण के खिलाफ लड़ने वाला), एंटीमाइक्रोबियल (सूक्ष्मजीवों को पनपने से रोकने वाला ) व एंटी-डेंगू (डेंगू के संक्रमण से लड़ने या बचाव करने वाला) जैसे प्रभाव हो सकते हैं। ये सभी गुण शरीर को गंभीर बीमारियों से बचाने में और शरीर को स्वस्थ बनाए रखने में मदद कर सकते हैं (1)

नीचे स्क्रॉल करें

चलिए, अब  जरा रामबुतान खाने के फायदे को भी जान लीजिए।

रामबुतान के फायदे – Benefits of Rambutan in Hindi

रामबुतान खाने के फायदे कई सारे हैं, क्योंकि यह कई औषधीय गुणों से समृद्ध होता है। हालांकि, ध्यान रहे कि रामबुतान शरीर को बीमारियों से बचा सकता है या बीमारियों के लक्षणों को कम कर सकता है। रामबुतान को किसी गंभीर बीमारी का इलाज समझने की भुल न करें। चलिए अब क्रमवार तरीके से रामबुतान फल के फायदे जानते हैं, जो कुछ इस प्रकार हैं:

1. डायबिटीज के लिए

रामबुतान फल का सेवन मधुमेह की समस्या से बचाव करने में मदद कर सकता है। दरअसल, इस फल का उपयोग मधुमेह के उपचार के लिए पारंपरिक औषधि के रूप में सदियों से किया जाता रहा है। इस बात की जानकारी इससे संबंधित रिसर्च से मिलती है। जानवरों पर किए गए इस शोध के अनुसार, रामबुतान फल एंटी डायबिटिक गुण प्रदर्शित कर सकता है, जो टाइप 2 डायबिटीज के लक्षणों को या मधुमेह के जोखिम को कम करने में सहायक साबित हो सकता है (2)। यही कारण है कि डायबिटीज के डाइट में अन्य पौष्टिक खाद्य पदार्थों के साथ-साथ डॉक्टरी सलाह से रामबुतान फल को भी शामिल करना अच्छा विकल्प हो सकता है।

2. हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए

हड्डियों को स्वस्थ और मजबूत रखने के लिए रामबुतान के फायदे देखे जा सकते हैं। एनसीबीआई (National Center for Biotechnology Information) की साइट पर प्रकाशित एक रिसर्च की मानें तो ऑस्टियोपोरोसिस से बचाव  (हड्डियों का कमजोर होना) के लिए रामबुतान के छिलके के फायदे देखे जा सकते हैं। दरअसल, रामबुतान के छिलके के अर्क में प्रचुर मात्रा में फेनोलिक नामक कंपाउंड मौजूद होता है, जो हड्डियों के लिए लाभकारी हो सकता है। इसका सेवन हड्डियों के घनत्व को बढ़ाने के साथ-साथ उनकी स्थिति में सुधार ला सकता है। साथ ही इसमें एंटी-ऑस्टियोपोरोसिस (anti-osteoporosis) गुण भी मौजूद है (3)। इस आधार पर कह सकते हैं कि यह ऑस्टियोपोरोसिस के जोखिम को कम करने में भी सहायक हो सकता है। वहीं, डॉक्टरों की मानें तो इसमें कॉपर मौजूद होता है, जो हड्डियों के लिए उपयोगी हो सकता है।

3. पाचन के लिए

रामबुतान खाने के फायदे में पाचन स्वास्थ्य का सुधार भी शामिल है (4)। इसके अलावा, एक अन्य रिसर्च में इस बात का साफतौर से जिक्र मिलता है कि रामबुतान फल घरेलू उपाय के तौर पर पाचन में वृद्धि के लिए उपयोग किया जाता रहा है (5)। इस आधार पर यह कहा जा सकता है कि रामबुतान का सेवन पाचन क्रिया में सुधार करने में सहायक हो सकता है। ऐसे में अपच की समस्या से बचाव के लिए भी रामबुतान फल को आहार में शामिल किया जा सकता है।

4. हृदय स्वास्थ्य के लिए

हृदय को स्वस्थ रखने के लिए भी रामबुतान फल के फायदे देखे जा सकते हैं। इस बात की जानकारी एक रिसर्च से मिलती है (4)। वहीं, एक अन्य शोध के मुताबिक, रामबुतान के छिलके में पाया जाने वाला फेनोलिक कंपाउंड (Phenolic Compound) हृदय संबंधी समस्याओं से बचाव करने में मददगार साबित हो सकता है (6)। इस आधार पर यह कहना गलत नहीं होगा कि रामबुतान का सेवन हृदय स्वास्थ्य के लिए लाभकारी हो सकता है।

5. कैंसर से बचाव के लिए

जैसा कि हमने लेख की शुरुआत में ही बताया है कि रामबुतान में एंटी-कैंसर गुण पाए जाते हैं। यह गुण शरीर में कैंसर की कोशिकाओं को पनपने से रोकने में मदद कर कैंसर से बचाव कर सकता है (1)। यही कारण है कि कैंसर के जोखिम को कम करने के लिए रामबुतान फल का सेवन फायदेमंद माना जा सकता है।

6. ऊर्जा बढ़ाने के लिए

रामबुतान खाने के फायदे में शरीर में ऊर्जा का संचार करना भी शामिल है। दरअसल, रामबुतान को एनर्जी बूस्टिंग फल की श्रेणी में रखा गया है (4)। ऐसा इसलिए क्योंकि रामबुतान में कैलोरी और कार्बोहाइड्रेट होते हैं (7)। वहीं, कार्बोहाइड्रेट शरीर में ग्लूकोज का निर्माण करते हैं, जो ऊर्जा का प्रमुख स्रोत माना जाता है (8)। इस आधार पर यह कहा जा सकता है कि रामबुतान शरीर को एनर्जी प्रदान करने में सहायक हो सकता है।

7. वजन संतुलित रखने के लिए

वजन घटाने के लिए भी रामबुतान फल का सेवन लाभदायक परिणाम दिखा सकते हैं। एक वैज्ञानिक शोध के अनुसार रामबुतान के छिलके के अर्क में पॉलीफेनोल (Polyphenol) होते हैं , जो एंटी-ओबेसिटी एजेंट के रूप में कार्य कर सकते हैं। इसका यह गुण शरीर के बढ़ते वजन को नियंत्रित करने में प्रभावी साबित हो सकता है (4)।वहीं, जानकारों की मानें तो यह कम कैलोरी और हाई फाइबर खाद्य पदार्थ होने के साथ-साथ अधिक पानी वाला फल है, जिस वजह से इसका सेवन वजन को संतुलित रखने में सहायक हो सकता है। हालांकि, वजन नियंत्रित रखने के लिए सिर्फ रामबुतान पर निर्भर न रहें, बल्कि सही-संतुलित डाइट और नियमित व्यायाम या योग भी करें।

8. प्रतिरोधक क्षमता में सुधार करने के लिए

प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए भी रामबुतान को खाने में इस्तेमाल किया जा सकता है। दरअसल, एक शोध के मुताबिक, रामबुतान इम्यूनोमॉड्यूलेटरी (Immunomodulatory- प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार करने वाला) प्रभाव प्रदर्शित कर सकता है (2)। इसके अलावा, रामबुतान में विटामिन-ए की भी मात्रा पाई जाती है (7)। बता दें कि विटामिन-ए एक जरूरी पोषक तत्व है, जो शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद कर सकता है (9)।जिस कारण रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के घरेलू इलाज के तौर पर रामबुतान फल को इम्यून बूस्टिंग डाइट में शामिल करना अच्छा विकल्प हो सकता है।

9. शुक्राणुओं की गुणवत्ता के लिए

शुक्राणुओं की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए भी रामबुतान खाने के फायदे देखे जा सकते हैं। एक वैज्ञानिक अध्ययन से इस बात की जानकारी मिलती है कि रामबुतान का सेवन यौन स्वास्थ्य में सुधार करने में सहायक हो सकता है। इसके अलावा यह शुक्राणु की गुणवत्ता में सुधार कर सकता है। हालांकि, रामबुतान का कौन सा गुण इसके लिए जिम्मेदार है इसकी पुष्टि अभी तक नहीं हो पाई है, लेकिन इसकी वजह इसमें मौजूद विटामिन-सी को माना जा सकता है (4)

दरअसल, एनसीबीआई की साइट पर प्रकाशित एक रिसर्च के मुताबिक, विटामिन सी का सेवन करने से शुक्राणुओं के घनत्व और गतिशीलता में सुधार होने का जिक्र मिलता है (10)। ऐसे में इस आधार पर मान सकते हैं कि विटामिन सी युक्त रामबुतान फल का सेवन शुक्राणुओं की गुणवत्ता के लिए उपयोगी हो सकता है।

10. स्कैल्प और बालों के स्वास्थ्य के लिए

स्कैल्प और बालों की देखभाल और उन्हें स्वस्थ रखने के लिए भी रामबुतान फल उपयोगी साबित हो सकता है(4)। वहीं, एक अन्य शोध के मुताबिक, रामबुतान की पत्तियों का उपयोग पारंपरिक रूप से बालों की देखभाल के लिए किया जाता रहा है। दरअसल, इसका उपयोग कई हेयर क्लींजिंग शैम्पू में भी किया जाता है जो, बालों की गुणवत्ता में सुधार कर सकता है (11)। ऐसे में कहा जा सकता है कि रामबुतान फल बालों के लिए लाभकारी हो सकता है।

11. त्वचा के लिए

रामबुतान, बालों के साथ-साथ त्वचा की देखभाल के लिए भी उपयोगी माना जा सकता है। त्वचा की चमक बनाए रखने के लिए रामबुतान का सेवन मददगार साबित हो सकता है। इसके अलावा रामबुतान के छिलके के अर्क में सूर्य की हानिकारक किरणों से बचाने की क्षमता भी होती है। साथ ही इसका उपयोग त्वचा को स्वस्थ रखने में सहायक हो सकता है (4)। यही कारण है कि रामबुतान का सेवन त्वचा के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद माना जा सकता है। वहीं, रामबुतान का कौन सा गुण त्वचा के लिए उपयोगी है, इस विषय में अभी शोध की आवश्यकता है। हालांकि, अनुमान के तौर पर इसमें मौजूद पौष्टिक तत्वों के कारण इसे त्वचा के लिए उपयोगी माना जा सकता है।

बने रहें हमारे साथ

रामबुतान के फायदे जानने के बाद, अब इसमें मौजूद पौष्टिक तत्वों के बारे में भी जान लीजिए।

रामबुतान के पौष्टिक तत्व – Rambutan Nutritional Value in Hindi

रामबुतान में कई प्रकार के पोषक तत्व पाए जाते हैं। यही कारण है कि यह स्वास्थ्य के लिए इतना फायदेमंद हो सकता है। यहां हम इसमें मौजूद पौष्टिक तत्वों का जिक्र कर रहे हैं, जो कुछ इस प्रकार हैं (7)

पोषक तत्वमात्रा प्रति 100 ग्राम
पानी78.04 ग्राम
एनर्जी82 किलो कैलोरी
प्रोटीन0.65 ग्राम
कुल लिपिड (वसा)0.21 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट20.87 ग्राम
फाइबर, कुल डाइटरी0.9 ग्राम
कैल्शियम22 मिलीग्राम
आयरन0.35 मिलीग्राम
मैग्नीशियम7 मिलीग्राम
फास्फोरस9 मिलीग्राम
पोटैशियम42 मिलीग्राम
सोडियम11 मिलीग्राम
जिंक0.08 मिलीग्राम
कॉपर0.066 मिलीग्राम
मैगनीज0.343 मिलीग्राम
विटामिन सी, कुल एस्कॉर्बिक एसिड4.9 मिलीग्राम
थियामिन0.013 मिलीग्राम
राइबोफ्लेविन0.022 मिलीग्राम
नियासिन1.352 मिलीग्राम
विटामिन बी-60.020 मिलीग्राम
फोलेट, डीएफई8 माइक्रोग्राम
विटामिन ए, आईयू3 आईयू

अभी बाकी है लेख

अब रामबुतान फल के इस्तेमाल करने के तरीकों को जानिए।

रामबुतान का उपयोग – How to Use Rambutan in Hindi

रामबुतान फल के फायदे के लिए इसे सही तरह से उपयोग करना भी आवश्यक है। ऐसे में लेख के इस भाग में हम रामबुतान फल को खाने के तरीकों के बारे में जानकारी दे रहे हैं। रामबुतान फल का उपयोग इस प्रकार से कर सकते हैं –

  • रामबुतान को फ्रूट सलाद में मिलाकर अन्य फलों के साथ खा सकते हैं।
  • रामबुतान के जूस का सेवन कर सकते हैं।
  • इसके फल को सीधे तौर पर भी खा सकते हैं।
  • रामबुतान को विभिन्न व्यंजनों में भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

कब खाएं – रामबुतान का सेवन आप सुबह और शाम दोनों में से किसी भी समय कर सकते हैं।

कितना खाएं – बाकी खाद्य सामग्री की तरह इसका सेवन भी आप सीमित मात्रा में ही करें। हालांकि, इसे खाने की मात्रा व्यक्ति की उम्र और स्वास्थ्य के अनुसार अलग-अलग हो सकती है। ऐसे में बेहतर है इसके सेवन से पहले इसकी मात्रा के बारे में डॉक्टरी सलाह ली जाए।

नीचे स्क्रॉल करें

आइए, अब जानते हैं कि रामबुतान को कहां से खरीद सकते हैं।

रामबुतान कहां से खरीदें?

रामबुतान खरीदने के लिए ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है। रामबुतान आसानी से फलों की दुकान पर या फल मंडी में मिल सकता है। इसके अलावा, शॉपिंग मॉल के वेजिटेबल या फ्रूट सेक्शन से या ऑनलाइन भी रामबुतान को खरीद सकते हैं।

पढ़ते रहें

लेख के इस हिस्से में आप जानेंगे कि रामबुतान को कैसे सुरक्षित रखा जाए।

रामबुतान का चयन और लंबे समय तक सुरक्षित रखने के टिप्स – Selection and Storage of Rambutan in Hindi

यहां हम बताएंगे कि रामबुतान को कैसे सुरक्षित रखा जा सकता है, लेकिन उससे पहले जान लीजिए कि इसका चयन कैसे करें-

कैसे करें चयन:

  • रामबुतान खरीदते समय यह जांच कर लें कि उसमें मिट्टी न लगी हो, क्योंकि यह पेड़ से तोड़े जाने के बाद कभी-कभी सीधे जमीन पर भी फेंक दिए जाते हैं।
  • रामबुतान का छिलका अगर कहीं से कटा हुआ हो, तो उसे खरीदने से बचें।
  • केवल ताजे और प्राकृतिक रूप से पके हुए रामबुतान को ही खरीदें।

कैसे रखें सुरक्षित:

रामबुतान फल को इस प्रकार से सुरक्षित रखा जा सकता है –

  • रामबुतान को 10 डिग्री सेल्सियस तापमान में रखा जा सकता है (12)
  • बाजार से खरीदने के बाद रामबुतान फल को पानी या फ्रिज में ठंडा रखकर भी सुरक्षित रखा जा सकता है।

अभी बाकी है जानकारी

लेख के अंत में रामबुतान के हानिकारक प्रभावों को जान लीजिए।

रामबुतान के नुकसान – Side Effects of Rambutan in Hindi

सीधे तौर पर रामबुतान फल के नुकसान से जुड़े वैज्ञानिक शोध सिमित है। ऐसे में यहां हम सावधानी के तौर पर इसमें मौजूद पोषक तत्वों के आधार पर इसके कुछ नुकसान की जानकारी दे रहे हैं, जो कुछ इस प्रकार हैं :

  • रामबुतान में पोटेशियम मौजूद होता है (7)।वहीं, पोटेशियम की अधिक मात्रा उल्टी व डायरिया का कारण बन सकती है (13)
  • इसके छिलके से निकले हुए अर्क का अधिक सेवन करने से शरीर में विषाक्ता स्तर (Toxic level) बढ़ सकता है (14)
  • रामबुतान एक विटामिन सी युक्त फल है (7)। वहीं, अधिक मात्रा में विटामिन-सी का सेवन से पेट खराब और दस्त की शिकायत हो सकती है (15)
  • अगर किसी को नए तरह के खाद्य पदार्थों एलर्जी है तो रामबुतान से भी एलर्जी की समस्या हो सकती है। ऐसे में बेहतर है इसके सेवन से पहले डॉक्टरी परामर्श लें।

उम्मीद करते हैं कि इस लेख को पढ़ने के बाद आप रामबुतान फल के बारे में पूरी तरह से परिचित हो चुके होंगे। अब यह फल आपके लिए नया नहीं होगा और बेझिझक आप रामबुतान को अपनी फ्रूट लिस्ट में शामिल कर सकते हैं। आप इसका सीमित मात्रा में सेवन कर, इसके नुकसानों से बच सकते हैं और इससे होने वाले स्वास्थ्य लाभों का लुत्फ उठा सकते हैं। उम्मीद है यह लेख आपके लिए उपयोगी रहा होगा। हमारे ऐसे ही अन्य लेख पढ़ने के लिए स्टाइलक्रेज की वेब साइट विजिट करते रहें।

15 संदर्भ (Sources)

Stylecraze has strict sourcing guidelines and relies on peer-reviewed studies, academic research institutions, and medical associations. We avoid using tertiary references. You can learn more about how we ensure our content is accurate and current by reading our editorial policy.

और पढ़े:

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.
आवृति गौतम ने सेंट्रल यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ बिहार से मास कम्युनिकेशन में एमए किया है। इन्होंने अपने करियर की शुरूआत डिजिटल मीडिया से ही की थी। इस क्षेत्र में इन्हें काम करते हुए दो वर्ष से ज्यादा हो गए हैं। आवृति को स्वास्थ्य विषयों पर लिखना और अलग-अलग विषयों पर विडियो बनाना खासा पसंद है। साथ ही इन्हें तरह-तरह की किताबें पढ़ने का, नई-नई जगहों पर घूमने का और गाने सुनने का भी शौक है।

ताज़े आलेख

scorecardresearch