कच्‍चे चावल खाना चाहिए या नहीं? – Raw Rice In Hindi

Written by

कई लोग कच्चे चावल खाने के शौकिन होते हैं। वो बेफिक्र होकर कच्चे चावल खाते रहते हैं। ये उनकी आदत में इस तरह से शुमार हो जाता है कि उन्हें कच्चे चावल खाना सामान्य लगता है। ऐसे में मजे-मजे में कच्चे चावल खाने वाले लोगों का यह जानना जरूरी कि कच्चे चावल खाने के फायदे हैं भी या नहीं। तो स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम कच्‍चे चावल खाना चाहिए या नहीं, इस बारे में जानकारी दे रहे हैं। तो कच्चे चावल खाने के फायदे व नुकसान के लिए लेख को अंत तक जरूर पढ़ें।

शुरू करते हैं लेख

सबसे पहले जानते हैं कि कच्चे चावल खाने के फायदे होते हैं या नहीं।

क्या कच्चे चावल खाना फायदेमंद है? – Is eating raw rice beneficial in Hindi

कच्चे चावल खाने के फायदे का जिक्र किसी भी वैज्ञानिक शोध में नहीं मिलता है। कच्चे चावल खाने के फायदे तो नहीं, लेकिन नुकसान जरूर हो सकते हैं। इन नुकसानों के बारे में कई रिसर्च पेपर में भी स्पष्ट चर्चा की गई है। क्या है कच्चे चावल खाने के नुकसान, जानने के लिए लेख को आगे पढ़ें।

लेख में बने रहें

लेख के इस भाग में हम कच्चे चावल खाने के नुकसान की जानकारी दे रहे हैं।

कच्चे चावल खाने के नुकसान – Side Effects of Raw Rice In Hindi

यहां हम कच्चे चावल खाने के नुकसान के बारे में बात करेंगे, जिनके बारे में जानकार भी बात करते हैं। अगर आप भी कच्चे चावल खाते हैं, तो सचेत हो जाएं, क्योंकि कच्चे चावल के नुकसान कुछ ऐसे हो सकते हैं।

1. एंटी न्यूट्रिएंट

कच्चे चावल का सेवन करने से शारीरिक विकास प्रभावित हो सकता है। दरअसल, एनसीबीआई (National Center for Biotechnology Information) की वेबसाइट पर प्रकाशित रिसर्च पेपर बताते हैं कि सिरियल्स ग्रेन यानी अनाज में लेक्टिंस मौजूद होता है। यह एक तरह का एंटी न्यूट्रिएंट होता है, जो आंतों के कार्य को बाधित कर सकता है। यही नहीं, सूजन का कारण भी बन सकता है (1)

एक अन्य रिसर्च में कहा गया है कि लेक्टिंस से आंत की एपिथेलियल सेल्स को भी नुकसान हो सकता है। इतना ही नहीं, यह शरीर में पोषक तत्वों के अवशोषण में बाधा पैदा कर सकता है (2)। ऐसे में यह कहा जा सकता है कि शरीर में सही तरीके से पोषक तत्व न अवशोषित होने के कारण स्वास्थ्य प्रभावित हो सकता है।

2. फूड पॉइजनिंग

कच्चे चावल के सेवन से फूड पॉइजनिंग की समस्या भी हो सकती है। दरअसल, कच्चे चावल में स्टैफिलोकॉकस ऑरियस नामक बैक्टीरिया होते हैं, जो फूड पॉइजनिंग का कारण बन सकते हैं। ऐसे में अगर चावल को बिना पकाए सेवन किया गया तो यह पेट के लिए हानिकारक हो सकता है। साथ ही यह उल्टी और दस्त की परेशानी का कारण बन सकता है (3)

3. पाचन से जुड़ी समस्या

जैसे कि हमने लेख में पहले ही जानकारी दी है कि चावल में लेक्टिन होता है, जो एक प्रकार का प्रोटीन है, यह प्राकृतिक कीटनाशक के रूप में कार्य करता है (1)। वहीं, मनुष्य लेक्टिन को पचाने में असमर्थ होते हैं, इसलिए वे पाचन तंत्र से होकर गुजरते हैं और आंत की दीवार को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इससे दस्त और उल्टी जैसे लक्षण हो सकते हैं (2)। आमतौर पर, जब चावल पकाया जाता है, तो इनमें से अधिकतर लेक्टिन गर्मी से समाप्त हो जाते हैं और शरीर को नुकसान नहीं पहुंचा पाते हैं (4)। ऐसे में कच्चे चावल को नहीं, बल्कि पकाए हुए चावल को डाइट का हिस्सा बनाएं।

4. पेट दर्द की समस्या

कच्चे चावल खाने से पेट दर्द की समस्या हो सकती है। दरअसल, इससे जुड़ी एक जानकारी में इस बात का जिक्र मिलता है कि कुछ महिलाओं को कच्चा बासमती चावल खाने से पेट दर्द, दांत से जुड़ी समस्या हुई है। यहां तक कि गर्भवती महिलाओं को भी पेट दर्द और मतली की समस्या हुई। ऐसे में प्रेगनेंसी में कच्चे चावल खाना भी हानिकारक हो सकता है। साथ ही यह पेट दर्द की समस्या का कारण बन सकता है (5)

तो ये थे कच्चे चावल खाने के फायदे व नुकसान से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां। इस लेख से इतना तो पता चल ही गया होगा कि कच्चे चावल खाने के लाभ नहीं, बल्कि कई नुकसान ही हैं। साथ ही प्रेगनेंसी में कच्चे चावल खाना भी हानिकारक हो सकता है। ऐसे में इस लेख को अन्य लोगों के साथ साझा करके कच्चा चावल खाने का नुकसान हर किसी को बताएं और उन्हें सावधान करें। ऐसे ही अन्य ज्ञानवर्धक लेख पढ़ने के लिए जुड़े रहें स्टाइलक्रेज के साथ।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

क्या कच्चे चावल खाने से स्वास्थ्य से जुड़ी समस्या हो सकती है?

हां, कच्चे चावल खाने से परेशानी हो सकती है। एक रिसर्च पेपर में तो यहां तक कहा गया है कि कच्चे चावल खाने से जान का जोखिम तक हो सकता है (6)

क्या शरीर कच्चे चावल को पचा सकता है?

मनुष्य का शरीर कच्चे चावल को कुछ हद तक पचा सकता है। हालांकि, उसमें लेक्टिन नामक पदार्थ होता है, जिसे शरीर नहीं पचा पाता है, जिससे स्वास्थ्य से जुड़ी समस्या हो सकती है (2)

क्या कच्चे चावल खाने से आप बीमार हो सकते हैं?

हां, कच्चे चावल खाने से व्यक्ति बीमार हो सकता है, जिसकी जानकारी हमने ऊपर लेख में साझा की है।

क्या कच्चा चावल खाने से मोटापा बढ़ता है?

इस विषय में शोध का अभाव है। इसलिए, यह बता पाना मुश्किल है कि कच्चा चावल खाने से मोटापा बढ़ता है या नहीं, लेकिन स्वास्थ्य को हानि जरूर हो सकती है।

प्रेगनेंसी में चावल खाना चाहिए या नहीं?

प्रेगनेंसी में पके हुए चावल खा सकते हैं (7)

संदर्भ (Sources):

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. Is There Such a Thing as “Anti-Nutrients”? A Narrative Review of Perceived Problematic Plant Compounds
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC7600777/
  2. Antinutritional properties of plant lectins
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/15302522/
  3. Pathogens Transmitted through Contaminated Rice
    https://www.researchgate.net/publication/346806318_Pathogens_Transmitted_through_Contaminated_Rice
  4. Changes in levels of phytic acid, lectins and oxalates during soaking and cooking of Canadian pulses
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/29580532/
  5. Pica for Uncooked Basmati Rice in Two Women with Iron Deficiency and a Review of Ryzophagia
    https://www.hindawi.com/journals/crim/2016/8159302/
  6. Death after Eating Raw Rice
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2325027/
  7. A vegetable, fruit, and white rice dietary pattern during pregnancy is associated with a lower risk of preterm birth and larger birth size in a multiethnic Asian cohort: the Growing Up in Singapore Towards healthy Outcomes (GUSTO) cohort study
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/27733407/
Was this article helpful?
The following two tabs change content below.
विनिता पंगेनी ने एनएनबी गढ़वाल विश्वविद्यालय से मास कम्यूनिकेशन में बीए ऑनर्स और एमए किया है। टेलीविजन और डिजिटल मीडिया में काम करते हुए इन्हें करीब चार साल हो गए हैं। इन्हें उत्तराखंड के कई पॉलिटिकल लीडर और लोकल कलाकारों के इंटरव्यू लेना और लेखन का अनुभव है। विशेष कर इन्हें आम लोगों से जुड़ी रिपोर्ट्स करना और उस पर लेख लिखना पसंद है। इसके अलावा, इन्हें बाइक चलाना, नई जगह घूमना और नए लोगों से मिलकर उनके जीवन के अनुभव जानना अच्छा लगता है।

ताज़े आलेख