रूइबोस टी के फायदे और नुकसान – Rooibos Tea Benefits and Side Effects in Hindi

Written by , (शिक्षा- एमए इन जर्नलिज्म मीडिया कम्युनिकेशन)

हममें से कई लोगों को चाय पीना पसंद होगा, ये बात अलग है कि हर कोई अपने पसंद के अनुसार अलग-अलग तरह के चाय का सेवन करता है। ग्रीन टी, ब्लैक टी के बारे में तो आमतौर पर सभी जानते हैं, लेकिन आज हम इस लेख में बात करेंगे रूइबोस टी के बारे में। यहां आप रूइबोस टी पीने के फायदे तो जानेंगे ही, साथ में रूइबोस टी बनाने का तरीका भी पढ़ेंगें। वहीं, अधिक उपयोग से रूइबोस टी के नुकसान की जानकारी भी दी गई है। तो रूइबोस टी पीने के फायदे, नुकसान व उपयोग जानने के लिए लेख को पूरा पढ़ें।

पढ़ना शुरू करें

सबसे पहले जानेंगे रूइबोस टी स्वास्थ्य के लिए सेहतमंद है या नहीं।

क्या रूइबोस टी स्वास्थ्य के लिए अच्छी है? – Is Rooibos Tea Good For Health?

रूइबोस टी, जिसका वैज्ञानिक नाम एस्पालाथस लीनियरिस (​​Aspalathus linearis) है। इसे पत्ते और पीले फूल से मिलाकर बनाया जाता है, जो कि सूखने पर सुगंधित भी होते हैं। रूइबोस टी के कई सारे प्रकार हैं, लेकिन इनमें लाल और हरे रूइबोस टी सबसे प्रसिद्ध हैं। वैसे पारंपरिक रूप से इसका उपयोग दक्षिण अफ्रीका में दवा के रूप में भी किया जाता है। स्वास्थ्य के लिए रूइबोस टी कई तरह से फायदेमंद हो सकती है। यह एंटीऑक्सिडेंट का एक अच्छा स्रोत माना जा सकता है (1)।

वहीं इसके साथ, रूइबोस टी कैफीन फ्री होती है, जिससे यह गर्भवती महिलाओं, बच्चों और कैफीन के प्रति संवेदनशील लोगों के लिए लाभकारी हो सकती है। इसके साथ ही इसमें टैनिन का स्तर भी कम होता है। इनमें मौजूद गुणों के आधार पर यह माना जा सकता है कि यह स्वास्थ्य के लिए अच्छा हो सकता है (2)। इससे जुड़े फायदों के बारे में हम नीचे विस्तार से चर्चा करेंगे।

आगे पढ़ें

लेख के इस भाग में रूइबोस टी पीने के फायदे से जुड़ी जानकारी साझा की गई है।

रूइबोस टी पीने के फायदे – Benefits of Rooibos Tea in Hindi

रूइबोस टी पीने के फायदे कई सारे हो सकते हैं, जिनसे ज्यादातर लोग शायद वाकिफ न हो। ऐसे में यहां हम रूइबोस टी के फायदे बता रहे हैं। ध्यान रहे रूइबोस टी बीमारी से बचाव या लक्षणों को कम करने में उपयोगी हो सकती हैं, इसे किसी गंभीर बीमारी का इलाज न समझें। तो रूइबोस टी के फायदे कुछ इस प्रकार हैं:

1. हृदय स्वास्थ के लिए

हृदय स्वास्थ्य से जुड़ी समस्या में रूइबोस के फायदे देखे जा सकते हैं। दरअसल, रूइबोस चाय में कार्डिओप्रोटेक्टिव यानी ह्रदय रोग के जोखिम को कम करने वाला गुण मौजूद है। साथ ही यह लिपिड प्रोफाइल को भी बेहतर करने में उपयोगी हो सकता है। दरअसल ग्रीन रूइबोस का अर्क हाइपरग्लाइसेमिया-ऑक्सीडाइव स्ट्रेस व डिस्लिपिडेमिया- मधुमेह से जुड़े हृदय संबंधी जोखिम कारकों को कम कर सकता है (3)।

इसके साथ ही यह ब्लड प्रेशर को कम करके ह्रदय को स्वस्थ रखने में सहायक हो सकता है (1)। बता दें असंतुलित ब्लड प्रेशर ह्रदय रोग के जोखिम को बढ़ा सकता है (4)। ऐसे में इसके ये गुण ह्रदय को स्वस्थ रखने में सहायक हो सकते हैं।

2. मधुमेह में सहायक

मधुमेह की समस्या में रूइबोस टी फायदेमंद हो सकती है। शोध की मानें तो रूइबोस का अर्क या उनमें मौजूद प्रमुख पॉलीफेनोल्स के कारण यह मधुमेह रोगियों में रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में उपयोगी पाया गया है (5)। साथ ही यह डायबिटीज के मरीजों में ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम कर उनके स्वास्थ्य को बेहतर कर सकता है (1)।

बता दें ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस भी कई बीमारियों का कारण बन सकता है, जिनमें से एक मधुमेह भी है (6)। ऐसे में मधुमेह की समस्या से बचाव के लिए रूइबोस टी का सेवन सुरक्षित माना जा सकता है। साथ ही मान सकते हैं कि रूइबोस टी का सेवन मधुमेह की समस्या में लाभकारी हो सकता है। ऐसे में डॉक्टर की सलाह पर डायबिटीज डाइट में रूइबोस टी को शामिल कर सकते हैं।

3. नींद में मददगार

रूइबोस टी पीने के फायदे नींद से जुड़ी समस्या में देखे जा सकते हैं। यह अनिद्रा की समस्या में प्रभावकारी हो सकता है। इसमें कैफीन की मात्रा नहीं होती है। ऐसे में देखा गया है कि सोने से पहले एक कप रूइबोस टी का सेवन करने वाले लोगों को आरामदायक व तनाव मुक्त नींद आ सकती है (1)। इस आधार पर माना जा सकता है कि रूइबोस टी का उपयोग अनिंद्रा की समस्या से राहत दिलाने में मददगार हो सकता है।

4. हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए

हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए भी रूइबोस टी पीने के फायदे देखे जा सकते हैं। दरअसल शोध की मानें तो रूइबोस टी हड्डियों के स्वास्थ के लिए लाभकारी हो सकती है। इसके सेवन से ऑस्टियोब्लास्ट की गतिविधि में सुधार हो सकता है (3)। बता दें, ऑस्टियोब्लास्ट हड्डियों का निर्माण करने की प्रक्रिया होती है (7)। ऐसे में माना जा सकता है कि यह हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए हो सकता है।

5. कैंसर से बचाव

रूइबोस टी का सेवन कैंसर के जोखिम को कम करने में उपयोगी हो सकता है। अध्ययन के दौरान विशेषज्ञों ने पाया कि इस चाय में दो पोलीफेनोल एंटीऑक्सीडेंट जैसे – क्वेरसेटिन और ल्यूटोलिन पाए जाते हैं, जो कि कई फलों और सब्जियों में भी मौजूद होते हैं। ये कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने में सहायक हो सकते हैं। चाय में मौजूद ये एंटीऑक्सीडेंट शरीर को फ्री रैडिकल से होने वाले नुकसान से बचा सकता है। साथ ही इसमें एंटी कैंसर गुण भी मौजूद होता है, जो कैंसर से बचाव में सहायक हो सकता है (8 )।

बता दें फ्री रैडिकल शरीर की कोशिकाओं को क्षति पहुंचाकर कई बीमारियों का जोखिम पैदा कर सकता है, जिसमें से एक कैंसर भी है। ऐसे में इससे बचाव के लिए एंटीऑक्सीडेंट युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन आवश्यक है (9)। इतना ही नहीं, रूइबोस टी का उपयोग त्वचा के कैंसर से बचाव में भी मदद कर सकता है (1)। हालांकि, ध्यान रहे यह कैंसर से बचाव कर सकता है, इसे कैंसर का इलाज न समझें।

6. झुर्रियों में मददगार

शोध की मानें तो रूइबोस टी झुर्रियों में लाभकारी हो सकता है। इससे जुड़े एक शोध में जब हर्बल अर्क से बने कॉस्मेटिक मिश्रणों की तुलना की गई। इसमें जिन्कगो, सोयाबीन और रूइबोस टी के मिश्रण को शामिल किया गया। इस शोध में जहां जिन्कगो टी को त्वचा को मॉइस्चराइज करने के लिए उपयोगी पाया गया, वहीं रूइबोस टी को झुर्रियों पर प्रभावकारी पाया गया (10)।

साथ ही इसमें एंटी रिंकल गुण होने की जानकारी भी मिलती है (11)। ऐसे में कहा जा सकता है कि झुर्रियों से बचाव में रूइबोस टी के फायदे देखे जा सकते हैं।

7. त्वचा स्वास्थ में सहायक

त्वचा स्वास्थ के लिए रूइबोस टी सहायक माना जा सकता है। इसमें मौजूद एंटी कैंसर गुण और फोटोप्रोटेक्टिव गुण स्किन कैंसर व सूर्य की हानिकारक यू वी किरणों के क्षति से बचाव कर सकता है (11)। ऐसे में स्वस्थ त्वचा के लिए भी रूइबोस टी पीने के फायदे हो सकते हैं। हालांकि, इस विषय में अभी और शोध कि आवश्यकता है, लेकिन त्वचा को स्वस्थ रखने के लिए इसका सेवन किया जा सकता है, चाहें तो इसे त्वचा पर लगाया भी जा सकता है।

स्क्रॉल करें

रूइबोस टी पीने के फायदे जानने के बाद अब बारी है रूइबोस टी का उपयोग जानने की।

रूइबोस टी का उपयोग – How to Use Rooibos Tea in Hindi

रूइबोस टी का उपयोग मुख्य रूप से पेय पदार्थों के रूप में ही किया जाता है। ऐसे में आइए जानते हैं इसे उपयोग करने के निम्न तरिकों के बारे में। साथ ही यहां हम रूइबोस टी बनाने की विधि भी बताएंगे।

रूइबोस टी बनाने का तरीका

सामग्री:

  • एक चम्मच रूइबोस की पत्तियां या टी बैग
  • एक कप पानी
  • एक बर्तन
  • छलनी

बनाने की विधि :

  • सबसे पहले एक बर्तन में पानी लें।
  • इसे उबाल लें।
  • अब इसमें रूइबोस की पत्तियां डालें।
  • पत्तियों को पानी के साथ पांच मिनट तक उबालें।
  • अब छन्नी से एक कप में छानकर इसका सेवन कर सकते हैं।
  • चाहें तो पत्तियों की जगह टी बैग का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • टी बैग को कुछ देर गर्म पानी में डुबोकर रखें।
  • फिर उसे निकालकर इसका सेवन कर सकते हैं।

रूइबोस टी को उपयोग करने का तरीका:

  • रूइबोस चाय दो प्रकार के फॉर्म में मिलती है, टी बैग व चाय पत्ती के रूप में । इसे बाजार या ऑनलाइन से खरीद सकते हैं।
  • इसका उपयोग हर्बल टी के रूप में किया जा सकता है। ठंडे पानी में बर्फ के साथ रूइबोस टी बनाकर कोल्ड टी के रूप में उपयोग कर सकते हैं (12)।
  • इसका सेवन फरमेंट करके भी किया जा सकता है (1)।
  • इसके अलावा, रूइबोस चाय की पत्तियों का अन्य पदार्थ के साथ मिश्रण बनाकर त्वचा पर भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

मात्रा : रूइबोस टी की खुराक व्यक्ति के स्वास्थ्य और उम्र के आधार पर अलग-अलग हो सकती है। सामान्यतौर पर, पूरे दिन में एक कप रूइबोस टी का सेवन किया जा सकता है। हालांकि, बेहतर है इसकी मात्रा के बारे में एक बार डॉक्टर की सलाह भी ली जाए।

अभी और भी है

उपयोग के बाद अब जानते हैं साइड इफेक्ट ऑफ रूइबोस टी के बारे में।

रूइबोस टी के नुकसान – Side Effects of Rooibos Tea in Hindi

रूइबोस टी को उसके औषधिय गुणों के लिए फायदेमंद माना गया है, लेकिन कुछ मामलों में इसके दुष्प्रभाव भी देखने को मिल सकते हैं।

  • शोध में पाया गया कि रूइबोस टी के अधिक मात्रा में सेवन से लिवर के लिए समस्या उत्पन्न कर सकती है (13)।
  • अगर किसी दवा का सेवन कर रहे हैं कि विशेषज्ञों की सलाह के बिना इसका सेवन न करें।
  • संवेदनशील लोगों को रूइबोस टी के सेवन से एलर्जी भी हो सकती है।
  • रूइबोस में मौजूद प्रमुख घटक पॉलीफेनोल्स के कारण यह रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में उपयोगी माना जा सकता है (5)। ऐसे में यह उन लोगों के लिए नुकसानदेह हो सकता है जिनका ब्लड शुगर लो रहता है। वहीं, डायबिटीज की दवा का सेवन करने वाले व्यक्ति इसके सेवन से पहले डॉक्टरी सलाह जरूर लें।

रूइबोस टी में मौजूद गुणों के आधार पर इसे स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद माना जा सकता है। इस लेख में हमने रूइबोस टी पीने के फायदे और रूइबोस टी का उपयोग भी बताया है। इसके साथ ही रूइबोस टी के नुकसान भी बताए हैं। वहीं, इसके दुष्प्रभाव से बचने के लिए इसकी सीमित मात्रा में ही सेवन करें। मन में संशय हो तो सेवन से पहले एक बार डॉक्टर से परामर्श अवश्य लें। आगे हम लेख में पाठकों द्वारा पूछे गए सवालों के जवाब दे रहे हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

क्या रूइबोस टी के पीने से नींद आती है?

कैफीन मुक्त होने के कारण यह अनिद्रा की समस्या को कम करने में सहायक हो सकता है। शोध में बताया गया है कि इसके सेवन से तनाव में राहत मिल सकती है, जिससे नींद अच्छी आ सकती है। यह अनिद्रा के लिए भी उपयोगी हो सकता है (1)।

क्या प्रतिदिन रूइबोस टी पीना ठीक है?

किसी भी चीज का प्रतिदिन सेवन ठीक है या नहीं यह व्यक्ति के स्वास्थ पर निर्भर करता है। इसके अलावा, किसी भी चीज का अधिक उपयोग फायदे की बजाय नुकसान का जोखिम बढ़ा सकता है। ऐसे में रूइबोस के प्रतिदिन सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य लें।

क्या सोने से पहले रूइबोस टी का सेवन ठीक है?

हां, शोध कहता है कि सोने से पहले एक कप रूइबोस टी का सेवन तनाव रहित आरामदेह नींद दिलाने में सहायक हो सकता है (1)।

संदर्भ (Sources) :

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. Fact Sheet on Rooibos Tea
    https://www.researchgate.net/publication/273090980_Fact_Sheet_on_Rooibos_Tea
  2. Anti-Oxidative Effects of Rooibos Tea (Aspalathus linearis) on Immobilization-Induced Oxidative Stress in Rat Brain
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3897768/
  3. Rooibos Tea and Health: A Systematic Review of the Evidence from the Last Two Decades
    https://www.researchgate.net/publication/347309212_Rooibos_Tea_and_Health_A_Systematic_Review_of_the_Evidence_from_the_Last_Two_Decades
  4. Heart Diseases
    https://medlineplus.gov/heartdiseases.html
  5. A Beneficial Role of Rooibos in Diabetes Mellitus: A Systematic Review and Meta-Analysis
    https://www.researchgate.net/publication/324422937_A_Beneficial_Role_of_Rooibos_in_Diabetes_Mellitus_A_Systematic_Review_and_Meta-Analysis
  6. Antioxidants: In Depth
    https://www.nccih.nih.gov/health/antioxidants-in-depth
  7. ANKH gene
    https://medlineplus.gov/genetics/gene/ankh/
  8. Rooibos Tea:New Research Documents Antioxidant and Anticancer Properties
    https://citeseerx.ist.psu.edu/viewdoc/download?doi=10.1.1.544.9553&rep=rep1&type=pdf
  9. Antioxidants
    https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/healthyliving/antioxidants
  10. Clinical efficacy comparison of anti-wrinkle cosmetics containing herbal flavonoids
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/20412217/
  11. Rooibos (Aspalathus linearis) beyond the farm gate: From herbal tea to potential phytopharmaceutical
    https://www.sciencedirect.com/science/article/pii/S0254629911001086
  12. Effects of Vitamin D Fortification on Vitamin D Metabolite Profiles and Status in Vitamin D Insufficient Individuals (VITD-2013)
    https://clinicaltrials.gov/ct2/show/NCT02422784
  13. Tea not Tincture: Hepatotoxicity Associated with Rooibos Herbal Tea
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4435260/
Was this article helpful?
thumbsupthumbsup
The following two tabs change content below.
पुजा कुमारी ने बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी से जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन में एमए किया है। इन्होंने वर्ष 2015 में अपने... more

ताज़े आलेख