हैप्पी रोज डे शायरी 2020 – Best Rose Day Shayari and Messages in Hindi

by

फरवरी को प्यार का महीना भी कहा जाता है। वजह है 7 फरवरी से 14 फरवरी (वैलेन्टाइन डे) तक मनाया जाने वाला वैलेन्टाइन वीक। वहीं, गुलाब को प्यार का प्रतीक माना गया है, इसलिए प्यार के इजहार की ओर पहला कदम बढ़ाने वाले दिन को ‘रोज डे’ कहा गया है। बेशक, यह दिन सिर्फ प्रेमियों का होता है, लेकिन अलग-अलग रंग के गुलाब देकर आप माता-पिता, भाई-बहन और दोस्तों को भी ‘हैप्पी रोज डे’ विश कर सकते हैं। इसके लिए आपको गुलाब के रंग का चुनाव समझदारी से करना होगा। लाल गुलाब प्यार का, पीला गुलाब दोस्ती का, सफेद गुलाब रूठों को मनाने का, गुलाबी गुलाब आदर-सम्मान और लैवेंडर गुलाब पहली नजर में होने वाले प्यार की भावना को दर्शाता है। वहीं, भावनाओं को व्यक्त करने के लिए आप रोज डे शायरी भी इस्तेमाल कर सकते हैं। ऐसी ही करीब 55 शायरी हम इस आर्टिकल के जरिए आपके लिए लेकर आए हैं।
रोज डे शायरी से पहले आइए रोज डे कब मनाया जाता है, थोड़ा इस बारे में जान लेते हैं।

रोज डे कब मनाया जाता है?

Shutterstock

वैसे तो सभी जानते हैं कि रोज डे कब मनाया जाता है। फिर भी इस बारे में हम बता देते हैं। वेलेन्टाइन वीक की शुरुआत 7 फरवरी से होती है और 7 फरवरी को ही रोज डे के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन लोग एक दूसरे से गुलाब के जरिए अपनी भावनाओं को व्यक्त करने की कोशिश करते हैं।

हैप्पी रोज डे विश करने के लिए अगर आप खूबसूरत रोज डे शायरी तलाश रहे हैं, तो लेख के अगले भाग में आपकी तलाश खत्म हो जाएगी।

रोज डे की शायरी – Rose Day Shayari and SMS in Hindi

आइए, पहले लड़के को हैप्पी रोज डे विश करने वाली कुछ शायरियां पढ़ लेते हैं।
लड़के से इजहार की शायरियां
लड़कों के लिए रोज डे स्टेटस कुछ इस प्रकार हैं।

  1. चाहकर इजहार हो जरूरी तो नहीं,
    अल्फाजों में ही इकरार हो जरूरी तो नहीं,
    यूं ही समझ लेना जज्बातों को तुम मेरे,
    हाथों में आकर गुलाब दूं जरूरी तो नहीं।
    हैप्पी रोज डे
  2. इश्क है हंसी में न उड़ा देना,
    एहसास को मेरे नदी में न बहा देना,
    दिल की कश्ती में जगह दे, तमन्ना है मेरी,
    इल्तजा इतनी, बस मखौल न उड़ा देना।
  3. छुप-छुप के तुझसे प्यार करती हूं,
    बातों पर तेरी ऐतबार करती हूं,
    बा-हिम्मत बयां कर रही हूं, हाल-ए-दिल तुझसे,
    मुकम्मल हो मोहब्बत बस यही दुआ करती हूं।
  4. आंखों के जरिए प्यार होता है,
    निगाह झुके, तो इजहार होता है,
    हां या न, जो भी हो बता देना मुस्कुरा कर,
    दिल पर भी कहां किसी का इख्तियार होता है।
    हैप्पी रोज डे
  5. सुबह पहली किरण के साथ दिल में ख्याल आता है बस तुम्हारा,
    ढलते दिन के साथ जहन में नाम आता है बस तुम्हारा,
    तुम्ही मेरी पहली ख्वाहिश हो, तुम्ही ख्वाहिश हो आखिरी,
    अगर साथ हो तेरा प्यार मेरे, जिंदगी लगे मुझे जिंदगी।
  6. चाहकर भी मुकम्मल जहां नहीं मिलता,
    महज अल्फाजों से ख्वाबों का रवा नहीं मिलता,
    इस्बात नहीं, रोशन हुई मुहब्बत हर किसी की,
    इज्तिराब है दिल, बिन कहे सुकून भी तो नहीं मिलता।
  7. तोफहा है गुलाब का दिल से लगा लेना,
    पसंद न आए अंदाज हमारा तो मसल कर गिरा देना,
    जफर न मिली जंग-ए-मोहब्बत में तो क्या,
    सुकून इस बात का होगा, रह जाएगा हाथों में तेरे एहसास हमारा।
  8. हर घड़ी, हर पहर, जिंदगी बनी जहर,
    न फिक्र है काम की, न है खुद की खबर,
    गिनता हूं अब मैं तारे, रात-ओ-दिन हर पहर,
    हो मुलाकात जिस घड़ी, टूट न जाए कोई कहर।
  9. देख के तुम मुझको, हर रोज गुजरते हो,
    चुपके-चुपके यूं आहें भरते हो,
    वक्त है अब भी, जो कहना है कह दो,
    कहीं बाद में अफसोस न करते रहो।
    हैप्पी रोज डे

Shutterstock

  1. वही है इश्क जो हो एकतरफा,
    वरना इजहार-ए-इश्क ख्वाहिश बन जाती है,
    मोहब्बत है अगर तो पढ़ लो आंखों में,
    हो इजहार-ए-जुबां तो नुमाइश बन जाती है।
  2. प्यार चाहता है दिल ये मेरा तुझसे,
    करना चाहता है मोहब्बत का इजहार।
    ऐ हमदम जब से तुम्हे देखा है हमने,
    चाहता है सिर्फ तुम्हारा ही दीदार।
  3. इजहार-ए-इश्क करने से डरता है,
    रहता है करीब पर कहने से डरता है,
    आंखों में देखूं, तो शर्मा-सा जाता है,
    कमाल है वो मोहब्बत, जो तू मुझसे ही करता है।
  4. तेरे मेरे बीच, एक हया का पर्दा है,
    लगता है ऐसे, जैसे लोबान का जर्दा है,
    इश्रत की बेड़ियां ने, मुझे अब तक बांधे रखा है,
    बस यही वजह है, जो दिल इजहार-ए-इश्क से डरता है
  5. भीगी बारिश की बूंदों में, उनका जो दीदार हुआ,
    धड़कने बढ़ीं, सांसे थमीं, दिल बीच मंझधार हुआ,
    वो पल भी क्या खूब था, देखते ही दिल निसार हुआ,
    आंखों ही आंखों में बात बनी, ताउम्र उसका इजहार हुआ।
    हैप्पी रोज डे
  6. रोज डे का मौका और दिल में है प्यार,
    शब्दों में पिरोकर कर रही हूं इजहार,
    एक रुपये में पहुंचा रही हूं लाखों का समाचार,
    देख इसे नजरअंदाज किया, तो होगा अत्याचार।
  7. मोहब्बत का कभी इजहार न कर पाई,
    इस आग के दरिया को पार नहीं कर पाई
    बेचैनी इस बात की कहीं हो न जाए रुसवाई,
    इतनी सी बात तुम्हें अब तक समझ नहीं आई।
  8. बस इजहार-ए-मोहब्बत में फिसड्डी हुए हम,
    वरना हम-सा दीवाना इस जहां में और कौन है।
  9. गहरे हैं जख्म इतने, इजहार क्या करें,
    निशाना बन गए खुद, वार क्या करें,
    कफन ओढ़कर भी खुली रहीं ये आंखें,
    इससे भी ज्यादा अब हम इंतजार क्या करें।
  10. देख उनको झुक जाती हैं निगाहें,
    लफ्ज भी दामन छोड़ जाते हैं।
    बड़ी मुश्किल में फंसा है इश्क हमारा,
    हाल-ए-दिल उनसे कहें तो कैसे कहें।
  11. हर रात गुजरती है बस यही सोचकर,
    कभी तो हमारा भी उन्हें इंतजार होगा,
    गुलिस्तां में बैठेंगे हाथों में हाथ लिए,
    जब कभी उन्हें भी हम पर ऐतबार होगा।
    हैप्पी रोज डे

लड़कों के लिए रोज डे हिंदी शायरी जानने के बाद अब हम लड़कियों से इजहार के लिए रोज डे स्टेटस पर नजर डाल लेते हैं।

लड़कियों से इजहार की शायरियां

Shutterstock

लड़कियों के लिए रोज डे हिंदी शायरी कुछ इस प्रकार हैं।

  1. जिंदगी में सभी ने कभी न कभी किया होगा प्यार,
    किसी ने जोश में, तो किसी ने डर-डर कर किया होगा इजहार,
    चाहत वहीं जो चुपके से बिन बोले ही समझ ले बात,
    इसी को तो कहते हैं दो दिलों का सच्चा इकरार।
    हैप्पी रोज डे
  2. गहराई है जो तेरी आंखों की समझ नहीं पाता,
    कहना चाहूं मैं बहुत कुछ पर कह नहीं पाता,
    हाल-ए-दिल क्या है अपना बता नहीं सकता,
    बिन तेरे अब जिएं कैसे ये समझ भी तो नहीं आता।
  3. दिल चुराने की अदा आपकी पुरानी है,
    नजरों से सीने में उतरने की आदत रूहानी है,
    तेरा चेहरा है चांद, हम जमीं पर जमी रेत,
    ख्वाब ही सही मगर ख्वाहिश तो ये बेमानी है।
  4. आंखों ही आंखों में इश्क हो सके,
    कुछ ऐसी शिद्दत तेरी सांसों में भी हो,
    लफ्ज भी जहमत न उठा सकें,
    उससे पहले तू मेरी बाहों में हो।
  5. टूट कर तुझे इतना प्यार करेंगे,
    मोहब्बत पर तेरी जान निसार करेंगे,
    आशिकी देख खाक हो जाएं कई दिल,
    कुछ इस कदर तुझ पर ऐतबार करेंगे।
  6. कमबख्त निगाहों का कसूर है, जो तेरा दीदार कर बैठा,
    आतिश-ए-इश्क की गुस्ताखी, जो तुझसे प्यार कर बैठा,
    फन-ए-इश्क में माहिर न था, जो हदें पार कर बैठा,
    खामोश रहने की ठानी थी, फिर भी इजहार कर बैठा।
  7. कमी नहीं महफिल में हसीनाओं की,
    ख्वाबों को पकड़ने का जार नहीं रखते,
    शिद्दत से आज भी चाहते हैं तुझको,
    खता बस मोहब्बत का इजहार नहीं करते।
  8. बे-कस सी जिंदगी में तलाश-ए-आश्ना है,
    तन्हा न गुजरे जिंदगी दिल फिगार है,
    हो मुकम्मल अरमान-ए-इश्क असर ढूंढता हूं,
    कहीं टकरा ही जाएगा फिदाई यही इतिबार है।
    हैप्पी रोज डे
  9. खामोश है निगाह फिर भी बात होती है,
    मोहब्बत की पहली ऐसे ही शुरुआत होती है,
    हरदम डूबा रहे बस उन्हीं के ख्यालों में,
    मालूम न हो कि कब दिन-ओ-रात होती है।
  10. दो कदम तू चल साथ मेरे,
    हम हर अफसाना कह देंगे,
    दिल-ए-इबारत तू जो पढ़ न सकी,
    मुंह जुबानी हम सब कह देंगे।
  11. न पूछ किसे कहते हैं मोहब्बत,
    कह दूं हकीकत गरज मान जाओगे,
    यूं ही बताने का मतलब ही क्या,
    करके देखो खुद ही जान जाओगे।
  12. अपने अरमान देकर तेरे दिल को सजाएंगे,
    अपनी मुस्कान देकर तेरे लबों को हंसाएंगे,
    गर जान देनी पड़ी तो क्या, मुस्कुरा कर फना हो जाएंगे,
    रुखसत न होने देंगे तुम्हें, कब्र से भी तुझे उठा लाएंगे।
  13. मोहब्बत की कीमत लगाई नहीं जाती,
    हो जाए मोहब्बत तो छुपाई नहीं जाती,
    वक्त रहते ही कर दो इजहार-ए-मोहब्बत,
    वरना वक्त के बाद मोहब्बत जताई नहीं जाती,
  14. हर किसी को इस कदर चाहते नहीं,
    बेफिक्र अपनी जिंदगी गलाते नहीं,
    कुछ बात तो होगी उनमें ही शायद,
    वरना, यूं ही आंसू हम बहाते नहीं।
  15. मानते हैं हम हर बात कहनी जरूरी नहीं होती,
    लेकिन हर बात महज आंखों से पूरी नहीं होती,
    दिल कहे तो खोल दूं राज क्योंकि,
    इजहार के बिना मोहब्बत पूरी नहीं होती।
  16. जुल्फों के तले उनकी हम जमाना भुला देते हैं,
    वो एक नजर से कितने ही अरमान जगा देते हैं,
    है इश्क उनकों भी हमसे ये जानते हैं हम,
    फिर भी क्यों न कहकर वो इस दिल को सजा देते हैं।
    हैप्पी रोज डे
  17. आंखों से आंखें मिलाकर तो देखो,
    हमारे दिल से दिल लगाकर तो देखो,
    रख देंगे दामन में सारे जहां की खुशियां,
    झूठा ही सही इजहार करके तो देखो।
  18. मुश्किल में हूं प्यार की फरमाइश कैसे करूं,
    मुश्क-सा है ये, इसकी नुमाइश कैसे करूं,
    इंसान हो तो बांध लूं जंजीरों में,
    जो खुशबू-सा है, उसे गिरफ्तार मैं कैसे करूं।
  19. बारिश में फूल भी बेकरार हो जाते हैं,
    झूम के जैसे चमकने को तैयार हो जाते हैं,
    मेरे दिल को भी वैसे ही इकरार का इंतजार है,
    इजहार तो कर दिया हमने तुम भी कह दो कि प्यार है।
  20. देखूं तुम्हें तो कुछ कहने का दिल करता है,
    पर बात कुछ ऐसी है कि कहते डर लगता है,
    मिले न मिले पल ये दोबारा इसलिए कह देता हूं,
    दिल में हो तुम और सिर्फ तेरी मौजूदगी में ही ये धड़कता है।
    हैप्पी रोज डे

प्यार के इजहार के बाद आइए अब हम दोस्तों को हैप्पी रोज डे विश करने वाली शायरियों के बारे में जान लेते हैं।

दोस्तों के लिए शायरियां

Shutterstock

दोस्तों को हैप्पी रोज डे विश करने वाली शायरियां कुछ इस प्रकार हैं:

  1. फिर अगर जिंदगी में मुलाकात होगी,
    उस घड़ी, उस पहर, उस पल की बात होगी,
    जब होती थी मस्ती फिर रूठना मनाना,
    उन दिनों क्या मिसाल था तेरा-मेरा याराना।
  2. जरा-सी बात पर तो मोहब्बत खफा होती है,
    दोस्ती ऐसी है कि आंधी भी दफा होती है,
    कुर्बानियों से सींचे जाते हैं इश्क के दरख्त,
    दोस्ती में तो खता की जगह ही कहां होती है।
  3. कसमें, वादे, प्यार, वफा मोहब्बत के पैमाने हैं,
    घुलना-मिलना मिलकर हंसना दोस्ती के नजराने हैं,
    मोहब्बत बस नगीने की चमक, दोस्ती है हीरे का नूर,
    प्रेमी रूठे मिलना मुश्किल, दोस्त फुर्सत में मिले जरूर।
  4. लाख बंद कर ले तू दोस्ती के दरवाजे,
    मैं हवा के झोंके सी हूं दरारों से भी आ जाऊंगी।
  5. सारा जहां भुला देता है प्यार,
    बेड़ियों में बंधा मोहब्बत का संसार,
    बंदिशों में नहीं फंसता कभी सच्चा यार,
    जरूरत में हर घड़ी रहता है तैयार।
  6. बड़ा छोटा-सा फसाना है अपना,
    तू है, मैं हूं और है याराना अपना।
  7. जिंदगी बिताना काफी नहीं,
    दोस्तों का ख्याल भी रखना पड़ता है,
    बस कहने भर दोस्ती नहीं होती,
    दोस्ती का हक भी निभाना पड़ता है।
  8. जरूरत से ज्यादा आदत है दोस्ती,
    बिना इसके सब लगता है वीरान।
    जिंदगी के सफर में कई आए-गए,
    जो आकर कभी न गया तू है ऐसा मेहमान।
  9. दूर होकर भी हर घड़ी पास रहता है,
    किसी से भी मिलूं उसे ऐतबार रहता है,
    कहीं भी रहूं पर मुलाकात जरूर होगी,
    दोस्ती ही है जिसमें ये एहसास रहता है।
  10. सांसों में रहना खुशबू बनकर,
    नसों में बहना तुम लहू बनकर,
    सभी रिश्तों में अनमोल हैं दोस्ती,
    कभी न रहना तुम जुदा होकर।
  11. खास ही होते हैं वो लोग जो दिल को भा जाते हैं,
    क्योंकि हर किसी से दोस्ती हुआ नहीं करती।
  12. दोस्ती ही तो है जो चेहरे पर मुस्कान ले आती है,
    सुख-दुख में अपनी खरी पहचान कराती है,
    रूठ गए अगर कभी तो बात दिल से न लगा लेना,
    क्योंकि मासूम दिल और दोस्ती जरा नादान होती है।
  13. दोस्ती से बढ़कर कोई खजाना नहीं,
    इससे खूबसूरत कोई फसाना नहीं,
    कच्चे धागे-सी है इस रिश्ते की डोर मगर,
    हवा के झोके से बिगड़ जाए, ये वो तराना नहीं।
  14. दोस्ती ने तेरी इस काबिल बना दिया,
    मतलबी दुनिया में जीना सिखा दिया,
    एहसान है खुदा का मुझ पर बड़ा,
    जिसने तुझ जैसे दोस्त से मिला दिया।
  15. दुनिया की समझ नहीं हमको,
    पर दोस्ती हमारी सच्ची है।
    कायम है हमारी सच्चाई इसी पर,
    कि तेरी यारी ही सबसे अच्छी है।

फूलों की खुशबू रिश्तों में ताजगी लाती है और अपने प्यार को जताने का हैप्पी रोज डे से अच्छा दिन और क्या हो सकता है। अगर आपने अभी तक अपने मन की बात नहीं कही है, तो यहां दी गई शायरी की मदद से अपनी भावनाओं को अपने प्रेमी-प्रेमिका, पति-पत्नी, भाई-बहन या फिर माता-पिता के सामने रख डालें। बेशक, प्यार जताने के लिए हर दिन नया दिन होता है, लेकिन रोज डे जैसे मौके पर फूलों और शायरी के साथ अपने प्रेम को बयां करने का अहसास ही कुछ और होता है। अब आप ऊपर दी गई कोई भी अपनी पसंद की शायरी चुनें और अपने खास को भेज डालें। अगर आपके पास इसके अलावा भी कोई शायरी हो, तो उसे हमारे साथ नीचे दिए कमेंट बॉक्स के जरिए जरूर शेयर करें।

और पढ़े:

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

Ankit Rastogi

अंकित रस्तोगी ने साल 2013 में हिसार यूनिवर्सिटी, हरियाणा से एमए मास कॉम की डिग्री हासिल की है। वहीं, इन्होंने अपने स्नातक के पहले वर्ष में कदम रखते ही टीवी और प्रिंट मीडिया का अनुभव लेना शुरू कर दिया था। वहीं, प्रोफेसनल तौर पर इन्हें इस फील्ड में करीब 6 सालों का अनुभव है। प्रिंट, टीवी और डिजिटल मीडिया में इन्होंने संपादन का काम किया है। कई डिजिटल वेबसाइट पर इनके राजनीतिक, स्वास्थ्य और लाइफस्टाइल से संबंधित कई लेख प्रकाशित हुए हैं। इनकी मुख्य रुचि फीचर लेखन में है। इन्हें गीत सुनने और गाने के साथ-साथ कई तरह के म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट बजाने का शौक भी हैं।

ताज़े आलेख

scorecardresearch