रूखी त्वचा (ड्राई स्किन) की देखभाल के लिए बेहतरीन घरेलू उपाय – Dry Skin Care Tips in Hindi

Medically Reviewed By Suvina Attavar (Dermatologist & Hair transplant surgeon)
Written by , (एमए इन मास कम्युनिकेशन)

किसी की त्वचा तैलीय होती है, किसी की मिश्रित, तो किसी की ड्राई यानी रूखी होती है। इसमें कोई शक नहीं कि रूखी त्वचा की देखभाल करना आसान नहीं होता। रूखी त्वचा वाले लोग चाहे कितनी भी क्रीम, मॉइस्चराइजर या फिर तेल लगा लें, उसका असर बस कुछ देर तक ही रहता है। खासकर, सर्दी के मौसम में रूखी त्वचा वाले लोगों को अधिक परेशानी होती है। रूखी त्वचा वाले लोगों के लिए त्वचा का फटना, खुजली, जलन व रैशेज आम समस्याएं हैं। यही वजह है कि स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम रूखी त्वचा की देखभाल और रूखी त्वचा के घरेलू उपाय के बारे में बात करेंगे। उससे पहले यह जान लेना जरूरी है कि घरेलू उपाय महज समस्या से राहत दिला सकते हैं, लेकिन रूखी त्वचा का इलाज डॉक्टरी परामर्श पर ही निर्भर करता है।

पढ़ते रहें लेख

तो आइए, लेख में सबसे पहले जान लेते हैं स्किन ड्राई होने के कारण।

रूखी त्वचा होने के कारण – Causes of Dry Skin in Hindi

निम्न बिंदुओं के माध्यम से हम स्किन ड्राई होने के कारण आसानी से समझ सकते हैं (1)

  • अत्यधिक ठंड या शुष्क हवा के कारण।
  • हीटर जैसे उपकरण के कारण घर के अंदर अत्यधिक गर्मी।
  • एयर कंडीशनर के कारण अत्यधिक ठंडी शुष्क हवा।
  • बहुत कम या बहुत अधिक नहाने के कारण।
  •  कुछ विशेष साबुन या डिटर्जेंट के इस्तेमाल से।
  • एक्जिमा (त्वचा की सूजन से संबंधित एक विकार) और सोरायसिस (सूखे और खुजली युक्त चकत्तों की स्थिति) जैसे त्वचा संबंधी विकार होने की स्थिति में।
  • कुछ विशेष दवाइयों के उपयोग से।
  • बढ़ती उम्र के प्रभाव के कारण, क्योंकि बढ़ती उम्र के कारण त्वचा अत्यधिक पतली हो जाती है। ऐसे में त्वचा से निकलने वाले प्राकृतिक तेल बनने की प्रक्रिया धीमी हो जाती है।

आगे पढ़ें लेख

ड्राई स्किन होने के कारण के बाद लेख में आगे जानें रूखी त्वचा के घरेलू उपाय से जुड़ी जानकारी।

रूखी त्वचा (ड्राई स्किन) के लिए घरेलू उपाय – Home Remedies for Dry Skin in Hindi

इस भाग में हम रूखी त्वचा के घरेलू उपाय के साथ ड्राई स्किन को ग्लो कैसे करें? इस बारे में विस्तार से समझाने का प्रयास करेंगे।

1. एवोकाडो

सामग्री :

  • आधा एवोकाडो
  • एक चौथाई कप शहद

उपयोग का तरीका :

  • एक कटोरी में एवोकाडो को अच्छे से कुचल लें, ध्यान रहे कि उसमें गांठ न पड़े।
  • अब इसमें शहद मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें।
  • फिर इस पेस्ट को अपने चेहरे पर लगाकर 10 से 15 मिनट के लिए सूखने के लिए छोड़ दें।
  • सूखने के बाद गुनगुने पानी से चेहरे को धो लें।

कितनी बार लगाएं?

  • हफ्ते में एक या दो बार इसे लगा सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है?

रूखी त्वचा के घरेलू उपाय के तौर पर एवोकाडो को भी इस्तेमाल में लाया जा सकता है। दरअसल, एनसीबीआई (National Center for Biotechnology Information) की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध में जिक्र मिलता है कि एवोकाडो में मौजूद विटामिन ए त्वचा स्वास्थ्य को बनाए रखने में मददगार साबित हो सकता है (2)। वहीं, अन्य शोध में माना गया ही कि एवोकाडो फल के गूदे से अलग किए गए तेल में मौजूद मिनरल और विटामिन त्वचा के लिए फायदेमंद हो सकते हैं और रूखी और बेजान त्वचा को ठीक करने में सहायक हो सकते हैं (3)। इन दोनों तथ्यों के आधार पर एवोकाडो के साथ इसके तेल के उपयोग को भी रूखी त्वचा की देखभाल के लिए उपयोगी माना जा सकता है।

2. ब्रेस्ट मिल्क

सामग्री :

  • ब्रेस्ट मिल्क आवश्यकतानुसार
  • एक रुई का टुकड़ा

उपयोग का तरीका :

  • सबसे पहले ब्रेस्ट मिल्क को किसी बर्तन में निकाल कर उसमें रुई के टुकड़े को डुबोएं।
  • अब इसे प्रभावित स्थान पर लगाएं।
  • अब इसे खुद से सूखने के लिए छोड़ दें।
  • जब ब्रेस्ट मिल्क अपने आप सूख जाए, तो उसे साफ पानी से धो डालें।

कितनी बार लगाएं?

  • इस प्रक्रिया को हफ्ते में करीब दो बार तक दोहराया जा सकता है।

कैसे फायदेमंद है?

रूखी त्वचा के लिए घरेलू नुस्खे में ब्रेस्ट मिल्क का उपयोग भी शामिल है। डर्मेटोलॉजी रिपोर्ट्स के एक शोध में माना गया है कि ह्यूमन ब्रेस्ट मिल्क ड्राई स्किन के लिए उपयोगी साबित हो सकता है। शोध में जिक्र मिलता है कि ब्रेस्ट मिल्क में प्रोटीन, कैल्शियम के साथ विटामिन बी-12 मौजूद रहता है। इन सभी तत्वों की मौजूदगी के कारण ब्रेस्ट मिल्क रूखी त्वचा और एक्जिमा जैसी स्थितियों के लिए उपयोगी साबित हो सकता है (4)। इस आधार पर ब्रेस्ट मिल्क को रूखी त्वचा की देखभाल में मददगार माना जा सकता है।

3. एलोवेरा

सामग्री :

  • एलोवेरा का एक बड़ा टुकड़ा

उपयोग का तरीका :

  • सबसे पहले एलोवेरा को काटकर उसका जेल निकाल लें।
  • अब एलोवेरा के जेल को अपनी त्वचा और चेहरे पर लगाकर मालिश करें, ताकि यह त्वचा में अच्छे से घुल जाए।
  • बेहतर परिणाम के लिए इसे रात को लगाकर सोएं, ताकि यह त्वचा में अच्छे से घुल जाए।
  • चाहें, तो बचा हुआ जेल किसी जार में रखकर फ्रिज में रख सकते हैं।

कितनी बार लगाएं?

  • हर रोज सोने से पहले इसे लगाकर सो सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है?

रूखी त्वचा की देखभाल के लिए एलोवेरा को अक्सर उपयोग किया जाता है। आजकल कई क्रीम और लोशन में भी एलोवेरा के गुण मौजूद होते हैं। इसमें मौजूद पॉलीसैकराइड (polysaccharide) त्वचा में मॉइस्चर को बरकरार रख सकते हैं और ड्राई स्किन से त्वचा को बचाने का काम कर सकते हैं। वहीं, इसमें मौजूद एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण एक्जिमा (त्वचा से जुड़ी इंफ्लेमेटरी समस्या) जैसी त्वचा स्थितियों पर प्रभावी रूप से काम कर सकते हैं (5)। ऐसे में अगर ताजा एलोवेरा जेल न मिले, तो बाजार में मिलने वाले एलोवेरा जेल का भी प्रयोग किया जा सकता है।

4. ऑयल्स

रूखी त्वचा के लिए घरेलू नुस्खे में तेल की भी अहम जगह है। हालांकि, आजकल ज्यादातर लोग तेल लगाने से परहेज करते हैं, लेकिन तेल लगाना न सिर्फ बालों के लिए, बल्कि त्वचा के लिए भी फायदेमंद होता है। इसलिए, यहां हम रूखी त्वचा की देखभाल के लिए फायदेमंद कुछ तेलों के बारे में बता रहे हैं।

क) नारियल तेल

सामग्री :

  • नारियल तेल आवश्यकतानुसार

उपयोग का तरीका :

  • अपनी रूखी त्वचा पर नारियल तेल लगाकर थोड़ी देर छोड़ दें, ताकि त्वचा तेल को सोख ले।

कितनी बार लगाएं?

  • नारियल तेल को दो से तीन बार या जब भी जरूरत पड़े लगा सकते हैं। इसके अलावा, हर रोज रात को नारियल तेल लगा सकते हैं, ताकि रातभर में त्वचा तेल को अच्छे से सोख ले।

कैसे फायदेमंद है?

नारियल तेल को वर्षों से उपयोग किया जा रहा है। यह न सिर्फ बालों के लिए, बल्कि त्वचा के लिए भी फायदेमंद हो सकता है। यह त्वचा की प्राकृतिक नमी को बरकरार रख सकता है। साथ ही यह त्वचा की सतह के लिपिड स्तर को बनाए रखने में भी मदद कर सकता है। इस बात की जानकारी इससे जुड़े एक शोध से मिलती है। वहीं, शोध में इसे एक मॉइस्चराइजर के रूप में प्रभावी माना गया है (6)। नहाने के बाद भी रूखी त्वचा के लिए घरेलू नुस्खे के तौर पर नारियल तेल का उपयोग कर सकते हैं, ताकि त्वचा ड्राई न हो।

ख) जोजोबा ऑयल

सामग्री :

  • आधा चम्मच जोजोबा तेल
  • दो कप गुनगुना पानी
  • साफ कपड़ा

उपयोग का तरीका :

  • एक साफ कपड़े को गर्म पानी में भिगोएं और फिर उसे अपने चेहरे पर रखें।
  • कपड़े को पांच से दस मिनट तक चेहरे पर रहने दें और फिर हटा लें।
  • अब अपने चेहरे पर हल्के-हल्के हाथों से कुछ मिनट तक जोजोबा ऑयल से सर्कुलर मोशन में मालिश करें।
  • थोड़ी देर के लिए त्वचा को तेल सोखने दें और जो भी एक्स्ट्रा तेल है, उसे कपड़े से पोंछ दें।

कितनी बार लगाएं?

  • हफ्ते में एक या दो बार इस तेल को लगा सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है?

जोजोबा ऑयल त्वचा के लिए मॉइस्चराइजर की तरह काम कर सकता है। यह त्वचा के रूखेपन की समस्या को कम कर सकता है। साथ ही इसमें एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण भी मौजूद होते हैं, जो त्वचा से जुड़ी सूजन की समस्या को कम करने में मदद कर सकते हैं (3)

ग) जैतून का तेल

सामग्री :

  • दो चम्मच एक्स्ट्रा वर्जिन ऑलिव ऑयल या ऑलिव ऑयल
  • एक या दो बूंद लैवेंडर एसेंशियल ऑयल
  • वॉश क्लॉथ (मुंह पोछने का कपड़ा)

उपयोग का तरीका :

  • लैवेंडर ऑयल को ऑलिव ऑयल यानी जैतून के तेल के साथ मिलाएं।
  • अब तेल के इस मिश्रण को त्वचा पर लगाए। अगर तेल अधिक लग जाए, तो कपड़े से पोछ लें।
  • हर दूसरे दिन मॉइस्चराइजर की तरह इस तेल का उपयोग कर सकते हैं।

कितनी बार लगाएं?

  • हर रोज रात को सोने से पहले तेल के इस मिश्रण को लगा सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है?

जैतून के तेल में त्वचा की कई समस्याओं को ठीक करने के साथ ही उसे पुनर्जीवित करने का भी गुण मौजूद होता है। एनसीबीआई के एक शोध के मुताबिक जैतून के तेल में मॉइस्चराइजिंग प्रभाव पाया जाता है, जो ड्राई स्किन से आराम दिलाने में मदद कर सकता है। यह प्रभाव जैतून के तेल में मौजूद एक खास तत्व स्क्वालीन (squalene) की वजह से पाया जाता है (3)। वहीं, लैवेंडर ऑयल से भी त्वचा को काफी लाभ हो सकता है, क्योंकि लैवेंडर ऑयल में एंटी-माइक्रोबियल, एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण मौजूद होते हैं। लैवेंडर ऑयल के ये गुण बैक्टीरियल इन्फेक्शन, त्वचा पर दिखने वाले मुक्त कणों के प्रभाव और सूजन को दूर करने में मदद कर सकते हैं (7)। इस कारण यह कहना गलत नहीं होगा कि इन दोनों तेलों का मिश्रण ड्राई स्किन के साथ किसी भी तरह की एलर्जी, जलन या सूजन से बचा सकता है।

सावधानी लैवेंडर के तेल को अगर बिना पानी में मिलाए हुए या अधिक मात्रा में लगाया गया, तो यह त्वचा में जलन का कारण बन सकता है।

घ) बादाम तेल

सामग्री :

  • चार चम्मच बादाम तेल
  • दो से तीन बूंद जिरेनियम एसेंशियल ऑयल (geranium essential oil)

उपयोग का तरीका :

  • सबसे पहले बादाम तेल को एक साफ शीशी में रख लें।
  • अब इसमें जिरेनियम एसेंशियल ऑयल को डालकर अच्छे से मिला लें।
  • फिर इस तेल के मिश्रण को मॉइस्चराइजर की तरह इस्तेमाल करें।
  • जिरेनियम एसेंशियल ऑयल के अलावा, रोजहिप ऑयल, अलसी का तेल और पिपरमिंट ऑयल का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

कितनी बार लगाएं?

  • बेहतर परिणाम पान के लिए इसे रोजाना रात में लगा सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है?

लोग सालों से त्वचा के लिए बादाम तेल का इस्तेमाल करते आ रहे हैं। यह न सिर्फ त्वचा को नर्म और मुलायम बना सकता है, बल्कि त्वचा की रंगत को भी निखारकर उसमें चमक भी ला सकता है। इसके साथ ही बादाम तेल एक्जिमा और सोरायसिस जैसी रूखी त्वचा से जुड़ी समस्याओं में भी उपयोगी साबित हो सकता है (8)। वहीं, जिरेनियम एसेंशियल ऑयल में एंटीसेप्टिक (बैक्टीरिया को नष्ट करने वाला) और एंटी-इन्फ्लेमेटरी (सूजन कम करने वाला) गुण होते हैं, जो त्वचा संबंधी आम समस्याओं में राहत पहुंचाने का काम कर सकते हैं (9)। इस आधार पर माना जा सकता है कि यह दोनों तेल संयुक्त रूप से रूखी त्वचा की समस्या में लाभकारी साबित हो सकते हैं।

ङ) विटामिन ई ऑयल

सामग्री :

  • एक या दो विटामिन-ई के कैप्सूल

उपयोग का तरीका :

  • कैप्सूल से तेल निकाल कर एक कटोरी में डाल लें।
  • अब इस तेल से अपनी रूखी त्वचा और चेहरे पर कुछ मिनट के लिए मालिश करें।
  • ज्यादा फायदे के लिए इसे रात को सोने से पहले लगाएं।
  • फिर सुबह धो लें।

कितनी बार लगाएं?

  • इसे रोजाना रात को लगाकर सो सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है?

विटामिन-ई तेल का उपयोग अत्यधिक रूखी त्वचा के लिए फायदेमंद होता है, क्योंकि यह त्वचा को हाइड्रेट कर सकता है (10)। वहीं, दूसरी ओर यह अल्ट्रावायलेट किरणों के कारण होने वाली त्वचा पर सूजन और लाली की समस्या से भी बचाव भी करता है (11)

च) सरसों का तेल

सामग्री :

  • एक या दो बूंद सरसों का तेल (आप जरूरत के अनुसार भी तेल ले सकते हैं)

उपयोग का तरीका :

  • रात में सोने से पहले थोड़ा-सा सरसों का तेल हाथ में लेकर अपने चेहरे पर लगा लें।
  • नहाने से पहले भी अपने शरीर पर सरसों का तेल लगा सकते हैं।

कितनी बार लगाएं?

  • हर रोज नहाने या रात में सोने से पहले सरसों का तेल इस्तेमाल किया जा सकता है।

कैसे फायदेमंद है?

रूखी त्वचा की समस्या में सरसों का तेल फायदेमंद साबित हो सकता है। दरअसल, सरसों के तेल में विटामिन-ई प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जो त्वचा के लिए लाभकारी माना जाता है (12)। वहीं, लेख में पहले ही बताया जा चुका है कि विटामिन-ई रूखी त्वचा की समस्या से राहत दिलाने का काम कर सकता है (10)। इसके साथ ही इसमें एंटीफंगल (फंगल इन्फेक्शन को दूर करने वाला) गुण होता है (13)। इन तथ्यों को देखते हुए सरसों के तेल को रूखेपन के साथ-साथ त्वचा के स्वास्थ्य के लिए भी उपयोगी माना जा सकता है।

छ) कुमकुमादि तैलम

सामग्री :

  • दो से तीन बूंद कुमकुमादि तैलम

उपयोग का तरीका :

  • प्रभावित स्थान पर इस तेल से अच्छे से मसाज करें और पूरी रात के लिए ऐसे ही छोड़ दें।

कितनी बार लगाएं?

  • हर रात इस प्रक्रिया को इस्तेमाल में लाया जाता सकता है।

कैसे फायदेमंद है?

कुमकुमादि तैलम से संबंधित एक जर्नल से यह बात स्पष्ट होती है कि रूखी त्वचा से राहत दिलाने में यह सहायक साबित हो सकता है। जर्नल में जिक्र मिलता है कि यह त्वचा को नमी और पोषण प्रदान करने में मदद कर सकता है (14)। इस आधार पर यह कहा जा सकता है कि रूखी त्वचा की समस्या से राहत पाने के लिए इस तेल को इस्तेमाल में लाना उपयोगी साबित हो सकता है।

5. ग्लिसरीन

सामग्री :

  • एक चम्मच ग्लिसरीन (जरूरत के अनुसार ज्यादा भी ले सकते हैं)
  • एक चम्मच गुलाब जल

उपयोग का तरीका :

  • ग्लिसरीन को गुलाब जल में मिलाकर एक मिश्रण तैयार कर लें।
  • फिर इसे अपनी रूखी त्वचा पर लगाएं और कुछ घंटों के लिए लगा रहने दें।
  • जब लगे कि यह ज्यादा चिपचिपा हो रहा है, तो इसे धो दें।

कितनी बार लगाएं?

  • बेहतर रिजल्ट के लिए इसे हर रोज लगाया जा सकता है।

कैसे फायदेमंद है?

ड्राई स्किन के घरेलू नुस्खे के तौर पर ग्लिसरीन को भी इस्तेमाल में लाया जा सकता है। यह न सिर्फ रूखी त्वचा बल्कि फटे होंठों के लिए भी फायदेमंद माना जाता है। यह त्वचा के मॉइस्चर को लॉक कर उसे रूखा होने से भी बचा सकता है और लंबे वक्त तक त्वचा को नर्म और मुलायम बनाए रखने में मदद कर सकता है। ग्लिसरीन से संबंधित एनसीबीआई के एक शोध में इस बात का साफ जिक्र मिलता है (15)। इसलिए, इसे ड्राई स्किन के लिए प्रभावी माना जा सकता है।

6. ग्रीन टी

सामग्री :

  • आधा चम्मच ग्रीन टी की पत्तियां ( ग्रीन टी का बैग भी ले सकते हैं)
  • एक चम्मच मलाई

उपयोग का तरीका :

  • ग्रीन टी के पत्तों को मलाई में अच्छे से मिलाएं और अगर ग्रीन टी का बैग इस्तेमाल कर रहे हैं, तो उसे काटकर उसके अंदर से पत्तियां निकालें और मलाई में मिलाएं।
  • फिर उसे थोड़े देर के लिए रख दें।
  • थोड़ी देर बाद इसे मिक्स करें और चेहरे पर लगाएं।
  • दो से तीन मिनट के लिए इससे चेहरे की मालिश करें और फिर 10 से 15 मिनट के लिए उसे सूखने दें।
  • सूखने के बाद पानी से धो लें।

कितनी बार लगाएं?

  • इसे हफ्ते में दो बार लगा सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है?

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ मोल्यूकुलर साइंसेज के एक शोध में साफ तौर पर माना गया है कि इसमें त्वचा को नमी प्रदान करने का गुण होता है। साथ ही त्वचा में मौजूद प्राकृतिक नमी को लॉक करने का भी काम कर सकती है। इस काम में ग्रीन टी में मौजूद ह्यालुरोनिक एसिड (hyaluronic acid) अहम भूमिका निभाता है (16)

7. शहद

सामग्री :

  • दो चम्मच शहद
  • आधा चम्मच दालचीनी पाउडर

उपयोग का तरीका :

  • शहद और दालचीनी पाउडर को मिलाएं।
  • अब इस मिश्रण को अपने चेहरे पर लगाएं।
  • फिर 10 से 15 मिनट बाद धो लें।

कितनी बार लगाएं?

  • इस मिश्रण को तीन से चार दिन में एक बार लगा सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है

ड्राई स्किन के घरेलू नुस्खे में शहद को भी शामिल किया गया है। वर्षों से शहद के फायदे त्वचा के लिए उपयोगी माने जाते रहे हैं। यह प्राकृतिक तरीके से त्वचा को मॉइस्चराइज रख सकता है (17)। वहीं, दालचीनी में मौजूद एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण त्वचा से जुड़ी सूजन की समस्या में आराम पहुंचाने का काम कर सकता है (18)। इस आधार पर ड्राई स्किन केयर रूटीन में शहद को उपयोगी माना जा सकता है।

8. विटामिन-सी

अन्य पोषक तत्वों के साथ त्वचा के लिए विटामिन-सी भी अहम माना जाता है। यह रूखी, बेजान और झुर्रियों की समस्या में लाभकारी साबित हो सकता है। इसके अलावा, इसमें सूजन को कम करने और घाव को भरने के भी गुण मौजूद होते हैं (19)। विटामिन-सी के लाभ हासिल करने के लिए बेहतर है कि अपनी डाइट में विटामिन-सी युक्त आहार को शामिल किया जाए। इसके लिए नींबू, संतरा, पपीता, टमाटर, ब्रोकली व कीवी जैसे खाद्य पदार्थ खाने में शामिल किए जा सकते हैं। वहीं, विटामिन-सी युक्त क्रीम व लोशन का इस्तेमाल करने से भी रूखी और बेजान त्वचा में लाभ हासिल हो सकते हैं।

जारी रखें पढ़ना

9. ओटमील (जई की दलिया)

सामग्री :

  • दो से तीन चम्मच ओटमील (जई की दलिया)
  • एक चम्मच शहद
  • एक चौथाई कप दूध

उपयोग का तरीका :

  • एक सॉसपैन में दूध गर्म कर लें।
  • अब एक कटोरे में दलिया डालें और उसमें दूध मिलाएं।
  • फिर थोड़ी देर बाद इसमें शहद मिला लें और अच्छे से मिश्रण बनाएं।
  • अब इस मिश्रण को अपने चेहरे पर लगा लें और 10 से 15 मिनट तक लगा रहने दें।
  • फिर जब यह सूख जाए, तो अपनी उंगलियों को पानी में भिगोकर चेहरे की मालिश करें।
  • उसके बाद ठंडे पानी से चेहरा धो लें।

कितनी बार लगाएं?

  • इस फेसपैक को हफ्ते में दो बार लगा सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है?

ड्राई स्किन केयर रूटीन में ओटमील काफी फायदेमंद हो सकता है। क्लिनिकल कॉस्मेटिक एंड इन्वेस्टिगेशनल डर्मेटोलॉजी द्वारा किए गए एक शोध में इस बात की पुष्टि होती है। शोध में माना गया है कि ओटमील का त्वचा पर उपयोग करने से त्वचा पर चकत्ते, चुभन और रूखेपन की समस्या को दूर करने में मदद मिल सकती है (20)। इस आधार पर ओटमील को ड्राई स्किन के घरेलू नुस्खे के तौर पर फायदेमंद माना जा सकता है।

10. मेथी

सामग्री :

  • दो चम्मच मेथी के दाने
  • जैतून तेल या नारियल तेल की कुछ बूंदें
  • पानी (आवश्यकतानुसार)

उपयोग का तरीका :

  • पहले मेथी के दानों का पाउडर बना लें।
  • अब इस पाउडर में तेल और पानी मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें।
  • फिर इस पेस्ट को अपने चेहरे पर लगाकर 10 से 15 मिनट के लिए सूखने दें।
  • उसके बाद इस पैक को ठंडे पानी से धो लें।

कितनी बार लगाएं?

  • हफ्ते में दो बार इस पैक को लगा सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है?

ड्राई स्किन के घरेलू नुस्खे में मेथी भी शामिल है। इससे जुड़े एक शोध में मेथी के दानों को त्वचा के लिए उपयोगी माना गया है। शोध में जिक्र मिलता है कि इसमें कुछ ऐसे पदार्थ होते हैं, जो त्वचा को मॉइस्चराइज कर सकते हैं। इसके साथ ही इसमें एंटी-रिंकल, घाव को भरने और त्वचा को आराम देने के गुण भी मौजूद  होते हैं (21)। इस तथ्य को देखते हुए मेथी के दानों को प्रभावी ड्राई स्किन होम रेमेडी माना जा सकता है।

11. अदरक

सामग्री :

  • एक चम्मच अदरक का रस
  • एक चम्मच शहद
  • एक चम्मच गुलाब जल

उपयोग का तरीका :

  • पहले अदरक का रस निकाल लें और फिर उसमें शहद और गुलाब जल मिलाकर मिश्रण बना लें।
  • अब इस पेस्ट को अपने चेहरे पर लगाएं।
  • उसके बाद इसे 10 से 15 मिनट के लिए लगा रहने दें।
  • फिर पानी से धो लें।

कितनी बार लगाएं?

  • हफ्ते में एक या दो बार यह फेसपैक लगा सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है?

अदरक को भी ड्राई स्किन के लिए घरेलू उपाय में प्रयोग किया जा सकता है। दरअसल, इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जो त्वचा को मुक्त कणों के प्रभाव से बचा सकते हैं। साथ ही अदरक में एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण भी मौजूद हैं (22)। चूंकि एंटीऑक्सीडेंट गुण मुक्त कणों के प्रभाव को कम कर एजिंग की समस्या को कम करने में मदद कर सकता है (23)। ऐसे में अदरक का उपयोग रूखी त्वचा की समस्या में सहायक हो सकता है। इस आधार पर माना जा सकता है कि अदरक से रूखी त्वचा का घरेलू इलाज किया जा सकता है। हालांकि, इस संबंध में कोई भी स्पष्ट वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं।

12. बेसन

सामग्री :

  • दो चम्मच बेसन ( जरूरत के अनुसार भी ले सकते हैं)
  • आधा चम्मच हल्दी
  • एक चम्मच शहद
  • एक चम्मच मलाई
  • गुलाब जल आवश्यकतानुसार

उपयोग का तरीका :

  • सभी सामग्रियों को मिलाकर पेस्ट बना लें।
  • अब इस पेस्ट को अपनी रूखी त्वचा पर लगाकर सूखने दें।
  • इसे सूखने में 10 से 15 मिनट लगेंगे।
  • जब यह सूख जाए, तो गुनगुने पानी से धो लें।
  • इसे लगाने के बाद आप मॉइस्चराइजर भी लगा सकते हैं।

कितनी बार लगाएं?

  • इसे हफ्ते में एक या दो बार लगा सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है

ड्राई स्किन होम रेमेडी में बेसन भी शामिल है। इसके उपयोग से त्वचा पर धूल-मिट्टी और प्रदूषण से होने वाली क्षति से आराम मिल सकता है। बेसन त्वचा की अशुद्धियों को निकालकर त्वचा को अच्छे से साफ कर सकता है। इस कारण इसे त्वचा की देखभाल के लिए उपयोगी माना गया है। इसके लिए बेसन से बने फेस पैक को त्वचा पर लगाने की सलाह दी जाती है (24)। ऐसे में कई लोगों का मानना है कि यह त्वचा के रूखेपन को दूर करने में भी मददगार साबित हो सकता है। मगर इस संबंध में कोई स्पष्ट प्रमाण उपलब्ध नहीं है कि बेसन के फायदे रूखी त्वचा की समस्या में राहत पहुंचा सकते हैं। हां, यह जरूर है कि बेसन के फेस पैक में शामिल किया जाने वाला शहद त्वचा को नमी प्रदान करने का काम कर सकता है, जो रूखी त्वचा के लिए लाभकारी है (25)। इस आधार पर रूखी त्वचा का घरेलू इलाज करने के लिए बेसन को उपयोगी माना जा सकता है।

13. पेट्रोलियम जेली

ड्राई स्किन के लिए घरेलू उपाय में पेट्रोलियम जेली भी शामिल है। इंडियन जर्नल ऑफ डर्मेटोलॉजी के शोध में स्पष्ट तौर पर स्वीकार किया गया है कि पेट्रोलियम जेली एक अच्छे मॉइस्चराइजर की तरह काम कर सकती है। इस कारण त्वचा पर इसका इस्तेमाल करने से त्वचा के रूखेपन की समस्या में राहत हासिल की जा सकती है (26)। ड्राई स्किन होम रेमेडी के तौर पर इसे नहाने के बाद त्वचा पर नियमित इस्तेमाल के लिए उपयोग में लाया जा सकता है।

14. नीम

सामग्री :

  • नीम की कुछ पत्तियां (आवश्यकतानुसार)
  • एक चम्मच गुलाब जल
  • पानी (आवश्यकतानुसार)

उपयोग का तरीका :

  • सबसे पहले नीम की पत्तियों को आवश्यकतानुसार पानी के साथ पीस लें।
  • अब तैयार पेस्ट में एक चम्मच गुलाब जल मिलाएं और पेस्ट को चेहरे व अन्य प्रभावी क्षेत्र पर लगाएं।
  • अब इसे करीब 15 से 20 मिनट के लिए ऐसे ही छोड़ दें।
  • जब पेस्ट अच्छी तरह से सूख जाए, तो हल्के गुनगुने पाने से इसे धो डालें।

कितनी बार लगाएं?

  • इस पेस्ट को हफ्ते में दो से तीन बार लगाने के लिए इस्तेमाल में लाया जा सकता है।

कैसे फायदेमंद है?

ड्राई स्किन का इलाज नीम के उपयोग से भी किया जा सकता है। फार्माकोग्नोसी रिव्यू द्वारा किए गए एक शोध में जिक्र मिलता है कि नीम का अर्क एंटी-एक्ने मॉइस्चराइजर की तरह काम कर सकता है, यानी एक ऐसा मॉइस्चराइजर, जो नमी प्रदान करने के साथ ही कील-मुहासों की समस्या को दूर करने में भी मदद कर सकता है (27)। इस आधार पर यह कहना गलत नहीं होगा कि नीम की पत्तियों के पेस्ट से रूखी त्वचा का घरेलू इलाज किया जा सकता है।

15. हल्दी

सामग्री :

  • आधा चम्मच हल्दी पाउडर
  • एक चम्मच शहद
  • एक चम्मच दही या जैतून तेल या आर्गन तेल

उपयोग का तरीका :

  • सभी सामग्रियों को मिलाकर एक पेस्ट तैयार कर लें।
  • अब इस फेसपैक को चेहरे पर लगाएं और 10 से 15 मिनट के लिए सूखने दें।
  • जब यह सूख जाए, तो ठंडे पानी से धो लें।

कितनी बार लगाएं?

  • हफ्ते में एक या दो बार इस फेसपैक को लगाया जा सकता है।

कैसे फायदेमंद है?

ड्राई स्किन होम रेमेडी में हल्दी भी शामिल है। हल्दी के फायदे से जुड़े एक शोध में जिक्र मिलता है कि यह त्वचा के लिए काफी लाभकारी है, इसलिए इसे साबुन के साथ कई सौंदर्य बढ़ाने वाले उत्पादों में शामिल किया जाता है। शोध में यह भी जिक्र मिलता है कि इसमें करक्यूमिन (curcumin) नाम का एक खास तत्व पाया जाता है। इस खास तत्व की मौजूदगी के कारण हल्दी बढ़ती उम्र के प्रभाव को कम करने के साथ रूखी त्वचा की समस्या में भी राहत पहुंचा सकती है। इसके अलावा, मुंहासे, एक्जिमा और सोरायसिस जैसी कई त्वचा संबंधी समस्याओं में भी यह सहायक हो सकती है (28)। इस तथ्य को देखते हुए यह कहा जा सकता है कि ड्राई स्किन के लिए घरेलू उपाय के तौर पर हल्दी का उपयोग सहायक साबित हो सकता है।

16. एप्सम साल्ट स्क्रब

सामग्री :

  • दो कप एप्सम साल्ट
  • एक चौथाई कप पेट्रोलियम जेली या जैतून का तेल
  • 10 बूंद लैवेंडर एसेंशियल ऑयल

उपयोग का तरीका :

  • सभी सामग्रियों को एक बर्तन में डालकर अच्छे से मिक्स करें।
  • अच्छे से मिक्स करने के बाद तैयार स्क्रब को किसी एयरटाइट जार में भर कर रख लें।
  • अब नहाने से पूर्व करीब एक चम्मच स्क्रब लेकर 3 से 4 मिनट तक चेहरे व अन्य प्रभावित क्षेत्रों को स्क्रब करें।
  • स्क्रब हो जाने के बाद इसे सामान्य पानी से धो डालें।
  • इसके बाद नहा लें।

कितनी बार लगाएं?

  • इस स्क्रब को हफ्ते में एक बार इस्तेमाल में ला सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है?

एप्सम साल्ट (मैग्नीशियम सल्फेट) की मदद से भी ड्राई स्किन का इलाज संभव हो सकता है। विशेषज्ञों के मुताबिक त्वचा और पैरों की सुंदरता बढ़ाने के लिए एप्सम साल्ट को उपयोग में लाया जा सकता है (29)। वहीं, एनसीबीआई के एक शोध में जिक्र मिलता है कि मैग्नीशियम से समृद्ध साल्ट नहाने के पानी में मिलाकर उपयोग में लाने से रूखी-सूखी और बेजान त्वचा से राहत पाई जा सकती है। वहीं, यह त्वचा संबंधी सूजन को दूर करने में भी मददगार हो सकता है (30)। इस आधार पर यह माना जा सकता है कि एप्सम साल्ट स्क्रब (जो मैग्नीशियम से समृद्ध होता है) को रूखी त्वचा का घरेलू इलाज माना जा सकता है।

17. दही

सामग्री :

  • आधा कप दही
  • तीन चम्मच चीनी
  • दो चम्मच शहद

उपयोग का तरीका :

  • एक बर्तन में दही में चीनी और शहद डालकर अच्छे से मिलाएं।
  • अब तैयार हुए पेस्ट को चेहरे पर लगाएं और उंगलियों को सर्कुलर घुमाते हुए मसाज करें।
  • करीब पांच मिनट मसाज करने के बाद पांच मिनट के लिए ऐसे ही छोड़ दें।
  • समय पूरा होने के बाद इसे पानी से धो डालें।

कितनी बार लगाएं?

  • इस प्रक्रिया को हफ्ते में एक बार दोहरा सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है?

ड्राई स्किन के लिए घरेलू उपाय के तौर पर दही को भी उपयोग किया जा सकता है। एनसीबीआई द्वारा प्रकाशित एक शोध में माना गया है कि दही युक्त फेस पैक का उपयोग त्वचा के लिए फायदेमंद है। यह त्वचा को नमी प्रदान कर उसे सुरक्षा और सुंदरता प्रदान कर सकता है (31)। वहीं, एक अन्य शोध में यह भी माना गया है कि दही खाने से भी रूखी त्वचा की समस्या से राहत मिल सकती है। इन तथ्यों के आधार पर यह माना जा सकता है कि ड्राई स्किन का इलाज करने के लिए दही का उपयोग सकारात्मक प्रभाव प्रदर्शित कर सकता है। हालांकि, इस मामले में अभी और शोध किए जाने की आवश्यकता है (32)

18. स्लिपरी एल्म

सामग्री :

  • एक चम्मच स्लिपरी एल्म (एक प्रकार की जड़ी बूटी) पाउडर
  • दो चम्मच एलोवेरा जेल
  • दो बूंद लैवेंडर एसेंशियल ऑयल (वैकल्पिक)

उपयोग का तरीका :

  • स्लिपरी एल्म पाउडर को एलोवेरा जेल में मिलाकर चेहरे पर लगाएं।
  • अब इसे 20 मिनट के लिए ऐसे ही छोड़ दें।
  • समय पूरा होने के बाद सामान्य पानी से इसे धो डालें।

कितनी बार लगाएं?

  • इसे हफ्ते में करीब दो से तीन बार तक उपयोग किया जा सकता है।

कैसे फायदेमंद है?

स्लिपरी एल्म (Slippery Elm), जो कि एक प्रकार की जड़ी-बूटी है। इसमें म्यूसीलेज नाम का एक खास तत्व पाया जाता है। यह त्वचा में मौजूद प्राकृतिक नमी को बांधे रखने में मदद कर सकता है। इस कारण यह त्वचा को आराम पहुंचाने के साथ रूखी त्वचा की समस्या में भी लाभकारी प्रभाव प्रदर्शित कर सकती है (33)। इस आधार पर ड्राई स्किन का इलाज करने के लिए स्लिपरी एल्म को प्रभावी माना जा सकता है।

पढ़ते रहें लेख

ड्राई स्किन को ग्लो कैसे करें? जानने के बाद अब हम रूखी त्वचा के लिए कुछ और फेस पैक बताएंगे।

रूखी त्वचा के लिए कुछ और फेस पैक

उपरोक्त घरेलू उपायों के अलावा बाजार में उपलब्ध रूखी त्वचा के लिए फेस पैक को भी उपयोग में ला सकते हैं। जो कुछ इस प्रकार हैं :

आगे पढ़ें लेख

लेख के अगले भाग में हम आपको रूखी त्वचा के लिए क्या खाना चाहिए, इस बारे में बताएंगे।

रूखी त्वचा के लिए आहार – Diet for Dry Skin in Hindi

विटामिन-सी, ई, ए और डी के साथ कैरोटीनॉयड, टोकोफेरोल्स और फ्लेवोनोइड जैसे तत्व त्वचा के लिए जरूरी हैं। इन जरूरी पोषक तत्वों से युक्त आहार से रूखी और बेजान त्वचा की समस्या काफी हद तक कम हो सकती है। इन पोषक तत्वों से युक्त आहार कुछ इस प्रकार हैं (34) :

  • सिट्रस फ्रूट (नींबू या मौसम्बी), रोज हिप, अमरूद जैसे फलों के साथ पार्सले का सेवन कर सकते हैं।
  • सब्जियों का अधिक से अधिक सेवन करें।
  • मकई, सोया और संभव हो, तो कुछ मात्र में मांस का भी सेवन कर सकते हैं।
  • गाजर, कद्दू, आम और पपीते को भी आहार में शामिल किया जा सकता है।
  • मछली, अंडा और दूध जैसे खाद्य पदार्थों को भी आहार में जगह दे सकते हैं।

नीचे स्क्रॉल करें

लेख में अब आगे जानिए रूखी त्वचा का इलाज कैसे किया जाए?

रूखी त्वचा के लिए इलाज – Treatment For Dry Skin in Hindi

रूखी त्वचा के लिए क्या खाना चाहिए? यह जानने के बाद इसके डॉक्टरी इलाज संबंधी जानकारी भी होना जरूरी है। सामान्य तौर पर रूखी त्वचा का इलाज करने के लिए डॉक्टर मॉइस्चराइजिंग क्रीम या लोशन लगाने की सलाह दे सकता है, जिससे त्वचा खोई हुई नमी को दोबारा हासिल कर सके। वहीं, ड्राई स्किन की समस्या अगर गंभीर है, तो डॉक्टर इसके होने के कारण के आधार पर अन्य इलाज भी कर सकते हैं (35)

पढ़ते रहें लेख

ड्राई स्किन की समस्या के लिए डॉक्टरी सलाह कब लें? जानिए आगे।

रूखी त्वचा के लिए डॉक्टर की सलाह कब लेनी चाहिए?

नीचे दी गई स्थितियां नजर आने पर बिना देर किए रूखी त्वचा के लिए डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए (1)

  • बिना चकत्तों के त्वचा पर खुजली महसूस होने पर।
  • त्वचा के रूखेपन या खुजली की वजह से सोने में दिक्कत होने पर।
  • अगर खुजली करने के कारण कट या घाव हो जाए।
  • अगर सभी तरह के घरेलू उपाय अपनाने के बाद भी रूखेपन के कारण होने वाली खुजली और चुभन से आराम न मिले।

आगे पढ़ें लेख

ड्राई स्किन को कैसे ठीक करें? यह समझने के बाद जानिए रूखी त्वचा से बचाव के उपाय।

रूखी त्वचा से बचाव के उपाय – Prevention Tips For Dry Skin in Hindi

निम्न बिंदुओं के माध्यम से हम रूखी त्वचा से बचाव के उपाय के बारे में जान सकते हैं (1)

  • अल्कोहल और डाई जैसे रासायनिक पदार्थों से युक्त साबुन या अन्य उत्पादों का उपयोग न करें।
  • दिन में एक बार ही नहाएं और नहाने के लिए गर्म पानी का इस्तेमाल न करें।
  • स्क्रब का इस्तेमाल करने से बचें।
  • नर्म और मुलायम कपड़ों को पहनने के लिए इस्तेमाल में लाएं और गर्म और कठोर कपड़ों का चयन न करें।
  • शेविंग हमेशा नहाने के बाद ही करें, ताकि सभी बाल नर्म और मुलायम हो जाएं।

स्क्रॉल करें

रूखी त्वचा से बचाव के उपाय जानने के बाद अब हम रूखी त्वचा से जुड़े कुछ अन्य टिप्स दे रहे हैं।

रूखी त्वचा (ड्राई स्किन) के लिए कुछ और टिप्स – Other Tips For Dry Skin Care in Hindi

रूखी त्वचा (ड्राई स्किन) के लिए अन्य टिप्स कुछ इस प्रकार हैं (1):

  • नियमित नहाने के बाद मॉइस्चराइजर का इस्तेमाल करें।
  • अधिक से अधिक पानी पिएं।
  • नहाने में अधिक समय न लगाएं। करीब 5 से 10 मिनट में नहा लें।
  • साधारण साबुन की जगह मॉइस्चराइजर युक्त साबुन का इस्तेमाल करें।
  • कपड़े धोने के लिए डाई और महक के लिए इस्तेमाल होने वाले रसायन युक्त डिटर्जेंट का इस्तेमाल न करें।

अब आप बेहतर तरीके से स्किन ड्राई होने के कारण समझ गए होंगे। दोस्तों, इस समस्या से अधिक परेशान होने की जरूरत नहीं है। लेख में दिए रूखी त्वचा के घरेलू उपाय अपनाकर इस समस्या से बहुत हद तक राहत पाई जा सकती है। वहीं, समस्या अधिक हो, तो रूखी त्वचा का इलाज करने के लिए डॉक्टर से बिना देर किए संपर्क करना चाहिए, ताकि ड्राई स्किन केयर के लिए आप डॉक्टर द्वारा सुझाए एक प्रभावी लोशन या क्रीम का चयन कर सकें। वहीं, लेख में हमने ड्राई स्किन केयर रूटीन से जुड़ी कई टिप्स भी दी हैं, जिनके माध्यम से आप इस समस्या को बढ़ने से पहले ही रोक सकते हैं। उम्मीद है रूखी त्वचा से संबंधित हर छोटी-बड़ी जानकारी हासिल करने में यह लेख काफी हद तक मददगार साबित हुआ होगा।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

गर्मियों में रूखी त्वचा से बचाव के लिए क्या ध्यान रखना चाहिए?

गर्मियों में ड्राई स्किन केयर के लिए आपको मुंह और हाथ को ठंडे पानी से धोना चाहिए। उसके बाद त्वचा को किसी कपड़े से पोंछने की जगह अपने आप ही सूखने देना चाहिए। इससे त्वचा में नमी बनी रहेगी। इसके अलावा, आपको यह भी ध्यान रखना होगा कि आप धूप में अधिक देर न रहें।

क्या नहाने से आपकी त्वचा रूखी हो सकती है?

अधिक देर तक नहाने या पानी में भीगने से त्वचा में रूखापन आ सकता है। यही वजह है कि लेख में दिए ड्राई स्किन केयर संबंधी उपाय में अधिक तक देर न नहाने की सलाह दी गई है।

ड्राई स्किन रैश क्या है?

अत्यधिक रूखी त्वचा के कारण त्वचा पर चकत्ते बन जाते हैं, जिनमें खुजली का एहसास होता है। इसे ही ड्राई स्किन रैश कहा जाता है।

नवजात बच्चों की रूखी त्वचा पर क्या लगाया जा सकता है?

बाजार में कई बेबी स्किन मॉइस्चराइजर उपलब्ध है, जिन्हें बच्चों के लिए इस्तेमाल में लाया जा सकता है। वहीं, सुरक्षा के नजरिए से आपके बच्चे के लिए कौन-सा मॉइस्चराइजर उपयुक्त रहेगा, इस संबंध में आप डॉक्टर से सलाह ले सकते हैं।

रूखी त्वचा को मॉइस्चराइज करने का सबसे आसान और तेज तरीका कौन-सा है?

मॉइस्चराइजर एक आसान विकल्प है, जिसकी मदद से रूखी त्वचा को जल्द ही आराम मिल सकता है।

क्या ड्राई स्किन के कारण कोई अन्य बीमारी हो सकती है?

ड्राई स्किन एक आम समस्या है। वहीं, इसकी वजह से होने वाली किसी बीमारी के विषय में सटीक वैज्ञानिक प्रमाण फिलहाल उपलब्ध नहीं हैं।

रूखी त्वचा से बचाव में कौन से विटामिन कारगर हैं?

जैसा कि हमने लेख में बताया कि विटामिन-सी और विटामिन-ई ड्राई स्किन के लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं।

Sources

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Check out our editorial policy for further details.

और पढ़े:

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

Suvina Attavar (Dermatologist & Hair transplant surgeon)

()
Dr. Suvina Attavar - I have a thirst for learning and a passion for Dermatology, Cosmetology and hair transplantation. I... more

ताज़े आलेख