सफेद बालों से छुटकारा पाने के घरेलू इलाज – White Hair (Safed Baal) Treatment at Home in Hindi

by

हर किसी का सपना होता है कि वो खूबसूरत और जवां दिखे, लेकिन शरीर में असमय आए कुछ बदलाव सुंदरता को बिगाड़ देते हैं। उम्र से पहले बालों का सफेद होना भी ऐसी ही समस्या है। आजकल युवाओं के बीच यह गंभीर चिंता का विषय है। खासकर, महिलाओं को यह समस्या ज्यादा परेशान करती है। आमतौर बालों का सफेद होना 30 वर्ष की उम्र के बाद शुरू होता है, लेकिन आधुनिक व अनियंत्रित जीवनशैली के कारण बालों की यह सफेदी कम उम्र में दिखने लगी है। कई इस सफेदी को छुपाने के लिए बालों पर कलर लगाते हैं। हालांकि, इससे सफेद बाल कुछ समय के लिए छुप जाते हैं, लेकिन अन्य समस्याओं का खतरा बढ़ जाता है। इस लेख में हमारे साथ जानिए सफेद बालों से छुटकारा पाने के सबसे कारगर घरेलू उपायों के बारे में।

सबसे पहले जानते हैं कि किन कारणों से असमय बाल सफेद होते हैं।

सफेद बाल होने के कारण – What Causes White Hair in Hindi

नई कोशिकाओं के उगने से हेयर फोलीसेल्स पुरानी कोशिकाओं को बाहर निकाल फेंकते हैं, यही बाल उगने की प्रक्रिया होती है। यह प्रक्रिया तीन चरणों को पूरा करती है, जिसमें ऐनाजेन (बढ़ना), केटाजेन (रुकना) और टेलोजेन (झड़ना) शामिल हैं। टेलोजेन के बाद ही नए बाल उगने की प्रक्रिया फिर से शुरू होती है। बाल बढ़ने के दौरान उन्हें पिगमेंट से रंग प्राप्त होता है। उम्र के साथ-साथ बालों में पिगमेंट की मात्रा कम होने लगती है और परिणामस्वरूप बाल सफेद होने लगते हैं।

यह थी बाल सफेद होने की सामान्य प्रक्रिया। नीचे जानिए इसके असामान्य कारकों के बारे में :

  1. अनुवांशिकता: असमय बाल सफेद होने का एक कारण अनुवांशिकता भी है। यह कारक निर्धारित करता है कि उम्र के किस पड़ाव में आकर आपके बालों में पिगमेंट की कमी होनी शुरू होगी।
  2. मेलानिन की कमी : मेलानिन एक प्राकृतिक रंगद्रव्य है, जो अधिकांश जीवों में पाया जाता है। सही पोषण न मिलने के कारण शरीर में इसकी कमी होने लगती है और फलस्वरूप बाल सफेद होने लगते हैं।
  3. चिकित्सीय स्थिति : थायराइड, विटामिन-बी12 की कमी व पिट्यूटरी ग्रंथियों में समस्या आदि के कारण भी बालों के सफेद होने के आसार बढ़ जाते हैं।
  4. तनाव : बाल सफेद होने का एक कारण तनाव भी है। तनाव से शरीर बुरी तरह प्रभावित होता है, जिसका एक नकारात्मक प्रभाव बालों का सफेद होना भी है।
  5. रसायन : रसायन युक्त शैंपू, साबुन व हेयर डाई आदि का उपयोग बाल सफेद होने का कारण बन सकता है। यह समस्या एलर्जी की वजह से भी हो सकती है।
  6. अन्य कारण : बाल सफेद होने के और भी कई कारण हो सकते हैं, जिसमें प्रदूषण, जलवायु व हेयर डाई में बदलाव आदि भी शामिल हैं।

आगे हम जानेंगे उन घरेलू उपायों के बारे में, जो बालों को असमय सफेद होने से रोक सकते हैं।

सफेद बालों का घरेलू इलाज – Home Remedies for White Hair in Hindi

बालों के सफेद होने का इलाज आप आधुनिक दवाइयों के माध्यम से भी कर सकते हैं, लेकिन इनके साइड इफेक्ट्स का खतरा ज्यादा रहता है। इसलिए, आप इस समस्या से निजात पाने के लिए यहां बताए जा रहे घरेलू उपायों को अपना सकते हैं :

1. आंवला

Shutterstock

सामग्री

  • तीन-चार आंवलें
  • एक कप नारियल का तेल

कैसे करें इस्तेमाल

  • आवंलों को धोकर छोटा-छोटा काट लें।
  • अब नारियल के तेल के साथ कटे हुए आंवलों को 10 मिनट तक उबालें।
  • 10 मिनट बाद किसी जार में इस मिश्रण को रख दें।
  • रोजाना दो चम्मच इस मिश्रण से स्कैल्प की मसाज करें।
  • लगभग एक-दो घंटे बाद बालों को शैंपू से धो लें।
  • हफ्ते में दो-चार बार इस प्रक्रिया को दोहराएं।

कैसे है लाभदायक

आंवला बालों के लिए एक टॉनिक की तरह काम करता है। इसमें, विटामिन-सी भरपूर मात्रा में होता है (1), जो इसे कारगर एंटीऑक्सीडेंट एजेंट बनाने का काम करता है। बालों के लिए इसके कई फायदे हैं, यह क्षतिग्रस्त बालों की मरम्मत करने के साथ-साथ बालों में पिगमेंटेशन की मात्रा का विकास भी करता है (2), जिससे बालों को कुदरती रंग प्राप्त करने में मदद मिलती है। बाल सफेद होने की समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप इसका प्रयोग बताए गए तरीके से कर सकते हैं।

2. करी पत्ता

सामग्री

  • 12-15 करी पत्ते
  • तीन चम्मच नारियल का तेल

कैसे करें इस्तेमाल

  • नारियल तेल के साथ करी पत्तों को 10 मिनट तक उबालें।
  • अब तेल को छान लें और ठंडा होने के लिए रख दें।
  • अब तेल से स्कैल्प की अच्छी तरह मसाज करें।
  • एक-दो घंटे बाद बालों को शैंपू से धो लें।
  • हफ्ते में दो-चार बार इस प्रक्रिया को दोहराएं।

कैसे है लाभदायक

सफेद बालों के घरेलू इलाज के तौर पर आप करी पत्तियों का इस्तेमाल कर सकते हैं। करी पत्तियां बालों में मेलानिन पिगमेंटेशन को बढ़ाने में मदद करती हैं। करी पत्तियां विटामिन-बी से समृद्ध होती हैं, जिससे बालों के विकास में मदद मिलती है। असमय बालों की सफेदी से निजात पाने के लिए आप करी पत्तों का प्रयोग कर सकते हैं (3)।

3. हीना

सामग्री

  • पांच चम्मच हीना पाउडर
  • एक चम्मच कॉफी पाउडर
  • एक कप पानी

कैसे करें इस्तेमाल

  • कॉफी पाउडर को पानी में अच्छी तरह मिला लें।
  • अब घुली हुई कॉफी को हीना पाउडर में मिलाएं।
  • अब यह मिश्रण स्कैल्प और बालों पर लगाएं।
  • तीन-चार घंटे बाद बालों को शैंपू से धो लें।
  • इस मिश्रण को तीन हफ्तों में एक बार लगाएं।

कैसे है लाभदायक

बालों की सफेदी छुपाने के लिए हीना एक प्रभावी तरीका है। यह बालों के सफेद भागों को हल्का लाल रंग प्रदान करता हैं, जिससे सफेदी छुप जाती है। कॉफी और हीना का मिश्रण बालों को रंगने का एक हर्बल तरीका है (4)। हीना बालों को मुलायम बनाने का काम भी करता है। केमिकल युक्त कलर की जगह हीना का इस्तेमाल करना ज्यादा फायदेमंद है।

4. नारियल का तेल और नींबू का रस

Shutterstock

सामग्री

  • दो चम्मच नारियल का तेल
  • दो चम्मच नींबू का रस

कैसे करें इस्तेमाल

  • नारियल के तेल को नींबू के रस के साथ हल्का गर्म कर लें।
  • अब इस मिश्रण को स्कैप्ल और बालों पर लगाएं।
  • 30 मिनट बाद बालों को शैंपू से धो लें।
  • हफ्ते में दो बार यह प्रक्रिया दोहराएं।

कैस है लाभदायक

नींबू विटामिन-बी और सी के साथ फास्फोरस का एक समृद्ध स्रोत भी है (5)। यह बालों के रोम में पिगमेंट सेल्स को संतुलित करने का काम करता है। असमय सफेद बालों की समस्या से निजात पाने के लिए आप नींबू का इस्तेमाल कर सकते हैं।

5. प्याज का रस

सामग्री

  • एक मध्यम आकार का प्याज
  • एक चम्मच जैतून का तेल

कैसे करें इस्तेमाल

  • प्याज को बारीक काट लें और जैतून के तेल के साथ मिला लें।
  • अब सूती कपड़े से मिश्रण को निचोड़ें और रस निकाल लें।
  • इस रस से करीब 10 मिनट तक स्कैल्प की मसाज करें।
  • आधे घंटे बाद बालों को शैंपू से धो लें।
  • यह प्रक्रिया हफ्ते में दो बार दोहराएं।

कैसे है लाभदायक

सफेद बालों के घरेलू उपचार के तौर पर प्याज का इस्तेमाल वर्षों से किया जा रहा है। प्याज का रस कैटलस से समृद्ध होता है (6), जो एक कारगर एंटीऑक्सीडेंट एंजाइम के रूप में काम करता है। असमय सफेद बालों से निजात पाने के लिए आप प्याज के रस का प्रयोग कर सकते हैं।

6. शीशम का तेल

सामग्री

  • दो चम्मच शीशम का तेल
  • दो चम्मच नारियल का तेल
  • गर्म तौलिया

कैसे करें इस्तेमाल

  • शीशम और नारियल के तेल को हल्का गर्म कर लें।
  • अब तेल से 10 मिनट तक स्कैल्प की मसाज करें।
  • अब तौलिये को गर्म पानी में डालकर निचोड़ लें और फिर इससे सिर को 30 मिनट के लिए ढक लें।
  • 30 मिनट बाद बाद बालों को शैंपू से धो लें।
  • यह प्रक्रिया हफ्ते में दो-तीन बार करें।

कैसे है लाभदायक

सफेद बालों की समस्या के लिए आप शीशम के तेल का प्रयोग कर सकते हैं। यह एक प्राकृतिक हर्बल रंग है, जो एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करता है (7)। यह आपको सफेद बालों की समस्या से निजात दिला सकता है। आप बताए गए तरीके से इसका इस्तेमाल नारियल तेल के साथ कर सकते हैं।

7. अरंडी और सरसों का तेल

Shutterstock

सामग्री

  • एक चम्मच अरंडी का तेल
  • दो चम्मच सरसों का तेल

कैसे करें इस्तेमाल

  • अरंडी और सरसों के तेल को मिलाकर हल्का गर्म कर लें।
  • अब स्कैल्प और बालों पर लगाकर 10 मिनट तक मसाज करें।
  • 30 मिनट बाद बालों को शैंपू से धो लें।
  • हफ्ते में दो-तीन बार यह प्रक्रिया दोहराएं।

कैसे है लाभदायक

सफेद बालों के उपचार के लिए आप अरंडी के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसका प्रयोग नारियल के तेल के साथ करने से फर्क जल्दी दिखता है। अरंडी के तेल में ओमेगा-6 फैटी एसिड पाया जाता है (8), जो असमय बालों की सफेदी से निजात दिलाने का काम करता है। इसमें हुमेक्टैंट नामक एक और तत्व पाया जाता है, जो बालों को मॉइश्चर करता है।

8. मैथी के बीज

सामग्री

  • दो चम्मच मैथी के बीज
  • कप का एक चौथाई पानी

कैसे करें इस्तेमाल

  • मैथी के बीजों को रातभर के लिए पानी में रहने दें।
  • सुबह पानी के साथ ही बीजों को ग्राइंडर में डालकर पेस्ट बना लें। पेस्ट बनाने के लिए थोड़े और पानी का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • अब पेस्ट को स्कैल्प और बालों पर लगाएं।
  • लगभग 45 मिनट बाद बालों को शैंपू और कंडीशनर से धो लें।
  • यह प्रक्रिया हफ्ते में एक-दो बार करें।

कैसे है लाभदायक

मैथी के बीज विटामिन-सी, आयरन, पोटेशियम और लाइसिन जैसे पोषक तत्व से समृद्ध होते हैं (9)। ये मिलकर न सिर्फ बालों को असमय सफेद होने से रोकते हैं, बल्कि स्कैल्प को स्वस्थ बनाने का काम भी करते हैं। सफेद बालों की समस्या से निजात पाने के लिए आप मैथी का प्रयोग कर सकते हैं।

9. तुरई

सामग्री

  • सूखी कटी हुई तुरई
  • एक कप नारियल का तेल

कैसे करें इस्तेमाल

  • एक एयर टाइट कंटेनर में नारियल का तेल और सूखी कटी हुई तुरई डालें (10)।
  • कंटेनर को बंद कर चार दिन के लिए छोड़ दें।
  • इसके बाद दो चम्मच तेल कंटेनर से निकालें और हल्का गर्म करें।
  • अब तेल से स्कैल्प और बालों की 15 मिनट तक मसाज करें।
  • 30 मिनट तक बालों में तेल लगा रहने दें।
  • अब शैंपू और कंडीशनर से बालों को धो लें।
  • यह प्रक्रिया हफ्ते में दो-तीन बार करें।

कैसे है लाभदायक

सफेद बालों के लिए तुरई टॉनिक की तरह काम करती है, जो गहराई तक जाकर बालों के फॉलिकल्स को पोषित करती है। तुरई में एंजाइम मौजूद होते हैं, जो बालों में पिगमेंट को बढ़ाने का काम करते हैं। यह घरेलू तरीका बालों को स्वस्थ रखने के साथ-साथ बालों के प्राकृतिक रंग को बरकरार रखने में मदद करता है। सफेद बालों की समस्या से निजात पाने के लिए आप तुरई का इस प्रकार प्रयोग कर सकते हैं।

10. ब्लैक टी

Shutterstock

सामग्री

  • दो चम्मच ब्लैक टी
  • एक कप पानी

कैसे करें इस्तेमाल

  • एक कप पानी में ब्लैक टी को 10 मिनट तक उबालें।
  • इसके बाद ब्लैक टी को ठंडा होने के लिए रख दें।
  • अब इसे अपने स्कैल्प और बालों पर अच्छी तरह लगाएं और कुछ मिनट तक मसाज करें।
  • लगभग एक घंटे तक ब्लैक टी को बालों पर लगा रहने दें।
  • एक घंटे बाद बालों को शैंपू और कंडीशनर से धो लें।
  • यह प्रक्रिया हफ्ते में दो-तीन बार करें।

कैसे है लाभदायक

असमय सफेद बालों की समस्या से निजात पाने के लिए आप ब्लैक टी का प्रयोग कर सकते हैं। ब्लैक टी अपने एंटीऑक्सीडेंट गुण के कारण बालों के प्राकृतिक रंग को बरकरार रखने में मदद करती है (11)। यह बालों की चमक बढ़ाने और उन्हें स्वस्थ रखने में भी मदद करती है।

11. जवाकुसुम

सामग्री

  • तीन चम्मच सूखे जवाकुसुम के फूल और जवाकुसुम की पत्तियां
  • एक चम्मच आंवला पाउडर

कैसे करें इस्तेमाल

  • पानी की मदद से जवाकुसुम के फूल, पत्तियों और आंवला पाउडर को मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें।
  • अब इस पेस्ट को स्कैल्प और बालों पर लगाएं।
  • पेस्ट को 45 मिनट तक सिर पर लगे रहने दें।
  • अब शैंपू और कंडीशनर से बालों को धो लें।
  • यह प्रक्रिया हफ्ते में दो बार दोहराएं।

कैसे है लाभदायक

जवाकुसुम का इस प्रकार इस्तेमाल बालों के लिए काफी ज्यादा फायदेमंद है। यह बालों के रोम को मजबूत करने के साथ-साथ बालों की सफेदी को रोकने का काम करता है। जवाकुसुम में कैल्शियम फास्फोरस, आयरन, विटामिन-बी1, विटामिन-सी, रिबोफ्लाविन और नियासिन होते हैं, जो मिलकर बालों को स्वस्थ बनाते हैं और समय से पहले सफेद होने से रोकते हैं (7)।

सफेद बालों को काला करने के लिए कुछ और उपाय – Other Tips For White Hair Solution in Hindi

  1. धूम्रपान से रहे दूर : धूम्रपान भी बालों को काफी ज्यादा प्रभावित करता है, यह असमय बालों की सफेदी का कारण बना सकता है। शोध में यह बात सामने आई है कि 30 की उम्र से पहले महिला और पुरूष में बालों की सफेदी का एक कारण धूम्रपान बन सकता है (12)। इसलिए, बालों में प्राकृतिक रंग बनाए रखने के लिए धूम्रपान से दूर रहें।
  2. विटामिन-बी12 : शरीर में विटामिन-बी12 की कमी के कारण भी बाल समय से पहले सफेद हो जाते हैं (13)। आप उन खाद्य पदार्थों को अपने दैनिक भोजन में शामिल करें, जिनमें अन्य पोषक तत्वों के साथ विटामिन-बी12 भी मौजूद होता है।
  3. खानपान : गलत खानपान की वजह से शरीर को ठीक प्रकार से पोषण नहीं मिल पाता। इसका गलत प्रभाव बालों पर भी पड़ता है। सही पोषण के अभाव में बाल समय से पहले सफेद होने लगते हैं। आप हरी-सब्जियों के साथ-साथ सिट्रस फल, बादाम, अखरोट व चिकन को अपने भोजन में शामिल कर सकते हैं।
  4. लौकी : लौकी का जूस शरीर के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है। असमय सफेद बालों से निजात पाने के लिए रोजाना इसका जूस पी सकते हैं (14)।
  5. व्हीट ग्रास : असमय बालों की सफेदी से निजात पाने के लिए आप व्हीट ग्रास के जूस का सेवन कर सकते हैं (15)। व्हीट ग्रास विटामिन-ए, बी कॉम्प्लेक्स, सी, ई, क्लोरोफिल, एमिनो एसिड, आयरन, सेलेनियम, कॉपर, कैल्शियम, आयोडीन और एंटीऑक्सीडेंट एंजाइम कैटलस से समृद्ध होता है, जो समय से पहले बालों को सफेद होने से रोकता है।

क्या सफेद बाल फिर से काले हो सकते है?

हां, सही निदान और उपचार के साथ सफेद बाल काले हो सकते हैं, लेकिन अगर समस्या अनुवांशिक या आयु से संबंधित है, तो प्रक्रिया काम नहीं करेगी।

बालों में पिगमेंटेशन की कमी हो सकती है, लेकिन सही उपचार और संतुलित खानपान के द्वारा इसे नियंत्रित किया जा सकता है। इस लेख में बताए गए सभी घरेलू उपचार पिगमेंटेशन को बढ़ावा देने का काम करते हैं। सफेद बालों की समस्या से निजात पाने के लिए आप इन प्राकृतिक नुस्खों का सहारा ले सकते हैं। यह लेख आपके लिए किस प्रकार उपयोगी है, हमें कमेंट बॉक्स में बताना न भूलें।

और पढ़े:

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

Nripendra Balmiki

नृपेंद्र बाल्मीकि एक युवा लेखक और पत्रकार हैं, जिन्होंने उत्तराखंड से पत्रकारिता एवं जनसंचार में स्नातकोत्तर (एमए) की डिग्री प्राप्त की है। नृपेंद्र विभिन्न विषयों पर लिखना पसंद करते हैं, खासकर स्वास्थ्य संबंधी विषयों पर इनकी पकड़ अच्छी है। नृपेंद्र एक कवि भी हैं और कई बड़े मंचों पर कविता पाठ कर चुके हैं। कविताओं के लिए इन्हें हैदराबाद के एक प्रतिष्ठित मीडिया संस्थान द्वारा सम्मानित भी किया जा चुका है।

ताज़े आलेख

scorecardresearch