सर्दी जुकाम के लिए 19 घरेलू उपाय – Home Remedies for Common Cold in Hindi

Written by

मौसम में बदलाव होते ही सर्दी-जुकाम होना आम है। यह ऐसी समस्या है, जो किसी को भी हो सकती है। अमूमन सर्दी-जुकाम कुछ दिनों में खुद ठीक हो जाता है, लेकिन कभी-कभी यह लंबे समय तक रह सकता है। इस स्थिति में कई लोग दवाई लेते हैं, जिससे जुकाम ठीक तो हो जाता है, लेकिन उसके दोबारा लौटने की आशंका बनी रहती है। कई बार तो जुकाम गंभीर रूप ले लेता है। ऐसे में अगर सर्दी जुकाम का इलाज समय रहते घरेलू तरीकों से किया जाए, तो जल्द राहत मिल सकती है। इसी वजह से स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम सर्दी जुकाम के घरेलू उपाय, सदी जुकाम के कारण और सदी जुकाम के लक्षण के बारे में बता रहे हैं।

आगे विस्तार से पढ़ें

चलिए, सबसे पहले जानते हैं कि सर्दी जुकाम क्या है।

सर्दी जुकाम क्या है?

कॉमन कोल्ड यानी सर्दी जुकाम को वायरल राइनाइटिस भी कहा जाता है। यह लोगों को होने वाला सबसे आम संक्रमण है। यह इंफेक्शन अपर रेस्पिरेटरी ट्रेक्ट यानी ऊपरी श्वसन तंत्र में होता है। सर्दी जुकाम राइनोवायरस के कारण होता है, जो 200 से भी ज्यादा प्रकार के होते हैं (1)। इस दौरान नाक का बहना और छींक आना आम है।

पढ़ते रहें

अब इस लेख के अगले भाग में हम सर्दी जुकाम के चरणों के बारे में बताने जा रहे हैं।

सर्दी जुकाम के चरण – Stages of Common Cold in Hindi

सर्दी जुकाम की समस्या अधिकतर 14 दिन तक रहती है। इन 14 दिन के बीच में सर्दी जुकाम की गंभीरता को ध्यान में रखते हुए इसे तीन चरणों में बांटा जा सकता है, जिसके बारे में नीचे विस्तार से बताया जा रहा है (2)।

  • प्रथम चरण : यह सर्दी जुकाम के शुरुआती दिनों की स्थिति होती है। इस चरण में सर्दी जुकाम से ग्रस्त व्यक्ति को ज्यादा तकलीफ नहीं होती है। इस दौरान नाक का बहना और हल्का जुकाम हो सकता है, जिसके जल्दी ठीक होने की संभावना होती है।
  • दूसरा चरण : सर्दी जुकाम का दूसरा चरण में 5 दिन के बाद शुरू हो सकता है। इस स्थिति में सर्दी जुकाम से जूझ रहे व्यक्ति की नाक ज्यादा बहने लगती है और गले में खराश जैसी समस्या हो सकती है। इस दौरान लगातार छींकें आ सकती हैं।
  • तीसरा चरण : सर्दी जुकाम के लक्षण अगर सात से दस दिन तक भी ठीक नहीं होते, तो इसे तीसरा चरण कहा जा सकता है। ऐसे में डॉक्टर से तुरंत सलाह ली जानी चाहिए (3)। इस स्थिति में सांस लेने में तकलीफ हो सकती है। साथ ही नाक, गले और चेस्ट में छींकने और खांसने की वजह से दर्द हो सकता है।

स्क्रॉल करें

अब सर्दी जुकाम किन कारणों से हो सकता है यह जान लेते हैं।

सर्दी जुकाम के कारण – Causes of Common Cold in Hindi

सर्दी-जुकाम होने के कई कारण हो सकते हैं, जिनके बारे में पता होने पर सावधानी बरतना आसान हो सकता है। इन कारणों के बारे में हम नीचे बता रहे हैं (2) (4) (5)।

  • यह संक्रामक रोग है, जो कोरोना वायरस के कारण हो सकता है।
  • संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से भी सर्दी-जुकाम हो सकता है।
  • संक्रमित व्यक्ति के छींकने से हवा में फैले जीवाणुओं के संपर्क में आने के कारण।
  • प्रभावित व्यक्ति ने जिन चीजों को छुआ है, उन्हें छूने से भी सर्दी-जुकाम हो सकता है।
  • मौसम में बदलाव होने पर भी कुछ लोगों को सर्दी-जुकाम हो सकता है।
  • प्रतिरक्षा प्रणाली के कमजोर होने पर इसकी चपेट में आ सकते हैं।
  • ठंड लगने या गीले होने पर भी सर्दी-जुकाम हो सकता है।

आगे है जरूरी जानकारी

इस लेख को जारी रखते हुए आगे सर्दी जुकाम के लक्षण की जानकारी दे रहे हैं।

सर्दी जुकाम के लक्षण – Symptoms of Common Cold in Hindi

सर्दी जुकाम होने से पहले और होने के बाद इसके कुछ लक्षण दिखाई देने लगते हैं। ऐसे में इन लक्षणों पर गौर करके घरेलू उपचार को अपनाया जाए, तो इस समस्या के प्रभाव को कम किया जा सकता है। चलिए, सर्दी जुकाम के लक्षणों को जानते हैं (2) (3)।

  • बार-बार छींक आना
  • नाक बंद होना
  • नाक का बहना
  • गले में खराश
  • खांसी
  • गले में बलगम जमना
  • आंखों से पानी निकलना
  • बुखार
  • कुछ भी सूंघने में दिक्कत
  • सिरदर्द
  • मांसपेशियों में दर्द
  • भूख कम लगना

आगे पढ़ें

अब हम सर्दी जुकाम के घरेलू इलाज की जानकारी दे रहे हैं।

सर्दी जुकाम के घरेलू इलाज – Home Remedies for Common Cold in Hindi

सदी जुकाम के घरेलू उपाय का उपयोग करके इससे बचा जा सकता है। साथ ही किसी को सर्दी जुकाम की समस्या है, तो वो नीचे बताए गए जुकाम के घरेलू नुस्खे को अपना सकता है। हां, अगर स्थिति गंभीर हो, तो डॉक्टर से संपर्क जरूर करें।

1. गुनगुने या नमक वाले पानी से गरारे

सामग्री :

  • एक गिलास गुनगुना पानी
  • एक चम्मच नमक

उपयोग की विधि :

  • गुनगुने पानी में नमक डालकर अच्छी तरह मिला लें।
  • फिर उस पानी से गरारे करें।
  • सिर्फ गुनगुने पानी से भी गरारे कर सकते हैं।
  • जब तक आराम न मिले, तब तक दिन में दो बार इसे कर सकते हैं।

कैसे है फायदेमंद :

सर्दी जुकाम का इलाज घर में नमक वाले पानी से गरारे करके किया जा सकता है (6)। जुकाम होने पर गले में असहजता महसूस होती है। एक शोध में कहा गया है कि नमक यानी सोडियम क्लोराइड एंटीवायरल गुण प्रदर्शित करता है (7)।

इसी वजह से माना जाता है कि गर्म पानी में नमक डालकर गरारे करने से सर्दी के वायरस से छुटकारा मिल सकता है। वायरस का असर कम होने से सर्दी जुकाम की स्थिति से राहत मिल सकती है (7)। ऐसे में नमक को सर्दी जुकाम की दवा कहना गलत नहीं होगा।

2. दही

सामग्री :

  • एक कप दही

उपयोग की विधि :

  • इसे खाने के साथ या उससे पहले व बाद में भी खा सकते हैं।
  • दिनभर में दो कप तक दही खाई जा सकती है।

कैसे है फायदेमंद :

दही का उपयोग करके भी सर्दी जुकाम से राहत मिल सकती है। दरअसल, दही में प्रोबायोटिक्स नामक माइक्रोऑर्गेनिज्म होते हैं। एक वैज्ञानिक रिसर्च के मुताबिक, दही में मौजूद यह माइक्रोऑर्गेनिज्म सर्दी और फ्लू के असर को कम कर सकता है (8)। यही वजह है कि दही को जुकाम के घरेलू नुस्खे के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है।

3. एल्डरबेरी

सामग्री :

  • दो चम्मच एल्डरबेरी सिरप

उपयोग की विधि :

  • इस सिरप को पी लें।
  • इसे प्रतिदिन एक बार पी सकते हैं।

कैसे है फायदेमंद :

एक वैज्ञानिक रिसर्च के अनुसार, एल्डरबेरी को कई समस्याओं के इलाज करने के लिए फोक मेडिसीन के रूप में इस्तेमाल किया जाता रहा है, जिसमें सर्दी जुकाम भी शामिल है। इस शोध की मानें, तो एल्डरबेरी एंटीवायरल गुण से समृद्ध होता है, जो सर्दी जुकाम के वायरस के खिलाफ असर दिखा सकता है (9)। इसके फायदे को देखते हुए इस विषय को लेकर बड़े स्तर पर अध्ययन करने की सिफारिश भी की गई है।

4. अदरक

सामग्री :

  • एक छोटा अदरक का टुकड़ा
  • एक कप गर्म पानी
  • एक चम्मच शहद

उपयोग की विधि :

  • सबसे पहले अदरक को कूट लें और फिर कुछ मिनटों के लिए गर्म पानी में डालकर छोड़ दें।
  • इसके बाद पानी को छानकर उसमें शहद डालकर मिक्स कर लें।
  • अब इस अदरक की चाय का आनंद लें।
  • पूरे दिन में दो-तीन कप अदरक की चाय पी जा सकती है।

कैसे है फायदेमंद :

जुकाम होने पर अदरक का सेवन करने से काफी आराम मिल सकता है। एक वैज्ञानिक शोध के अनुसार, आयुर्वेद में भी इसे गुणकारी औषधि माना गया है। अदरक की चाय पीने से शरीर को गर्माहट मिलती है, जिससे सर्दी का असर कम हो सकता है (10)। वहीं, अदरक में मौजूद चिकित्सीय प्रभाव सर्दी जुकाम को पूरी तरह ठीक करने में भी मदद कर सकता है (11)। यही वजह है कि अदरक को जुकाम का देसी इलाज भी माना गया है।

5. लहसुन

सामग्री :

  • लहसुन की छिली हुई एक-दो कलियां
  • एक चम्मच शहद

उपयोग की विधि :

  • लहसुन की कलियों को कुचल लें।
  • अब उसमें शहद मिलाकर खा लें।
  • दिन में कम से कम दो बार इसका सेवन करें।
  • इसके अलावा, लहसुन को सब्जी में भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

कैसे है फायदेमंद :

सर्दी जुकाम का घरेलू उपचार करने के लिए लहसुन का उपयोग किया जा सकता है। एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन) की वेबसाइट पर प्रकाशित एक वैज्ञानिक शोध में बताया गया है कि जुकाम को ठीक करने में भी लहसुन सक्षम है। इसमें एंटीबैक्टीरियल और एंटीवायरल गुण होते हैं। इस कारण से यह जुकाम के वायरस को खत्म कर सकता है (12)।

6. शहद

सामग्री :

  • एक चम्मच शहद

उपयोग की विधि :

  • शहद का सेवन सीधे कर सकते हैं।
  • रात को सोने से पहले एक गिलास दूध में शहद को मिक्स करके भी पी सकते हैं।
  • जब तक राहत न मिल जाए, तब तक रोज कम से कम दो बार शहद का सेवन कर सकते हैं।

कैसे है फायदेमंद :

एक वैज्ञानिक शोध की मानें, तो शहद के उपयोग से सर्दी-जुकाम के इलाज में मदद मिल सकती है। दरअसल, यह एंटीबैक्टीरियल गुण से समृद्ध होता है, जो सर्दी जुकाम के वायरस को नष्ट करने का काम कर सकता है। इससे सर्दी जुकाम की समस्या से राहत मिल सकती है (13)। जुकाम के घरेलू उपाय के लिए ऑर्गेनिक शहद का उपयोग करें। इसे जुकाम का देसी इलाज माना गया है।

7. ग्रीन टी

सामग्री :

  • एक ग्रीन टी बैग
  • एक कप गर्म पानी
  • आधा चम्मच शहद
  • नींबू का रस

उपयोग की विधि :

  • ग्रीन टी बैग को कुछ देर के लिए गर्म पानी में डालकर छोड़ दें।
  • बाद में इसमें स्वादानुसार शहद और नींबू का रस मिलाकर इसका सेवन करें।
  • जुकाम होने पर दो-तीन कप ग्रीन टी का सेवन दिनभर में किया जा सकता है।

कैसे है फायदेमंद :

सर्दी जुकाम का घरेलू उपचार करने लिए ग्रीन टी को आजमा कर देख सकते हैं। कई वैज्ञानिक अध्ययनों में कहा गया है कि जुकाम होने पर अगर गर्म पेय का सेवन किया जाए, तो काफी आराम मिल सकता है। यह बहती नाक और गले की खराश से कुछ हद तक आराम दिला सकता है (14)। वहीं, ग्रीन टी में मौजूद कैटेचिन्स में एंटीवायरल गुण होता है, जो सर्दी के वायरस को खत्म करके इससे कुछ राहत दे सकता है (15)।

8. एसेंशियल ऑयल

सामग्री :

पुदीने का तेल व नीलगिरी तेल की चार-पांच बूंदें

उपयोग की विधि :

  • इन दोनों तेल को आपस में मिक्स करें और चेस्ट, गले व माथे पर लगाएं।
  • इसे जितनी देर संभव हो लगा रहने दें।
  • वैकल्पिक रूप से तेल को गर्म पानी में डालकर स्टीम भी ले सकते हैं।
  • इसके अलावा, गर्म पानी में एसेंशियल ऑयल को मिक्स करके उससे नहा भी सकते हैं।
  • इतना ही नहीं डिफ्यूजर में इस तेल को डालकर कमरे में रख दें, ताकि तेल की सुगंध पूरे कमरे में फैल जाए।

कैसे है फायदेमंद :

एसेंशियल ऑयल का इस्तेमाल जुकाम से राहत पाने के लिए भी किया जा सकता है। इसमें एंटीमाइक्रोबियल गुण होता है, जो सर्दी के वायरस को खत्म करने का काम कर सकता है। इसके लिए नीलगिरी का तेल और पुदीने का तेल ही नहीं, बल्कि अनीस का तेल, सौंफ का तेल और टी ट्री ऑयल का उपयोग भी किया जा सकता है (16)। जुकाम के घरेलू उपाय के तहत एसेंशियल ऑयल कारगर साबित हो सकते हैं। इसे भी जुकाम का देसी इलाज माना गया है।

9. काढ़ा

सामग्री :

  • दो कप पानी
  • एक छोटा अदरक का टुकड़ा
  • काली मिर्च के दो दाने
  • तुलसी की पांच-छह पत्तियां
  • चार लौंग
  • एक चम्मच शहद

उपयोग की विधि :

  • अदरक के टुकड़े, काली मिर्च, तुलसी की पत्तियों और लौंग को अच्छी तरह कूट लें।
  • अब इसमें पानी डालकर उबालें। इसे तब तक उबलने दें, जब तक पानी आधा न रह जाए।
  • फिर इस मिश्रण को छानकर रख लें।
  • जब यह गुनगुना हो जाए, तो शहद मिलाकर पी लें।
  • पानी को छानने के बाद बची सामग्री से दोबारा काढ़ा बनाया जा सकता है।
  • दिनभर में एक से दो कप काढ़ा का सेवन किया जा सकता है।

कैसे है फायदेमंद :

सर्दी-जुकाम के घरेलू इलाज के लिए काढ़े का इस्तेमाल सदियों से किया जा रहा है। यह काढ़ा सर्दी, खांसी व श्वसन नली से संबंधित समस्याओं को कम कर सकता है। अदरक और शहद के बारे में ऊपर हम बता ही चुके हैं। इसके अलावा, तुलसी और लौंग दोनों जड़ी-बूटियों में एंटीवायरल गुण होता है, जो वायरस को नष्ट करके सर्दी जुकाम से राहत दिला सकते हैं (17) (18)। इसी वजह से इस काढ़े को जुकाम का घरेलू उपाय माना जाता है।

10. प्याज

सामग्री :

  • एक लाल प्याज
  • दो चम्मच शहद

उपयोग की विधि :

  • प्याज को छीलकर उसे टुकड़ों में काट लें।
  • अब प्याज के टुकड़ों पर इतना शहद डालें कि वो पूरे तरह से ढक जाएं।
  • फिर इन्हें एयर टाइट डिब्बे में बंद करके रातभर के लिए रख दें।
  • अगली सुबह इन प्याज के टुकड़ों को खाएं।
  • हर रोज प्याज के एक-दो टुकड़ों को खाया जा सकता है।
  • जरूरत महसूस होने पर प्याज पर और शहद डालकर भी खा सकते हैं।
  • वैकल्पिक रूप से प्याज के रस और शहद को बराबर मात्रा में मिलाकर भी खा सकते हैं।

कैसे है फायदेमंद :

प्याज के उपयोग से सर्दी जुकाम का इलाज किया जा सकता है। प्याज एक्सपेक्टॉरेंट की तरह कार्य करता है, जो सर्दी की वजह से बनने वाले बलगम को निकालने में मदद कर सकता है। साथ ही बलगम बनने से रोकने में भी इसे सहायक माना जाता है (19)।

एक शोध के मुताबिक, प्याज में कुएरसेटिन नामक कंपाउंड होता है। इसमें एंटीवायरल क्षमता होती है, जो वायरस के असर को कम करके सर्दी जुकाम से राहत दिला सकता है (20)। इसी कारण से प्याज को जुकाम का उपचार करने का कारगर तरीका माना जाता है।

पढ़ते रहें

11. सूप

सामग्री :

  • कोई भी वेजिटेबल या चिकन सूप

उपयोग की विधि :

  • सब्जियों के सूप स्वयं बना सकते हैं या फिर रेडी-टू-मेक सूप पाउच खरीदकर भी बना सकते हैं।
  • इसे जरूरत के अनुसार प्रतिदिन एक कटोरी पी लें।

कैसे है फायदेमंद :

हम ऊपर बता चुके हैं कि गर्म पेय सर्दी जुकाम से राहत दिला सकता है, इसलिए जुकाम में सूप पीना अच्छा हो सकता है। चाहे वेजिटेबल सूप पिएं या फिर चिकन सूप, यह व्यक्ति की पसंद पर निर्भर कर सकता है। एक शोध में पाया गया है कि सूप में एंटी इंफ्लेमेटरी गुण होता है, जो श्वसन तंत्र के संक्रमण से राहत दिला सकता है। सर्दी भी एक तरह के श्वसन तंत्र संक्रमण ही है। ऐसे में यह सर्दी के निजात दिलाने में प्रभावी साबित हो सकता है (21)। सूप की मदद से जुकाम का उपचार किया जा सकता है।

12. दालचीनी

सामग्री :

  • आधा छोटा चम्मच दालचीनी पाउडर
  • एक चम्मच ऑर्गेनिक शहद

उपयोग की विधि :

  • दालचीनी पाउडर में शहद डालकर अच्छी तरह मिक्स कर लें।
  • मिश्रण तैयार होने के बाद इसे खा लें।
  • दिन में कम से कम दो बार इसका सेवन किया जा सकता है।

कैसे है फायदेमंद :

दालचीनी और शहद को भी सर्दी जुकाम सिर दर्द का घरेलू उपचार माना जाता है। हम शहद के गुणों के बारे में बता ही चुके हैं। साथ ही दालचीनी को लेकर एनसीबीआई की वेबसाइट पर पब्लिश एक शोध में लिखा है कि इसे सर्दी की पारंपरिक औषधि के रूप में इस्तेमाल किया जाता रहा है। माना जाता है कि इसके एंटी माइक्रोबिएल और एंटीवायरल गुण सर्दी के वायरस के असर को कम करने में अहम भूमिका निभाते हैं (22)।

13. मछली का तेल

सामग्री :

  • मछली के तेल के सप्लीमेंट्स

उपयोग की विधि :

  • इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर से पूछ लें।

कैसे है फायदेमंद :

मछली के तेल का उपयोग अक्सर इम्यून सिस्टम को बेहतर करने के लिए किया जाता है। एक रिसर्च के मुताबिक इसमें मौजूद ओमेगा 3 फैटी एसिड वायरल इन्फेक्शन से बचाव करने और इम्यून सिस्टम को मजबूत बन सकता है। इसी वजह से माना जाता है कि मछली का तेल जुकाम का उपचार करने में कुछ हद तक मदद कर सकता है (23)।

14. हल्दी दूध

सामग्री :

  • एक चम्मच हल्दी पाउडर
  • एक गिलास गर्म दूध

उपयोग की विधि :

  • हल्दी पाउडर को गर्म दूध में अच्छी तरह से मिक्स कर दें।
  • सोने से पहले इस दूध का सेवन करें।
  • जब तक जुकाम ठीक न हो जाए, हर रात इसका सेवन कर सकते हैं।

कैसे है फायदेमंद :

आयुर्वेद में हल्दी के औषधीय गुणों का प्रमुखता से उल्लेख किया गया है। हल्दी और दूध के मिश्रण का सेवन सर्दी से राहत पाने के लिए किया जा सकता है। इसमें मौजूद एंटीमाइक्रोबियल गुण कोल्ड इंफेक्शन को कम करके इस समस्या से राहत दिलाने में मददगार हो सकता है (24)। यही कारण है कि इसे घर में मौजूद सर्दी जुकाम की दवा के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है।

15. सेब का सिरका

सामग्री :

  • एक चम्मच सेब का सिरका
  • एक गिलास गर्म पानी

उपयोग की विधि :

  • सेब के सिरके को पानी में डालकर अच्छे से मिक्स करें।
  • स्वाद के लिए इसमें थोड़ा-सा शहद भी मिला सकते हैं।
  • अब इसे पी लें।
  • दिन में करीब दो-तीन गिलास पी सकते हैं।

कैसे है फायदेमंद :

सर्दी जुकाम और खांसी के घरेलू उपाय के तौर पर सेब के सिरके का उपयोग किया जा सकता है। एक वैज्ञानिक शोध की मानें, तो इसमें एंटी माइक्रोबियल गुण पाए जाते हैं (25)। जैसा कि हमने ऊपर लेख में बताया है कि सर्दी जुकाम होने के लिए मुख्य रूप से वायरस जिम्मेदार होते हैं। ऐसे में कहा जा सकता है कि सेब के सिरके में मौजूद एंटीमाइक्रोबियल गुण सर्दी जुकाम के वायरस के प्रभाव को कम करके इससे राहत दिला सकता है।

16. विटामिन्स

सामग्री :

  • विटामिन-सी और विटामिन-डी सप्लीमेंट

उपयोग की विधि :

  • यह कैप्सूल के रूप में आता है, इसलिए इसे कैप्सूल की तरह ही खाएं।
  • डॉक्टर की सलाह पर प्रतिदिन एक खा सकते हैं। जब तक की सर्दी ठीक न हो जाएं।

कैसे है फायदेमंद :

विटामिन-सी और विटामिन-डी के सप्लीमेंट सर्दी जुकाम की दवा की तरह काम कर सकते हैं। ये दोनों विटामिन शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता यानी इम्यून सिस्टम को बूस्ट करते हुए सर्दी जुकाम की समस्या को ठीक कर सकते हैं। शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली के मजबूत होने पर सर्दी जुकाम के अलावा अन्य आम समस्याओं से भी छुटकारा पाना आसान हो सकता है (26)।

17. जैतून के पत्ते का अर्क

सामग्री :

  • 1 चम्मच जैतून के पत्ते का अर्क

उपयोग की विधि :

  • इसे भोजन के साथ ले सकते हैं।
  • इसका दिन में तीन बार सेवन कर सकते हैं।

कैसे है फायदेमंद :

जैतून की पत्तियों के अर्क का इस्तेमाल जुकाम के घरेलू नुस्खे के रूप में किया जा सकता है। रिसर्च के मुताबिक, जैतून के पत्तों के अर्क में एंटी-वायरल गुण होता है, जो वायरल इंफेक्शन को दूर रखने का काम कर सकता है। इससे सर्दी जुकाम की समस्या से भी राहत मिल सकती है (27)।

18. कैमोमाइल

सामग्री :

  • एक कैमोमाइल टी बैग
  • एक कप पानी
  • आधा चम्मच शहद

उपयोग की विधि :

  • सबसे पहले पानी को गर्म कर लें।
  • फिर उसमें टी बैग को 4-5 मिनट के लिए डुबो कर रखें।
  • अब टी बैग को निकालें और चाय को पिएं।
  • स्वाद के लिए इसमें शहद भी डाल सकते हैं।
  • दिन में इस चाय को दो कप तक पिया जा सकता हैं।

कैसे है फायदेमंद :

सर्दी जुकाम और खांसी के घरेलू उपाय के रूप में कैमोमाइल का उपयोग करना अच्छा हो सकता है। इस संबंध में किए गए एक वैज्ञानिक शोध से पता चलता है कि कैमोमाइल इम्यून सिस्टम को बेहतर करके सर्दी जुकाम से राहत दिला सकता है (28)।

इसके अलावा, कैमोमाइल की भाप लेने से भी सर्दी जुकाम के लक्षण को कम किया जा सकता है। माना जाता है कि इसमें मौजूद एंटीबैक्टीरियल गुण इंफेक्शन से राहत दिलाने में मदद कर सकता है (28)। हालांकि, इसकी पुष्टि के लिए अधिक शोध करने की सिफारिश की गई है।

19. मेथी

सामग्री :

  • एक चम्मच मेथी दाना
  • एक गिलास पानी
  • दो चम्मच शहद

उपयोग की विधि :

  • सबसे पहले मेथी के दानों को पानी में डालकर कुछ मिनट के लिए उबालें।
  • अब इसे कुछ देर ठंडा होने दें और फिर शहद डालकर अच्छी तरह मिलाएं।
  • शहद डालकर इसे गुनगुना ही पी लें।
  • इसे दिन में दो बार पी सकते हैं।

कैसे है फायदेमंद :

एनसीबीआई की वेबसाइट पर पब्लिश एक वैज्ञानिक शोध के मुताबिक, सर्दी जुकाम के घरेलू उपाय के रूप में मेथी के बीज का इस्तेमाल वर्षों से किया जाता रहा है (29)। दरअसल, इसमें एंटी माइक्रोबियल गुण होता है। माना जाता है कि यह गुण सर्दी जुकाम के बैक्टीरियल संक्रमण को कम करके इससे जल्द राहत दिलाने में मदद कर सकता है (30)।

नीचे और जानकारी है

चलिए, अब जानते है कि सर्दी जुकाम होने पर डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए।

सर्दी जुकाम के लिए डॉक्टर की सलाह कब लेनी चाहिए?

सर्दी जुकाम के घरेलू उपचार से राहत न मिलने और कुछ स्थिति उत्पन्न होने पर सर्दी जुकाम का इलाज करने के लिए डॉक्टर से संपर्क करना जरूरी है। हम नीचे ऐसी स्थितियों के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें बिल्कुल भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए (3) (31):

  • सर्दी जुकाम होने के साथ ही सांस लेने में तकलीफ हो रही है, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।
  • इसके लक्षण गंभीर हो जाएं या 7 से 10 दिन के बाद भी ठीक न हों, तो विशेषज्ञ की सलाह लें।
  • अचानक चेस्ट या पेट में दर्द होने पर डॉक्टर को दिखाएं।
  • सर्दी जुकाम के साथ चक्कर आने लगे, तो समय व्यर्थ किए बिना विशेषज्ञ से सलाह लें।
  • सर्दी के कारण बार-बार उल्टी होने पर डॉक्टर से संपर्क करें।

बने रहें हमारे साथ

इस लेख के अगले भाग में हम सर्दी जुकाम के इलाज की जानकारी दे रहे हैं।

सर्दी जुकाम का इलाज – Treatment of Common Cold in Hindi

अमूमन सर्दी की समस्या कुछ दिनों में खुद-ब-खुद ठीक हो जाती है। हां, अगर सर्दी थोड़ी गंभीर हो जाए, तो डॉक्टरी सलाह लेनी जरूरी है। डॉक्टर इस स्थिति में सर्दी का ट्रीटमेंट करने के लिए क्या सलाह दे सकते हैं, नीचे जानते हैं (3):

  • सर्दी-जुखाम के लक्षण के आधार पर डॉक्टर सर्दी की कुछ दवाएं लेने की सलाह दे सकते हैं।
  • डॉक्टर सर्दी के उपचार के लिए विटामिन-सी, और जिंक सप्लीमेंट दे सकते हैं।

नोट: सर्दी जुकाम के लिए एंटीबायोटिक्स का उपयोग बिल्कुल न करें।

पढ़ना जारी रखें

अब हम सर्दी जुकाम से बचने के उपाय बता रहे हैं।

सर्दी जुकाम से बचने के उपाय – Prevention Tips for Common Cold in Hindi

सर्दी जुकाम की समस्या से बचना काफी आसान है। इसके लिए नीचे बताए जा रहे तरीकों को अपनाया जा सकता है (3) (1)।

  • नाक पोंछने और बाथरूम का उपयोग करने के बाद और खाना खाने से पहले हाथों को अच्छी तरह से धोएं।
  • अपने आसपास साफ-सफाई रखें।
  • समय-समय पर हैंड सैनिटाइजर का उपयोग करें। इससे सर्दी जुकाम के कारण बनाने वाले कीटाणुओं के प्रसार को रोका जा सकता है।
  • अपने कपड़ों और तौलिये को किसी और को इस्तेमाल करने न दें।
  • दूसरों के सामान का भी उपयोग न करें।
  • नाक और आंखों को छूने और रगड़ने से बचें।
  • जिन लोगों को सर्दी जुकाम है, उनके ठीक होने तक उनसे दूरी बनाकर रखें।
  • सर्दी जुकाम से बचने के लिए कम से कम 7 घंटे की नींद जरूर लें।
  • इससे बचाव के लिए नियमित रूप से व्यायाम करना भी जरूरी है।

सर्दी-जुकाम होने पर घबराएं नहीं, बल्कि संयम से काम लें। इसे आसानी से ठीक किया जा सकता है और वो भी घर में मौजूद सामग्रियों की मदद से। जी हां, अगर किसी को जुकाम है, तो यहां बताए गए घरेलू नुस्खों का प्रयोग कर सकता है। इन घरेलू उपचार के साथ ही स्वस्थ, संतुलित और पौष्टिक आहार का सेवन करें। अपनी डाइट में सब्जियों व फलों को जगह जरूर दें, ताकि इम्यून सिस्टम बेहतर तरीके से काम कर सके। ध्यान दें कि अगर स्थिति गंभीर होने लगे, तो एक बार डॉक्टर से संपर्क भी करना चाहिए।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

सामान्य कोल्ड व चेस्ट कोल्ड में क्या अंतर है?

हर तरह का कोल्ड वायरल इंफेक्शन के कारण ही होता है। सामान्य कोल्ड नाक व गले को प्रभावित करता है (3)। वहीं, चेस्ट कोल्ड के दौरान फेफड़ों के वायुमार्ग सूज जाते हैं और फेफड़ों में बलगम बनने लगता है (32)।

क्या सामान्य कोल्ड के लिए कोई वैक्सीन है?

नहीं, सामान्य कोल्ड के लिए कोई वैक्सीन नहीं है। जैसा कि हम ऊपर बता ही चुके हैं कि जुकाम करीब 200 तरह के वायरल के कारण हो सकता है।

जुकाम वायरल इंफेक्शन के कारण होता है या फिर बैक्टीरियल इंफेक्शन के कारण?

जुकाम वायरल इंफेक्शन के कारण होता है (1)।

सामान्य जुकाम को ठीक करने में एंटीबायोटिक असरकारक क्यों नहीं हैं?

एंटीबायोटिक बैक्टीरियल इंफेक्शन पर असर करती हैं। वहीं, जुकाम वायरल इंफेक्शन के कारण होता है, तो ऐसे में एंटीबायोटिक खाने का कोई लाभ नहीं है।

जुकाम होने पर छींक क्यों आती है?

जुकाम होने पर नाक या गले के म्यूकस मेम्बरेन में इरीटेशन होने लगती है, जिससे छींक आती है (33)।

क्या सामान्य जुकाम के कारण बुखार हो सकता है?

जुकाम के कारण बुखार हो ऐसा संभव नहीं है। बुखार भी जुकाम की तरह एक लक्षण है, जो कुछ मामलों में सर्दी के कारण हो सकता है (2)। इससे बचाव के लिए ऊपर बताए गए सर्दी जुकाम, बुखार का घरेलू उपचार का उपयोग किया जा सकता है।

जुकाम होने पर यह कब तक संक्रामक रहता है?

जुकाम होने के बाद 2 से 3 दिन तक यह संक्रामक होता है। पहले सप्ताह के बाद यह संक्रामक नहीं होता (3)।

जुकाम होने के बाद बहती नाक कब तक ठीक हो सकती है?

आमतौर पर इसे ठीक होने में पांच से सात दिन लग सकते हैं। स्थिति गंभीर होने पर 10 से ज्यादा दिन भी लग सकते हैं।

अगर पहले से ही जुकाम है, तो क्या ठंड का मौसम होने से लक्षण बढ़ जाते हैं?

जी हां, अगर पहले से जुकाम है, तो ठंड के मौसम में इसके लक्षण थोड़ा बढ़ सकते हैं।

सर्दी को बार-बार होने से कैसे रोकें?

सर्दी के घरेलू उपचार को अपना कर सर्दी को रोक सकते हैं। इसे बार-बार सर्दी होने के उपाय के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं।

क्या जुकाम होने पर कोल्ड ड्रिंक पीना बुरा है?

जी हां, सर्दी होने पर ठंडी चीजें पीने या खाने से यह समस्या और बढ़ सकती है। इससे राहत पाने के लिए गर्म चीजों के सेवन करने की सलाह दी जाती है।

क्या एलर्जी के कारण भी जुकाम के लक्षण नजर आ सकते हैं?

हां, एलर्जी के कारण नाक का बहना और छींकें आना हो सकता है (34)।

संदर्भ (Sources):

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. Common Cold (Viral Rhinitis)
    https://www.health.harvard.edu/a_to_z/common-cold-viral-rhinitis-a-to-z
  2. Common Colds: Protect Yourself and Others
    https://www.cdc.gov/features/rhinoviruses/index.html
  3. Common cold
    https://medlineplus.gov/ency/article/000678.htm#:~:text=The%20common%20cold%20most%20often,%2C%20headache%2C%20or%20other%20symptoms.
  4. A Human Coronavirus Responsible for the Common Cold Massively Kills Dendritic Cells but Not Monocytes
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3416289/
  5. The Common Cold
    https://dphhs.mt.gov/Portals/85/dsd/documents/DDP/MedicalDirector/CommonCold101713.pdf
  6. Conventional and alternative medical advice for cold and flu prevention: what should be recommended and what should be avoided?
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/20088240/
  7. A pilot, open labelled, randomised controlled trial of hypertonic saline nasal irrigation and gargling for the common cold
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6355924/
  8. Evaluation of Probiotic Survivability in Yogurt Exposed To Cold Chain Interruption
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3813376/
  9. Randomized study of the efficacy and safety of oral elderberry extract in the treatment of influenza A and B virus infections
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/15080016/
  10. The effect of ginger on serotonin induced hypothermia and diarrhea
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/2074539/
  11. The Amazing and Mighty Ginger
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK92775/
  12. Garlic for the common cold
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6465033/
  13. Treating cough and cold: Guidance for caregivers of children and youth
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3223897/
  14. The effects of a hot drink on nasal airflow and symptoms of common cold and flu
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/19145994/
  15. Effect of Tea Catechins on Influenza Infection and the Common Cold with a Focus on Epidemiological/Clinical Studies
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6100025/
  16. Essential oils in the treatment of respiratory tract diseases highlighting their role in bacterial infections and their anti‐inflammatory action: a review
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC7163989/
  17. Tulsi – Ocimum sanctum: A herb for all reasons
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4296439/
  18. Clove (Syzygium aromaticum): a precious spice
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3819475/
  19. Allium cepa: A traditional medicinal herb and its health benefits
    https://www.jocpr.com/articles/allium-cepa-a-traditional-medicinal-herb-and-its-health-benefits.pdf
  20. Efficacy of Garlic and Onion against virus
    https://pharmascope.org/index.php/ijrps/article/view/1738/2428
  21. Chicken soup inhibits neutrophil chemotaxis in vitro
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/11035691/
  22. Beneficial Effects of Cinnamon on the Metabolic Syndrome, Inflammation, and Pain, and Mechanisms Underlying These Effects – A Review
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3943007/
  23. Effects of Omega-3 Fatty Acids on Immune Cells
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6834330/
  24. Turmeric, the Golden Spice
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK92752/
  25. Antimicrobial activity of apple cider vinegar against Escherichia coli, Staphylococcus aureus and Candida albicans; downregulating cytokine and microbial protein expression
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5788933/
  26. Self-Care for Common Colds: The Pivotal Role of Vitamin D, Vitamin C, Zinc, and Echinacea in Three Main Immune Interactive Clusters (Physical Barriers, Innate and Adaptive Immunity) Involved during an Episode of Common Colds—Practical Advice on Dosages and on the Time to Take These Nutrients/Botanicals in order to Prevent or Treat Common Colds
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5949172/
  27. Oleuropein using as an Additive for Feed and Products used for Humans
    https://www.longdom.org/open-access/oleuropein-using-as-an-additive-for-feed-and-products-used-for-humans-2157-7110.1000113.pdf
  28. Chamomile: A herbal medicine of the past with bright future
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2995283/
  29. Effects of Fenugreek Seed on the Severity and Systemic Symptoms of Dysmenorrhea
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3955423/
  30. Investigating Therapeutic Potential of Trigonella foenum-graecum L. as Our Defense Mechanism against Several Human Diseases
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4739449/
  31. How to treat the common cold at home
    https://medlineplus.gov/ency/patientinstructions/000466.htm
  32. Chest Cold (Acute Bronchitis)
    https://www.cdc.gov/antibiotic-use/community/for-patients/common-illnesses/bronchitis.html
  33. Sneezing
    https://medlineplus.gov/ency/article/003060.htm
  34. Sneezing and Runny Nose: Should Allergy Testing Be Routinely Performed?
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3738776/

और पढ़े:

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

ताज़े आलेख