सौंफ का पानी पीने के फायदे और नुकसान – Benefits and Side Effects of Fennel Seed Water in Hindi

Written by

सौंफ का उपयोग आमतौर पर माउथ फ्रेशनर के रूप में किया जाता है। इसके अलावा, कई व्यंजनों में भी सौफ का उपयोग किया जाता है। वैसे आपको बता दें कि इसमें कई औषधीय गुण पाए जाते हैं, जो सेहत के लिए सौंफ को एक घरेलू औषधि बनाने का काम करते हैं। इसलिए, सेहत के लिए सौंफ का पानी पीने की सलाह भी दी जाती है। यही वजह है कि स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम सौंफ का पानी पीने के फायदे बताने जा रहे हैं। यहां आप जान पाएंगे कि विभिन्न शारीरिक समस्याओं से बचाव और उनके जोखिम को कम करने में किस प्रकार सौंफ का पानी लाभकारी हो सकता है। इसके अलावा, यहां सौंफ का पानी बनाने का तरीका और सौंफ का पानी पीने के नुकसान भी बताए गए हैं।

स्क्रॉल करें

आर्टिकल की शुरुआत करते हैं सौंफ का पानी पीने के फायदे के साथ।

सौंफ का पानी पीने के फायदे – Saunf Ka Pani Peene Ke Fayde in Hindi @

सौंफ के पानी के फायदे से जुड़े सटीक वैज्ञानिक शोध कम उपलब्ध हैं, इसलिए नीचे बताए गए सौंफ के पानी के अधिकतर लाभ सौंफ के फायदे पर आधारित हैं। वहीं, यहां हम बता दें कि सौंफ का पानी किसी भी बीमारी का इलाज नहीं है। इसका सेवन शारीरिक समस्याओं से बचाव और उनके जोखिम को कुछ हद तक कम करने में मददगार हो सकता है। अब पढ़ें आगे :

1. वजन कम करने में मददगार

बढ़ता हुआ वजन और शरीर की अधिक चर्बी एक आम समस्या बन गई है। वहीं, मोटापे को अगर नियंत्रित न किया गया, तो शरीर पर इसका नकारात्मक प्रभाव भी पड़ सकता है। यहां सौंफ के पानी का उपयोग कारगर साबित हो सकता है। दरअसल, विषय से जुड़े एक शोध में सौंफ के एंटी ओबेसिटी प्रभाव का जिक्र मिलता है, जो बढ़ते वजन को कम करने में मदद कर सकता है। इस शोध में इस बात का भी जिक्र मिलता है कि मोटापा कम करने के लिए सौंफ के बीजों को पानी में उबालकर और फिर इसे छानकर रोजाना दो कप सेवन किया जा सकता है (1)।

इसके अलावा, एक अन्य शोध में जिक्र मिलता है कि सौंफ की चाय भूख को कम करने में मदद कर सकती है, जिससे अतिरिक्त खाने की इच्छा पर नियंत्रण लग सकता है और इससे बढ़ते वजन पर काबू पाने में मदद मिल सकती है (2)। इस आधार पर हम कह सकते हैं कि सौंफ का पानी वजन को नियंत्रित करने में अहम भूमिका निभा सकता है।

2. पाचन और अपच की समस्या में

अपच, पाचन से जुड़ी एक समस्या है। वहीं, एक बार में अधिक भोजन करना, अल्कोहल का सेवन और मसालेदार भोजन करने की वजह से अपच की समस्या हो सकती है (3)। इस समस्या में भी सौंफ का पानी फायदेमंद हो सकता है। दरअसल, एक शोध के अनुसार सौंफ का उपयोग पाचन में मददगार हो सकता है और साथ ही पेट फूलने की समस्या को भी कम करने मदद कर सकता है। इसके अलावा, इसमें पाया जाने वाला गैस्ट्रोप्रोटेक्टिव प्रभाव पेट के अल्सर से बचाव का काम कर सकता है (4)। इन तथ्यों के आधार पर हम सौंफ के पानी को पाचन के लिए और अपच की समस्या में लाभकारी मान सकते हैं।

3. मासिक धर्म और रजोनिवृत्ति में लाभकारी

मासिक धर्म के दौरान भी सौंफ के पानी के लाभ देखे जा सकते हैं। दरअसल, एनसीबीआई (National Center for Biotechnology Information) की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध में साफ तौर से जिक्र मिलता है कि सौंफ का उपयोग पीरियड्स के दौरान दर्द से राहत दिलाने में मदद कर सकता है (5)। इसके अलावा, रजोनिवृत्ति (menopause) के दौरान भी इसके लाभ देखे जा सकते हैं। एक रिसर्च में पाया गया कि महिलाओं में रजोनिवृत्ति के लक्षणों को कम करने में सौंफ का सेवन मददगार हो सकता है (6)। फिलहाल, इस विषय पर अभी और शोध की आवश्यकता है।

पढ़ना जारी रखें

4. जी मिचलाने की समस्या में

सौंफ का उपयोग मतली के प्रभाव को शांत करने में फायदेमंद हो सकता है। दरअसल, इसमें मतली को कम करने वाले प्रभाव पाए जाते हैं (7)। इसके अलावा, एक अन्य रिसर्च के अनुसार सौंफ का उपयोग जी मिचलाने के साथ ही उल्टी की समस्या में किया जा सकता है (8)। इस आधार पर हम कह सकते हैं कि सौंफ का पानी जी मिचलाने की समस्या के दौरान लाभकारी साबित हो सकता है।

5. ब्लड शुगर कंट्रोल

मधुमेह की समस्या से बचाव और इसमें आराम पाने में भी सौंफ के पानी लाभकारी हो सकता है। दरअसल, एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध से पता चलता है कि सौंफ में एंटीडायबिटिक प्रभाव पाया जाता है, जो मधुमेह के जोखिम को कम करने में मददगार हो सकता है (9)। इस आधार पर मधुमेह के लिए सौंफ के पानी को फायदेमंद माना जा सकता है।

6. रक्त को शुद्ध करने में सहायक

एक अध्ययन के अनुसार सौंफ का सेवन रक्त को साफ करने में मददगार हो सकता है। इस शोध में सौंफ को एक अच्छा ब्लड प्यूरीफायर माना गया है। वहीं, इसका सेवन शरीर को डिटॉक्स करने का काम भी कर सकता है (10)। इस तथ्य के आधार पर सौंफ के पानी को रक्त को शुद्ध करने में सहायक माना जा सकता है।

पढ़ना जारी रखें

नीचे जानिए सौंफ के पानी का सेवन करने का तरीका।

सौंफ का पानी पीने का तरीका

सौंफ के पानी का सेवन निम्नलिखित तरीके से किया जा सकता है :

  • मोटापे की समस्या के लिए सौंफ के बीजों को पानी में उबालकर और फिर इसे छानकर सेवन किया जा सकता है (1)।
  • इसके अलावा, रात भर एक गिलास पानी में सौंफ के बीजों को भिगोकर और फिर अगली सुबह छानकर सौंफ के पानी का सेवन किया जा सकता है।
  • सौफ की चाय बनाकर भी सेवन कर सकते हैं। स्वाद के लिए इसमें थोड़ा शहद मिला सकते हैं।

मात्रा और सेवन का समय :

एक शोध में वजन नियंत्रण के लिए रोजाना दो कप सौंफ के पानी के सेवन की सलाह दी गई है (1)। वहीं, मोटापे के लिए इसके सेवन का सही समय क्या होना चाहिए, इससे जुड़े वैज्ञानिक शोध का अभाव है। इसलिए, इससे संबंधित जानकारी डॉक्टर से जरूर लें।

वहीं, व्यक्ति की उम्र और उसके स्वास्थ्य के अनुसार इसके सेवन की सही मात्रा में बदलाव हो सकता है, इसलिए इससे जुड़ी जानकारी भी चिकित्सक से जरूर लें।

पढ़ना जारी रखें

नीचे जानिए सौंफ का पानी बनाने की विधि।

सौंफ का पानी बनाने की विधि

घर में ही सौंफ का पानी आसानी से बनाया जा सकता है। यहां हम सौंफ का पानी बनाने का आसान तरीका बता रहे हैं।

सामग्री :

  •  एक छोटा चम्मच सूखे सौंफ के बीज
  •  एक गिलास पानी

विधि : 

  • सबसे पहले गैस पर एक पैन में पानी उबलने के लिए रख दें।
  • पानी जब थोड़ा उबल जाए, तो इसमें सौंफ के बीज डाल दें।
  • इसे लगभग 20 मिनट तक मध्यम आंच पर उबाल लें।
  • इसके बाद इसे छान लें और ठंडा होने के लिए रख दें।
  • ठंडा होने के बाद इसका सेवन किया जा सकता है।
  • इसके अलावा, एक चम्मच सौंफ काे एक गिलास पानी में रातभर भिगोकर रख दें और अगली सुबह पानी को छानकर सेवन करें।

पढ़ते रहें

अंत में जानिए सौंफ का पानी पीने के नुकसान के बारे में।

सौंफ का पानी पीने के नुकसान – Side Effects of Drinking Fennel Seed Water In Hindi

सौंफ का पानी पीने के नुकसान से जुड़े सटीक वैज्ञानिक शोध का अभाव है। हालांकि, सावधानी के लिए हम नीचे इसके कुछ संभावित नुकसान बता रहे हैं :

  • जिन्हें लो ब्लड शुगर की समस्या है, उन्हें इसके सेवन से बचना चाहिए। दरअसल, सौंफ में ब्लड शुगर को कम करने वाले गुण पाए जाते हैं। ऐसे में, जिनके रक्त शर्करा का स्तर पहले से ही कम है, उन व्यक्तियों में सौंफ का पानी ब्लड शुगर को और भी कम कर सकता है (9)।
  • सौंफ में ड्यूरेटिक यानी मूत्रवर्धक प्रभाव पाया जाता है (11)। ऐसे में सौंफ के पानी का अधिक सेवन बार-बार यूरिन पास की समस्या का कारण बन सकता है।

तो दोस्तों, ये थे सौंफ के पानी के फायदे। आप बताए गए तरीकों से सौंफ का पानी बनाकर इससे होने वाले फायदे हासिल कर सकते हैं। वहीं, अगर आप या आपके परिवार का कोई सदस्य लेख में बताई किसी समस्या से पीड़ित है, तो डॉक्टरी परामर्श पर सौंफ के पानी का सेवन किया और कराया जा सकता है। वहीं, इसकी सीमित मात्रा को ही उपयोग में लाएं, क्योंकि इसका अधिक सेवन बताए गए दुष्प्रभावों का कारण बन सकता है। नीचे पढ़ें विषय से जुड़े कुछ जरूरी सवालों के जवाब।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल :

क्या मैं सौंफ का पानी रोजाना पी सकती हूं?

हां, सीमित मात्रा में सौंफ के पानी का सेवन रोजाना किया जा सकता है।

क्या सौंफ का पानी वजन कम करने में मददगार है?

हां, सौंफ का पानी भूख को नियंत्रित कर सकता है, जिससे वजन को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है (2)। हालांकि, इसके साथ रोजाना व्यायाम और सही खान-पान का होना भी जरूरी है।

क्या सौंफ का पानी त्वचा के लिए लाभदायक है?

हां, सौंफ का पानी त्वचा के लिए भी लाभकारी हो सकता है। दरअसल, सौंफ में एंटीएजिंग गुण होता है, जो त्वचा पर उम्र बढ़ने के प्रभाव को कम करने में मददगार हो सकता है (12)। इस आधार पर हम त्वचा के लिए सौंफ के पानी को लाभकारी मान सकते हैं।

Sources

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.
सरल जैन ने श्री रामानन्दाचार्य संस्कृत विश्वविद्यालय, राजस्थान से संस्कृत और जैन दर्शन में बीए और डॉ. सी. वी. रमन विश्वविद्यालय, छत्तीसगढ़ से पत्रकारिता में बीए किया है। सरल को इलेक्ट्रानिक मीडिया का लगभग 8 वर्षों का एवं प्रिंट मीडिया का एक साल का अनुभव है। इन्होंने 3 साल तक टीवी चैनल के कई कार्यक्रमों में एंकर की भूमिका भी निभाई है। इन्हें फोटोग्राफी, वीडियोग्राफी, एडवंचर व वाइल्ड लाइफ शूट, कैंपिंग व घूमना पसंद है। सरल जैन संस्कृत, हिंदी, अंग्रेजी, गुजराती, मराठी व कन्नड़ भाषाओं के जानकार हैं।

ताज़े आलेख