सेब व दूध के फायदे और नुकसान – Amazing Benefits of Apple and Milk in Hindi

Written by

आपने ये कहावत तो सुनी ही होगी “एन एप्पल अ डे कीप्स द डॉक्टर अवे” यानी रोज एक सेब खाओ और स्वस्थ रहो। सेब के स्वास्थ्य लाभ इतने हैं कि इसे बीमारियों से बचाव करने के साथ ही स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं में भी लाभदायक माना गया है। वहीं, यदि बात करें सेब और दूध को एक साथ लेने की, ताे दोनों का एक साथ सेवन सेब और दूध दोनों के फायदों को कई गुणा बढ़ा सकता है। इस बात को वैज्ञानिक आधार के साथ स्पष्ट करने के लिए स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम सेब और दूध के फायदे बता रहे हैं। साथ ही यह भी जानेंगे कि सेब और दूध का उपयोग किस प्रकार से किया जा सकता है। इसके अलावा, आप यह भी जानेंगे कि लापरवाही बरतने पर सेब और दूध के नुकसान कैसे हो सकते हैं।

स्क्रॉल करें

लेख की शुरुआत करते हैं सेब और दूध के फायदे की जानकारी के साथ।

सेब और दूध के फायदे – Benefits of Apple and Milk in Hindi

सेब और दूध में पाए जाने वाले पोषक तत्व और औषधीय गुण इन्हें सेहत के लिए कई प्रकार से फायदेमंद बनाते हैं। इसलिए, यहां हम सेब और दूध के फायदे बता रहे हैं। सेहत के लिए सेब और दूध के उपयोग से होने वाले फायदों को जानने के पहले यह जानना जरूरी है कि इनका उपयोग बीमारियों का इलाज नहीं है, लेकिन बीमारियों के लक्षणों को कम करने और उनके उपचार में मददगार जरूर हो सकता है। साथ ही अगर कोई गंभीर रूप से बीमार है, तो उसे घरेलू नुस्खों की जगह डॉक्टर से चेकअप करवाना चाहिए।

1. वजन कम करने में

शरीर में अतिरिक्त चर्बी जमा होने से मोटापे की समस्या हो सकती है (1)। वहीं, दूध और सेब का सेवन इस समस्या को कुछ हद तक कम करने में मददगार हो सकता है। एनसीबीआई (National Center for Biotechnology Information) की वेबसाइट पर प्रकाशित एक रिसर्च के अनुसार सेब में पॉलीफेनोल्स होते हैं। इन पॉलिफेनोल्स में एंटी-ओबेसिटी प्रभाव पाया जाता है, जो शरीर की चर्बी को कम करने में मदद कर सकते हैं। इस शोध में कहा गया है कि 4-12 हफ्ते तक सेब खाने से शरीर से मोटापा बढ़ाने वाले टिश्यू कम हो सकते हैं और वजन कम करने में मदद मिल सकती है (2)

एक अन्य शोध में पाया गया कि दूध और डेयरी उत्पाद में प्रोटीन की अच्छी मात्रा पाई जाती है। प्रोटीन भोजन के खाने की इच्छा को कम करके एनर्जी की खपत को रोकता है, इससे शरीर का फैट कम हो सकता है। साथ ही वजन घटाने या फिर उसे नियंत्रित रखने में मदद मिल सकती है (3)

2. कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करे

रक्त में मौजूद कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने के लिए भी सेब और दूध का उपयोग लाभदायक हो सकता है। इस संबंध में एनसीबीआई की साइट पर एक रिसर्च पेपर उपलब्ध है। इस रिसर्च पेपर में बताया गया है कि सेब में मौजूद कोलेस्ट्रॉल लाेअरिंग प्रभाव कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद कर सकता है। इसकी पुष्टि करने के लिए कोलेस्ट्रॉल से ग्रस्त कुछ चूहों को सेब खाने के लिए दिया गया। बाद में जांचा गया, तो उनका खराब कोलेस्ट्रॉल (LDL) कम हुआ और अच्छे कोलेस्ट्रॉल (HDL) का स्तर बेहतर हुआ (4)

वहीं, होल मिल्क लो फैट युक्त होता है। इस प्रकार का दूध अच्छे कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ाने में मदद कर सकता है, लेकिन हानिकारक कोलेस्ट्रॉल पर ज्यादा कोई असर नहीं दिखाता है। इस बात की पुष्टि एनसीबीआई की ओर से प्रकाशित शोध पत्र से होती है (5)

3. मधुमेह की समस्या में

रक्त में शुगर की अतिरिक्त मात्रा के कारण मधुमेह की समस्या हो सकती है (6)। इस समस्या को नियंत्रित करने के लिए दूध और सेब खाने के फायदे हो सकते हैं। स्पेन की एक यूनिवर्सिटी के ओर से किए गए रिसर्च के अनुसार, सेब के पॉलीफेनोल्स में एंटीडायबिटिक प्रभाव होता है। यह गुण ग्लूकोज अवशोषण को रोक कर हाइपरग्लाइसीमिया यानी रक्त में ग्लूकोज की अधिकता को कम करने में मददगार हाे सकता है। यह रिसर्च पेपर एनसीबीआई की साइट पर उपलब्ध है (7)

एक अन्य रिसर्च में इस बात की पुष्टि की गई है कि पाश्चुरीकृत दूध में एंटीडायबिटिक प्रभाव होता है। यह प्रभाव मधुमेह की समस्या को कुछ हद तक नियंत्रित करने में मददगार हो सकता है। यह रिसर्च एक कोरियाई यूनिवर्सिटी ने चूहों पर किया है, जिन्हें करीब 6 हफ्ते तक पाश्चुरीकृत दूध का सेवन कराया गया। इसके बाद उनके मधुमेह के स्तर में कुछ कमी पाई गई। इस रिसर्च को एनसीबीआई की साइट पर प्रकाशित किया गया है (8)

4. हड्डियों की मजबूती के लिए

हड्डियों से जुड़ी हुई समस्या को दूर कर उन्हें मजबूत बनाने में भी सेब दूध के फायदे नजर आते हैं। एक अध्ययन के मुताबिक सेब में बायोएक्टिव कंपाउंड और एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव होता है। ये दोनों प्रभाव मिलकर हड्डियों की कमजोरी जैसी समस्या को कम कर उन्हें मजबूत बनाने में लाभदायक हो सकते हैं (9)। इसके साथ ही दूध में कैल्शियम, जिंक, विटामिन-डी, विटामिन-के व मैग्नीशियम जैसे महत्वपूर्ण पोषक तत्व होते हैं। ये सभी पोषक तत्व हड्डियों के विकास के लिए जरूरी माने गए हैं (10)

5. दांतों को स्वस्थ रखे

अच्छी सेहत के साथ ही सेब और दूध का सेवन दांतों को स्वस्थ रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। रिसर्च में इस बात की पुष्टि की गई है कि दूध में एंटी-कारियोजेनिक प्रभाव होता है। एंटी-कारियोजेनिक प्रभाव दांतों की कई समस्याओं में लाभदायक माना गया है, जैसे कि दांतों का क्षय, दांतों की सड़न का कारण बनने वाले बैक्टीरिया को रोकना और सम्पूर्ण मौखिक स्वास्थ्य को बनाए रखना (11)। साथ ही सेब का सेवन भी दांतों के लिए लाभदायक माना गया है। इसमें लार में मौजूद एल्कलाइन को उत्तेजित करने वाला गुण होता है, जो कार्बोहाइड्रेट के सेवन के बाद दांतों के प्लाक में बनने वाले एसिड को बेअसर करता है। इससे दांत कमजोर होने से बचते हैं (12)

पढ़ते रहें यह लेख

लेख में आगे हम सेब और दूध के उपयोग के तरीके बता रहे हैं।

सेब और दूध का उपयोग – How to Use Apple and Milk in Hindi

दूध व सेब खाने के फायदे जानने के बाद बारी है यह जानने की कि सेब और दूध का उपयोग किस-किस प्रकार से किया जा सकता है। नीचे हम उन्हीं तरीकों के बारे में बता रहे हैं।

  • दूध में सेब को मिलाकर इसका एप्पल शेक बनाया जा सकता है।
  • एप्पल मिल्क की आइसक्रीम बनाकर भी इसका सेवन किया जा सकता है।
  • एप्पल जूस में दूध को मिलाकर भी इसे पिया जा सकता है।
  • सेब और दूध में शक्कर के स्थान पर शहद का उपयोग कर इसे और गुणकारी बनाया जा सकता है।
  • सेब और दूध को मिलाकर इसकी खीर खाई जा सकती है।
  • दूध व सेब की मिठाई भी कई स्थानों प्रचलित है।

मात्रा: यदि मात्रा की बात करें, तो रोजाना एक सेब व एक गिलास दूध का सेवन किया जा सकता है। प्रत्येक व्यक्ति की उम्र और वजन के हिसाब से इसकी मात्रा अलग-अलग हो सकती है, जिसके बारे में डॉक्टर से सलाह लेना फायदेमंद हो सकता है।

पढ़ना जारी रखें

लेख के इस भाग में हम जानते हैं सेब और दूध के नुकसान के बारे में।

सेब और दूध के नुकसान – Side Effects of Apple and Milk in Hindi

सेब और दूध में मौजूद गुण और पोषक तत्व इन्हें सेहत के लिए फायदेमंद बनाते हैं, लेकिन कुछ परिस्थितियों में सेब और दूध के नुकसान भी हो सकते हैं। इस बारे में हम यहां बता रहे हैं।

  • कुछ लोगों को सेब का सेवन करने पर एलर्जी हो सकती है, जिसके कारण होंठों, जीभ व गले में सूजन की समस्या हो सकती है (13)
  • सेब के कारण कुछ लोगों को हे फीवर भी हो सकता है। यह एक प्रकार की एलर्जी है, जिसमें आंखों व नाक से पानी आने के साथ ही त्वचा पर खुजली होती है (14)
  • सेब के सेवन से चेहरे पर सूजन भी हो सकती है, जिसे तीव्रग्राहिता (Anaphylaxis) कहते हैं (15)
  • दूध में मौजूद लैक्टोज के साथ कुछ लोगों को लैक्टोज इंटोरलेंट की समस्या हो सकती है। इसके कारण दस्त, ब्लोटिंग या गैस की परेशानी हो सकती है (16)
    लैक्टोज के कारण दूध का ज्यादा सेवन कूल्हे के फ्रैक्चर के जोखिम को बढ़ा सकता है (17)

बेशक, आपने सेब का सवेन कई बार किया होगा। साथ ही दूध भी रोज पीते होंगे, लेकिन इन दोनों का कॉम्बिनेशन इस प्रकार लाभदायक है, यह जानकारी शायद ही होगी। अब जब आप जान चुके हैं, तो आज ही इनका एकसाथ सेवन करके देखें। हमें उम्मीद है कि आपको जरूर फायदा होगा। हां, अगर किसी को स्वास्थ्य संबंधी कोई समस्या है, तो वो पहले आहार विशेषज्ञ की सलाह ले कि उसे सेब व दूध एकसाथ लेना चाहिए या नहीं। सेहत से जुड़ी ऐसी ही और रोचक जानकारी के लिए आप स्टाइलक्रेज के साथ जुड़े रहें और हमारे आर्टिकल पढ़ते रहें।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

क्या रोजाना सेब और दूध का सेवन किया जा सकता है?

हां, डॉक्टर की सलाह पर रोजाना दूध और सेब का सेवन किया जा सकता है।

क्या रात में सेब और दूध का सेवन कर सकते हैं?

हां, रात को सोने के पहले सेब और दूध का सेवन कर सकते हैं, लेकिन इस विषय में डॉक्टर की सलाह ले लेना बेहतर रहेगा।

क्या सेब और दूध वजन कम करने में फायदेमंद होते हैं?

हां, दूध और सेब दोनों का एक साथ सेवन वजन को कम करने में मददगार हो सकते हैं। इस संबंध में हमने ऊपर लेख में विस्तार से बताया है (2) (3)

Sources

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. Obesity
    https://www.who.int/health-topics/obesity#tab=tab_1
  2. Weight Loss Associated With Consumption of Apples: A Review
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/29630462/
  3. Milk and dairy products: good or bad for human health? An assessment of the totality of scientific evidence
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5122229/#CIT0044/
  4. Apple phytochemicals and their health benefits
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC442131/#targetText=In%20the%20laboratory%2C%20apples%20haveof%20which%20are%20strong%20antioxidants.
  5. Effect of whole milk compared with skimmed milk on fasting blood lipids in healthy adults: a 3-week randomized crossover study
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/29229955/
  6. Hyperglycemia
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK430900/
  7. Apple polyphenol extract improves insulin sensitivity in vitro and in vivo in animal models of insulin resistance
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4852413/
  8. Anti-diabetic Effect of Fermented Milk Containing Conjugated Linoleic Acid on Type II Diabetes Mellitus
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4869542/
  9. Fruits and dietary phytochemicals in bone protection
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/23244535/
  10. Milk and dairy products: good or bad for human health? An assessment of the totality of scientific evidence
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5122229/#CIT0044/
  11. Milk helps build strong teeth and promotes oral health
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/16900979/
  12. Effect of chewing an apple on dental plaque removal and on salivary bacterial viability
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6051571/
  13. Structure of the Major Apple Allergen Mal d 1
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5334782/
  14. The oral allergy syndrome
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/3264668/
  15. Allergy to Rosaceae fruits without related pollinosis
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/9438478/
  16. Lactose Intolerance
    https://www.niddk.nih.gov/health-information/digestive-diseases/lactose-intolerance/all-content
  17. Milk intake and risk of mortality and fractures in women and men: cohort studies
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4212225/
Was this article helpful?
The following two tabs change content below.
अर्पिता ने पटना विश्वविद्यालय से मास कम्यूनिकेशन में स्नातक किया है। इन्होंने 2014 से अपने लेखन करियर की शुरुआत की थी। इनके अभी तक 1000 से भी ज्यादा आर्टिकल पब्लिश हो चुके हैं। अर्पिता को विभिन्न विषयों पर लिखना पसंद है, लेकिन उनकी विशेष रूचि हेल्थ और घरेलू उपचारों पर लिखना है। उन्हें अपने काम के साथ एक्सपेरिमेंट करना और मल्टी-टास्किंग काम करना पसंद है। इन्हें लेखन के अलावा डांसिंग का भी शौक है। इन्हें खाली समय में मूवी व कार्टून देखना और गाने सुनना पसंद है।

ताज़े आलेख