सामग्री और उपयोग

सेंधा नमक के फायदे, उपयोग और नुकसान – Epsom Salt (Sendha Namak) Benefits, Uses and Side Effects in Hindi

by
सेंधा नमक के फायदे, उपयोग और नुकसान – Epsom Salt (Sendha Namak) Benefits, Uses and Side Effects in Hindi Hyderabd040-395603080 July 16, 2019

क्या आपने कभी ध्यान दिया कि सैलून में आपके पेडीक्योर टब में क्या होता है? जब आपके पैरों में दर्द होता है या सूजन आती है, तो घर के बड़े-बुजुर्ग एक खास नमक के पानी में पैर डालकर रखने के लिए क्यों कहते थे? क्या आप जानते हैं कि यह कौन सा नमक होता है? अगर आपको लगता है कि यह हर रोज खाने में उपयोग होने वाला नमक है या रॉक साल्ट है, तो आप गलत हैं। इस खास नमक को एप्सम सॉल्ट कहते हैं। हालांकि, इसे सेंध या सेंधा नमक भी कहते हैं, लेकिन यह रॉक सॉल्ट यानी व्रत में खाने वाला सेंधा नमक नहीं है। इस लेख में हम सेंधा नमक के फायदे बताएंगे, जिसके बारे में शायद कम लोग ही जानते हैं। इस आर्टिकल में हम आपको सेंधा नमक के गुण के बारे में विस्तार से बताएंगे।

सबसे पहले सवाल यह उठता है कि सेंधा नमक क्या है?

सेंधा नमक क्या है – What is Epsom Salt in Hindi

एप्सम सॉल्ट (epsom salt in hindi) यानी सेंधा नमक को रासायनिक रूप से मैग्नीशियम सल्फेट कहा जाता है। अगर शरीर में मैग्नीशियम की कमी हो जाए, तो शरीर में कई तरह की समस्याएं हो सकती हैं, जैसे – दिल की बीमारी, डायबिटीज और ऐसी ही कई अन्य परेशानियां। बेशक, सेंधा नमक खाना लाभकारी है, लेकिन उससे भी ज्यादा असरदार इसे पानी में डालकर नहाने या स्प्रे के रूप में लगाने से हो सकता है (1)। सेंधा नमक के फायदे जानने के लिए पढ़ते रहें यह आर्टिकल।

सेंधा नमक के फायदे – Benefits of Epsom Salt in Hindi

1. तनाव को कम करने के लिए सेंधा नमक के फायदे

आजकल की जीवनशैली में लोगों पर काम का दबाव इतना है कि हर कोई तनाव की समस्या से जूझ रहा है। इस स्थिति में सेंधा नमक के पानी से नहाने या फ्लोटेशन रेस्ट (Floatation-REST) की थेरेपी लेने पर तनाव काफी हद तक कम हो सकता है। इस थेरेपी के दौरान पीड़ित व्यक्ति को नमक वाले गुनगुने पानी से भरे टैंक में बैठाया जाता है(2) (3)।

इस तरह उपयोग करें :

हफ्ते में दो से तीन बार नहाने का पानी गर्म करके उसमें लगभग दो कप सेंधा नमक डालकर उससे नहाएं। ध्यान रहे पानी गर्म नहीं, बल्कि गुनगुना होना चाहिए।

2. पैर दर्द, मांसपेशियों में खिंचाव व चोट के लिए सेंधा नमक के फायदे

Muscle Strain ke liye Sendha Namak Pinit

Shutterstock

पूरे दिन घर व ऑफिस के बीच भागादौड़ी और अन्य कामों के बाद रात को पैर दर्द की शिकायत कई लोगों को होती है। ऐसे में अगर आप गर्म पानी में सेंधा नमक डालकर उससे नहाते हैं, तो आराम मिलता है। नहाने की जगह आप रात को गर्म पानी में सेंधा नमक डालकर अपने पैरों को कुछ देर पानी में डालकर रख सकते हैं। इससे न सिर्फ आपको पैर दर्द से आराम मिलेगा, बल्कि अगर पैर में कोई फंगल इन्फेक्शन है, तो उससे भी राहत मिलेगी। इतना ही नहीं सेंधा नमक के पानी से मांसपेशियों में खिंचाव, ऐंठन या दर्द की समस्या से भी काफी आराम मिल सकता है (4) (5)। आप इसे होम पेडीक्योर की तरह भी उपयोग कर सकते हैं। इसमें मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण चोट और उसके दर्द को भी कम कर सकते हैं (6)।

नोट : अगर आपके पैरों में शुगर की वजह से घाव या छाले हैं, तो आपके लिए यह करना उचित नहीं होगा। बेहतर होगा कि आप अपने डॉक्टर से एक बार पूछ लें।

3. इंसुलिन उत्पादन और मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए सेंधा नमक के फायदे

आजकल कई लोग डायबिटीज की समस्या से परेशान हैं। लापरवाही बरतने पर यह बीमारी जानलेवा साबित हो सकती है। कई बार शरीर में मैग्नीशियम की कमी भी डायबिटीज का कारण हो सकती है। जिन्हें डायबिटीज होती है, उनके शरीर से मैग्नीशियम यूरिन के जरिए बाहर निकल जाता है। ऐसा होने से टिश्यू इंसुलिन के प्रति असंवेदनशील हो जाते हैं। मैग्नीशियम की कमी से इंसुलिन हार्मोन के स्तर में कमी हो सकती है, जिस कारण डायबिटीज की समस्या और बढ़ सकती है। इसलिए, सेंधा नमक के सेवन से इंसुलिन प्रतिरोध कम हो सकता है (7) (8) (9)।

इन जटिलताओं के कारण ग्लूकोज रक्त में बना रहता है और मधुमेह से पीड़ित व्यक्ति की अवस्था ज्यादा बिगड़ जाती है। ऐसे में सेंधा नमक के सेवन से डायबिटीज के मरीजों को काफी हद तक फायदा हो सकता है, लेकिन खुराक और सेवन का तरीका भी महत्वपूर्ण है। इसलिए, बेहतर होगा कि इसके सेवन से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

4. पेट साफ करने के लिए

Stomach ke liye Sendha Namak Pinit

Shutterstock

अगर पेट ठीक नहीं है, तो उससे कई और परेशानियां शरीर में होने लगती हैं। अगर आपको पेट दर्द व ऐंठन के कारण रात में नींद नहीं आती है, तो सेंधा नमक का इस्तेमाल कर सकते हैं। अगर आप चाहते हैं कि आप कब्ज या पेट की परेशानियों से बचे रहें, तो आप सेंधा नमक का सेवन कर सकते हैं। सेंधा नमक में लैक्सेटिव यानी पेट साफ करने के गुण मौजूद होते हैं (10)। इसके सेवन से कब्ज और पेट की समस्या से काफी हद तक आराम मिल सकता है।

5. स्प्लिंटर, पैर के नाखून में फंगस या इंफ्लमेशन

लकड़ी का काम करने वाले लोगों को अक्सर स्प्लिंटर की समस्या हो जाती है। कई बार यह समस्या कष्टदायी भी हो जाती है। वहीं, कुछ लोगों को पैरों के नाखून में संक्रमण, फंगस या सूजन की समस्या हो जाती है। कई बार यह समस्या दवाई से भी ठीक नहीं होती है। इस स्थिति में घरेलू उपाय लाभकारी हो सकता है (5)। घरेलू उपाय के तौर पर आप सेंधा नमक का इस्तेमाल कर सकते हैं। आप गर्म पानी में सेंधा नमक डालकर उसमें हाथ या पैर जो भी प्रभावित अंग है, उसे करीब 30 मिनट तक डाले रखें। इससे आपको आराम मिलेगा। अगर शरीर में मैग्नीशियम का स्तर सही और संतुलित हो, तो संक्रमण, सूजन व अन्य समस्याओं से बचाव हो सकता है (11) (12)। इससे त्वचा हाइड्रेट रहती है और त्वचा संबंधित सूजन से भी बचाव हो सकता है (13)।

6. वजन कम करने के लिए सेंधा नमक के फायदे

Weight Loss ke liye Sendha Namak Pinit

Shutterstock

वजन बढ़ने की शिकायत आजकल हर किसी को होती है। इसका सबसे बड़ा कारण गलत जीवनशैली और खराब खान-पान है। मोटापे से कई और शारीरिक समस्याएं भी होने लगती हैं। ऐसे में वक्त रहते इस पर ध्यान देना जरूरी है। इसके लिए न सिर्फ अपनी जीवनशैली में सुधार करें, जैसे – व्यायाम व योग करें, साथ ही खानपान में भी सुधार करें। वहीं, इसी के साथ सेंधा नमक का सेवन भी किया जाए, तो वजन कम करने में काफी मदद मिल सकती है।

7. पाचन के लिए सेंधा नमक

गलत खान-पान के कारण कई लोगों को पेट और पाचन से संबंधित समस्याएं होती हैं। पाचन शक्ति को सुधारने के लिए आप सेंधा नमक का सेवन कर सकते हैं। इसमें लैक्सेटिव यानी पेट साफ करने का गुण होता है, जिससे कि पाचन शक्ति में सुधार होगा (10)।

8. दिल के स्वास्थ्य के लिए सेंधा नमक के फायदे

Heart Health ke liye Sendha Namak Pinit

Shutterstock

अब तनाव भरी जिंदगी में दिल को स्वस्थ रखना मुश्किल हो गया है। ऐसे में संतुलित जीवनशैली और अच्छा खान-पान का पालन करना जरूरी है। साथ ही कुछ घरेलू नुस्खे भी आजमाने चाहिएं, उन्हीं में से एक है सेंधा नमक का सेवन। यह दिल की सुरक्षा करता है। यह दिल के दौरे, कोलेस्ट्रॉल, उच्च रक्तचाप और अन्य बीमारियों से बचाव कर सकता है। इसलिए, आप अपने आहार में सेंधा नमक को जरूर शामिल करें (14)।

9. सिरदर्द के लिए सेंधा नमक के फायदे

आजकल कई लोगों को सिरदर्द और माइग्रेन की समस्या होती है। काम का तनाव, खराब जीवनशैली व गलत खान-पान की वजह से यह परेशानी और बढ़ने लगती है। इसलिए, जब भी सिरदर्द की समस्या हो, तो सेंधा नमक के पानी से नहाएं, इससे काफी आराम मिल सकता है। इसके अलावा, कई बार मैग्नीशियम सल्फेट को इंजेक्शन के जरिए भी दिया जाता है, जिससे सिरदर्द की समस्या से आराम मिल सकता है (15)।

10. दर्द को कम करने के लिए सेंधा नमक

Pain ke liye Sendha Namak Pinit

Shutterstock

एक वक्त था जब एक उम्र के बाद ही शरीर में दर्द की समस्याएं होती थीं, लेकिन आज ऐसा नहीं है। अभी के वक्त में बीमारियां और दर्द उम्र देखकर नहीं आते हैं। आजकल कई लोगों को पेट दर्द, मांसपेशियों में दर्द व ऐंठन की परेशानी होती है। ऐसे में सेंधा नमक से नहाने या उसके सेवन से दर्द की समस्या काफी हद तक कम हो सकती है (16)।

11. सेंधा नमक डिटॉक्सीफिकेशन के लिए

गलत खान-पान के कारण हमारे शरीर में कई विषैले तत्व जमा हो जाते हैं। अगर इनको बाहर न निकाला गया, तो कई तरह की शारीरिक समस्याएं शुरू हो जाती है। इसलिए, शरीर को डिटॉक्सीफिकेशन की जरूरत होती है। इस स्थिति में सेंधा नमक बहुत फायदेमंद हो सकता है। आप इसका सेवन कर सकते हैं या हफ्ते में कम से कम एक बार सेंधा नमक के पानी से नहा भी सकते हैं (6)।

12. त्वचा के लिए सेंधा नमक

Skin ke liye Sendha Namak Pinit

Shutterstock

हर कोई अपनी त्वचा का ध्यान रखता है, क्योंकि स्वस्थ त्वचा आपके व्यक्तित्व को और निखारती है। इसके लिए लोग तरह-तरह की क्रीम, मेकअप व उपचार का सहारा लेते हैं। इनका असर कुछ वक्त तक ही रहता है और बाद में त्वचा फिर से बेजान लगने लगती है। ऐसे में घरेलू उपचार फायदेमंद साबित होते हैं और सेंधा नमक उन्हीं में से एक है। इससे न सिर्फ त्वचा एक्सफोलिएट होती है, बल्कि साफ भी होती है। आप चेहरा साफ या एक्सफोलिएट करने के लिए आधा चम्मच सेंधा नमक को अपने क्लींजिंग क्रीम के साथ उपयोग कर सकते हैं। इसे लगाकर हल्के-हल्के हाथों से मालिश कर चेहरे को ठंडे पानी से धो लें (6)।

चेहरे को साफ करने के लिए सेंधा नमक उपयोग करने की विधि :

अगर आपको अपने चेहरे को साफ करना है, तो आप अपनी क्लींजिंग क्रीम में सेंधा नमक मिलाकर उसे अपने चेहरे पर स्क्रब की तरह लगाएं और फिर ठंडे पानी से धो लें।

13. सनबर्न के लिए सेंधा नमक

जैसे-जैसे गर्मी बढ़ती है, उसका असर हमारी त्वचा पर भी पड़ने लगता है। गर्मियों में सबसे ज्यादा सनबर्न की समस्या होती है, जो कई बार काफी कष्टदायी भी होती है। ऐसे में अगर सनबर्न से राहत चाहिए, तो सेंधा नमक बहुत लाभकारी हो सकता है। इसके उपयोग से सनबर्न की परेशानी कम हो सकती है (17)।

सामग्री :
  • दो चम्मच सेंधा नमक
  • एक कप गर्म पानी
  • स्प्रे बोतल
  • रूई
बनाने और उपयोग करने की विधि :
  • एक कटोरी गर्म पानी में सेंधा नमक को मिलाकर मिश्रण तैयार कर लें।
  • अब इस मिश्रण को ठंडा होने के लिए छोड़ दें।
  • ठंडा होने के बाद इसे स्प्रे बोतल में डाल लें और जहां-जहां आपको सनबर्न है, वहां-वहां स्प्रे करें।
  • आप चाहें तो रूई से भी लगा सकते हैं।
  • फिर थोड़ी देर बाद ठंडे पानी से धो लें।

14. बालों के लिए सेंधा नमक

Hair ke liye Sendha Namak Pinit

Shutterstock

मजबूत, घने व चमकदार बाल लगभग हर किसी की चाहत होती है, लेकिन व्यस्त दिनचर्या के कारण बालों की देखभाल करना मुश्किल हो जाता है। इस वजह से कई महिलाएं अपने बाल छोटे करा लेती हैं। हालांकि, महिलाएं बालों की चमक बढ़ाने के लिए तरह-तरह के शैंपू व स्टाइल ट्रीटमेंट भी उपयोग करती हैं, लेकिन इनका असर बस कुछ वक्त तक ही रहता है। ऐसे में सेंधा नमक बालों के लिए गुणकारी हो सकता है। इससे बाल घने व स्वस्थ रहेंगे और बालों में नई चमक आएगी। आप इसे बालों के स्प्रे की तरह भी उपयोग कर सकते हैं (6)।

कैसे लगाएं :

एक कटोरी में कंडीशनर और सेंधा नमक सामान मात्रा में लेकर उसका मिश्रण बना लें।

अब इस पेस्ट को बालों की जड़ों से लेकर सिरे तक लगाकर दो मिनट के लिए छोड़ दें।

फिर ठंडे पानी से बाल धो लें।

नोट : अगर आपके बाल कलर किए हुए हैं, तो इसे लगाने से बचें या लगाने से पहले किसी विशेषज्ञ की राय लें, क्योंकि सेंधा नमक में मैग्नीशियम होता है, जिससे कलर बालों पर प्रभाव पड़ सकता है और बालों का रंग हल्का पड़ सकता है।

जरूरी जानकारी : कोशिश करें कि सेंधा नमक को खाने के बजाय उसका बाहरी तरीके से उपयोग करें, क्योंकि इसमें मैग्नीशियम की मात्रा अधिक होती है और अचानक इसके रक्त में घुलने से समस्या हो सकती है।

15. रूसी के लिए सेंधा नमक

स्कैल्प में खुजली या डैंड्रफ की समस्या से भी बाल खराब होने लगते हैं। हालांकि, कई लोग एंटी-डैंड्रफ शैम्पू का भी उपयोग करते हैं, लेकिन उससे फायदा नहीं होता। इस स्थिति में सेंधा नमक अच्छा विकल्प है। आप अपने शैंपू में सेंधा नमक डालकर उससे बाल धोएं। यह बालों को प्राकृतिक तरीके से साफ कर उन्हें स्वस्थ बनाएगा। नीचे हम रूसी के लिए सेंधा नमक की एक विधि भी बता रहे हैं ।

सामग्री :

सेंधा नमक

कैसे उपयोग करें?

  • अपने बालों को पानी से भिगो लें।
  • फिर अपने स्कैल्प पर सेंधा नमक से हल्के-हल्के हाथों से मालिश करें।
  • उसके बाद शैम्पू और कंडीशर से बाल धो लें।

अब जब आप सेंधा नमक के फायदे जान ही गए हैं, तो अब वक्त आता है सेंधा नमक के उपयोग करने के तरीके जानने का।

सेंधा नमक का उपयोग – How to Use Epsom Salt in Hindi

नीचे हम आपको इसे कितना उपयोग करना चाहिए और कैसे-कैसे उपयोग कर सकते हैं उसके बारे में बता रहे हैं।

1. पैरों को भिगोने के लिए

आधा कप सेंधा नमक + एक बाथटब गर्म पानी

2. नहाने के लिए

दो कप सेंधा नमक + गर्म पानी से भरा बाथटब

अगर बाल्टी का उपयोग कर रहे हैं तो

एक कप सेंधा नमक + एक बाल्टी गर्म पानी

नोट : ध्यान रहे कि पानी गुनगुना हो ज्यादा गर्म नहीं, वरना आपकी त्वचा जल सकती है। इसके अलावा, नहाने के वक्त साबुन का उपयोग न करें, क्योंकि साबुन के साथ सेंधा नमक के उपयोग से रिएक्शन या एलर्जी हो सकती है।

3. आप चाहें तो इसे चेहरे या त्वचा पर स्क्रब की तरह भी उपयोग कर सकते हैं।

4. इसे बालों के लिए हेयर क्लींजर या स्क्रब की तरह भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

5. आप इसे दांतों की चमक बढ़ाने या मुंह की बदबू हटाने के लिए भी उपयोग कर सकते हैं।

6. आप इसे हैंडवॉश की तरह भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

नोट : हालांकि, इसकी सटीक खुराक कितनी होनी चाहिए, उस बारे में आप अपने डॉक्टर से बात करें, क्योंकि हर किसी शरीर की जरूरत अलग है। ऐसे में विशेषज्ञ की राय लेना सही है। इसके अलावा, अगर आपको एलर्जी की समस्या है या आपको जल्द ही किसी चीज से एलर्जी हो जाती है, तो ऐसे में भी आप इसका सेवन या उपयोग करने से पहले डॉक्टर से सलाह लें।

सेंधा नमक के फायदे के साथ-साथ नुकसान भी होते हैं।

सेंधा नमक के नुकसान – Side Effects of Epsom Salt in Hindi

Side Effects of Epsom Salt in Hindi Pinit

Shutterstock

सेंधा नमक के अति सेवन से कुछ नुकसान भी होते हैं। नीचे हम आपको उसके कुछ नुकसान के बारे में भी बता रहे हैं।

  1. अगर आपको डायबिटीज है और आपको कहीं चोट या घाव है, तो सेंधा नमक के उपयोग से परेशानी और बढ़ सकती है।
  1. इसके ज्यादा सेवन से डायरिया की समस्या हो सकती है।
  1. गर्भवती महिलाएं सेंधा नमक का उपयोग न करें। अगर सेवन करना है, तो एक बार अपने डॉक्टर से सलाह कर लें।
  1. सेंधा नमक में आयोडीन की मात्रा बहुत कम होती है। इसलिए, अगर आयोडीन की कमी की बीमारी से बचना है, तो इसके साथ आयोडीन युक्त नमक का भी सेवन करें।
  1. इससे एलर्जी की समस्या हो सकती है।

अगर सेंधा नमक को सही तरीके से उपयोग किया जाए, तो सेंधा नमक के फायदे अनेक हैं। इसलिए, इसके नुकसानों को पढ़कर घबराने की जरूरत नहीं, क्योंकि किसी भी चीज का अत्यधिक उपयोग हानिकारक होता है। सेंधा नमक के गुण को पाने के लिए इसका सही तरीके से उपयोग करें और हमारे साथ नीचे कमेंट बॉक्स में अपने अनुभव शेयर करें। साथ ही अगर आपके पास सेंधा नमक की कोई रेसिपी या उपयोग के तरीके पता हैं, तो उसे भी हमारे साथ साझा करें।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल :

क्या गठिया को ठीक करने के लिए सेंधा नमक का इस्तेमाल किया जा सकता है?

गठिया एक एंटी-इंफ्लेमेटरी बीमारी है। इसे ठीक करने के लिए सेंधा नमक का उपयोग किया जा सकता है। सेंधा नमक विभिन्न कारणों से उत्पन्न सूजन से राहत दिला सकता है। मैग्नीशियम के जरिए बैक्टीरियल संक्रमण (सेल्युलाइटिस), एथलीट फुट, चोट या खरोंच आदि से बचाव हो सकता है। मैग्नीशियम शरीर में सी-रिएक्टिव प्रोटीन (सीआरपी) उत्पादन को कम करता है। सीआरपी शरीर में सूजन को बढ़ाता है। ऐसे में अगर मैग्नीशियम बढ़ेगा, तो सीआरपी स्तर कम होगा।

सेंधा नमक के विकल्प क्या हैं?

फुट सोक या नहाने के लिए समुद्री नमक एक सुरक्षित विकल्प है। अपनी त्वचा, पैर और स्कैल्प को स्वस्थ रखने के लिए आप ओटमील, सेब का सिरका या एसेंशियल ऑयल का उपयोग कर सकते हैं।

क्या आप सेंधा नमक खा सकते हैं ?

सेंधा नमक का मौखिक सेवन करने की सलाह कम ही दी जाती है, क्योंकि खून में मैग्नीशियम के अचानक बढ़ने से इसके दुष्प्रभाव होते हैं। इसलिए, इसका सेवन करते वक्त आपको बहुत सारे तरल पदार्थ लेने पड़ते हैं। इसलिए, इसके सेवन से पहले आप डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

और पढ़े:

The following two tabs change content below.

Arpita Biswas

अर्पिता ने पटना विश्वविद्यालय से मास कम्यूनिकेशन में स्नातक किया है। इन्होंने 2014 से अपने लेखन करियर की शुरुआत की थी। इनके अभी तक 1000 से भी ज्यादा आर्टिकल पब्लिश हो चुके हैं। अर्पिता को विभिन्न विषयों पर लिखना पसंद है, लेकिन उनकी विशेष रूचि हेल्थ और घरेलू उपचारों पर लिखना है। उन्हें अपने काम के साथ एक्सपेरिमेंट करना और मल्टी-टास्किंग काम करना पसंद है। इन्हें लेखन के अलावा डांसिंग का भी शौक है। इन्हें खाली समय में मूवी व कार्टून देखना और गाने सुनना पसंद है।

संबंधित आलेख