शहद और नींबू के फायदे – Amazing Benefits of Honey and Lemon in Hindi

by

शहद और नींबू दोनों ही प्रकृति के ऐसे अनमोल उपहार हैं, जो औषधीय गुणों से भरपूर होते हैं। साथ ही सेहत के लिए भी कई प्रकार से लाभकारी हो सकते हैं। इन दोनों का उपयाेग विभिन्न प्रकार के घरेलू नुस्खों और शीतल पेय पदार्थों में किया जाता है। अगर बात हाे शहद और नींबू दोनों को एक साथ उपयोग करने की, तो यह कई समस्याओं से बचे रहने और कुछ रोगों के इलाज को प्रभावी बना सकता है। स्टाइलक्रेज के इस आर्टिकल में हम बता रहे हैं सेहत के लिए शहद और नींबू के फायदे। साथ ही इसके उपयोग, बनाने की विधि व शहद और नींबू के नुकसान के बारे में जानेंगे। 

स्क्रॉल करें

इस आर्टिकल में सबसे पहले हम बता रहे हैं शहद और नींबू के फायदे के बारे में। 

शहद और नींबू के फायदे – Benefits of Honey and Lemon in Hindi

शहद और नींबू के मिश्रण का सेवन करने से कई स्वास्थ्य लाभ हो सकते हैं। इन फायदों से जुड़ी जानकारी हम नीचे विस्तार से दे रहे हैं, जो वैज्ञानिकों द्वारा किए गए अध्ययन के अनुसार है।

1. एंटीऑक्सीडेंट और एंटी इंफ्लेमेटरी प्रभाव

शहद और नींबू दोनों में ही एंटीऑक्सीडेंट और एंटी इंफ्लेमेटरी प्रभाव होते हैं (1) (2)। नींबू में पाए जाने वाला एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव सेल्स को नुकसान पहुंचाने वाले फ्री रेडिकल्स के प्रभाव को कम करने के साथ ही डीएनए के म्यूटेशन यानी बदलाव से बचा सकता है। साथ ही एंटी इंफ्लेमेटरी प्रभाव गंभीर सूजन की समस्या को कम करने में मददगार हो सकता है (3)। वहीं, शहद में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट में फ्री रेडिकल्स के प्रभाव को कम करने की क्षमता होती है। वहीं, एंटी इंफ्लेमेटरी प्रभाव घाव को भरने में लाभदायक हो सकता है (4)।

2. पिगमेंटेशन और डार्क स्पाॅट की समस्या से छुटकारा

शहद और नींबू का उपयोग पिगमेंटेशन की समस्या से छुटकारा दिलाने भी मददगार हो सकता है। एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन) की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध के अनुसार, शहद में पाए जाने वाले कुछ जरूरी घटक पिगमेंटेशन में सुधार करने में मददगार हो सकते हैं (5)। वहीं, नींबू के अर्क का उपयोग स्किन ब्राइटनिंग और ब्लीचिंग के रूप में किया जाता है, जो त्वचा के रंग में सुधार करने में फायदेमंद हो सकता है (6)। हालांकि, नींबू और शहद में ऐसा कौन-सा गुण होता है, जो पिगमेंटेशन में सुधार करता है, यह अभी शोध का विषय है। फिर भी एक्सपर्ट की सलाह से शहद और नींबू का फेस पैक पिगमेंटेशन के लिए उपयोग किया जा सकता है।

3. स्किन इंफेक्शन के इलाज में

त्वचा के संक्रमण को ठीक करने के लिए भी नींबू और शहद का उपयोग किया जा सकता है। इस विषय पर हुए अध्ययन में इस बात की पुष्टि हुई है कि शहद में एंटी-बैक्टीरियल प्रभाव होता है। शहद में पाया जाने वाला यह प्रभाव बैक्टीरिया द्वारा होने वाले त्वचा के संक्रमण को दूर करने के साथ ही घाव को भरने में मददगार हो सकता है (7)। इसके अलावा, नींबू के अर्क में एंटीमाइक्रोबियल और एंटीबायोफिल्म प्रभाव होता है, जो त्वचा पर होने वाले संक्रमण को दूर करने के साथ ही उसकी रोकथाम में लाभदायक हो सकता है (8)।  

4. मुंहासों की समस्या

मुंहासों की समस्या से परेशान होने वालों के लिए भी नींबू और शहद का मिश्रण फायदेमंद हो सकता है। रिसर्च के अनुसार, शहद में एंटीमाइक्रोबियल प्रभाव पाया जाता है, जो बैक्टीरिया और उससे हाेने वाले मुंहासों से छुटकारा दिलाने में मदद कर सकता है (9)। साथ ही नींबू को भी मुंहासों की समस्या के लिए आयुर्वेदिक थेरेपी के तौर पर इस्तेमाल किया जा       सकता है (10)। 

5. एंटीफंगल गुण

नींबू और शहद का मिश्रण फंगस के कारण होने वाले संक्रमण को दूर करने में भी लाभदायक हो सकता है। एक रिसर्च के अनुसार, नींबू में एंटीफंगल गतिविधि मौजूद होती है, जो फंगल इंफेक्शन से राहत पहुंचाने का काम कर सकता है (11)। इसके अलावा, एक अन्य रिसर्च में पाया गया कि शहद में पाई जाने वाली एंटीफंगल गतिविधि कैंडिडा प्रजातियों के फंगस को दूर करने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकती है (12)। 

6. स्किन लाइटनिंग गुण

त्वचा के रंग को निखारने के लिए भी शहद और नींबू के मिश्रण का इस्तेमाल फायदेमंद हो सकता है। एनसीबीआई की वेबसाइट पर पब्लिश एक वैज्ञानिक अध्ययन की मानें, तो शहद में स्किन व्हाइटनिंग गुण होता है। इस गुण को त्वचा की रंगत निखारने के लिए जाना जाता है (13)। वहीं, एक अन्य रिसर्च में पाया गया है कि नींबू के अर्क में स्किन लाइटनिंग कंपाउंड होते हैं, जिस कारण इसका उपयोग स्किन केयर प्रोडक्ट्स में किया जाता है (14)। 

7. वजन को कम करने में

शरीर में अतिरिक्त चर्बी के कारण मोटापे की समस्या हो सकती है। मोटापे की समस्या कई बीमारियों की जड़ मानी जाती है। बढ़ते वजन की समस्या को कम करने के लिए नींबू पानी शहद के फायदे देखे जा सकते हैं। इस विषय पर हुई एक शोध के अनुसार, शहद और नींबू के इस मिश्रण में विटामिन-सी और एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव पाए जाते हैं। जहां एक ओर विटामिन-सी बॉडी मास और मोटापे को रोकने में काम कर सकता है। वहीं, एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव सामान्य और हाइपरलिपिडेमिक व्यक्तियों में लिपिड को कम करने में मदद करता है, जो मोटापे से जुड़ा है। इस शोध के अनुसार हम कह सकते हैं कि गर्म पानी शहद नींबू का मिश्रण मोटापे को नियंत्रित करने के लिए कुछ हद तक फायदेमंद हो सकता है (15)। 

पढ़ना जारी रखें

नींबू शहद के फायदे जानने के बाद, अब हम शहद और नींबू के पोषक तत्वों के बारे में बता रहे हैं।

शहद और नींबू के पोषक तत्व – Honey and Lemon Nutritional Value in Hindi

शहद और नींबू में पाए जाने वाले पोषक तत्व इन्हें सेहत के लिए कई प्रकार से फायदेमंद बनाते हैं। यहां हम आपको नींबू और शहद के पोषक तत्वों की जानकारी दे रहे हैं ।

सबसे पहले जानते हैं शहद के पोषक तत्वों के बारे में (16)।

पोषकतत्वमात्रा प्रति 100 ग्राम
पानी17.1 ग्राम
कैलोरी304 केसीएएल
प्रोटीन0.3 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट82.4 ग्राम
फाइबर0.2 ग्राम
शुगर82.12 ग्राम
कैल्शियम6 मिलीग्राम
आयरन0.42 मिलीग्राम
मैग्नीशियम2 मिलीग्राम
फास्फोरस4 मिलीग्राम
पोटैशियम52 मिलीग्राम
सोडियम4 मिलीग्राम
जिंक0.22 मिलीग्राम
मैंगनीज0.08 मिलीग्राम
कॉपर0.036 मिलीग्राम
सेलेनियम0.8 माइक्रोग्राम
विटामिन-सी0.5 मिलीग्राम
राइबोफ्लेविन0.038 मिलीग्राम
नियासिन0.121 मिलीग्राम
फोलेट2 माइक्रोग्राम
कोलीन2.2 मिलीग्राम

शहद के पोषक तत्वों को जानने के बाद यहां हम आपको बता रहे है नींबू में पाए जाने वाले पोषक तत्वों के बारे में (17)।

पोषकतत्वप्रति 100 ग्राम
पानी88.98 ग्राम
ऊर्जा29 केसीएएल
प्रोटीन1.1 ग्राम
टोटल लिपिड (फैट)0.3 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट9.32 ग्राम
फाइबर2.8 ग्राम
शुगर2.5 ग्राम
कैल्शियम26 मिलीग्राम
आयरन 0.6 मिलीग्राम
मैग्नीशियम8 मिलीग्राम
फास्फोरस16 मिलीग्राम
पोटेशियम138 मिलीग्राम
सोडियम2 मिलीग्राम
जिंक0.06  मिलीग्राम
कॉपर0.037 मिलीग्राम
मैंगनीज0.03 मिलीग्राम
सेलेनियम0.4 माइक्रोग्राम
विटामिन-सी53 मिलीग्राम
थायमिन0.04 मिलीग्राम
राइबोफ्लेविन0.02 मिलीग्राम
नियासिन0.01 मिलीग्राम
विटामिन-बी60.08 मिलीग्राम
फोलेट, टोटल 11 माइक्रोग्राम
कोलीन, टोटल5.1 मिलीग्राम
विटामिन-ए, आरएई1 माइक्रोग्राम
कैरोटीन बीटा3 माइक्रोग्राम
कैरोटीन अल्फा1 माइक्रोग्राम
विटामिन-ए आईयू22 आईयू
ल्यूटिन-जिआजेंथिन11 माइक्रोग्राम
विटामिन-ई (अल्फा टोकोफेरॉल)0.15 मिलीग्राम
फैटी एसिड्स, टोटल सैचुरेटेड0.039  ग्राम
फैटी एसिड्स, टोटल मोनोअनसैचुरेटेड0.011 ग्राम
फैटी एसिड्स, टोटल पोलीअनसैचुरेटेड0.089 ग्राम

आगे है और जानकारी

चलिए, अब जान लेते हैं कि शहद और नींबू का उपयोग कैसे-कैसे किया जा सकता है।

शहद और नींबू का उपयोग – How to Use Honey and Lemon in Hindi

ज्यादातर लोगों को शहद और नींबू का उपयोग के कुछ ही तरीके पता होते हैं, लेकिन इसे कई तरह से इस्तेमाल में लाया जा सकता है। कुछ ऐसे ही तरीकों के बारे में हम नीचे बता रहे हैं।

  •     गर्म पानी शहद नींबू को मिलाकर पिया जा सकता है।
  •     शहद और नींबू का फेस पैक के रूप में उपयोग किया जा सकता है।
  •   नींबू के रस और शहद के मिश्रण को फेस मास्क के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं, लेकिन त्वचा पर उपयोग करने के पहले पैच टेस्ट जरूर कर लें।
  •     रात को सोने के पहले ठंडे पानी में एक चम्मच शहद और कुछ बूंदे नींबू की मिलाकर पी सकते हैं।
  •     हेयर मास्क के रूप में भी शहद और नींबू के मिश्रण का उपयोग किया जा सकता है।

मात्रा: एक गिलास पानी में एक छोटा चम्मच शहद और हाफ टी स्पून नींबू की मात्रा मिलाकर पी सकते हैं।

बने रहें हमारे साथ

इस आर्टिकल के अगले भाग में नींबू और शहद के नुकसान की जानकारी दी गई है।

शहद और नींबू के नुकसान – Side Effects of Honey and Lemon in Hindi

शहद और नींबू के फायदे जानने के बाद नींबू और शहद के नुकसान को जानना भी जरूरी है। यहां हम आपको नींबू और शहद के होने वाले नुकसान के बारे में बता रहे हैं।

  • नींबू के रस से टूथ इनेमल यानी दांतों की बाहरी परत खराब हो सकती है (18)।
  • शहद का अधिक सेवन से दस्त की समस्या होने का जोखिम बढ़ सकता है (19)।
  • जिनकी त्वचा संवेदनशील होती है, उनकी स्किन पर नींबू से एलर्जी हो सकती है (20)।
  • शहद में बैक्टीरिया होते हैं, जो छोटे बच्चों में बोटुलिज्म (एक प्रकार का बैक्टीरियल समस्या) जैसे समस्या का शिकार बना सकता है (21)।
  • नींबू से एलर्जी होने पर ओरल एलर्जी सिंड्रोम (खाद्य पदार्थ से एलर्जी) हो सकता है (22)।
  • फ्रुक्टोज के कारण शहद का अधिक मात्रा में सेवन ब्लड शुगर को असंतुलित कर सकता है (23)।

लेख के माध्यम से आपने जाना कि नींबू और शहद में पाए जाने वाले गुण सेहत के लिए अनेक प्रकार से फायदेमंद हो सकते हैं। बस जरूरत है इनके सही इस्तेमाल की। आम शारीरिक समस्याओं से लेकर गंभीर बीमारियों में शहद और नींबू मददगार हो सकता है, लेकिन ध्यान रहे कि इसका उचित सेवन और इस्तेमाल ही फायदा पहुंचाएगा। वहीं, लेख में हमने आपको शहद और नींबू के नुकसान के बारे में भी विस्तार से बताया है। अगर इनके सेवन और उपयोग से ऊपर बताए गए कोई भी दुष्प्रभाव नजर आते हैं, तो इनका उपयोग बंद करके तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

शहद और नींबू का उपयोग चेहरे पर कैसे असर दिखाता है?

शहद और नींबू में पाए जाने वाले गुण चेहरे की रंगत को निखारने के साथ ही मुंहासों की समस्या में फायदेमंद हो सकते हैं, जैसा कि हम ऊपर बता चुके हैं  (13) (14)। 

क्या हनी और नींबू पेट की चर्बी कम कर सकते हैं?

हां, हनी और नींबू के मिश्रण को पेट की चर्बी कम करने के लिए उपयोग में लिया जा सकता है (15)। ध्यान रहे कि इसके साथ नियमित रूप से व्यायाम और उचित डाइट भी जरूरी है।

रोज कितना शहद और नींबू लेना चाहिए?

रोज एक गिलास पानी में एक चम्मच शहद और एक छोटा चम्मच नींबू लेना फायदेमंद हो सकता है।

हनी और नींबू को अपने चेहरे पर कब तक लगाना चाहिए?

20 से 30 मिनट तक हनी और नींबू को अपने चेहरे पर लगाकर रख सकते हैं। 

क्या हनी और नींबू पीना वास्तव में फायदेमंद हो सकता है?

हां, नींबू और शहद के मिश्रण के कई फायदे हो सकते हैं। इसके बारे में ऊपर लेख में विस्तार से बताया गया है।

वजन घटाने के लिए मुझे कितना शहद और नींबू लेना चाहिए?

नींबू पानी और शहद के सेवन से वजन घटाने में मदद मिल सकती है (15)। इसके लिए एक गिलास गर्म पानी में एक चम्मच शहद और एक छोटा चम्मच नींबू लेना फायदेमंद हो सकता है। फिलहाल, कितना शहद और नींबू लेना चाहिए, इस संबंध में कोई स्पष्ट वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं है।

23 Sources

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

Saral Jain

सरल जैन ने श्री रामानन्दाचार्य संस्कृत विश्वविद्यालय, राजस्थान से संस्कृत और जैन दर्शन में बीए और डॉ. सी. वी. रमन विश्वविद्यालय, छत्तीसगढ़ से पत्रकारिता में बीए किया है। सरल को इलेक्ट्रानिक मीडिया का लगभग 8 वर्षों का एवं प्रिंट मीडिया का एक साल का अनुभव है। इन्होंने 3 साल तक टीवी चैनल के कई कार्यक्रमों में एंकर की भूमिका भी निभाई है। इन्हें फोटोग्राफी, वीडियोग्राफी, एडवंचर व वाइल्ड लाइफ शूट, कैंपिंग व घूमना पसंद है। सरल जैन संस्कृत, हिंदी, अंग्रेजी, गुजराती, मराठी व कन्नड़ भाषाओं के जानकार हैं।

ताज़े आलेख

scorecardresearch