छोटे प्याज के फायदे और नुकसान – Shallots Benefits and Side Effects in Hindi

Written by

शैलट्स नाम हो सकता है कई लोगों के लिए नया हो, लेकिन अगर हम बात करें छोटे प्याज की तो हर कोई इससे वाकिफ होगा। अगर अब भी आपको इसकी जानकारी नहीं है, तो बता दें कि शैलट्स छोटा प्याज का अंग्रेजी नाम है। आमतौर पर छोटे प्याज मद्रास अनियन या सांभर प्याज के नाम से जाने जाते हैं। पकवानों का स्वाद बढ़ाने के साथ ही यह स्वास्थ्य के लिए भी लाभकारी माना जाता है। ऐसे में, स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम छोटे प्याज के फायदे बताने वाले हैं। साथ ही छोटे प्याज के नुकसान की भी जानकारी दे रहे हैं। जानने के लिए अंत तक पढ़ें छोटे प्याज के उपयोग से जुड़ा यह लेख।

शुरू करें

छोटा प्याज क्या है, सबसे पहले हम इसकी जानकारी दे रहे हैं।

छोटा प्याज क्‍या है? – What is Shallots in Hindi

छोटे प्याज के फायदे जानने से पहले हम यहां छोटा प्याज क्या है, यह बता रहे हैं। शैलट्स या छोटा प्याज का वैज्ञानिक नाम एलियम एस्केलोनिकम एल. (Allium Ascalonicum L.) है। यह एलियम सेपा (Allium Cepa) परिवार का है (1)। यह काफी हद तक दिखने में प्याज जैसे ही होते हैं, हालांकि यह प्याज के आकार की तुलना में छोटे होते हैं। शायद यही वजह है कि इन्हें छोटा प्याज कहा जाता है। आहार में इसे ताजा, पकाकर, कटा हुआ या उबालकर खाया जा सकता है। सब्जी में पके हुए छोटे प्याज का स्वाद लगभग सामान्य प्याज की तरह ही होता है। वहीं, कच्चे प्याज में सामान्य प्याज की तुलना में अधिक तीखापन होता है (2)

आमतौर पर लोग छोटे प्याज और प्याज के अन्य प्रकार जैसे – स्कैलियन (Scallions – सफेद रंग का प्याज), हरा प्याज (Green Onions) और लीक (Leeks) को एक ही समझ लेते हैं, लेकिन यह सभी अलग-अलग होते हैं। हालांकि, अगर इनके आकार और रूप की सही जानकारी हो, तो आसानी से इन्हें पहचाना जा सकता है (2)

इसके अलावा, छोटे प्याज के कई प्रकार होते हैं, जिनकी पहचान जानने के लिए नीचे पढ़ें (3)

  1. पुराने छोटे प्याज (Old Shallot) : पुराने छोटे प्याज आकार में छोटे अखरोट जैसे होते हैं। यह 2.5 सेंटीमीटर मोटा और 2.75 सेंटीमीटर लंबा होता है। पका होने पर यह बाहर से भूरा और अंदर से बैंगनी या भूरे रंग का हो जाता है। ये एक साथ 5 से 10 गुच्छों में होते हैं। इसकी पत्तियां लगभग 30 सेंटीमीटर लंबी और हरे रंग की होती हैं।
  2. बड़ा भूरा छोटा प्याज (Large Brown) : यह लगभग 5 सेंटीमीटर मोटा और 6 सेंटीमीटर लंबा होता है। इसकी बाहरी परत लाल या भूरे रंग की होती है और अंदर से यह गहरे बैंगनी और लाल रंग के होते हैं। इसकी पत्तियां 45 सेंटीमीटर लंबी, सीधी और गहरे हरे रंग की होती हैं।
  3. जर्सी शैलोट्स / छोटा प्याज (Jersey Shallot) : यह आकार में काफी बड़ा होता है।
  4. पीला या डच शैलट्स / छोटा प्याज (Yellow or Dutch shallots) : इसका यह प्रकार गोल या चपटा होता है। इसके नीचे का भाग सूखने से पहले हरे रंग का होता है, जो पकने के बाद मटमैले पीले रंग का हो जाता है।

आगे पढ़ें

छोटा प्याज क्या है, यह जानने के बाद इस भाग में पढ़ें छोटे प्याज और सामान्य प्याज के बीच अंतर।

छोटे प्याज और प्याज के बीच क्या अंतर है? – What Are The Differences Between Shallots And Onions?

छोटे प्याज काफी हद तक दिखने में सामान्य प्याज जैसे ही होते हैं, लेकिन आकार की तुलना में यह काफी छोटे होते हैं। हालांकि, पका कर खाने के बाद छोटे प्याज का स्वाद लगभग सामान्य प्याज की ही तरह होता है। वहीं, अगर कच्चे छोटे प्याज खाए जाएं, तो यह सामान्य प्याज की तुलना में अधिक तीखा होता है (2)

स्क्रॉल करें

अब हम स्वास्थ्य के लिए छोटे प्याज के फायदे बता रहे हैं।

छोटे प्याज के फायदे – Benefits of Shallots in Hindi

छोटे प्याज का उपयोग करके किस तरह के स्वास्थ्य फायदे मिल सकते हैं, इस भाग में इसकी जानकारी पढ़ सकते हैं। ध्यान रखें कि छोटे प्याज का उपयोग घरेलू उपाय के तौर पर ही करें। इसे किसी बीमारी का डॉक्टरी इलाज न समझें। तो छोटे प्याज के फायदे कुछ इस प्रकार हैं:

1. हृदय स्वास्थ्य के लिए

छोटे प्याज के फायदे में हृदय स्वास्थ्य लाभ शामिल है। इसका सेवन हृदय स्वास्थ्य में सुधार करने में सहायक हो सकता है (4)। वहीं, एक रिसर्च के अनुसार, छोटे प्याज का जूस हृदय स्वास्थ्य के लिए लाभकारी पाया गया है। दरअसल, इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और एंटी इंफ्लेमेटरी गुण ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस और सूजन से संबंधित जोखिम को कम कर सकते हैं। यही वजह है कि छोटे प्याज का रस हृदय संबंधी जटिलताओं (Cardiovascular Complications) से बचाव करने में प्रभावकारी हो सकता है (5)

2. कैंसर का जोखिम कम करे

एक सर्वे के अनुसार, छोटे प्याज का उपयोग कैंसर का जोखिम कम करने के लिए भी किया जा सकता है (4)। वहीं, एनसीबीआई (National Center for Biotechnology Information) की वेबसाइट पर प्रकाशित अध्ययन के अनुसार, छोटे प्याज के अर्क में एंटी कैंसर और एंटी इंफ्लामेटरी प्रभाव होते हैं, जो कैंसर के जोखिम को कम करने में उपयोगी हो सकते हैं। इसके अर्क का एंटी ग्रोथ प्रभाव कैंसर सेल लाइन (Cancer Cell Lines) की रोकथाम कर सकता है (6)। इस आधार पर यह माना जा सकता है कि छोटा प्याज कैंसर की रोकथाम में प्रभावकारी हो सकता है। हालांकि, हम यह स्पष्ट कर दें कि कैंसर एक गंभीर स्वास्थ्य समस्या है और अगर कोई इस बीमारी से पीड़ित है तो डॉक्टरी इलाज को प्राथमिकता दें। छोटा प्याज कैंसर के जोखिम को कम कर सकता है, इसे कैंसर का इलाज न समझें।

3. डिटॉक्स करे

बॉडी डिटॉक्सिंग यानी शरीर की अंदरूनी सफाई करने में भी छोटे प्याज के फायदे कारगर हो सकते हैं। एक रिसर्च के अनुसार, छोटे प्याज में एंटीऑक्सीडेंट गुण होता है, जो नेफ्रोटॉक्सिसिटी (Nephrotoxicity – गुर्दे में विषाक्तता होना) के लिए प्रभावकारी हो सकता है (4)। इस आधार पर ऐसा कहा जा सकता है कि शरीर को भी डिटॉक्सीफाई करने यानी शरीर से अशुद्धियों को निकालने के लिए छोटे प्याज का सेवन लाभकारी हो सकता है।

4. मधुमेह के लिए

पारंपिक तौर पर मधुमेह नियंत्रण करने के उपाय में छोटे प्याज के उपयोग का जिक्र मिलता है (4)। एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन) की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध के अनुसार, छोटे प्याज के अर्क में हाइपोग्लाइसेमिक (Hypoglycemic) प्रभाव होता है। इसका यह प्रभाव रक्त में शुगर की मात्रा कम कर सकता है, जिससे मधुमेह से बचाव व उपचार में मदद मिल सकती है (7)

इसके अलावा, एक अन्य अध्ययन से यह भी पता चलता है कि दही की तुलना में छोटे प्याज का सेवन मधुमेह रोगियों में हानिकारक कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड (Triglycerides – एक प्रकार का फैटी एसिड) को कम करने में ज्यादा प्रभावी हो सकता है (8)। ऐसे में डायबिटीज के डाइट में छोटा प्याज शामिल करना अच्छा विकल्प हो सकता है।

5. मस्तिष्क स्वास्थ्य बेहतर करे

छोटे प्याज में पाइरिथियोन (Pyrithione) नामक कंपाउंड होता है, जो एंटी इंफ्लेमेटरी गुण प्रदर्शित करके मस्तिष्क में सूजन और तंत्रिका संबंधी गतिविधियों (Neurological) में सुधार सकता है (9)। बता दें कि, ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस मस्तिष्क को नुकसान पहुंचा सकता है। वहीं, प्याज, लहसुन समेत छोटे प्याज में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस कम करने में मदद कर सकता है। इससे भूलने की बीमारी जैसे – अल्जाइमर रोग (Alzheimer’s disease) और डिमेंशिया (Dementia) के जोखिम कम हो सकते हैं (10)। इस आधार पर यह मस्तिष्क की देखरेख करने में भी मददगार माना जा सकता है।

6. मोटापा घटाए

बढ़ते वजन की परेशानी कम करने के लिए भी छोटे प्याज का सेवन करना लाभकारी हो सकता है। जनरल मेडिकल प्लांट रिसर्च पेपर में प्रकाशित एक सर्वे के अनुसार, छोटा प्याज विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं से बचाव में मददगार साबित हो सकता है और इनमें मोटापे की समस्या भी शामिल है (4)। हालांकि, स्वास्थ्य विशेषज्ञ संतुलित वजन बनाए रखने व वजन घटाने के लिए घरेलू उपचार के साथ ही उचित आहार के पालन की भी सलाह देते हैं।

7. एलर्जी के उपचार के लिए

छोटे प्याज का उपयोग एलर्जी की समस्या से भी बचाव करने में सहायक हो सकता है (4)। दरअसल, शैलट्स या छोटे प्याज में क्वेरसेटिन (Quercetin) नामक एक कंपाउंड होता है, जिसमें एंटी एलर्जिक (Anti allergic) प्रभाव होता है। शोध के अनुसार, छोटे प्याज के सेवन से एलर्जिक राइनाइटिस (Allergic Rhinitis – एक प्रकार की एलर्जी) के लक्षणों में सुधार होने की बात सामने आई है (11)। ऐसे में एलर्जी के जोखिम को कम करने के लिए छोटे प्याज को डाइट में शामिल करना अच्छा विकल्प हो सकता है।

8. हड्डी के लिए

एलियम (Allium) परिवार से संबंधित छोटा प्याज हड्डियों के स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रखने में भी मदद कर सकता है (4)। इसमें कई तरह के पौष्टिक तत्व जैसे – कैल्शियम, मैग्नीशियम, मैंगनीज और फास्फोरस पाए जाते हैं (12)। ये सभी पोषक तत्व हड्डियों के निर्माण और उन्हें स्वस्थ बनाने के लिए लाभकारी माने जाते हैं (13)

9. आंखों के लिए

छोटे प्याज का विटामिन ए का गुण आंखों के स्वास्थ्य और रोशनी को बढ़ाने में मदद कर सकता है। इसके अलावा इसमें मौजूद ल्यूटिन और जियाजैंथिन (Lutein and Zeaxanthin – एक प्रकार के कैरोटिनॉयड्स) बढ़ती उम्र में आंखों से जुड़ी बीमारियों के जोखिम जैसे –  मोतियाबिंद (Cataract) का जोखिम भी कम हो सकता है (10)

10. रोग प्रतिरोधक क्षमता के लिए

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाय के लिए छोटे प्याज के फायदे पाए जा सकते हैं। एक रिसर्च में इसका जिक्र मिलता है कि छोटे प्याज के सेवन से इम्यूनिटी बढ़ाई जा सकती हैं (4)। हालांकि, इसके लिए कौन सा गुण प्रभावकारी है इसकी सटीक जानकारी उपलब्ध नहीं है। ऐसा माना जा सकता है कि इसके लिए इसका एंटीबैक्टीरियल (Antibacterial) प्रभाव जिम्मेदार हो सकता है। दरअसल, इसका यह प्रभाव टीबी रोग का कारण बनने वाले माइकोबैक्टीरियम (Mycobacterium) बैक्टीरिया को खत्म कर सकता है (14)। इसके अलावा, इसका एंटी इन्फ्लेमेटरी, एंटी फंगल, एंटीऑक्सीडेंट गुण शरीर को रोग से बचा सकता है। इस आधार पर मान सकते हैं कि यह बीमारियों के जोखिम को कम कर रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत कर सकता है।

11. त्वचा के लिए

त्वचा के लिए भी छोटे प्याज का उपयोग लाभकारी हो सकता है (4)। त्वचा के लिए छोटे प्याज के फायदे की बात करें, तो इसका एंटी फंगल (Antifungal) प्रभाव दाद का कारण बनने वाले फंगस डर्मेटोफाइट्स (Dermatophytes) को खत्म कर सकता है (14)। इसके अलावा, एक अध्ययन से यह भी पता चलता है कि छोटे प्याज में एंटीमाइक्रोबियल (Antimicrobial) और घाव भरने वाला प्रभाव (Wound-healing) होता है। ऐसे में छोटे प्याज का सेवन घाव भरने में मददगार माना जा सकता है (15)। हालांकि, ध्यान रहे घाव अगर गहरा हो तो डॉक्टरी चिकित्सा को ही प्राथमिकता दें।

12. बालों के लिए

गंजेपन की समस्या हो या झड़ते बालों की परेशानी, इसके लिए भी छोटे प्याज का उपाय कारगर हो सकता है। दरअसल, प्याज के रस में सल्फर (Sulphur) और फेनोलिक (Phenolic) जैसे कंपाउंड होते हैं, जो बालों की देखभाल करने और बालों के विकास को बढ़ावा देने वाले कोलेजन का उत्पादन बढ़ा सकते हैं। इससे बालों के झड़ने का इलाज करने में मदद मिल सकती है। साथ ही, यह स्कैल्प इंफेक्शन और रूसी के इलाज में भी मदद कर सकता है (16)। हालांकि, अगर बाल झड़ने की समस्या ज्यादा हो तो डॉक्टर या विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

पढ़ते रहें

इस भाग में हमने छोटे प्याज में मौजूद पौष्टिक तत्व और उनकी मात्रा की जानकारी दी है।

छोटे प्याज के पौष्टिक तत्व – Shallots Nutritional Value in Hindi

नीचे टेबल में प्रति 100 ग्राम छोटे प्याज में मौजूद पौष्टिक तत्व और उनकी मात्रा विस्तार से दी गई है (12)

पौष्टिक तत्वप्रति 100 ग्राम मात्रा
पानी79.8 g
ऊर्जा72 kcal
प्रोटीन2.5 g
टोटल लिपिड (फैट)0.1 g
ऐश0.8 g
कार्बोहाइड्रेट16.8 g
फाइबर, टोटल डाइटरी3.2 g
शुगर (NLEA)7.87 g
कैल्शियम37 mg
आयरन1.2 mg
मैग्नीशियम21 mg
फास्फोरस60 mg
पोटेशियम334 mg
सोडियम12 mg
जिंक0.4 mg
कॉपर0.088 mg
मैंगनीज0.292 mg
सेलेनियम1.2 µg
विटामिन सी8 mg
थियामिन0.06 mg
राइबोफ्लेविन0.02 mg
नियासिन0.2 mg
पैंटोथेनिक एसिड0.29 mg
विटामिन बी60.345 mg
फोलेट34 µg
कोलीन11.3 mg
कैरोटिन3 µg
विटामिन ए, IU4 IU
ल्यूटिन + जियाजैंथिन8 µg
विटामिन ई0.04 mg
विटामिन के0.8 µg
फैटी एसिड, टोटल सैचुरेटेड0.017 g
फैटी एसिड, टोटल मोनोअनसैचुरेटेड0.014 g
फैटी एसिड, टोटल पॉलीअनसैचुरेटेड0.039 g

पढ़ते रहें

चलिए, अब जानते हैं छोटे प्याज का उपयोग कैसे करते हैं।

छोटे प्याज का उपयोग – How to Use Shallots in Hindi

छोटे प्याज का उपयोग कई तरह से किया जा सकता है। इसके उपयोग से जुड़ी जानकारी हम नीचे बता रहे हैं।

कैसे खाएं :

  • इन्हें कच्चा, पकाकर, कटा हुआ या उबालकर खाया जा सकता है (2)
  • छोटे प्याज का उपयोग सलाद बनाकर खाने में शामिल किया जा सकता है।
  • छोटे प्याज का उपयोग पराठा बनाने में किया जा सकता है।
  • दाल फ्राई करने के लिए भी छोटे प्याज का उपयोग कर सकते हैं।
  • सांभर बनाने में छोटे प्याज का उपयोग किया जा सकता है।
  • छोटे प्याज का उपयोग पकोड़े बनाने में भी किया जा सकता है। चाय के साथ इसकी सर्विंग का कॉम्बिनेशन अच्छा स्नैक्स माना जाता है।
  • छोटे प्याज का उपयोग अचार या सॉस बनाकर भी खाने में कर सकते हैं।
  • सूप का स्वाद बढ़ाने में भी छोटे प्याज का उपयोग किया जा सकता है।

कब खाएं :

  • सुबह नाश्ते में सैंडविच बनाने में इनका इस्तेमाल करके खाया जा सकता है।
  • दोपहर के भोजन जैसे – सब्जी, दाल या सलाद के तौर पर छोटे प्याज का सेवन किया जा सकता है।
  • शाम के नाश्ते में भी इन्हें पोहा के साथ रोस्ट करके या पकोड़े बनाकर खाया जा सकता है।
  • रात का भोजन बनाने में भी इसका इस्तेमाल करके खाने में शामिल किया जा सकता है।

कितना खाएं :

जैसा कि लेख में पहले ही बता चुके हैं कि छोटा प्याज आकार में बहुत ही छोटा होता है (2)। ऐसे में प्रतिदिन एक से दो छोटे प्याज का सेवन करना सुरक्षित माना जा सकता है ।

आगे पढ़ें

इस भाग में पढ़ें छोटे प्याज को खरीदने और लंबे समय तक सुरक्षित रखने के कारगर टिप्स।

छोटे प्याज को खरीदने और स्टोर करने का तरीका – How To Select And Store Shallots in Hindi

छोटा प्याज के फायदे पाने के लिए इसकी खरीदारी और रखरखाव करते समय कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखना भी जरूरी है। ऐसे में इसके लिए हम कुछ टिप्स यहां पर बता रहे हैं, जो कुछ इस प्रकार हैं:

छोटा प्याज खरीदने के टिप्स :

  • अगर छोटे प्याज को हरे रूप में खरीद रही हैं, तो हमेशा ताजा ही खरीदें ।
  • वहीं, अगर पूरी तरह से तैयार छोटे प्याज खरीद रही हैं, तो इसकी जांच करें कि वह कहीं से सड़े हुए न हो।
  • छोटा प्याज हाथ में लेकर हल्का दबाएं। अगर ऐसा महसूस हो कि यह पिलपिला है, तो उसे न खरीदें।
  • अगर छोटा प्याज बीच में से कटा हुआ है, तो उसे न खरीदें।
  • सूख हुए या दिखने में मुरझाए लगने वाले छोटे प्याज न खरीदें।
  • अगर छोटे प्याज में किसी तरह के दाग-धब्बे हैं, तो उसे भी न खरीदें।
  • अगर छोटे प्याज का सिरा अंकुरित है, तो उसे भी न खरीदें।

छोटा प्याज स्टोर करने के टिप्स (2):

  • अगर हरा छोटा प्याज स्टोर करना है, तो उसे सामान्य तापमान पर स्टोर किया जा सकता है।
  • सामान्य तौर पर प्याज को किसी सूखे व हवादार स्थान पर कुछ दिनों से लेकर महीनों के लिए स्टोर करके रखा जा सकता है।
  • ये आकार में बहुत छोटे हैं, इसलिए इन्हें हमेशा हवा युक्त खुले स्थान में फैला कर रखें। इन्हें स्लेटेड क्रेट या ट्रे में स्टोर करके रखा जा सकता है।
  • ऐसी जगह जहां पर बहुत ज्यादा नमी हो, वहां पर इसे स्टोर न करें।
  • अगर इन्हें अधिक नमी या बहुत अधिक गर्म तापमान पर रखा जाए, तो यह जल्दी अंकुरित हो सकते हैं और सड़ सकते हैं।

पढ़ते रहें

यहां पढ़ें छोटे प्याज के उपयोग से जुड़े कुछ जरूरी टिप्स।

छोटे प्याज से खाना पकाने के लिए कुछ टिप्स – Any Tips To Prepare And Cook Shallots?

यहां छोटा प्याज को लजीज बनाने के लिए कुछ आसान टिप्स हैं, जो आप आजमा सकते हैं (2)

  • छोटे प्याज को काटते वक्त पूरी सावधानी बरतें, क्योंकि, आकार में छोटे होने के कारण इन्हें काटना मुश्किल हो सकता है।
  • छोटे प्याज को पूरा का पूरा सब्जी में उपयोग कर सकते हैं।
  • छोटे प्याज को सब्जी में उपयोग करते वक्त हमेशा धीमी या मध्यम आंच पर पकाएं। तेज आंच पर पकाने से छोटे प्याज का स्वाद कड़वा हो सकता है।
  • अगर छोटा प्याज काटते समय आंखों से आंसू आते हैं, तो इसे कुछ मिनट के लिए पानी में डालकर रख सकते हैं।

अंत तक पढ़ें

लेख के अंत में हम छोटे प्याज के नुकसान बता रहे हैं।

छोटे प्याज के नुकसान – Side Effects of Shallots in Hindi

इस लेख में हमने स्वास्थ्य के लिए छोटे प्याज के उपयोग और छोटा प्याज के फायदे विस्तार से बताए हैं। वहीं, अधिक सेवन से इसके कुछ दुष्प्रभाव भी हो सकते हैं। यही वजह है कि लेख में नीचे हम छोटे प्याज के नुकसान की भी जानकारी दे रहे हैं।

  • छोटे प्याज में एंटीप्लेटलेट (Antiplatelet) प्रभाव होता है, जो खून के थक्के बनने से रोकने में मदद कर सकता है (17)। ऐसे में अगर कोई खून पतला करने वाली दवाओं का सेवन करता है, तो उन्हें छोटे प्याज के नुकसान हो सकते हैं।
  • छोटे प्याज में शालोमिन (Shallomin) नामक एक कंपाउंड होता है, जो कुछ हद तक विषाक्तता (Toxic) का कारण बन सकता है। इसकी वजह से हड्डियों का घनत्व (Bone Marrow) कम सकता है (18)
  • छोटा प्याज रक्त में शुगर की मात्रा कम कर सकता है (7)। ऐसे में अगर मधुमेह की दवा के साथ इसका सेवन करने से रक्त में शुगर की मात्रा कम हो सकती है। इस वजह से मधुमेह की दवा का सेवन कर रहे लोगों को छोटा प्याज खाने से पहले डॉक्टरी सलाह लेनी चाहिए।

उम्मीद है कि छोटे प्याज के फायदों से भरा यह लेख आपके लिए लाभकारी साबित होगा। यहां हमने छोटे प्याज का उपयोग और इसके सही इस्तेमाल से जुड़ी कुछ खास जानकारी आपके साथ साझा की है। मगर ध्यान रखें कि इस लेख में बताए गए सभी उपाय घरेलू तौर पर ही करें। यह विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं को कुछ हद तक कम करने में मदद कर सकता है। ऐसे में छोटे प्याज को किसी बीमारी का संपूर्ण इलाज न समझें। साथ ही लेख में छोटे प्याज के नुकसान की भी जानकारी दी गई है। ऐसे में इसका अधिक सेवन करने से बचें। अगर किसी को कोई गंभीर स्वास्थ्य समस्या है, तो छोटे प्याज के सेवन से पहले डॉक्टरी सलाह जरूर लें।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

शैलट्स या छोटे प्याज का वैकल्पिक क्या है?

छोटे प्याज की जगह पर वैकल्पिक रूप से प्याज का सेवन किया जा सकता है।

क्या कच्चे छोटे प्याज खा सकते हैं?

हां, छोटा प्याज आप कच्चा भी खा सकते हैं (2)

क्या छोटे प्याज को पैलियो डाइट में शामिल कर सकते हैं?

पैलियो आहार (Paleo diet) में ऐसे सब्जियां, फल, ड्राई फ्रूट्स और मांस जैसे खाद्य शामिल किए जाते हैं। इस आहार में पके, तले, डिब्बा बंद या प्रोसेस्ड फूड्स को शामिल नहीं किया जाता है (19)। वहीं, छोटा प्याज का सेवन कच्चा भी किया जा सकता है, जिस आधार पर छोटे प्याज को पैलियो आहार भी माना जा सकता है।

प्याज या छोटे प्याज दोनों में से कौन-सा स्वास्थ्य के लिए अधिक लाभकारी है?

एक ही प्रजाति के होने के कारण छोटे प्याज और प्याज के स्वास्थ्यकारी गुण भी लगभग एक समान ही हो सकते हैं। हालांकि, प्याज या लहसुन की तरह छोटा प्याज खाने से मुंह से दुर्गंध आने की समस्या नहीं हो सकती है (20)। जिस वजह से छोटे प्याज का उपयोग करना प्याज की तुलना में अधिक फायदेमंद हो सकता है।

क्या छोटे प्याज लहसुन की तरह स्वास्थकारी हैं?

हां, छोटा प्याज लहसुन की ही तरह स्वास्थ्य के लिए लाभकारी हो सकते हैं (21)

छोटे प्याज की खासियत क्या है?

छोटा प्याज स्वाद में लगभग प्याज की ही तरह होता है (2)। हालांकि, इसे खाने के बाद प्याज की तरह मुंह से दुर्गंध नहीं आती है (20)

क्या कच्चा छोटा प्याज खाना अच्छा है?

हां, इस लेख में हमने छोटे प्याज खाने के कई फायदे बताए हैं, जिससे यह कहा जा सकता है कि छोटे प्याज कच्चे और पके दोनों ही रूप में खाना अच्छा हो सकता है।

क्या छोटे प्याज में एंटी इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं?

अन्य गुणों के साथ ही छोटे प्याज में एंटी इंफ्लेमेटरी (सूजन कम करने वाला) गुण भी होता है (6)

संदर्भ (Sources)

  1. In vitro Bulb Development in Shallot (Allium cepa L. Aggregatum Group): Effects of Anti‐gibberellins, Sucrose and Light
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4233876/
  2. Shallots: What They are and How to Grow Them
    http://www.omafra.gov.on.ca/english/crops/facts/98-037.htm
  3. Shallot
    https://www.sciencedirect.com/topics/pharmacology-toxicology-and-pharmaceutical-science/shallot
  4. The insight and survey on medicinal properties and nutritive components of Shallot
    https://academicjournals.org/journal/JMPR/article-full-text-pdf/9A590A162267
  5. Antioxidant and Anti-inflammatory Protective Properties of Thai Shallot (Allium ascalonicum cv. Chiangmai) Juice on Human Vascular Endothelial Cell Lines (EA.hy926)
    https://wjst.wu.ac.th/index.php/wjst/article/view/6222
  6. Anticancer and anti-inflammatory activities of shallot (Allium ascalonicum) extract
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/22291731/
  7. Hypoglycemic Effect of Aqueous Shallot and Garlic Extracts in Rats with Fructose-Induced Insulin Resistance
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2243241/
  8. Effects of Yogurt and Yogurt Plus Shallot Consumption on Lipid Profiles in Type 2 Diabetic Women
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5553271/
  9. Antiinflammatory and neurological activity of pyrithione and related sulfur-containing pyridine N-oxides from Persian shallot (Allium stipitatum)
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/24721027/
  10. The nutritional attributes of Allium species
    https://www.researchgate.net/publication/265192188_The_nutritional_attributes_of_Allium_species
  11. Antiallergic activities of shallot (Allium ascalonicum L.) and its therapeutic effects in allergic rhinitis
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/31421664/
  12. Shallots, raw
    https://fdc.nal.usda.gov/fdc-app.html#/food-details/170499/nutrients
  13. The role of nutrients in bone health, from A to Z
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/17092827/
  14. Traditional Uses of Allium L. Species from North East India with Special Reference to their Pharmacological Activities
    https://www.researchgate.net/publication/308476312_Traditional_Uses_of_Allium_L_Species_from_North_East_India_with_Special_Reference_to_their_Pharmacological_Activities
  15. An Investigation of Antimicrobial and Wound Healing Potential of Allium ascalonicum Linn
    https://www.thaiscience.info/Journals/Article/JMAT/10971080.pdf
  16. Development and evaluation of VCO based herbal hair tonic
    https://www.phytojournal.com/archives/2020/vol9issue3/PartH/9-3-5-112.pdf
  17. Relationships Between Bioactive Compound Content and the Antiplatelet and Antioxidant Activities of Six Allium Vegetable Species
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/28867958/
  18. An In Vivo Toxicological Study Upon Shallomin, the Active Antimicrobial Constitute of Persian Shallot (Allium hirtifolium, Boiss) Extract
    https://sites.kowsarpub.com/jjnpp/articles/18281.html
  19. Paleo Diet – A Review
    https://www.researchgate.net/publication/326841191_Paleo_Diet_-_A_Review
  20. Shallot
    https://cals.arizona.edu/fps/sites/cals.arizona.edu.fps/files/cotw/Shallot.pdf
  21. Therapeutic Uses and Pharmacological Properties of Garlic, Shallot, and Their Biologically Active Compounds
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3874089/
Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

ताज़े आलेख