शिमला मिर्च के फायदे और नुकसान – Capsicum (Bell Pepper) Benefits and Side Effects in Hindi

by

बाजार में लाल, पीली, बैंगनी, नारंगी और हरी रंग की शिमला मिर्च नजर आ जाती हैं। जहां इसे हिंदी में शिमला मिर्च  कहा जाता है, तो इंग्लिश में कैप्सिकम (Capsicum) और बेल पेपर (Bell Pepper) कहा जाता है। शिमला मिर्च की मुख्य रूप से पांच प्रजातियां पाई जाती हैं, जिसे कैप्सिकम एनम, कैप्सिकम चिनेंस, कैप्सिकम फ्रूटसेन्स, कैप्सिकम बैक्टम, और कैप्सिकम प्यूबसेंस कहा जाता है। इन सभी प्रजातियों को आम भाषा में पेपर्स यानी शिमला मिर्च कहा जाता है (1)। वहींं, अगर सेहत के लिहाज से शिमला मिर्च की बात करें, तो इस मामले में भी यह फायदेमंद है। खैर, शिमला मिर्च क्‍या है यह तो स्पष्ट हो गया है, लेकिन अभी शिमला मिर्च के फायदे जानना बाकी है। आर्टिकल में हम इस बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे। साथ ही इसे उपयोग करने व इसके कुछ दुष्प्रभावों के बारे में भी जानेंगे।

शिमला मिर्च के फायदे – Benefits of Capsicum in Hindi

मनुष्य के शरीर में पोषक तत्वों की कमी गंभीर समस्याओं का कारण बन सकती है। वहीं, शिमला मिर्च में कई पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो विभिन्न प्रकार की स्वास्थ्य समस्याओं को दूर रखने में मदद कर सकते हैं। आइए, जानते हैं कि शिमला मिर्च के पोषक तत्व स्वास्थ्य के लिए कैसे और कितने उपयोगी हैं।

1. आंखों के लिए शिमला मिर्च के फायदे

आंखों के लिए लिहाज से शिमला मिर्च खाने के फायदे देखे जा सकते है। विशेष रूप से बढ़ती उम्र में मोतियाबिंद से बचने के लिए इसका सेवन किया जा सकता है। शिमला मिर्च में ल्यूटिन और जेक्सैथीन (lutein and zeaxanthin) नाम के तत्व पाए जाते हैं, जो मोतियाबिंद से बचा सकते हैं (2)। शिमला मिर्च में विटामिन-ए भी मौजूद होता है, जो आंखों की रोशनी को सही बनाए रखने में मदद कर सकता है (3)।

2. एनीमिया से बचाव में शिमला मिर्च के फायदे

एनीमिया ऐसी स्थिति है, जिसमें शरीर में पर्याप्त स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाएं (RBC) नहीं बन पाती हैं। लाल रक्त कोशिकाओं का काम शरीर के सभी अंगों तक ऑक्सीजन पहुंचाना होता है। वहीं, शरीर में आयरन की कमी होने से इन लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण नहीं हो पाता और एनीमिया की समस्या जन्म लेती है (4)। शिमला मिर्च में कुछ मात्रा में आयरन पाया जाता है, जो एनीमिया से बचाव कर सकता है । साथ ही शिमला मिर्च में विटामिन-सी भी पाया जाता है (5)। विटामिन-सी शरीर में आयरन को अवशोषित करने में मदद कर सकता है (6)। इसीलिए एनीमिया जैसी अवस्था से बचने के लिए शिमला मिर्च खाने के फायदे देखे जा सकते हैं।

3. विटामिन से भरपूर है शिमला मिर्च

शिमला मिर्च कई तरह के विटामिन से भरपूर होती है। इसमें विटामिन-ए, बी, सी और के मौजूद हैं (7)। विटामिन ए त्वचा, हड्डियों और दांतों को स्वस्थ रखने में मदद करता है। विटामिन-सी को एस्कॉर्बिक एसिड भी कहा जाता है। यह दांतों के लिए अच्छा होता है और इसमें घाव भरने की क्षमता भी होती है। राइबोफ्लेविन यानी विटामिन-बी2 भी शिमला मिर्च में पाया जाता है। यह शरीर के विकास में सहायक होता है। शिमला मिर्च में थायमिन यानी विटामिन-बी1 भी होता है, जो शरीर को ऊर्जा देना का कार्य करता है। इसके अलावा, शिमला मिर्च में मौजूद विटामिन-के को हड्डियों के लिए अच्छा माना गया है (8)।

4. कैंसर से बचाव में शिमला मिर्च के फायदे

शिमला मिर्च में कैप्साइसिन (Capsaicin) नामक तत्व पाया जाता है। इसमें एंटीकैंसर गुण पाए जाते हैं। एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफार्मेशन) की वेबसाइट पर प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, कैप्साइसिन की मौजूदगी विभिन्न प्रकार के कैंसर की आशंका से बचाने में मदद कर सकती है (9)। यहां हम स्पष्ट कर दें कि कैंसर एक गंभीर बीमारी है। इसके उपचार के लिए गहन चिकित्सा प्रक्रिया से गुजरने की जरूरत होती है। सिर्फ घरेलू उपचार के जरिए इसे ठीक नहीं किया जा सकता।

5. स्वस्थ ह्रदय के लिए फायदेमंद है शिमला मिर्च का सेवन

कैप्साइसिन नाम का तत्व ह्रदय के लिए भी फायदेमंद हो सकता है। एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक रिसर्च के अनुसार, कैप्साइसिन युक्त लाल शिमला मिर्च का सेवन मेटाबॉलिज्म (चयापचय की क्रिया) में सुधार ला सकता है। साथ ही  कैप्साइसिन मेटाबॉलिज्म से जुड़ी समस्याओं जैसे – मोटापे और हृदय रोग के जोखिम को कम कर सकता है (10)। हृदय रोग से बचाव में शिमला मिर्च के फायदे जानने के लिए अभी और शोध की जरूरत हैं।

6. त्वचा के लिए शिमला मिर्च के फायदे

शिमला मिर्च त्वचा के लिए भी फायदेमंद हो सकती है। इसमें कैप्साइसिन नाम का तत्व पाया जाता है, जिसे त्वचा के लिए इस्तेमाल होने वाली कई क्रीम में प्रयोग किया जाता है। यह त्वचा में कसाव लाने में मदद कर सकता है। साथ ही त्वचा से जुड़ी विभिन्न प्रकार की समस्याओं से कुछ हद तक बचा सकता है (10)। फिलहाल, इस संबंध में और वैज्ञानिक शोध की आवश्यकता है।

अभी हमने शिमला मिर्च के फायदे जाने। आइए, अब जानते हैं कि शिमला मिर्च में कौन-कौन से पोषक तत्व पाए जाते हैं।

शिमला मिर्च के पौष्टिक तत्व – Capsicum Nutritional Value in Hindi

शिमला मिर्च विभिन्न प्रकार के पौष्टिक तत्वों से भरपूर होती है। 100 ग्राम शिमला मिर्च में निम्न पोषक तत्व पाए जाते हैं (5) :

तत्वमात्रा
एनर्जी18 कैलोरी
कार्बोहाइड्रेट4. 71 ग्राम
शुगर2. 35 ग्राम
फाइबर1. 2 ग्राम
आयरन0.42 मिलीग्राम
प्रोटीन1.18 ग्राम
विटामिन सी (एस्कॉर्बिक एसिड)77.6 मिलीग्राम
विटामिन ए353 IU

आइए, अब आगे जानते हैं कि शिमला मिर्च का उपयोग कैसे किया जा सकता है। 

शिमला मिर्च का उपयोग – How to Use Capsicum in Hindi

शिमला मिर्च का उपयोग खाने में किया जा सकता है। शिमला मिर्च खाने के फायदे जितने ज्यादा हैं, उतने ही इसे खाने के तरीके भी हैं।

  • शिमला मिर्च की आलू के साथ सब्जी बनाई जा सकती है।
  • शिमला मिर्च को काटकर सलाद के रूप में भी खाया जा सकता है।
  • शिमला मिर्च का इस्तेमाल सैंडविच और बर्गर के बीच स्टफिंग के रूप में किया जा सकता है।
  • इसे पास्ता में डालकर भी खाया जा सकता है।
  • इसका इस्तेमाल मिक्स वेजिटेबल सूप में भी किया जा सकता है।
  • शिमला मिर्च को बारीक काटकर पुलाव में भी डाला जा सकता है।

शिमला मिर्च को कब और कितना खाएं ?

शिमला मिर्च को खाने का कोई निश्चित समय नहीं है। इसे किसी भी समय खाया जा सकता है। सुबह नाश्ते में, शाम को स्नैक्स के रूप में या भोजन के साथ सलाद में इसे आप खा सकते हैं। एनसीबीआई के एक अध्ययन के अनुसार, एक दिन में 1350 मिलीग्राम शिमला मिर्च का सेवन किया जा सकता है (11)

आइए, आगे जानते हैं कि शिमला मिर्च खाने के नुकसान क्या-क्या हो सकते हैं। 

शिमला मिर्च के नुकसान – Side Effects of Capsicum in Hindi

शिमला मिर्च एक उत्तम आहार है, लेकिन कुछ परिस्थितियों में इसका सेवन हानिकारक हो सकता हैं, जैसे (12):

  • रक्त विकार से जूझ रहे लोगों को शिमला मिर्च का सेवन नहीं करना चाहिए। ये रक्त बहाव का कारण बन सकता है।
  • ब्लड प्रेशर के मरीजों को शिमला मिर्च का अधिक सेवन नहीं करना चाहिए। यह इस समस्या को और बढ़ा सकता है।
  • सर्जरी के दो हफ्ते पहले से इसका सेवन छोड़ देना सही रहता है, नहीं तो सर्जरी के समय यह ज्यादा रक्त बहाव का कारण बन सकता है।
  • शिमला मिर्च का सेवन ब्लड शुगर में इजाफा कर सकता है, लेकिन इसका कोई ठोस प्रमाण उपलब्ध नहीं है। इसलिए, सावधानी के तौर पर इसका सेवन थोड़ी मात्रा में ही करें।
  • शिमला मिर्च का सेवन कुछ लोगों के लिए एलर्जी का कारण बन सकता है, इसलिए अगर किसी को पहले से कोई एलर्जी है, तो इसके सेवन से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लें (13) (14)।

शिमला मिर्च खाने में काफी स्वादिष्ट लगती है। इसकी महक खाने का स्वाद दोगुना कर देती है। कुल मिलाकर शिमला मिर्च एक स्वादिष्ट और बेहतरीन सब्जी मानी जा सकती है। शिमला मिर्च के नुकसान को हमेशा याद रखें और गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं से जूझ रहे लोग शिमला मिर्च का सेवन डॉक्टर की सलाह पर ही करें। शिमला मिर्च के फायदे सबके लिए अलग-अलग हो सकते हैं। यह किसी मेडिकल ट्रीटमेंट का विकल्प नहीं है। अगर आप इस विषय के संबंध में कुछ और जानना चाहते हैं, तो अपने सवाल नीचे दिए कमेंट बॉक्स के जरिए हम तक पहुंचा सकते हैं।

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

Auli Tyagi

औली त्यागी उभरती लेखिका हैं, जिन्होंने हरिद्वार (उत्तराखंड) से पत्रकारिता और जनसंचार में एम.ए. की डिग्री हासिल की है। औली को लेखन के क्षेत्र में दो साल का अनुभव है। औली प्रतिष्ठित दैनिक अखबार और कम्युनिटी रेडियो स्टेशन से ट्रेनिंग ले चुकी हैं। औली सामाजिक मुद्दों पर लिखना पसंद करती हैं। लेखन के अलावा इन्हें वीडियो एडिटिंग और फोटोग्राफी का तकनीकी ज्ञान भी हैं। इन्हें हिंदी और उर्दू साहित्य में विशेष रुचि है।

ताज़े आलेख

scorecardresearch