सिंगल रहने के 20 फायदे: 20+ Perks Of Being Single in Hindi

Written by

युवाओं में इन दिनों सिंगल रहने का ट्रेंड काफी बढ़ गया है। रिश्ते में आने की बजाय लोग सिंगल रहना ज्यादा पसंद करते हैं। सिंगल्स का मानना है कि वो अकेले ज्यादा सुखी जीवन बिता सकते हैं। हालांकि, कुछ लोग ऐसे भी हैं, जिन्हें सिंगल लाइफ में अकेलापन सताता है। जहां जीवनसाथी का साथ एक खूबसूरत अहसास देता है, वहीं सिंगल रहने के भी अनेक फायदे हैं। स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम सिंगल रहने के फायदे और नुकसान दोनों पर चर्चा करेंगे। पूरी जानकारी के लिए लेख के अंत तक बने रहें।

शुरू करें यह लेख

लेख में सबसे पहले जानते हैं सिंगल रहने के फायदे क्या हैं।

सिंगल रहने के फायदे – 20+ Benefits of being Single in Hindi

यहां हम सिंगल रहने के फायदे बताने जा रहे हैं, जो इस तरह हैं: (1)

1. आजादी

आजादी हर किसी को पसंद होती है और सिंगल होने का सबसे पहला फायदा यही है। लाइफ में अगर पार्टनर होगा, तो कहीं न कहीं आपको कुछ हद तक उनकी पसंद के अनुसार चीजें करनी पड़ती हैं। किसी को भी अपने पूरे दिन का अपडेट देने की जरूरत नहीं पड़ती है। ऐसे में जो लोग अपनी मर्जी के मालिक बनकर रहना पसंद करते हैं, वो ज्यादा दिन रिलेशनशिप में नहीं रह पाते।

2. करियर

सिंगल लाइफ वाले लोग अपने करियर में ज्यादा फोकस कर पाते हैं। कहीं न कहीं जब कोई रिलेशनशिप में होता है, तो उसे अपने पार्टनर को भी समय देना होता है। वहीं, सिंगल लोग का यह समय बचता है, जिससे वो अपने करियर को बेहतर बनाने के लिए जितना समय चाहे दे सकते हैं। इसलिए, सिंगल्स का पूरा ध्यान अपने काम और करियर पर रहता है। इससे वो अपने मुकाम तक पहुंचने की पूरी कोशिश करते हैं।

3. नए लोगों से मिलने का अवसर

सिंगल्स लोगों का दोस्तों, परिजनों और नए लोगों के साथ रिश्ता ज्यादा अच्छा होता है। वहीं, रिलेशनशिप में रहने वाले घर और जीवनसाथी की जिम्मेदारी पूरी करने में ही लगे रहते हैं, जबकि सिंगल्स के साथ ये परेशानी नहीं होती है। वो अपनी सोशल लाइफ में ज्यादा एक्टिव रहते हैं और कई लोगों से कनेक्ट रह पाते हैं।

4. खुद के लिए वक्त

रिलेशनशिप में रहने वाले लोगों के पास खुद के लिए समय की हमेशा कमी रहती है, लेकिन सिंगल्स के साथ ऐसा नहीं होता है। उनके पास खुद को परखने का पर्याप्त समय होता है। अपने इस समय में सिंगल्स मन मुताबिक कोई भी काम कर सकते हैं। वो अपने अन्य शौक पूरे करने के अलावा कुछ नया ट्राई कर सकते हैं।

5. पैसों की बचत

रिलेशनशिप में रहने वाले लोगों के मुकाबले सिंगल लोग पैसों की ज्यादा बचत कर सकते हैं। सिंगल्स को किसी के लिए तोहफे देना या पार्टनर के साथ लंच या डिनर जैसे खर्चे नहीं उठाने पढ़ते हैं। इसलिए, सिंगल्स के खर्चे कम होते हैं। वो जो भी खर्चा करते हैं, अपने ऊपर करते हैं। इससे उनकी सेविंग्स में खूब बचत होती है।

6. दोस्तों के साथ मस्ती

सिंगल्स को अपने दोस्तों के साथ खूब सारी मस्ती करने की आजादी होती है। वहीं, शादीशुदा लोग या रिलेशनशिप में रहने वाले लोगों के पास दोस्तों के साथ मस्ती करने का मौका और वक्त दोनों कम मिल पाता है।

7. वादा निभाने का दबाव नहीं

जब हम किसी के साथ रिश्ते में होते हैं, तो एक-दूसरे से कई वादे करते हैं और उसे निभाते भी हैं। वहीं, सिंगल्स के साथ ऐसा कुछ नहीं होता है। उन्हें अपने पार्टनर के साथ वादा निभाना और उनके गिले-शिकवे दूर करने जैसी समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ता है। 

8. ज्यादा फिट रहते हैं

शादीशुदा और रिलेशनशिप में रहने वाले लोगों के मुकाबले सिंगल्स लोग अपनी फिटनेस पर ज्यादा ध्यान दे सकते हैं। वो कभी भी समय मिलते ही जिम जा सकते हैं या फिर योग कर सकते हैं। दिमागी तौर पर भी सिंगल लोग तनाव मुक्त हो सकते हैं।

9. काम में संतुष्टि

सिंगल लोग रिलेशनशिप में बंधे लोगों के मुकाबले अपने काम से ज्यादा संतुष्ट होते हैं। इसका एक कारण ये होता है कि वो अपने काम को जितना समय चाहें दे सकते हैं। वहीं, रिलेशनशिप में बंधे लोगों के साथ नहीं होता है, उन्हें कुछ समय अपने पार्टनर को भी देना पड़ता है। 

10. नींद में कंजूसी नहीं

सिंगल रहने का सबसे बड़ा फायदा ये है कि सिंगल लोग भरपूर नींद ले सकते हैं। सुबह देर तक सो सकते हैं, उन्हें कोई भी डिसटर्ब करने वाला नहीं होता है। अच्छी नींद होने से पूरा दिन फ्रेश बना रहता है। वहीं, सिंगल व्यक्ति विवाहित व्यक्ति के मुकाबले ज्यादा नींद ले पाते हैं।

11. फैमिली प्लानिंग नहीं

शादी के बाद कपल्स पर बच्चों की प्लानिंग का दवाब होता है, जबकि सिंगल्स के साथ ऐसा नहीं होता है। उन्हें बच्चों के साथ-साथ फ्यूचर प्लान की भी कोई टेंशन नहीं होती है।

12. नो लड़ाई-झगड़ा

रिलेशनशिप में होने पर कपल्स के बीच में लड़ाई-झगड़ा होना आम बात होती है। वहीं, सिंगल्स इस समस्या से कोसो दूर रहते हैं।  

13. कोई पाबंदी नहीं

लोगों के साथ रिलेशनशिप में कुछ पाबंदियां होती हैं। उनके पार्टनर उन्हें किसी से बात नहीं करने देते, कुछ दोस्तों को ब्लॉक करने के लिए कहते हैं, फोन का पासवर्ड पूछते हैं। वहीं, सिंगल्स इस समस्या से मुक्त होते हैं। वह लोग इन सभी पाबंदियों से आजाद होते हैं।

14. क्रिएटिविटी

रिलेशनशिप वालों के मुकाबले सिंगल लोग ज्यादा क्रिएटिव होते हैं, क्योंकि उनका दिमाग जनरली माइंड फ्री होता है। ऐसे में वो क्रिएटिव सोच पाते हैं। इसका मतलब ये है कि सिंगल्स लोग कोई भी नया आइडिया जल्दी सोच सकते हैं। जबकि रिश्ते में बंधे लोगों का दिमाग कम फ्री होता है।

15. टाइम का सही उपयोग

सिंगल लोग अपना टाइम सही तरीके से किसी अच्छे काम जैसे – समाजसेवा आदि में इस्तेमाल कर पाते हैं। वहीं, रिलेशनशिप में बंधे लोग अपने पार्टनर के साथ बात करने या उनके पास बैठने में समय बिता देते हैं।

16. हैप्पी रहना

सिंगल्स का मानना है कि शादीशुदा लोगों के मुकाबले वो ज्यादा खुश रहते हैं। सिंगल लोगों की खुशी की वजह सिर्फ यही होती है कि उन पर किसी भी तरह की कोई जिम्मेदारी नहीं होती। वहीं, शादिशुदा लोगों पर घर-परिवार से जुड़ी तमाम तरह की जिम्मेदारियां होती हैं।

17. इमोशनली स्ट्रॉन्ग

सिंगल्स लोग भावनात्मक तौर पर ज्यादा मजबूत होते हैं। उन्हें अपनी भावनाओं को संभालना अच्छे से आता है। इसका एक कारण ये है कि उनके बहुत सारे करीबी परिचित उनके आस-पास नहीं होते हैं।

18. जिंदादिली से भरपूर

सिंगल्स लोग अपनी जिंदगी खुलकर जीते हैं। वो फालतू की चिंता और तनाव से दूर रहते हैं। सिंगल लोग खुद को काम में व्यस्त रखते हैं और वो अपनी जिंदगी पूरी जिंदादिली से जीने की आर्ट को बखूबी जानते हैं। वो अपने काम के साथ-साथ अपने मनोरंजन करने के लिए पर्याप्त वक्त निकाल लेते हैं।

19. फोकस

सिंगल्स काम पर रिलेशनशिप वाले लोगों के मुकाबले ज्यादा फोकस कर पाते हैं। शादीशुदा लोगों को अपना वक्त घर-परिवार को देना पड़ता है। इस कारण वो अपने काम में सही से फोकस नहीं कर पाते हैं, जबकि सिंगल लोग अपने काम पर फोकस कर उसे एन्जॉय करते हैं।

20. किसी के साथ भी फ्लर्ट

किसी के साथ भी फ्लर्ट करना या डेट करना ये सुनना जरूर थोड़ा अटपटा लग सकता है, लेकिन इस बात से         मना नहीं किया जा सकता है कि सिंगल होने पर किसी को भी फ्लर्ट और डेट करने के लिए आप आजाद हैं।

पढ़ना जारी रखें

अब सिंगल रहने के नुकसान के बारे में विस्तार से जानते हैं।

सिंगल रहने के नुकसान – Negative effects of being single in Hindi

अगर अकेले रहना फायदेमंद है, तो इसके कुछ नुकसान भी हैं। ऐसे ही कुछ दुष्प्रभावों के बारे में हम यहां बता रहे हैं।

  • अक्सर जब हम सिनेमा हॉल में फिल्म देखने जाते हैं, तो उस दौरान किसी पार्टनर की जरूरत होती है। उस समय सिंगल रहने वाले को पार्टनर की अहमियत समझ आती है।
  • सिंगल्स को वैलेंनटाइन डे के दिन पार्टनर की याद सता सकती है।
  • जब बीमार होने पर केयर करने के लिए कोई साथ नहीं होता, तब पता चलता है कि जिंदगी में पार्टनर का होना कितना जरूरी है।
  • शॉपिंग के समय भी एक साथी की जरूरत होती है, जो ये बता सके कि उसे क्या लेना चाहिए और क्या नहीं।
  • वहीं, जब छुट्टियां मनाने के लिए वक्त हो, तब पार्टनर की कमी महसूस हो सकती है।
  • अक्सर सिंगल्स लोगों को ऑफिस में काम का बोझ ज्यादा झेलना पड़ सकता है। बॉस ये समझते हैं कि वो घर जाकर क्या करेगा, तो उसे और काम दे दो।
  • जब अकेले रहने वाले लोग उम्रदराज हो जाते हैं, तब उन्हें किसी न किसी के सहारे की जरूरत पड़ती है। ऐसे में मैरिड कपल के मुकाबले सिंगल्स को ज्यादा परेशानी झेलनी पड़ती है।

जीवन का हर मोड़ खूबसूरत है, सिंगल होने से लेकर किसी के साथ रिश्ते में बंध जाने के बाद नई यादें पिरोने तक। अब आपको अकेले मस्त रहना है या किसी साथी के साथ जीवन का आनंद लेना है, ये हर किसी का व्यक्तिगत निर्णय है। इसलिए, जीवन के हर पल को एंजॉय करें और उसे संजोए रखें। अगर आपको ये लेख पसंद आया हो, तो इसे अपने दोस्तों और करीबियों के साथ जरूर शेयर करें।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल:

क्या सिंगल रहना सही है?

यह हर व्यक्ति की मानसिकता पर निर्भर करता है। कुछ लोग रिलेशनशिप में बंधे होने के कारण खुद को फंसा हुआ महसूस करते हैं। वहीं, कुछ लोग सिंगल रहने पर अकेलापन महसूस करते हैं। इसका असर उनकी सेहत पर भी साफ नजर आता है।

क्या सिंगल रहना अस्वस्थ है?

हमेशा अच्छे पार्टनर का साथ चाहने वालों के लिए अकेला रहना किसी बीमारी से कम नहीं है।

क्या सिंगल रहना बेहतर है?

हां, एक खराब पार्टनर के साथ रहने के बाद सिंगल रहना सुखद अहसास हो सकता है।

क्या कोई लड़की हमेशा के लिए अकेले रह सकती है?

हां, सिंगल रहना किसी भी लड़की का व्यक्तिगत निर्णय हो सकता है। अगर वो किसी के साथ कोई बंधन में नहीं बंधना चाहती है, तो वो आत्मनिर्भर होकर अकेले अपना जीवन बिता सकती है।

क्या एक पुरुष हमेशा के लिए सिंगल हो सकता है?

हां, सिंगल रहना पूरी तरह से व्यक्ति पर निर्भर करता है। अगर उसे अकेले रहना अच्छा लगता है, तो वो अपना पूरा जीवन ऐसे ही बिता सकता है।

संदर्भ (Sources)

Singles’ Reasons for Being Single: Empirical Evidence From an Evolutionary Perspective
https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC7218110/

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

ताज़े आलेख