सुबह नाश्ता नहीं करने के नुकसान – Side Effects Of Skipping Breakfast in Hindi

by

नाश्ता दिन का पहला भोजन है, इसलिए इसे समय पर करने की सलाह दी जाती है। वहीं, देखा जाता है कि काम की व्यस्तता और गलत समय पर भोजन करने की आदत के कारण अक्सर लोग नाश्ते को नजरअंदाज कर देते हैं। आपको बता दें कि ऐसा करना स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक हो सकता है। यही वजह है कि स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम सुबह नाश्ता नहीं करने के नुकसान बता रहे हैं। यहां आप जान पाएंगे कि नाश्ता स्किप करने के नुकसान क्या-क्या हैं। पूरी जानकारी के लिए लेख को अंत तक जरूर पढ़ें।

स्क्रॉल करें

आइये, अब सीधा नजर डालते हैं नाश्ता न करने के नुकसानों पर।

नाश्ता स्किप करने के नुकसान – Side Effects Of Skipping Breakfast in Hindi

सुबह नाश्ता न करने के नुकसान कई हो सकते हैं। शुरुआत में इसका असर मामूली या न के बराबर हो सकता है, लेकिन आगे चलकर नाश्ता स्किप करने के नुकसान गंभीर रूप से सामने आ सकते हैं। अब पढ़ें आगे :

1. हृदय संबंधी समस्याओं का कारण

सुबह नाश्ता नहीं करने के नुकसान सबसे पहले है हृदय संबंधी समस्या। नाश्ता नहीं करने से हृदय से जुड़ी हुई कई गंभीर बीमारियां हो सकती हैं। एनसीबीआई (National Center for Biotechnology Information) की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध में नियमित रूप से नाश्ता करने वालों और न करने वाले पुरुषों पर जब अध्ययन किया गया है, तो पता चला कि नाश्ता करने वालों की तुलना में नाश्ता न करने वाले पुरुषों में हृदय रोग का जोखिम 27 प्रतिशत से अधिक था (1)।

वहीं, शोध में इस बात की भी पुष्टि की गई कि जो लोग हेल्दी नाश्ता करते हैं, उनमें हृदय रोग की आशंका कम हो सकती है। रिसर्च में आगे जानकारी दी गई है कि जो लोग नाश्ते से बचते हैं, उनमें उच्च रक्तचाप का जोखिम बढ़ सकता है (1)। वैज्ञानिकों की इस रिपोर्ट से हम मान सकते हैं कि जो लोग नियमित रूप से नाश्ता नहीं करते हैं, उनमें हृदय रोग का जोखिम बढ़ सकता है।

2. टाइप-2 मधुमेह का जोखिम

हार्वर्ड यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ द्वारा एक अध्ययन किया, जिसका उद्देश्य खाने की आदतों और स्वास्थ्य के बीच संबंध का पता लगाना था। लगभग छह वर्षों तक किए गए इस शोध में 46,289 महिलाओं ने भाग लिया। अध्ययन के परिणाम चौंका देने वाले थे। नतीजों के अनुसार, जिन महिलाओं को नाश्ते से परहेज करने की आदत थी, उनमें टाइप-2 डायबिटीज होने का खतरा अधिक था, उन महिलाओं की तुलना में, जो अपना रोजाना का नाश्ता करती थीं (2)।

3. मोटापे का कारण

सुबह नाश्ता नहीं करना मोटापे का कारण भी बन सकता है। रिसर्च के अनुसार, नाश्ता स्किप करना अस्वस्थ आदतों यानी अनहेल्दी बिहेवियर, खराब आहार और कम शारीरिक गतिविधि से जुड़ा है। साथ ही यह मेटाबॉलिक जोखिम से भी जुड़ा है, जिसमें हाई बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) और कमर पर अतिरिक्त चर्बी का जमा होना भी शामिल है (3)।

वहीं, एक अन्य शोध में भी जिक्र मिलता है कि नाश्ता न करने की आदत मोटापे के जोखिम को बढ़ा सकती है। इससे हम मान सकते हैं कि मोटापा सुबह नाश्ता नहीं करने के नुकसान में से एक हो सकता है (4)।

4. मूड और ऊर्जा पर नकारात्मक प्रभाव

नाश्ता न करने के नुकसान में मूड और एनर्जी के स्तर पर नकारात्मक प्रभाव भी शामिल है। बच्चों और किशोरों पर किए गए एक अध्ययन से पता चला है कि जो बच्चे और किशोर नियमित रूप से नाश्ता करते हैं, उनमें अधिक सकारात्मक भावनाएं, बेहतर एकाग्रता और कम नकारात्मक भावनाएं होती हैं।

अध्ययन में आगे इस बात की भी पुष्टि की गई है कि जो बच्चे सुबह का नाश्ता नहीं करते हैं, उनमें पर्याप्त ऊर्जा जमा नहीं हो पाती है और इससे मूड पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। वहीं, पहले दैनिक कार्यों को बिना ऊर्जा के करना बच्चों की सकारात्मक मनोदशा में मदद नहीं करता है (5)।

5. कैंसर का खतरा

नाश्ता स्वस्थ जीवन शैली का एक हिस्सा है। वहीं, नाश्ता स्किप करने के नुकसान में से एक सबसे बड़ा नुकसान यह है कि यह कैंसर के जोखिम को बढ़ाने का काम कर सकता है। इस विषय पर जापान में 34,128 पुरुषों और 49,282 महिलाओं पर एक अध्ययन किया गया। यह एक लंबे समय तक चलने वाला अध्ययन था।

परिणाम में यह बात निकलकर आई कि जिन लोगों ने सुबह का नाश्ता नहीं किया था, उनमें कैंसर से लगभग 5,768 मौतें हुईं। शोध में नाश्ता न करने को अनहेल्दी लाइफस्टाइल हैबिट बताया गया है (6)। इस आधार पर यह माना जा सकता है कि नाश्ता न करने से कैंसर का जोखिम बढ़ सकता है। फिलहाल, इस विषय पर अभी और सटीक शोध की आवश्यकता है।

जारी रखें पढ़ना

6. मस्तिष्क की कार्यप्रणाली पर दुष्प्रभाव

सुबह नाश्ता न करना मस्तिष्क पर दुष्प्रभाव डालकर इसके कार्यों को भी प्रभावित कर सकता है। एक अध्ययन में यह बात सामने आई है कि नाश्ता छोड़ने से संज्ञानात्मक कार्यों (सोचने, समझने, याद करने व निर्णय लेने से संबंधित) पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। इसके कारण मस्तिष्क की उत्तेजना में गिरावट, धीमी प्रतिक्रिया और ध्यान में कमी हो सकती है।

रिसर्च में इस बात का पता चलता है कि भोजन करने और उसे पचाने की रात भर की क्रिया के बाद सुबह रक्त में ग्लाइकोजन (ग्लूकोज मॉलिक्यूल) का स्तर कम हो जाता है। वहीं, ग्लूकोज मस्तिष्क के कार्यों के लिए मुख्य ईंधन माना गया है और मस्तिष्क के बेहतर कार्यों के लिए रक्त में शुगर की आवश्यकता होती है।

वहीं, नाश्ते का रक्त शर्करा के स्तर पर सीधा प्रभाव पड़ता है और रक्त शर्करा के स्तर का मस्तिष्क के कार्यों पर सीधा प्रभाव पड़ता है। सामान्य तौर पर जब रक्त शर्करा का स्तर 80–120 मिलीग्राम / डीएल की सीमा में होता है, तब मस्तिष्क सबसे अच्छा प्रदर्शन करता है। धीरे-धीरे रक्त शर्करा की कमी के कारण, ऊर्जा की खपत के साथ, लोग भूख और थकान महसूस करने लगते हैं और मस्तिष्क की कार्यप्रणाली में गिरावट आ सकती है (7)।

7. माइग्रेन की समस्या

सुबह नाश्ता नहीं करने से माइग्रेन की समस्या भी हो सकती है। एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध के मुताबिक कुछ आहार संबंधी आदतें माइग्रेन और मोटापे के जोखिम का कारण बन सकती हैं, जिनमें सुबह का नाश्ता नहीं करना भी शामिल है (8)। वहीं, एक दूसरे अध्ययन से पता चला है कि नाश्ता या भोजन नहीं करना हाइपोग्लाइसीमिया (रक्त में ग्लूकोज की कमी) का कारण बन सकता है, जो कुछ व्यक्तियों में माइग्रेन को बढ़ा सकता है।

दरअसल, हाइपोग्लाइसीमिया ब्लड ग्लूकोज मॉड्यूलेटर जैसे कि एपिनेफ्रीन और नॉरपेनेफ्रिन (हार्मोन) रिलीज करता है। वहीं, एपिनेफ्रीन और नॉरपेनेफ्रिन सेरोटोनिन हार्मोन (मूड, नींद, सीखने की इच्छा शक्ति और याददाश्त संबंधी कार्यों को नियंत्रित करने वाला हार्मोन) के रिलीज होने की प्रक्रिया को बढ़ावा दे सकते हैं, जिससे माइग्रेन की समस्या उत्पन्न हो सकती है (9)।

8. बाल झड़ने की समस्या

नाश्ता दिन का एक बहुत ही आवश्यक भोजन है, क्योंकि यह शरीर को स्वस्थ रखने के साथ ही बालों के रोम को बढ़ने के लिए पोषण भी देता है। वहीं, नाश्ता स्किप करने के नुकसान में एक बालों के झड़ने की समस्या भी शामिल है। शोध में जिक्र मिलता है कि नाश्ता नहीं करने से यह प्रोटीन और केराटिन के स्तर को प्रभावित कर सकता है।

बालों में केराटिन होता है, जो बालों को मजबूती प्रदान करता है। नाश्ता नहीं करने से प्रोटीन और केराटिन का स्तर प्रभावित हो सकता है। इससे बाल अपनी ताकत खो सकते हैं और हेयर ग्रोथ में बाधा आ सकती है। वहीं, प्रोटीन युक्त नाश्ता बालों के झड़ने को रोक सकता है (2)।

9. चयापचय को प्रभावित कर सकता है

सुबह का नाश्ता नहीं करने से यह चयापचय पर भी नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। दरअसल, इससे जुड़े एक शोध में माना गया है कि कम कार्बोहाइड्रेट युक्त पोषक तत्वों से युक्त नाश्ता मेटाबोलिक सिंड्रोम के जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है। बता दें कि मेटाबोलिक सिंड्रोम उन जोखिम कारकों (मोटापा, कोलेस्ट्रॉल, उच्च रक्तचाप व हाई ब्लड शुगर) को कहा जाता है, जो हृदय रोग और मधुमेह के साथ ही अन्य शारीरिक समस्या का कारण बनते हैं (10)।

वहीं, आगे यह भी बताया गया है कि कार्बोहाइड्रेट की जगह साबुत अनाज, सीरियल्स फाइबर, प्रोटीन और अनसैचुरेटेड फैटी एसिड युक्त नाश्ते का सेवन मेटाबॉलिक स्वास्थ्य में सुधार का काम कर सकता है (11)। इसलिए, इस आधार हम मान सकते हैं कि नाश्ता न करना और नाश्ते में बताए गए पोषक तत्वों को शामिल न करना मेटाबॉलिक स्वास्थ्य को बुरी तरह प्रभावित कर सकता है।

10. हैंगओवर को बदतर करे

नाश्ता न करना हैंगओवर की स्थिति को बदतर कर सकता है। दरअसल, विषय से जुड़े एक अध्ययन में शामिल लोगों को अल्कोहल के बाद 9 घंटे की नींद के साथ नाश्ता कराया गया है। इसमें 24 प्रतिशत लोग बिना हैंगओवर के पाए गए, जबकि बाकियों में हल्का हैंगओवर देखा गया है। इस आधार पर कहा जा सकता है कि अल्कोहल के सेवन के बाद बिना आराम और नाश्ते के हैंगओवर की स्थिति बदतर हो सकती है (12)। फिलहाल, इस विषय पर अभी और शोध किए जाने की आवश्यकता है।

जैसा की हमने शुरुआत में बताया कि नाश्ता दिन का सबसे महत्वपूर्ण भोजन है, क्योंकि इसे करने से कई प्रकार की शारीरिक समस्याओं से बचा जा सकता है। वहीं, इसके विपरीत सुबह नाश्ता नहीं करने के नुकसान भी कई सारे हैं, जिन्हें आर्टिकल के माध्यम से हमने बताया। इसलिए, नाश्ता स्किप करने के नुकसान से बचना है, तो नाश्ते को स्किप नहीं करें। इसे रोजाना की हेल्दी हैबिट्स में शामिल करें और सेहतमंद रहें। हम उम्मीद करते हैं कि यह लेख आपको पसंद आया होगा। आप चाहें, तो इसे अन्य लोगों के साथ भी शेयर कर सकते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल :

शरीर पर नाश्ता स्किप करने के नुकसान क्या-क्या हो सकते हैं?

नाश्ता नहीं करने पर कई प्रकार की समस्याएं हो सकती हैं, जिनके बारे में हम ऊपर जिक्र कर चुके हैं। इन समस्याओं में हृदय रोग, कैंसर, चयापचय संबंधी विकार, मोटापा और बाल झड़ने की समस्या शामिल है (2)।

क्या नाश्ता नहीं करने से शरीर में अतिरिक्त चर्बी जमा हो सकती है?

हां, नाश्ता नहीं करने पर शरीर में अतिरिक्त चर्बी जमा हो सकती है और यह मोटापा का कारण बन सकता है (4)।

12 Sources

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.
सरल जैन ने श्री रामानन्दाचार्य संस्कृत विश्वविद्यालय, राजस्थान से संस्कृत और जैन दर्शन में बीए और डॉ. सी. वी. रमन विश्वविद्यालय, छत्तीसगढ़ से पत्रकारिता में बीए किया है। सरल को इलेक्ट्रानिक मीडिया का लगभग 8 वर्षों का एवं प्रिंट मीडिया का एक साल का अनुभव है। इन्होंने 3 साल तक टीवी चैनल के कई कार्यक्रमों में एंकर की भूमिका भी निभाई है। इन्हें फोटोग्राफी, वीडियोग्राफी, एडवंचर व वाइल्ड लाइफ शूट, कैंपिंग व घूमना पसंद है। सरल जैन संस्कृत, हिंदी, अंग्रेजी, गुजराती, मराठी व कन्नड़ भाषाओं के जानकार हैं।

ताज़े आलेख

scorecardresearch