सूखी खुबानी के फायदे, उपयोग और नुकसान – Dried Apricot Benefits, Uses and Side Effects in Hindi

by

फ्रूट्स की तरह ही ड्राई फ्रूट्स भी स्वाद से भरपूर और सेहत के लिए लाभदायक होते हैं। उन्हीं में से एक ड्राई फ्रूट है सूखी खुबानी। जैसे सेहत के लिए खुबानी के फायदे होते हैं, ठीक वैसे ही इसका सूखा फल भी स्वाद के साथ-साथ सेहतमंद होता है। ऐसे में स्टाइलक्रेज के इस लेख से हम सेहत के लिए सूखी खुबानी के फायदे के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी देने की कोशिश करेंगे। अगर सूखी खुबानी सेहत को स्वस्थ रखने में मदद कर सकती है, तो वहीं बीमारी की अवस्था में कुछ लक्षणों को कम भी कर सकती है। फायदे के साथ ही हम सही तरीके से सूखी खुबानी का उपयोग करने की जानकारी भी देंगे, ताकि अगर सूखी खुबानी के नुकसान हों तो सही तरीके से सेवन करके इससे बचाव हो सके। तो सूखी खुबानी के लाभ के बारे में जानने के लिए आर्टिकल को अंत तक पढ़ें।

लेख विस्तार से पढ़ें

चलिए सबसे पहले जानते है कि सूखी खुबानी के फायदे में क्या-क्या शामिल हैं।

सूखी खुबानी के फायदे – Benefits of Dried Apricot in Hindi

सूखी खुबानी का उपयोग स्वास्थ्य पर कई लाभकारी असर डाल सकता है। इसके सेवन से कई तरह की बीमारियों को दूर रखने और उनसे निपटने में सहायता मिल सकती है। हालांकि हम यहां स्पष्ट कर दें कि सूखी खुबानी बीमारी से बचाव या उसके लक्षणों को कम कर सकती है। इसे बीमारी का इलाज समझने की भूल न करें। तो आइए अब जानते हैं सूखी खुबानी के फायदे, जो कुछ इस प्रकार हैं :

1. पोषक तत्वों से भरपूर

सूखी खुबानी कई प्रकार के महत्वपूर्ण पोषक तत्वों से भरपूर होती है। इन पोषक तत्वों में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, कैल्शियम, आयरन, विटामिन-ए, सी शामिल हैं, जो सेहत के लिए लाभकारी होते हैं (1) (2)। इसके अलावा, सूखी खुबानी में कैरोटिनॉइड जैसे फाइटोकेमिकल भी होते हैं, जो सेहत के लिए फायदेमंद हो सकते हैं (3)।

2. वजन कम करने के लिए

माना जाता है कि जब सूखी खुबानी का सेवन सीमित मात्रा में किया जाए तो यह वजन को नियंत्रित करने में फायेदमंद हाे सकती है। दरअसल, सूखी खुबानी में फाइबर की अच्छी मात्रा पाई जाती है (1)। वहीं, अन्य शोध में पाया गया कि फाइबर का सेवन भूख को नियंत्रित करने में कारगर हो सकता है (4)। ऐसे में फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ के सेवन से बढ़ते वजन को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है (5)। यहां हम स्पष्ट कर दें कि सूखी खुबानी को सीधे वजन घटाने से जोड़ने वाला कोई वैज्ञानिक शोध की कमी है। हालांकि, कुछ मामलों में वेट लॉस डाइट में सूखी खुबानी को शामिल करने का सुझाव दिया जाता है (6)। ऐसे में, बेहतर है कि वजन कम करने के लिए सूखी खुबानी के उपयोग से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

3. गर्भावस्था के दौरान लाभदायक

गर्भावस्था के दौरान महिला को पोषक तत्वों की बहुत आवश्यकता होती है। ऐसे में प्रेगनेंसी के दौरान जरूरी पोषक तत्वों की पूर्ति के लिए सूखी खुबानी का सेवन उपयोगी हो सकता है (7)। खासतौर पर, आयरन गर्भवती के लिए उपयोगी होता है। यह पोषक तत्व गर्भवती और भ्रूण दोनों के शरीर के सभी हिस्सों में ऑक्सीजन ले जाने में मददगार होता है। ऐसे में गर्भवती के लिए आयरन का सेवन जरूरी है। गर्भावस्था में आयरन की कमी से बचाव के लिए अन्य खाद्य पदार्थों के साथ-साथ सूखी खुबानी का उपयोग लाभकारी हो सकता है। यह आयरन का अच्छ स्त्रोत है, इसलिए कभी-कभी गर्भावस्था के दौरान आहार में अन्य खाद्य पदार्थों के साथ सूखी खुबानी का सेवन उपयोगी हो सकता है (8)।

4. एनीमिया से बचाव के लिए

एनीमिया की समस्या से बचाव करने में भी सूखी खुबानी की अहम भूमिका हो सकती है। दरअसल, आयरन की कमी के कारण एनीमिया की स्थिति पैदा हो सकती है। वहीं, सूखी खुबानी में आयरन की अच्छी मात्रा पाई जाती है, जो इस समस्या से राहत दिलाने या बचाव करने में काफी हद तक सहायक साबित हो सकती है (9)। ऐसे में कहा जा सकता है कि सूखी खुबानी के लाभ में खून की कमी से बचाव भी शामिल है।

5. कब्ज को दूर करने में मददगार

सूखी खुबानी में फाइबर की मात्रा पाई जाती है। माना गया है कि फाइबर पाचन क्रिया में सुधार कर कब्ज की समस्या को कम करने में सहायक हो सकता है (10)। ऐसे में कब्ज के घरेलू उपाय के तौर पर फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ जिसमें सूखी खुबानी भी शामिल है, उसका सेवन कर सकते हैं। दरअसल, फाइबर मल को नर्म करके शरीर से बाहर निकालने में मददगार हो सकता है (11)। ऐसे में कब्ज की समस्या को कम करने या बचाव के लिए सूखी खुबानी का सेवन एक अच्छा और आसान विकल्प हो सकता है (12)। हां, अगर किसी की कब्ज की परेशानी गंभीर है, तो उसे डॉक्टर से इलाज जरूर करवाना चाहिए।

6. मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए

आपको जानकर आश्चर्य हो सकता है कि स्वाद में मीठी होने के बावजूद सूखी खुबानी मधुमेह की समस्या में मददगार हो सकती है (13)। दरअसल, सूखी खुबानी का सेवन मधुमेह रोगियों के लिए सुरक्षित हो सकता है। यह न सिर्फ मधुमेह रोगियों में रक्त में ग्लूकोज के स्तर को कम कर सकता है, बल्कि मधुमेह में होने वाली जटिलताओं के जोखिम को भी कम कर सकता है (14)।

ऐसे में डायबिटीज डाइट में सूखी खुबानी को शामिल करना एक अच्छा विकल्प हो सकता है। हालांकि, हम यहां स्पष्ट कर दें कि मधुमेह की स्थिति में सूखी

खुबानी का सेवन कोई उपचार नहीं है। इसलिए, मधुमेह के मरीज को डॉक्टर की ओर से दी गई दवा का सेवन जरूर करना चाहिए। साथ ही सावधानी के तौर पर सूखी खुबानी के सेवन से पहले एक बार विशेषज्ञ की राय जरूर लें।

7. स्वस्थ आंखों के लिए

सेहत के साथ ही सूखी खुबानी के लाभ आंखों के लिए भी हो सकते हैं। इसमें विटामिन-ए की अच्छी मात्रा पाई जाती है। ऐसे में सूखी खुबानी के सेवन से विटामिन-ए की कमी से होने वाली कई प्रकार की आंखों की समस्या जैसे रतौंधी, जीरोपथलमिया (xerophthalmia- आंखों का पानी सूख जाना) का जोखिम कम हो सकता हैं। इसके अलावा, विटामिन-ए आंखाें की कई प्रकार की समस्याओं को दूर करने और उनके प्रभाव को कम करने में फायदेमंद हो सकता है। उन समस्याओं में बढ़ती उम्र के साथ होने वाली आंखों की समस्या भी शामिल है (15)। ऐसे में आंखों को स्वस्थ रखने के लिए सूखी खुबानी का सेवन उपयोगी हो सकता है।

8. स्वस्थ हड्डियों के लिए

स्वस्थ हड्डियों के लिए कई तरह के पौष्टिक खाद्य पदार्थों की आवश्यकता होती है और सूखी खुबानी भी उन्हीं में से एक है। दरअसल, एनसीबीआई (National Center for Biotechnology Information) की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध के मुताबिक, बोरोन जो कि एक प्रकार का मिनरल है, हड्डियों के स्वस्थ विकास और स्वस्थता के लिए उपयोगी पाया गया है। वहीं, सूखी खुबानी बोरोन का एक अच्छा स्त्रोत है। ऐसे में इस आधार पर यह कहा जा सकता है कि बोरोन युक्त सूखी खुबानी स्वस्थ और मजबूत हड्डियों के लिए उपयोगी हो सकती है (16)।

9. त्वचा के लिए

सूखी खुबानी के फायदे त्वचा के लिए भी हो सकते हैं। इसका उपयोग त्वचा संबंधी समस्याओं के लिए किया जा सकता है। इसमें मौजूद प्रोटीन त्वचा को स्वस्थ के लिए उपयोगी हो सकता है (17)। इसके अलावा, यह विटामिन ए और विटामिन सी का सोर्स है (1)। ये दोनों ही पोषक तत्व त्वचा के लिए उपयोगी हैं।

जहां विटामिन सी का उपयोग त्वचा की रंगत निखारने के कॉस्मेटिक्स में किया जाता है। वहीं, विटामिन ए त्वचा को सूरज की हानिकारक किरणों से बचा सकता है (18)। वहीं, सूखी खुबानी में ये दोनों पोषक तत्व मौजूद हैं। ऐसे में सीधे तौर पर तो नहीं, लेकिन सूखी खुबानी में मौजूद इन दोनों पोषक तत्वों के आधार पर यह मान सकते हैं कि इसका सेवन त्वचा के लिए उपयोगी हो सकता है। सीधे तौर पर त्वचा के लिए सूखी खुबानी से संबंधित शोध की आवश्यकता है।

स्क्रॉल करें

आइए, अब जान लेते हैं सूखी खुबानी में मौजूद पोषक तत्वों के बारे में।

सूखी खुबानी के पौष्टिक तत्व – Dried Apricot Nutritional Value in Hindi

सूखी खुबानी में शरीर के लिए कई जरूरी पोषक तत्व मौजूद होते हैं। इन पोषक तत्वों के बारे में हम एक तालिका की मदद से जानकारी रहे हैं। तो सूखी खुबानी में मौजूद पोषक तत्व कुछ इस प्रकार हैं (1):

पोषक तत्व मूल्य प्रति 100 g
एनर्जी250 kcal
प्रोटीन2.5 g
टोटल लिपिड (फैट)5 g
कार्बोहाइड्रेट72.5 g
फाइबर10 g
शुगर12.5 g
कैल्शियम100 mg
आयरन2.7 mg
सोडियम25 mg
विटामिन सी, टोटल एस्कॉर्बिक एसिड3 mg
विटामिन ए, IU250 IU

पढ़ना जारी रखें

इस लेख के आगे भाग में हम आपको सूखी खुबानी के उपयोग से जुड़ी जानकारी दे रहे हैं।

सूखी खुबानी का उपयोग – How to Use Dried Apricot in Hindi

सूखी खुबानी का उपयोग कई प्रकार से किया जा सकता है। यहां हम अलग-अलग तरीकों से सूखी खुबानी को आहार में शामिल करने के विकल्प बता रहे हैं। तो नीचे बताए गए तरीकों से आप सूखी खुबानी का सेवन कर सकते हैं।

  • सुबह-सुबह इसका उपयोग नाश्ते में कर सकते हैं।
  • सूखी खुबानी उपयोग कई पकवानों जैसे केक, कस्टर्ड की टाॅपिंग के लिए किया जा सकता है।
  • फ्रूट सलाद का स्वाद व उसके पौषक तत्वों को बढ़ाने के लिए भी आप सूखी खुबानी को उसमें मिला सकते हैं।
  • कई स्थानों में आइसक्रीम के लिए भी इसे उपयोग में लिया जाता है।
  • सूखी खुबानी की जैम भी बनाई जा सकती है।

मात्रा : सामान्य तौर पर आप इसका सेवन सीमित मात्रा में कर सकते हैं। कभी-कभी एक चौथाई कप यानी लगभग 30 ग्राम या 4 सूखी खुबानी का सेवन किया जा सकता है (19)। हालांकि, इसकी मात्रा व्यक्ति की उम्र और स्वास्थ्य स्थिति के अनुसार कम या ज्यादा हो सकती है। ऐसे में बेहतर है सूखी खुबानी के सेवन से पहले एक बार डॉक्टर या विशेषज्ञ की सलाह भी ली जाए।
नीचे भी पढ़ें

सूखी खुबानी खाने का तरीका जानने के बाद अब सूखी खुबानी के नुकसान क्या क्या हो सकते हैं, इसकी जानकारी भी जरूरी है।

सूखी खुबानी के नुकसान – Side Effects of Dried Apricot in Hindi

सूखी खुबानी के लाभ के लिए इसका सेवन सीमित मात्रा में करना चाहिए। अधिक मात्रा में किया गया सेवन सूखी खुबानी के नुकसान का कारण बन सकता है। ऐसे में नीचे पढ़ें सूखी खुबानी के नुकसान, जो कुछ इस प्रकार हैं:

  • अगर सूखी खुबानी को ठीक से चबाए बिना सेवन करते हैं, तो इससे आंतों से जुड़ी समस्या (bowel obstruction) हो सकती है (20)।
  • बाजार में कुछ सूखे मेवों को सल्फर डाइऑक्साइड (Sulphur dioxide-एक प्रकार का केमिकल कंपाउंड) के उपयोग से संरक्षित किया जाता है, जो संवेदनशील व्यक्तियों में अस्थमा को बढ़ावा दे सकता है (21)।
  • कुछ स्टडीज में पाया गया कि सूखी खुबानी में ओक्राटॉक्सिन ए (ochratoxin A) की कुछ मात्रा पाई जाती है, जो एक प्रकार का टॉक्सिन (विषैला पदार्थ) होता है। इनसे कई प्रकार की बीमारियां होने का जोखिम हो सकता है (22)।
  • सूखी खुबानी को गलत तरीके से संग्रहीत करने पर खराब हो सकती हैं और उनमें फंगस पैदा हो सकती है। ऐसी सूखी खुबानी का सेवन सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकता है।

दूसरे ड्राई फ्रूट्स की तरह सूखी खुबानी भी सेहत के लिए लाभकारी हो सकती है, पर इसे हमेशा सीमित मात्रा में ही खाना चाहिए। अधिक सेवन से सूखी खुबानी के नुकसान भी हो सकते हैं, जिसकी जानकारी ऊपर लेख में दी गई है। हालांकि, संतुलित मात्रा में सेवन कर इसके नुकसान से बचाव भी संभव है। वहीं, अगर कोई गंभीर स्वास्थ्य समस्या से जूझ रहा है, तो इसे अपने आहार में शामिल करने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर बात करें। उम्मीद है कि सूखी खुबानी के फायदे से जुड़े इस लेख में आपको ज्यादा से ज्यादा जानकारी मिल गई होगी। इस तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए स्टाइलक्रेज की वेबसाइट विजिट करते रहें।

चलिए, अब आगे जानते हैं सूखी खुबानी से संबंधित कुछ जरूरी सवालों के जवाब।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

क्या सूखी खुबानी का सेवन गैस का कारण बन सकता है?

हां, अगर इसका सेवन अधिक मात्रा में या अच्छी तरह चबाए बिना किया जाए, तो इससे आंत की समस्या हो सकती है (20)। वहीं, आंत से जुड़ी परेशानी में गैस की समस्या हो सकती है (23)।

क्या इसका सेवन धोकर किया जा सकता है?

बाजार से लाए गए किसी भी ड्राईफ्रूट का सेवन धोकर ही करना बेहतर है, क्योंकि इन्हें स्टोर करने में कई प्रकार के केमिकल का उपयोग किया जाता है, जोकि सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है।

सूखी खुबानी का आनंद कैसे ले सकते हैं?

सूखी खुबानी को कई प्रकार से उपयोग में लाकर इसका आनंद ले सकते हैं। ऊपर आर्टिकल में हमने इसे उपयोग करने के विभिन्न तरीकों के बारे में भी बताया है।

क्या सूखी खुबानी में एंटीइंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं?

सूखी खुबानी में बीटा कैरोटीन की अच्छी मात्रा पाई जाती है, जो कि एंटीइंफ्लेमेटरी गुण को प्रदर्शित कर सकता हैं (24)।

एक दिन में कितने सूखे खुबानी खा सकते हैं?

एक दिन में तीन से चार खुबानी का सेवन किया जा सकता है। हालांकि, इसकी मात्रा व्यक्ति की उम्र और स्वास्थ्य स्थिति के अनुसार कम या ज्यादा हो सकती है।

यदि आप बहुत सारे सूखे खुबानी खाते हैं, तो क्या होता है?

किसी भी खाद्य पदार्थ को जरूरत से ज्यादा खाने से उसके नुकसान होने का जोखिम बना रहता है। उसी तरह यदि कोई अधिक मात्रा में सूखी खुबानी का सेवन करता है, तो उसे पेट से जुड़ी समस्या हो सकती है।

क्या सूखे खुबानी खाने से मल निकासी में आसानी हो सकती है?

जी हां, सूखी खुबानी में फाइबर की अच्छी मात्रा होती है, जो मल निकासी को आसान बना सकती है (12)।

24 Sources

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

Bhupendra Verma

भूपेंद्र वर्मा ने सेंट थॉमस कॉलेज से बीजेएमसी और एमआईटी एडीटी यूनिवर्सिटी से एमजेएमसी किया है। भूपेंद्र को लेखक के तौर पर फ्रीलांसिंग में काम करते 2 साल हो गए हैं। इनकी लिखी हुई कविताएं, गाने और रैप हर किसी को पसंद आते हैं। यह अपने लेखन और रैप करने के अनोखे स्टाइल की वजह से जाने जाते हैं। इन्होंने कुछ डॉक्यूमेंट्री फिल्म की स्टोरी और डायलॉग्स भी लिखे हैं। इन्हें संगीत सुनना, फिल्में देखना और घूमना पसंद है।

ताज़े आलेख

scorecardresearch