तेंदू फल के फायदे और नुकसान – Persimmon (Tendu) Fruit Benefits and Side Effects in Hindi

Medically Reviewed By Neha Srivastava (Nutritionist), Nutritionist
Written by

बाजार में नजर आने अधिकतर फलों से आप सभी परिचित होंगे, लेकिन इन रंग-रंगीले फलों में से कुछ ऐसे भी हैं, जिनके बारे में शायद ही सभी जानते हों। उन्ही में से एक है, तेंदू फल। इसमें मौजूद मिनरल और विटामिन कई गंभीर बीमारियों को हमसे दूर रखने में सक्षम बनाते हैं। इन्हीं खासियतों को देखते हुए स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम तेंदू फल के फायदे और उपयोग से जुड़े कुछ रोचक तथ्य बता रहे हैं, ताकि इस फल का बखूबी लाभ हासिल कर सकें। तेंदू फल विभिन्न शारीरिक समस्याओं से बचाने के साथ-साथ बीमारी की अवस्था में कुछ लक्षणों को कम करने में भी मदद कर सकता है।

शुरू करते हैं लेख

तेंदू फल के स्वास्थ्य जानने से पहले हम यह पता कर लेते हैं कि तेंदू फल कहते किसे हैं।

तेंदू फल क्‍या है? – What is Persimmon Fruit in Hindi

तेंदू टमाटर के समान दिखने वाला एक फल है, जो भारत में मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश से छूती हुई विंध्याचल की पहाड़ियों पर पाया जाता है। यह फल पीला, लाल और नारंगी रंग में नजर आता है और आकार में गोल होता है। वहीं, चौड़ाई की बात करें, तो इसका व्यास 0.5 से 4 इंच तक देखने को मिल सकता है। पका हुआ तेंदू का फल रसदार और स्वाद में मीठा होता है, जो खाने में खजूर और आलू बुखारे का मिश्रण प्रतीत होता है। वहीं, कच्चे फल की बात करें, तो इसका स्वाद कड़वा और कसैला महसूस होता है। इसे गाब, गाभ और केंदू के नाम से भी पुकारा जाता है।

जानकारी के लिए स्क्रॉल करें

तेंदू फल क्या है, यह जानने के बाद लेख के अगले भाग में हम तेंदू फल के फायदे संबंधी जरूरी बातें बता रहे हैं।

तेंदू फल के फायदे – Benefits of Persimmon (Tendu) Fruit in Hindi

1. फाइबर का अच्छा स्रोत

तेंदू फल में अन्य पोषक तत्वों के साथ ही फाइबर भी भरपूर मात्रा में पाया जाता है (1)। फाइबर वजन को नियंत्रित रखने और पाचन क्रिया को सुधारने में सहायक और कब्ज जैसी पेट संबंधी समस्या को दूर रखने में लाभकारी माना जाता है (2)। इस कारण यह कहा जा सकता है कि फाइबर का अच्छा स्रोत होने के कारण तेंदू फल भी इन सभी समस्याओं से छुटकारा दिलाने में मददगार साबित हो सकता है।

2. सूजन को कम करने में सहायक

लिसबन मेडिसिन एंड फार्मास्यूटिकल साइंसेज विश्वविद्यालय द्वारा तेंदू फल पर किए गए एक शोध में पाया गया कि इस फल के अर्क में एंटी-इन्फ्लेमेटरी (सूजन कम करने वाला) प्रभाव पाया जाता है। इस प्रभाव के कारण यह अर्थराइटिस (जोड़ों में दर्द) की समस्या में राहत पहुंचाने में मदद करता है (3)। साथ ही अन्य सामान्य सूजन और उसके कारण होने वाले दर्द की समस्या से भी राहत दिलाने में यह सहायक साबित हो सकता है।

3. हृदय स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद

विशेषज्ञों के मुताबिक, तेंदू फल में कैरोटिनॉइड और टैनिन नाम के दो खास तत्व पाए जाते हैं। ये तत्व फ्री-रेडिकल्स (मुक्त कणों) के प्रभाव को दूर कर हाई ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल जैसे हृदय संबंधी जोखिमों को नियंत्रित रखने में मदद करते हैं (4)। इस कारण यह कहा जा सकता है कि तेंदू फल का उपयोग हृदय स्वास्थ्य के लिए लाभदायक साबित हो सकता है।

4. ब्लड शुगर को करे नियंत्रित

पॉलीफिनोल्स की मौजूदगी के कारण तेंदू फल में एंटी-ऑक्सीडेंट (ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने वाले) और एंटी डायबिटिक (बल्ड शुगर को कम करने वाले) प्रभाव पाए जाते हैं। हाई ब्लड शुगर की मुख्य वजहों में ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस भी शामिल है। इस कारण तेंदू फल के यह दोनों ही प्रभाव स्वाभाविक रूप से हाई ब्लड शुगर को कम करने में मदद कर सकते हैं (4)। इस कारण यह कहना गलत नहीं होगा कि ब्लड शुगर की समस्या से छुटकारा पाने के लिए तेंदू फल एक बेहतरीन विकल्प साबित हो सकता है।

5. प्रभावशाली एंटीऑक्सीडेंट का अच्छा स्रोत

विशेषज्ञों के मुताबिक तेंदू फल के जूस में फेनोलिक एसिड, कैटेचिन, अमीनो एसिड के साथ-साथ फेनोलिक और फ्लेवोनोइड तत्व पाए जाते हैं, जो संयुक्त रूप से इसे बेहतरीन एंटीऑक्सीडेंट बनाते हैं (5)। ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस के कारण शुगर, गठिया, सूजन और हृदय रोग जैसी कई समस्याओं के होने की आशंकाएं बढ़ जाती हैं (6)। इस कारण यह माना जा सकता है कि इन सभी समस्याओं में तेंदू का फल काफी हद तक सकारात्मक प्रभाव प्रदर्शित कर सकता है।

स्क्रॉल करके आगे पढ़ें

तेंदू फल के फायदे जानने के बाद अब हम तेंदू फल के पौष्टिक तत्वों से जुड़ी जानकारी देने जा रहे हैं।

तेंदू फल के पौष्टिक तत्व – Persimmon Fruit Nutritional Value in Hindi

तेंदू फल के पौष्टिक तत्वों के बारे में विस्तार से जानने के लिए नीचे दिए गए चार्ट की सहायता ली जा सकती है (1)

पोषक तत्वयूनिटमात्रा प्रति 100 ग्राम
पानीg80.32
एनर्जीKcal70
प्रोटीनg0.58
टोटल लिपिड (फैट)g0.19
कार्बोहाइड्रेटg18.59
फाइबर (टोटल डाइटरी)g3.6
शुगरg12.53
मिनरल
कैल्शियमmg8
आयरनmg0.15
मैग्नीशियमmg9
फास्फोरसmg17
पोटैशियमmg161
सोडियमmg1
जिंकmg0.11
कॉपरmg0.113
मैंगनीजmg0.355
सेलेनियम      µg0.6
विटामिन
विटामिन सीmg7.5
थियामिनmg0.03
राइबोफ्लेविनmg0.02
नियासिनmg0.1
विटामिन बी-6mg0.1
फोलेट (डीएफई)µg8
विटामिन ए (आरएई)µg81
विटामिन ए (आईयू)IU1627
विटामिन ईmg0.73
विटामिन केµg2.6
लिपिड
फैटी एसिड (सैचुरेटेड)g0.02
फैटी एसिड (मोनोअनसैचुरेटेड)g0.037
फैटी एसिड (पॉलीअनसैचुरेटेड)g0.043

आर्टिकल पढ़ते रहें

पौष्टिक तत्वों के बारे में जानकारी हासिल करने के बाद अब हम लेख के अगले भाग में जानेंगे कि तेंदू फल का उपयोग किन-किन तरीकों से किया जा सकता है।

तेंदू फल का उपयोग – How to Use Persimmon Fruit in Hindi

आइए, अब हम नीचे दिए गए बिंदुओं के माध्यम से तेंदू फल का उपयोग कैसे किया जा सकता है, इस बारे में जान लेते हैं।

  • सुबह नाश्ते के साथ एक गिलास तेंदू फल के रस का सेवन किया जा सकता है।
  • तेंदू फल को अन्य फलों के साथ मिक्स कर फ्रूट सलाद के रूप में खाया जा सकता है।
  • तेंदू फल की स्मूदी व आइसक्रीम बनाकर भी उपयोग में लाई जा सकती है।
  • वहीं, इस फल को ऐसे भी खाया जा सकता है।
  • इसके अलावा, अन्य फलों के साथ मिक्स करके इसका शेक भी बनाया जा सकता है।

डिटेल में आगे पढ़ें

तेंदू फल का उपयोग जानने के बाद, अब हम तेंदू फल के नुकसान के बारे में भी बात कर लेते हैं, जो अधिक मात्रा में इसके सेवन से प्रदर्शित हो सकते हैं।

तेंदू फल के नुकसान – Side Effects of Persimmon Fruit in Hindi

वैसे तो तेंदू फल के अधिक सेवन से होने वाले नुकसान के बारे में अधिक जानकारी उपलब्ध नहीं हैं, लेकिन कुछ कुछ दुष्परिणाम जरूर हैं। ऐसे में निम्न बिंदुओं के माध्यम से हम तेंदू फल के नुकसान जान सकते हैं।

  • तेंदू फल फाइबर का अच्छा स्रोत है। इसलिए, इसका अधिक सेवन पेट में गैस, दर्द और मरोड़ की समस्या पैदा कर सकता है(1) (2)
  • एंटी डायबिटिक प्रभाव के कारण शुगर की दवा लेने वाले लोगों में इसका अधिक मात्रा में इस्तेमाल लो ब्लड शुगर की समस्या पैदा कर सकता है(4)
  • कीड़ों पर किए गए वैज्ञानिक अध्ययन के अनुसार, अधिक मात्रा में तेंदू का सेवन प्रजनन संबंधी समस्याओं का कारण बन सकता है (7)

तेंदू फल क्या है और तेंदू फल का उपयोग करने से क्या-क्या फायदे हो सकते हैं, इस बारे में तो अब आपको आवश्यक जानकारी हासिल हो गई होगी। वहीं, लेख के माध्यम से इसके उपयोग संबंधी सभी बातों के बारे में भी पता चल गया होगा। ऐसे में इसके प्रभावों को जान इसे नियमित इस्तेमाल में लाने से पहले लेख में दिए गए तेंदू फल के नुकसान को भी अच्छे से समझ लें और उसके बाद ही कोई कदम उठाएं। साथ ही यह भी ध्यान रखना होगा कि तेंदू फल लेख में बताई गई समस्याओं से राहत दिला सकता है, लेकिन इससे समस्या का पूर्ण उपचार कर सके यह संभव नहीं है। ऐसे में किसी भी समस्या के पूर्ण उपचार के लिए डॉक्टरी सलाह जरूर लें।

7 Sources

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. 1. Persimmons japanese raw
    https://fdc.nal.usda.gov/fdc-app.html#/food-details/169941/nutrients
  2. 2. Dietary Fiber
    https://medlineplus.gov/dietaryfiber.html
  3. 3. Anti-inflammatory Effects of Persimmon ( Diospyros kaki L.) in Experimental Rodent Rheumatoid Arthritis
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/31359802/
  4. 4. Persimmon (Diospyros kaki) fruit: hidden phytochemicals and health claims
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4817420/
  5. 5. Comparative Studies of Antioxidant Activities and Nutritional Constituents of Persimmon Juice (Diospyros kaki L. cv. Gapjubaekmok)
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3866757/
  6. 6. Oxidative Stress and Neurodegenerative Diseases: A Review of Upstream and Downstream Antioxidant Therapeutic Options
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2724665/
  7. 7. Effects of purified persimmon tannin and tannic acid on survival and reproduction of bean bug Riptortus clavatus
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/15672670/

और पढ़े:

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.
अंकित रस्तोगी ने साल 2013 में हिसार यूनिवर्सिटी, हरियाणा से एमए मास कॉम की डिग्री हासिल की है। वहीं, इन्होंने अपने स्नातक के पहले वर्ष में कदम रखते ही टीवी और प्रिंट मीडिया का अनुभव लेना शुरू कर दिया था। वहीं, प्रोफेसनल तौर पर इन्हें इस फील्ड में करीब 6 सालों का अनुभव है। प्रिंट, टीवी और डिजिटल मीडिया में इन्होंने संपादन का काम किया है। कई डिजिटल वेबसाइट पर इनके राजनीतिक, स्वास्थ्य और लाइफस्टाइल से संबंधित कई लेख प्रकाशित हुए हैं। इनकी मुख्य रुचि फीचर लेखन में है। इन्हें गीत सुनने और गाने के साथ-साथ कई तरह के म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट बजाने का शौक भी हैं।

ताज़े आलेख