टेनिस एल्बो के कारण, लक्षण और इलाज – Tennis Elbow in hindi

Written by , (शिक्षा- बैचलर ऑफ जर्नलिज्म एंड मीडिया कम्युनिकेशन)

कभी कभी शारीरिक गतिविधि के कारण कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है, जिसमें शरीर को बाहरी या अंदरूनी चोट या फिर दोनों से ग्रस्त होना पड़ सकता है। इन्हीं समस्याओं में से एक है टेनिस एल्बो। हालांकि, इसके बारे में बहुत कम लोगों को मालूम है, इसलिए समय रहते लोग टेनिस एल्बो का इलाज भी नहीं ले पाते हैं। स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम आपको टेनिस एल्बो के लक्षण और कारण के बारे में बता रहे हैं। साथ ही यहां टेनिस एल्बो का आयुर्वेदिक उपचार क्या हो सकता है, इसके बारे में भी विस्तार से जानकारी देंगे।

स्क्रॉल करें

लेख में सबसे पहले जानते हैं कि टेनिस एल्बो क्या है।

टेनिस एल्बो क्या है?

टेनिस एल्बो दर्दनाक स्थिति है। जब कोहनी के बाहर के टेंडन यानी मांसपेशी को एक हड्डी से जोड़ से जोड़ने वाले ऊतक, पर या कोहनी के पास ऊपरी बांह की तरफ चोट लगने के कारण दर्द की स्थिति बनती है, तो इसे डॉक्टरी भाषा में टेनिस एल्बो या लेटरल एपिकॉन्डिलाइटिस कहा जाता है (1)। रैकेट का उपयोग करने वाले, गोल्फ खेलने वाले और टेनिस खेलने वालों में यह समस्या आम है। कहा जाता है कि यह चोट उन लोगों में आम है, जो बहुत अधिक टेनिस या अन्य रैकेट खेल खेलते हैं, इसलिए इसका नाम टेनिस एल्बो है (2)। सही समय पर टेनिस एल्बो का इलाज कराने से इस समस्या को गंभीर होने से रोका जा सके।

पढ़ते रहें

आर्टिकल के इस भाग में हम जानते हैं टेनिस एल्बो के कारण के बारे में।

टेनिस एल्बो होने का कारण – Causes of Tennis Elbow in Hindi

टेनिस एल्बो के कारण कई हो सकते हैं, जिनमें सबसे आम कारण है अपनी कलाई और बांह का अत्यधिक उपयोग करना। इसके अलावा इसके और भी कारण हो सकते हैं, जैसे कि (2):

  • जो लोग रैकेट खेलते हैं, उन्हें कोहनी के बाहर के टेंडन को चोट लगने की सबसे अधिक संभावना होती है।
  • कोहनी का या मांसपेशियों का बार-बार उपयोग करते रहने पर टेंडन में छोटे छोटे टिअर्स बन जाने पर भी इसकी समस्या हो सकती है।
  • कोई भी ऐसी गतिविधि जिसमें बार-बार कलाई को घुमाना शामिल है, टेनिस एल्बो का कारण हो सकता है। जैसे कि पेंटर, प्लंबर, श्रमिक, रसोइया और कसाई के कार्य।
  • यह स्थिति कंप्यूटर की-बोर्ड पर बार-बार टाइप करने और माउस के प्रयोग के कारण भी हो सकती है।
  • कभी-कभी यह स्पष्ट नहीं हो पाता है कि टेनिस एल्बो का कारण क्या है।

पढ़ना जारी रखें

टेनिस एल्बो का कारण जानने के बाद यहां हम बता रहे हैं कि टेनिस एल्बो के लक्षण क्या-क्या हो सकते हैं।

टेनिस एल्बो के लक्षण – Symptoms of Tennis Elbow in Hindi

टेनिस एल्बो की समस्या किसी भी उम्र में हो सकती है, समस्या होने पर इसके लक्षण दर्द के रूप में नजर आते हैं। यहां टेनिस एल्बो के लक्षण के बारे में बात रहे हैं (3)।

  • कलाई का इस्तेमाल करते समय दर्द का अनुभव होना।
  • किसी से हांथ मिलाते समय दर्द होना।
  • किसी भी वस्तु को उठाने पर कमजोर पकड़ का होना।
  • कोई सामान उठाने पर भी कलाई और कोहनी के बीच वाले हिस्से में दर्द होना।
  • हाथ को फैलाते समय दर्द महसूस होना।
  • कोहनी के आसपास की मांसपेशियों में अकड़न का अनुभव भी हो सकता है।

लेख में बने रहें

आर्टिकल में यहां हम बता रहे हैं टेनिस एल्बो के जोखिम कारक के बारे में।

टेनिस एल्बो के जोखिम कारक – Risk Factors of Tennis Elbow in Hindi

टेनिस एल्को को बढ़ाने के कई जोखिम कारक हो सकते हैं। यहां हम उन्हीं के बारे में बता रहे हैं (4):

  • टेनिस एल्बो वास्तव में टेनिस खेलने के कारण हो सकता है। इसके अलावा रोइंग बोट (Rowing boat) या वे खेल, जिनमें शक्ति का प्रशिक्षण होता है, ये भी टेनिस एल्बो का कारण हो सकते हैं।
  • मैनुअल लेबर का कार्य जैसे कि पेंटिंग, कारपेंटर या स्क्रू कसने वाले कार्य।
  • अधिक वजन उठाना।
  • पियानो जैसे वाद्ययंत्र बजाना।
  • कंप्यूटर या सुपरमार्केट में कैश रजिस्टर पर काम करना।

नीचे स्क्रॉल करें

जोखिम कारक के बाद बारी है टेनिस एल्बो के निदान के बारे में जानने की।

टेनिस एल्बो का निदान- Diagnosis of Tennis Elbow in Hindi

टेनिस एल्बो की समस्या का पता लगाने के लिए इसका निदान करना जरूरी है। यहां हम टेनिस एल्बो के निदान के बारे में बता रहे हैं (4)।

  • शारीरिक परीक्षण: इस परीक्षण के दौरान डॉक्टर बांह और कोहनी की जांच कर सकते हैं। साथ ही उस मूवमेंट का भी पता लगा सकते हैं, जो दर्द को ट्रिगर करता है। इसमें हाथ की हथेली को नीचे की ओर रखते हुए बांह को फैलाना और फिर उसी हाथ को एक निश्चित ऊंचाई तक ऊपर की ओर उठाना शामिल हो सकता है। अगर इससे कोहनी में दर्द होता है, तो यह टेनिस एल्बो का संकेत है।
  • लैब परीक्षण: लैब परीक्षण के दौरान डॉक्टर एक्स-रे, अल्ट्रासाउंड स्कैन या एमआरआई का सुझाव भी दे सकता है। यह तभी किया जाता है जब समस्या बहुत गंभीर हो या फिर दर्द के अलावा अन्य समस्या के संकेत दिखाई दें।

पढ़ते रहें

लेख के इस हिस्से में हम टेनिस एल्बो का इलाज कैसे किया जा सकता है, इसकी जानकारी दे रहे हैं।

टेनिस एल्बो का इलाज – Treatment of Tennis Elbow in Hindi

एनसीबीआई पर प्रकाशित एक शोध के मुताबिक टेनिस एल्बो का इलाज सटीक रूप से नहीं हो सकता है (4)। चिकित्सक इसके लक्षणों को कम करने के लिए जीवनशैली में कुछ बदलाव कर या फिर दवाइयों की मदद ले सकते हैं। कुछ मामलों में सर्जरी करने की जरूरत भी पड़ सकती है। आइए, जानते हैं टेनिस एल्बो का इलाज किस तरह होता है (4) (5)।

  1. आराम: टेनिस एल्बो के दर्द से बचने के लिए डॉक्टर आराम करने की सलाह दे सकते हैं। रोगी को हर 15 मिनट में 1 मिनट का ब्रेक और हर 20- से 30 मिनट के कार्य के बाद 5 मिनट का ब्रेक लेने की सलाह दी जाती है। यह कमी लंबी अवधि के दर्द और अक्षमता को रोकने में मददगार हो सकता है।
  1. फिजियोथेरेपी: टेनिस एल्बो के कारण होने वाले दर्द और इसके प्रभाव को कम करने के लिए फिजियोथेरेपी भी एक बेहतर विकल्प हो सकता है। इसमें हाथों के व्यायाम की सलाद दी जा सकती है।
  1. एपिकॉन्डिलर काउंटरफोर्स ब्रेसिज: यह एक तरक की गर्म पट्टी होती है जिसे कोहनी पर बांधी जाती है। यह दर्द के साथ ही कोहनी पर पड़ने वाले तनाव को कम करने में मदद कर सकता है। साथ ही यह क्लैप्स या स्लीव ऑर्थोस को दर्द से राहत दिलाने और पकड़ की ताकत के लिए बेहतर करने में भी फायदेमंद हाे सकता है।
  1. दवाएं: दर्द और सूजन की स्थिति को कम करने के लिए डॉक्टर नॉन-स्टेरायडल एंटीइंफ्लेमेटरी दवाएं लिख सकता है, जिनका उपयोग मौखिक रूप से किया जा सकता है।।
  1. ऑटोलॉगस ब्लड इंजेक्शन: यह इंजेक्शन इंफ्लामेटरी प्रभाव को उत्तेजित करने का काम करता है जो उपचार में मददगार हो सकता है। ध्यान रहे कि इसका उपयोग सिर्फ गंभीर समस्या के दौरान किया जाता है, जब उपचार के अन्य तौर-तरीके विफल हो जाते हैं।
  1. प्लेटलेट रिच प्लाज्मा इंजेक्शन (पीआरपी): यह भी एक प्रकार का इंजेक्शन होता है जिसमें प्लाजमा का उपयोग उपचार के रूप में किया जाता है।
  1. पर्क्यूटेनियस रेडियोफ्रीक्वेंसी थर्मल ट्रीटमेंट: इस उपचार विधि में एक रेडियोफ्रीक्वेंसी इलेक्ट्रोड को अल्ट्रासाउंड के तहत उपयोग किया जाता है, जो सक्रिय होने पर एक थर्मल प्रभाव पैदा कर एक माइक्रोटेनोटॉमी को प्रेरित करता है और सभी रोग संबंधी ऊतकों को हटा देता है।
  1. एक्स्ट्राकोर्पोरियल शॉक-वेव थेरेपी: इस थेरेपी का उपयोग उपचार में विकल्प के रूप में किया जा सकता है। इसमें ध्वनि तरंगों का एक जनरेटर सीधे कोहनी की ऊपरी त्वचा पर लगाया जाता है।
  1. लो-लेवल लेजर थेरेपी: इस थेरेपी में लेजर का उपयोग करके टेंडन में कोलेजन का उत्पादन किया जाता है।
  1. बोटुलिनम टॉक्सिन ए इंजेक्शन: इस इंजेक्शन का उपयोग मांसपेशियों की टोन को कम करने के लिए किया जाता है। यह दर्द से राहत दिलाने के साथ ही तनाव को कम कर सकता है।
  1. एक्यूपंक्चर: टेनिस एल्बो के उपचार और दर्द से राहत के लिए यह एक आसान विकल्प हो सकता है। इसमें शरीर के कुछ विशेष प्वाइंट्स को एक नोकदार उपकरण के माध्यम से दबाया जाता है जो दर्द की समस्या में राहत का कार्य कर सकता है।
  1. एर्गोनॉमिक्स और बायोमैकेनिक्स को एडजस्ट करें: कार्य करने करने के स्थान और कार्य करने में उपयोग किए जाने वाले उपकरणों में छोटा सा बदलाव करके दर्द में राहत मिल सकती है। जैसे कंप्यूटर का उपयोग करते समय करना हाथ रखने का स्थान बदल लेना चाहिए जिससे टाइप करते समय कलाई को आराम मिलता रहे।
  1. स्ट्रेचिंग और मूविंग: स्ट्रेचिंग और मूविंग मांसपेशीके तनाव को कम कर सकती है, जिससे दर्द कम हो सकता है।
  1. बर्फ से सिकाई: प्रभावित क्षेत्र पर बर्फ लगााने से यह रक्त वाहिकाएं संकुचित हो जाती हैं जिससे दर्द में कमी महसूस होती है। दिन में कई बार 15 से 20 मिनट के लिए बर्फ का प्रयोग सिकाई के लिए किया जा सकता है।
  1. एसेंट्रिक स्ट्रेंथिंग: यह एक प्रकार का व्यायाम होता है। इसे करने के लिए हाथ में डंबल पकड़ कर बाइसेप्स को लंबा करना और संकुचित करना पड़ता है। यह व्यायाम चिकित्सकीय रूप से टेंडिनोसिस के लिए एक बहुत ही सफल उपचार साबित हो सकता है। यह प्रभावी रूप से कोलेजन उत्पादन को बढ़ाकर कोलेजन क्रॉस-लिंकेज गठन को उत्तेजित करती है, जिससे स्ट्रेचिं शक्ति में सुधार होता है और टेनिस एल्बो में राहत मिल सकती है।
  1. मालिश: मालिश करने पर यह रक्त संचार और कोशिका की गतिविधि को बढ़ा सकती है, डीप-फ्रिक्शन मसाज फाइब्रोब्लास्ट गतिविधि को बढ़ा कर नए कोलेजन उत्पन्न करने का कार्य करती है। वैज्ञानिक रिपोर्ट के अनुसार कम से कम दस मिनट मसाज करने से दर्द कम हो सकता है साथ ही ताकत और गतिशीलता में वृद्धि हो सकती है।

अंत तक पढ़ें

उपचार के बाद यहां हम बता रहे हैं टेनिस एल्बो के दौरान उपनाई जा सकने वाली डाइट के बारे में।

टेनिस एल्बो की डाइट – Diet for Tennis Elbow in Hindi

टेनिस एल्बो की समस्या में घरेलू उपचार के अलावा खाद्य पदार्थों का सेवन भी दर्द से कुछ हद तक राहत का कार्य कर सकते हैं। टेनिस एल्बो की समस्या होने पर कई प्रकार के पोषक तत्वों से युक्त खाद्य पदार्थों को अपनी डाइट में शामिल किया जा सकता है। जिनमें विटामिन सी, मैंगनीज और जिंक कोलेजन के उत्पादन और गठन में फायदेमंद हाे सकते हैं। वहीं, विटामिन बी 6 और विटामिन ई टेंडन को स्वस्थ रखने में मदद कर सकते हैं। यहां हम उन खाद्य पदार्थों की जानकारी दे रहे हैं, जिन्हें आहार में शामिल करके टेनिस एल्बो की समस्या में राहद मिल सकती है (5)।

  • मैंगनीज: मैंगनीज युक्त खाद्य पदार्थों को अपनी डाइट में शामिल करने के लिए साबुत अनाज, जैसे कि ब्राउन राइस, दलिया, और पूरी-गेहूं की ब्रेड, मेवे, जैसे हेज़लनट्स और पेकान को शामिल कर सकते हैं। इसके अलावा फलियां जैसे सोयाबीन और दाल, पालक और केल जैसी पत्तेदार सब्जियां, कुछ फल अनानास और ब्लूबेरी और कई मसाले, जैसे काली मिर्च भी मैंगनीज का अच्छा स्रोत माने गए हैं (7)।
  • जिंक: जिंक युक्त खाद्य सामग्री का उपयोग भी फायदेमंद हो सकता है। जैसे कि ऑयस्टर जिंक का सबसे अच्छा स्रोत है। पोल्ट्री, सीफूड, बीन्स, नट्स, साबुत अनाज और डेयरी उत्पाद।
  • विटामिन बी 6: विटामिन बी6 कई खाद्य पदार्थों में प्राकृतिक रूप से पाया जाता है और इसे अन्य खाद्य पदार्थों में मिलाया भी जाता है। वीटामिन बी 6 के प्रमुख स्रोतों में सी फूड, आलू और अन्य स्टार्च वाली सब्जियां, और फलों (खट्टे फलों के अलावा) को शामिल किया जा सकता है (8)।
  • विटामिन ई: विटामिन ई भी प्राकृतिक रूप से खाद्य पदार्थों में पाया जाता है, जिनमें गेहूं के बीज, सूरजमुखी, मकई और सोयाबीन से प्राप्त वनस्पती तेल, मूंगफली, हेजलनट्स, बादाम, पालक और ब्रोकली शामिल है (9)।

और भी है जानकारी

आर्टिकल के इस हिस्से में हम जानते हैं टेनिस एल्बो से बचने के उपाय के बारे में।

टेनिस एल्बो से बचने के उपाय – Prevention Tips for Tennis Elbow in Hindi

टेनिस एल्बो की समस्या से बचने के लिए कुछ सावधानियाें और जरूरी उपायों को अपनाया जा सकता है। यहां हम टेनिस एल्बो से बचने के उपाय के बारे में बता रहे हैं (10)।

  • हाथ को जरूरत से ज्यादा एक्टेंशन यानी फैलाव और फ्लेक्शन नहीं करना चाहिए।
  • बार-बार हाथ और कलाई की हरकतों से बचें, और जब आवश्यक हो तो ऐसी गतिविधियों से थोड़ी देर के लिए ब्रेक लें, जिसमें बार बार हाथ और कलाई का उपयोग होता हो।
  • भारी वस्तु को उठाते समय हाथ को पूरी तरह से नहीं फैलाएं।
  • भारी उपकरण रखने के लिए दो हाथों का उपयोग करें।
  • टेनिस में दो-हाथ वाले बैकहैंड का उपयोग करें।
  • ऐसे कार्यों को सीमित करें जिन्हें बार-बार दोहराया जाता हो।
  • यदि किसी कार्य के कारण टेनिस एल्बो का दर्द वापस आता है, तो उस कार्य से बचने की कोशिश करें और अपने डॉक्टर को इस बारे में बताएं।

टेनिस एल्बो के कारण दर्द की समस्या होना आम बात है, लेकिन इससे डरने की जरूरत नहीं है टनिस एल्बो के लक्षण दिखते ही अपने डॉक्टर से इस बारे में बताना चाहिए। वहीं, टेनिस एल्बो का आयुर्वेदिक उपचार भी दर्द को कुछ हद तक कम करने में मदद कर सकता है। इसके अलावा कुछ घरेलू नुस्खों को अपनाकर भी टेनिस एल्बो का इलाज किया जा सकता है, जिन्हें लेख में विस्तार से बताया गया है। आशा करते हैं कि टेनिस एल्बो की जानकारी देता हुआ यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

क्या टेनिस एल्बो अपने आप ठीक हो सकता है?

हां, यदि समस्या ज्यादा गंभीर नहीं है, तो आराम करने पर और जिस गतिविधि के कारण यह दर्द है उसे कुछ दिनों तक रोकने पर टेनिस एल्बो की परेशानी धीरे धीरे अपने आप ठीक हो सकती है (5)।

मुझे कैसे पता चलेगा कि मुझे टेनिस एल्बो की समस्या है या कुछ और?

टेनिस एल्बो के लक्षण को जानकर इसका पता लगाया जा सकता है। जैसे कि कोहनी के आस पास दर्द होना, हाथ मिलाने पर दर्द का अनुभव होना या किसी वस्तु को उठाते समय पीड़ा होना ( 4)।

यदि टेनिस एल्बो को बिना उपचार के छोड़ देते हैं तो क्या होगा?

यदि टेनिस एल्बो का उपचार नहीं कराया जाता है, तो दो स्थिति हो सकती हैं। समस्या यदि सामान्य है तो थोड़े ही दिनों में इसके लक्षण ठीक हो सकते हैं। इसके अलावा यदि स्थिति गंभीर है, तो यह बदतर हो सकती है और दर्द ज्यादा बढ़ सकता है (5)।

क्या टेनिस एल्बो टेंडोनाइटिस के समान है?

नहीं, दोनों ही अलग-अलग स्थिति हैं, टेनिस एल्बो टेंडिनाइटिस नहीं बल्कि यह वास्तव में टेंडिनोसिस है (5)।

क्या टेनिस एल्बो का आयुर्वेदिक उपचार किया जा सकता है?

कुछ लोग टेनिस एल्बो का आयुर्वेदिक उपचार के द्वारा इसके प्रभाव को कम करने का दावा करते हैं। वहीं, कुछ लोगों का मानना है कि टेनिस एल्बो का होम्योपैथिक इलाज किया जा सकता है। हालांकि, इस विषय पर कोई शोध उपलब्ध नहीं है।

संदर्भ (Sources)

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. Lateral epicondylitis of the elbow
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5367546/
  2. Tennis elbow
    https://medlineplus.gov/ency/article/000449.htm
  3. Tennis elbow
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2566914/
  4. Tennis elbow: Overview
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK506998/#i2605.causesandriskfactors
  5. Tendinopathy: Why the Difference Between Tendinitis and Tendinosis Matters
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3312643/
  6. Vitamin C Fact Sheet for Consumers
    https://ods.od.nih.gov/factsheets/VitaminC-Consumer/
  7. Manganese Fact Sheet for Consumers
    https://ods.od.nih.gov/factsheets/Manganese-Consumer/
  8. Vitamin B6 Fact Sheet for Consumers
    https://ods.od.nih.gov/factsheets/VitaminB6-Consumer/
  9. Vitamin E Fact Sheet for Consumers
    https://ods.od.nih.gov/factsheets/VitaminE-Consumer/
  10. Tennis Elbow
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK431092/
Was this article helpful?
thumbsupthumbsdown
The following two tabs change content below.
सरल जैन ने श्री रामानन्दाचार्य संस्कृत विश्वविद्यालय, राजस्थान से संस्कृत और जैन दर्शन में बीए और डॉ. सी. वी. रमन... more

ताज़े आलेख