थकान के कारण, लक्षण और इलाज – Fatigue Causes, Symptoms and Treatment in Hindi

by

आजकल भागदौड़ भरी जिंदगी में लोग इस कदर व्यस्त हैं कि उन्हें अपनी सेहत पर ध्यान देने तक का समय नहीं मिलता। ऊपर से अनियमित दिनचर्या और बिगड़ी आहार शैली कई घातक बीमारियों का कारण बनती है। इस कारण थकान का भी सामना करना पड़ सकता है। वैसे तो थकान आना आम है, लेकिन जरूरत से अधिक थकान और इसका निरंतर बने रहना एक बड़ी समस्या हो सकती है। स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम आपको थकान का इलाज और थकान के कारण के साथ ही इसके निदान व लक्षणों के बारे में भी बताएंगे।

थकान होने के लक्षण, कारण और उपाय जानने से पहले हम थकान है क्या, इस बारे में जानेंगे।

थकान क्या है? – What is Fatigue in Hindi

शरीर में ऊर्जा और उत्साह की कमी को ही थकान कहा जाता है। ऐसे में इस समस्या से ग्रस्त व्यक्ति का मन किसी भी काम को करने में नहीं लग पाता। इसे इस तरह से भी समझा जा सकता है कि व्यक्ति की ध्यान केंद्रित करने की क्षमता कम हो जाती है (1)।

थकान क्या है यह जानने के बाद लेख के आगे के भाग में हम थकान के कारण जानेंगे।

थकान के कारण – Causes of Fatigue in Hindi

थकान के कारण को समझने से पहले आपके लिए यह जान लेना जरूरी है कि थकान अपने आप में कोई बीमारी नहीं है, बल्कि यह आपकी गंभीर मानसिक और शारीरिक स्थिति का संकेत है। मुख्य रूप से इसके होने के कुछ आम कारण हो सकते हैं, जिन्हें हम नीचे दिए गए बिंदुओं के माध्यम से जानेंगे (1)।

  • पर्याप्त नींद का न मिलना
  • पोषण की कमी
  • अधिक तनाव
  • अधिक शारीरिक या मानसिक श्रम

नोट– ध्यान रहे, उपरोक्त बताएं गए बिंदुओं में हमने थकान के आम कारणों को बताया है। अगर इनसे संबंधित उपचार के बावजूद आपको आराम नहीं मिलता है, तो इसके कुछ अन्य चिकित्सकीय कारण भी हो सकते हैं। उनके बारे में हम आपको लेख के आगे के भाग में बताएंगे।

थकान के कारण जानने के बाद अब हम आपको थकान होने के लक्षण क्या हो सकते हैं, इस बारे में बताएंगे।

थकान के लक्षण – Symptoms of Fatigue in Hindi

नीचे दिए गए बिंदुओं के माध्यम से हम थकान होने के लक्षण आसानी से समझ सकते हैं (2)।

  • काम में मन न लगना।
  • शरीर में दर्द की समस्या।
  • ध्यान केंद्रित न कर पाना।
  • बार-बार नींद आना।
  • भूख न लगना।
  • धुंधला दिखना।
  • मांसपेशियों में कमजोरी।
  • चक्कर आना।
  • सिर दर्द की समस्या।

लेख में आगे हम थकान के अन्य चिकित्सकीय कारणों के बारे में बताएंगे, जिन्हें हम जोखिम कारक भी कह सकते हैं।

थकान के जोखिम कारक – Risk Factors of Fatigue in Hindi

कुछ गंभीर बीमारियां थकान की समस्या पैदा कर सकती हैं, जिन्हें हम इसके जोखिम कारक मान सकते हैं (1)।

  • एनीमिया
  • डिप्रेशन
  • थायराइड
  • आयरन की कमी (बिना एनीमिया)
  • एंटी डिप्रेशन दवाओं का उपयोग
  • लगातार दर्द की स्थिति का बने रहना
  • नींद न आने की समस्या
  • शराब, कोकीन या ड्रग्स जैसे नशीले पदार्थों का उपयोग

इससे संबंधित जोखिम कारकों को जानने के बाद हम थकान का इलाज कैसे किया जाए, इससे संबंधित जानकारी हासिल करेंगे।

थकान का इलाज – Treatment of Fatigue in Hindi

अधिक मानसिक और शारीरिक श्रम के कारण अगर थकान की समस्या हो रही है, तो आराम करने या पर्याप्त नींद लेने के बाद आपको इस समस्या से राहत मिल जाएगी। वहीं, अगर आपकी थकान किसी चिकत्सकीय समस्या की वजह से है, तो ऐसे में डॉक्टर थकान का निदान करने के लिए कंप्लीट बॉडी चेकअप का सुझाव देंगे। साथ ही यह जानने की कोशिश करेंगे कि आपको ऐसी कौन सी बीमारी है, जिसकी वजह से थकान की समस्या हो सकती है (1)।

थकान से बचाव के लिए वह आपकी मेडिकल हिस्ट्री भी पूछ सकते हैं। वहीं डॉक्टर थकान का निदान करते वक्त कुछ बीमारियों से संबंधित जांच करने को भी कह सकता हैं, जिसमें एनीमिया, मधुमेह, सूजन संबंधी बीमारियों और संभावित संक्रमण की जांच के लिए रक्त परीक्षण की सलाह दी जा सकती है। इसके अलावा, थकान से बचाव के लिए किडनी, लिवर, थायराइड और मूत्र जांच कराने के लिए भी आपको कहा जा सकता है।

जांच के बाद असल वजह या बीमारी पता चलने पर उससे संबंधित दवाओं के माध्यम से थकान का इलाज करने का प्रयास किया जाता है।

थकान का इलाज से संबंधित जानकारी हासिल करने के बाद हम इस समस्या के दौरान किए जाने के बाद परहेज की बात करेंगे।

थकान में परहेज – What to Avoid During Fatigue in Hindi

थकान की समस्या के दौरान आपको कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए (1)।

  • नशीले पदार्थों के उपयोग से बचें।
  • अधिक श्रम से बचें।
  • कैफीन युक्त उत्पादों के सेवन से बचें।
  • देर तक न जागें।

थकान से बचने के उपाय – Prevention Tips for Fatigue in Hindi

थकान की समस्या से बचने के कुछ उपाय हैं, जिन्हें अपना कर आप इस समस्या को दूर कर सकते हैं (1)।

  • रात के समय अच्छी नींद लें।
  • संतुलित आहार लें।
  • नियमित व्यायाम करें।
  • योग के माध्यम से तनाव को दूर करने का प्रयास करें।
  • अल्कोहल और धूम्रपान से दूर रहें।

थकान क्या है, अब तो आप इसे अच्छे से जान ही गए होंगे। साथ ही आपको इसके होने के कारण भी पता चल गए होंगे। लेख में हमने आपको थकान होने के लक्षण और जोखिम कारकों के बारे में भी बताया है, जिन्हें जानकर आप आसानी से इस समस्या से निजात पा सकते हैं। ऐसे में अगर आप या आपका कोई पारिवारिक सदस्य इस समस्या से जूझ रहा है, तो यह लेख आपके बड़े काम आने वाला है। इसके लिए पहले आप लेख को अच्छे से पढ़ें, उसके बाद ही कोई कदम उठाएं। इस समस्या से संबंधित कोई अन्य सुझाव या सवाल आपके मन में हों, तो उन्हें आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स के माध्यम से हम तक जरूर पहुंचाएं।

और पढ़े:

scorecardresearch