Written by , (शिक्षा- एमए इन जर्नलिज्म मीडिया कम्युनिकेशन)

हमारे आसपास कई तरह के औषधीय पौधे होते हैं, लेकिन जानकारी के अभाव के कारण हम उसके लाभ नहीं उठा पाते। ऐसा ही एक पौधा वच भी है। इसे कई लोगों ने देखा होगा, लेकिन इसके फायदे से वाकिफ न होने के कारण कई लोग इसका इस्तेमाल नहीं करते। इसी वजह से स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम वच के औषधीय पौधे और इसकी जड़ से होने वाले फायदे के बारे में बता रहे हैं। साथ ही यहां आप वच के उपयोग और संभावित वच के नुकसान भी जान पाएंगे।

शुरू करते हैं लेख

लेख की शुरुआत में वच के फायदे जानते हैं।

वच के स्वास्थ्य लाभ – Health Benefits of Sweet Flag (Vacha) in Hindi

वच (Vach) के उपयोग से कई तरह के स्वास्थ्य लाभ मिल सकते हैं। यही वजह है कि इसे सदियों से आयुर्वेदिक दवा के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है। ध्यान दें कि वच किसी तरह की बीमारी का इलाज नहीं है, बल्कि उससे बचाव का एक तरीका हो सकता है। चलिए, जानते हैं कि वच के फायदे से किन शारीरिक समस्याओं से बचाव किया जा सकता है।

1. सिरदर्द के लिए

अगर किसी को सिरदर्द की समस्या है, तो वो वच का उपयोग करके राहत पा सकता है। एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन) की वेबसाइट पर प्रकाशित एक वैज्ञानिक अध्ययन में भी इस बात का जिक्र है। शोध में लिखा है कि वच को सिरदर्द के आयुर्वेदिक मेडिसीन के रूप में इस्तेमाल किया जाता है (1)

ऐसा माना जाता है कि इसमें मौजूद एनाल्जेसिक प्रभाव सिरदर्द को कम कर सकता है (2)। इसके अलावा, वच में एंटीकॉनवल्सेंट गतिविधि भी होती है (1)। यह माइग्रेन से संबंधित सिरदर्द और मिर्गी के दौरे से बचाव कर सकता है (3)

2. पाचन और गैस के समस्या से राहत

वच के फायदे में गैस और पाचन से जुड़ी समस्याओं से राहत पाना भी शामिल है (4)। इस संबंध में पब्लिश वैज्ञानिक शोध में बताया गया है कि इस पौधे की जुड़ पाचन तंत्र की कार्यप्रणाली को बेहतर कर सकती है। साथ ही वच के चूर्ण से भी पाचन क्रिया में सुधार हो सकता है। पाचन बेहतर होने के साथ ही इससे गैस की समस्या से भी राहत मिल सकती है (2)

3. डिटॉक्सीफिकेशन में

शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने के लिए भी वच उपयोगी साबित हो सकता है। दरअसल, वच में पाए जाने वाला एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव इंफ्लेमेशन के कारण बनने वाले साइटोकिन्स (एक तरह के प्रोटीन) को बाधित करके डिटॉक्सीफाइंग एंजाइम के रूप में काम करता है। यह एंजाइम शरीर से विषाक्त पदार्थों को बहार निकालने में सहायक हो सकता है (2)

4. सर्दी, खांसी और बुखार के लिए

सर्दी, खांसी और बुखार के इलाज के लिए भी वच का उपयोग किया जा सकता है। एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक मेडिकल रिसर्च के अनुसार, वच के जड़ वाले भाग से बनाए गए पाउडर को सर्दी, खांसी और बुखार की आयुर्वेदिक दवा के रूप में इस्तेमाल किया जाता रहा है (2)

माना जाता है कि बुखार के लिए इसमें मौजूद एंटीपाएरेटिक गुण मदद कर सकता है (5)। वहीं, सर्दी और खांसी कई बार वायरस की वजह से होता है (6)। ऐसे में इसमें मौजूद एंटीवायरल गुण सर्दी और खांसी में सहायक हो सकता है (7)

5. घाव भरने के लिए

वच के फायदे में घाव भरना भी शामिल है। इस पौधे का इस्तेमाल आयुर्वेद में भी घाव भरने के लिए किया जाता रहा है। बताया जाता है कि इसमें वुंड हीलिंग प्रभाव होता है, जिसकी मदद से घाव को जल्दी भरने में मदद मिल सकती है (2)। इसके पत्तों के अर्क को दिनभर में दो से तीन बार इस्तेमाल किया जाए, तो यह तेजी से घाव को भर सकता है (8)

6. दस्त में

डायरिया यानी दस्त की स्थिति से छुटकारा पाने के लिए भी वच का इस्तेमाल किया जा सकता है। इस संबंध में प्रकाशित एक वैज्ञानिक शोध के मुताबिक, वच में एंटीडायरियल गुण होता है। इस प्रभाव की मदद से दस्त की समस्या को कुछ हद तक कम किया जा सकता है (9)

7. हैजा के लिए

हैजा जैसी समस्या से बचने में भी वच मददगार साबित हो सकता है। इस विषय को लेकर पब्लिश हुए अध्ययन के अनुसार, वच में एंटीबैक्टीरियल गुण होता है। यह गुण हैजा का कारण बनने वाले वाइब्रियो कॉलरा नामक बैक्टीरिया के प्रभाव को खत्म करने में मदद कर सकता है। इसी वजह से वच को हैजा के उपचार व जोखिम से बचाव में सहायक माना जाता है (10)

8. डिप्रेशन से राहत

डिप्रेशन यानी अवसाद की समस्या को कम करने के लिए भी वच के फायदे देखे जा सकते हैं। एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक रिसर्च पेपर की मानें, तो वच में एंटीडिप्रेसेंट गतिविधि होती है। वच का यह प्रभाव डिप्रेशन के खिलाफ प्रभावी असर दिखा सकता है। इससे अवसाद के स्तर को कुछ हद तक कम किया जा सकता है (2)

9. भूख बढ़ाने के लिए

वच के फायदे में भूख को बढ़ाना भी शामिल है। एक मेडिकल रिसर्च के अनुसार, वच को भूख न लगने की समस्या के लिए पारंपरिक औषधि के रूप में इस्तेमाल किया जाता रहा है। इससे भूख को बढ़ाने में मदद मिल सकती है (10)। फिलहाल, भूख बढ़ाने के लिए वच में मौजूद कौन-सा तत्व व प्रभाव मदद करता है यह स्पष्ट नहीं है।

10. नपुंसकता

नपुंसकता की समस्या के उपचार में वच का उपयोग किया जा सकता है। एक मेडिकल रिसर्च में दिया है कि वच में एफ्राडिसियाक्स (Aphrodisiacs) प्रभाव होता है। यह प्रभाव इरेक्टाइल डिसफंक्शन यानी नपुंसकता की समस्या को कम कर सकता है। इसके अलावा, यह कामोत्तेजक की तरह भी कार्य कर सकता है (11)

11. बोलने से संबंधित समस्याओं में

बोलने से संबंधित समस्या के लिए वच को फायदेमंद माना जाता है। इसके लिए वच (Vach) राइजोम यानी इसके जड़ (कंद) के पेस्ट को आयुर्वेदिक दवाई के रूप में उपयोग किया जाता रहा है। इससे स्पीच प्रॉब्लम यानी बोलने की समस्या में सुधार हो सकता है। साथ ही यह हकलाने की समस्या को भी कुछ हद तक कम कर सकता है (12) । फिलहाल, यह स्पष्ट नहीं है कि इसका कौन सा गुण इसमें सहायक है।

12. मस्तिष्क के लिए

वच के फायदे में मस्तिष्क स्वास्थ्य भी शामिल है। इस संबंध में पब्लिश एक वैज्ञानिक अध्ययन की मानें, तो यह तंत्रिका संबंधी विकार (दिमाग संबंधी परेशानी) को ठीक कर सकता है। साथ ही यह मेमोरी बूस्टिंग एक्टिविटी भी प्रदर्शित करता है, जिस वजह से इसे याददाश्त में सुधार और बढ़ावा देने के लिए उपयोगी माना जाता है (13)। इसके अलावा, वच में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव आसपास के शोर (Noise) की वजह से होने वाले मेंटल स्ट्रेस को कम करने में भी लाभदायक हो सकता है (10)

13. स्किन के लिए

त्वचा से जुड़ी समस्याओं से राहत दिलाने में भी वच मदद कर सकता है। एक रिसर्च में इस बात का जिक्र है कि वच में पाया जाने वाला एंटीइंफ्लेमेटरी एजेंट स्किन डिजीज के इलाज में मदद कर सकता है। साथ ही इसमें एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल गुण भी होते हैं। ये गुण त्वचा को संक्रमण से बचाने में सहायक हो सकते हैं (10)

14. अनिद्रा के लिए

नींद न आने की समस्या को दूर करने के लिए भी वच का उपयोग किया जा सकता है। इस संबंध में प्रकाशित एक मेडिकल रिसर्च के मुताबिक, वच का उपयोग सालों से अनिद्रा का इलाज करने वाली आयुर्वेदिक दवाई के रूप में किया जाता रहा है (14)। इसी वजह से माना जाता है कि इसका इस्तेमाल करने से अनिद्रा की परेशानी दूर हो सकती है। फिलहाल, यह स्पष्ट नहीं है कि इसका कौन सा गुण व तत्व इसमें मदद करता है।

स्क्रॉल करें

वच के फायदे के साथ ही इसके उपयोग को जानना भी जरूरी है। आइए, इसके बारे में पढ़ते हैं।

वच का उपयोग – How to Use Sweet Flag (Vacha) in Hindi

वच (Vach) का उपयोग कई तरीकों से किया जा सकता है, जिसके बारे में हम विस्तार से नीचे जानकारी दे रहे हैं। इसके इस्तेमाल के तरीके जानकर आप इसका लाभ उठा सकते हैं।

कैसे खाएं :

  • वच को चूर्ण की तरह खाया जा सकता है। वच चूर्ण बाजार में आसानी से उपलब्ध है।
  • अगर वच की घास व पत्ते मिल जाएं, तो उसे चबाकर खा सकते हैं।
  • वच की घास को ऐसे ही कुछ देर के लिए मुंह में रख सकते हैं।
  • वच के पाउडर व चूर्ण को शहद में मिलकर खाया जा सकता है।
  • वच को पीसकर पेस्ट तैयार करके त्वचा पर लगा सकते हैं।

कब खाएं :

  • इसे खाने का समय स्पष्ट नहीं है, लेकिन बताया जाता है कि इसके चूर्ण को दिन में किसी भी समय शहद में मिलकर खा सकते हैं।

कितना खाएं :

  • वच एक आयुर्वेदिक औषधि है, इसलिए इसके सेवन की मात्रा जानने के लिए विशेषज्ञ से सलाह लेना बेहतर होगा।
  • अगर आप इसका चूर्ण खरीद रहे हैं, तो उसमें इसके उपयोग की मात्रा लिखी होती है। फिर भी एक बार आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श जरूर करें।

आगे भी पढ़ें

वच के नुकसान भी हो सकते हैं, चलिए जानते हैं इसके बारे में।

वच के नुकसान – Side Effects of Sweet Flag (Vacha) in Hindi

वच के फायदे और नुकसान दोनों हो सकते हैं। वैसे वच के नुकसान इसे सही मात्रा और सही तरीके से न लेने से होते हैं। इसी वजह से हम नीचे वच के नुकसान के बारे में बता रहे हैं (15)

  • वच के सेवन से पेट दर्द हो सकता है।
  • इसके उपयोग से कुछ लोगों को त्वचा पर रैशेज हो सकते हैं। ऐसे में अधिक संवेदनशील त्वचा वाले इसे पैच टेस्ट करने के बाद ही इस्तेमाल करें।
  • गर्भवती और स्तनपान करने वाली महिला को इसके सेवन से बचना चाहिए।
  • इससे एलर्जी की समस्या भी हो सकती है।

वच आयुर्वेदिक औषधि है, जो शरीर को कई फायदे पहुंचा सकती है। इसके कुछ नुकसान भी हैं, इसलिए दवा की मात्रा में ही इसका सेवन करें। हमने लेख के माध्यम से इस जड़ी-बूटी के फायदे के बारे में जरूर बताया है, लेकिन बिना डॉक्टरी सलाह के इसका सेवन करने की राय नहीं दे रहे हैं। बेहतर होगा कि इसका सेवन किसी आयुर्वेदिक विशेषज्ञ की सलाह पर ही किया जाए। ऐसी ही अन्य औषधि के बारे में जानने के लिए पढ़ते रहें हमारी वेबसाइट।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

वच का उपयोग क्यों किया जाता है?

वच का सेवन ऊपर बताए गए फायदों के लिए किया जा सकता है।

वच कहां मिलता है?

यह भारत के लगभग सभी हिस्सों में आयुर्वेदिक दुकानों में आसानी से मिल सकता है।

वच की सुगंध कैसी होती है?

वच से सुगंध हल्की नींबू जैसी, लेकिन काफी तेज होती है।

क्या वच नुकसानदायक भी हो सकता है?

वच फायदेमंद और नुकसानदायक दोनों साबित हो सकता है। इसके बारे में हमने ऊपर लेख में विस्तार से जानकारी दी है।

क्या एकोरस कैलामस यानी वच टॉक्सिक है?

नहीं, वच टॉक्सिक नहीं होता है (2)

References

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. Anticonvulsant activity of raw and classically processed Vacha (Acorus calamus Linn.) rhizomes
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3456849/
  2. Role of Vacha (Acorus calamus Linn.) in Neurological and Metabolic Disorders: Evidence from Ethnopharmacology, Phytochemistry, Pharmacology and Clinical Study
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC7230970/
  3. A Comparative Effectiveness Meta-Analysis of Drugs for the Prophylaxis of Migraine Headache
    http://citeseerx.ist.psu.edu/viewdoc/download?doi=10.1.1.775.9269&rep=rep1&type=pdf
  4. Phytochemicals of Acorus calamus (Sweet flag)
    https://www.plantsjournal.com/archives/2017/vol5issue5/PartD/5-5-11-593.pdf
  5. Evaluation of analgesic, antipyretic and ulcerogenic activities of Acorus calamus rhizome extract in Swiss Aalbino mice
    https://www.researchgate.net/publication/289189637_Evaluation_of_analgesic_antipyretic_and_ulcerogenic_activities_of_Acorus_calamus_rhizome_extract_in_Swiss_Aalbino_mice
  6. Cold And Flu: Conventional vs Botanical & Nutritional Therapy
    https://www.ijddr.in/drug-development/cold-and-flu-conventional-vs-botanical–nutritional-therapy.pdf
  7. The Antiviral Effect of Indonesian Medicinal Plant Extracts Against Dengue Virus In Vitro and In Silico
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6631455/
  8. Evaluation of the wound-healing activity and anti-inflammatory activity of aqueous extracts from Acorus calamus L
    https://applications.emro.who.int/imemrf/Pak_J_Pharm_Sci/Pak_J_Pharm_Sci_2014_27_1_91_95.pdf
  9. An overview on traditional uses and pharmacological profile of Acorus calamus Linn. (Sweet flag) and other Acorus species
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/24200497/
  10. The Sweetness and Bitterness of Sweet Flag [Acorus calamus L.] – A Review
    https://www.rjpbcs.com/pdf/2013_4(2)/[67].pdf
  11. Plants as Repository of Aphrodisiacs
    http://citeseerx.ist.psu.edu/viewdoc/download?doi=10.1.1.736.1062&rep=rep1&type=pdf
  12. An overview on traditional uses and pharmacological profile of Acorus calamus Linn. (Sweet flag) and other Acorus species
    https://www.researchgate.net/publication/258347269_An_overview_on_traditional_uses_and_pharmacological_profile_of_Acorus_calamus_Linn_Sweet_flag_and_other_Acorus_species
  13. Indian traditional memory enhancing herbs and their medicinal benefits
    http://citeseerx.ist.psu.edu/viewdoc/download?doi=10.1.1.428.5300&rep=rep1&type=pdf
  14. Cytotoxic properties of Acorus calamus in MCF -7 breast cancer cells
    http://citeseerx.ist.psu.edu/viewdoc/download?doi=10.1.1.402.3737&rep=rep1&type=pdf
  15. Herbs-are they safe enough? an overview
    https://www.academia.edu/14295332/Herbs_are_they_safe_enough_an_overview
Was this article helpful?
thumbsupthumbsdown
The following two tabs change content below.

ताज़े आलेख