वजन घटाना

वजन घटाने के लिए अलसी का सेवन – Flaxseeds (Alsi Ke Beej) for Weight Loss in Hindi

by
वजन घटाने के लिए अलसी का सेवन – Flaxseeds (Alsi Ke Beej) for Weight Loss in Hindi Hyderabd040-395603080 August 22, 2019

क्या आप जानते हैं कि बढ़ता वजन शरीर के लिए घातक हो सकता है। एक रिपोर्ट के अनुसार मोटापा मधुमेह, हृदय रोग और कैंसर जैसी जानलेवा बीमारियों का कारण बन सकता है (1)। आधुनिक जीवनशैली और अनियंत्रित खान-पान मोटापे की सबसे बड़ी वजह है। साथ ही कई रोग भी शरीर को लग जाते हैं। अगर आप भी शरीर के बढ़ते वजन से परेशान हैं और हर तरह के उपाय अपना कर थक चुके हैं, तो एक बार अलसी का घरेलू उपचार करके देखें। इस लेख में हमारे साथ जानिए अलसी से मोटापा कम करने के उपाय।

अलसी क्या है – What are Flaxseeds in Hindi

अलसी छोटे भूरे रंग के बीज होते हैं, जिसका स्वाद नट्स जैसा होता है। इन बीजों को फ्लेक्स पौधे से प्राप्त किया जाता है, जिनके रेशों का उपयोग लिनेन कपड़े की थान बनाने के लिए किया जाता है। इन बीजों का उपयोग मध्य पूर्वी देशों में हजारों वर्षों से किया जा रहा है। अलसी का वैज्ञानिक नाम लिनम युसिटेटिसिमम है और यह लिनेसी परिवार से संबंध रखती है। इन बीजों का इस्तेमाल शरीर से जुड़ी कई बीमारियों के लिए किया जा सकता है, जिसकी चर्चा हम इस लेख में करेंगे।

वजन घटाने में अलसी का बीज क्यों फायदेमंद है? – Alsi Ke Beej for Weight Loss in Hindi

वजन घटाने के सभी कारगर तरीकों में अलसी एक प्रभावी उपाय है, जो शरीर से अतिरिक्त चर्बी को निकालने में मदद कर सकती है। अलसी के बीज उन सभी खाद्य पदार्थों से समृद्ध होते हैं, जिनकी जरूरत वजन घटाने के लिए होती है, जैसे फाइबर, ओमेगा 3 फैटी एसिड और एंटीऑक्सीडेंट आदि। नीचे जानिए कि अलसी में मौजूद औषधीय गुण किस प्रकार वजन कम करने में योगदान कर सकते हैं –

1. डायटरी फाइबर

वजन घटाने में अलसी बीज में मौजूद डायटरी फाइबर आपकी मदद कर सकता है। फ्लेक्स सीड पर किए गए एक अध्ययन में पाया गया है कि रोजाना 30 ग्राम फाइबर शरीर से अतिरिक्त चर्बी को हटा सकता है। शोध में यह भी पाया गया है कि हाई फाइबर युक्त डाइट न सिर्फ वजन, बल्कि टाइप 2 डायबिटीज और हृदय रोग के जोखिम को भी कम कर सकती है (2), (3)।

एक अन्य रिपोर्ट के अनुसार डायटरी फाइबर का सेवन करने से मोटापा दूर किया जा सकता है। रिपोर्ट बताती है कि फाइबर और बॉडी फैट के बीच विपरित संबंध है, यानी अधिक फाइबर युक्त भोजन का सेवन आपके वजन को नियंत्रित करने में मदद करेगा (4)।

2. आवश्यक फैटी एसिड

अलसी के बीज में दो तरह के फैटी एसिड पाए जाते हैं, एक ओमेगा-3 और दूसरा ओमेगा-6। वजन घटाने के लिए ये दोनों एसिड आपकी मदद कर सकते हैं। इन दोनों एसिड का निर्माण शरीर नहीं कर सकता है, इसलिए इसकी पूर्ति खाद्य पदार्थों से ही की जाती है। शरीर में जाते ही ये दोनों फैटी एसिड फॉस्फोलिपिड का हिस्सा बन जाते हैं।

फॉस्फोलिपिड एक प्रकार का फैट है, जो सेल मेम्ब्रेन का अहम हिस्सा है। सेल मेम्ब्रेन कोशिकाओं की संरचना में मदद करते हैं और उनमें जाने वाले व बाहर निकलने वाले पदार्थों को नियंत्रित करते हैं। ओमेगा-3 और ओमेगा-6 एसिड शरीर में प्रवेश होने पर प्रोस्टाग्लैंडिंस में परिवर्तित हो जाते हैं, जो मेटाबॉलिजम को नियंत्रित करने का काम करते हैं। प्रोस्टाग्लैंडिंस शरीर में सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं। सूजन ऑक्सिडेटिव स्ट्रैस को बढ़ाकर वजन में वृद्धि ला सकती है (5)। एक अन्य अध्ययन के अनुसार ओमेगा 3 फैटी एसिड भूख पर नियंत्रण कर बढ़ते मोटापे को कम कर सकता है (6)।

3. लिग्निन

लिगनेन लगभग सभी पौधों में मौजूद होते हैं, लेकिन अलसी में लगभग 800 गुना अधिक लिग्नांस होते हैं। ये फेनोलिक कमाउंड हैं, जो फाइटोएस्ट्रोजन और एंटीऑक्सीडेंट के रूप में कार्य करते हैं। हालांकि, फाइटोएस्ट्रोजन मनुष्यों पर उतना प्रभावी नहीं है, लेकिन एंटीऑक्सीडेंट गुण हानिकारक मुक्त कणों (Free Radicals) को नष्ट कर वजन घटाने में मदद करते हैं (7)।

सूजन शरीर में ऑक्सिडेटिव स्ट्रैस के कारण भी हो सकती है, जो इंसुलिन के लिए बाधा का कारण भी बन सकती है। इंसुलिन बाधित होने से कोशिकाएं शुगर से वंचित रह जाती हैं, जिससे आपको भूख महसूस होगी और आप अधिक भोजन करना चाहेंगे। अधिक भोजन रक्त शर्करा को बढ़ाएगा, जिससे मोटापे के साथ मधुमेह की समस्या खड़ी हो जाएगी। एक शोध में मोटापे से ग्रसित नौ लोगों को चार सप्ताह तक 40 ग्राम अलसी का पाउडर सेवन कराया गया। बाद में इंसुलिन और ग्लूकोज का स्तर मापा गया, जिसमें सकारात्मक परिणाम देखे गए (8)।

4. प्रोटीन

अलसी के बीज प्रोटीन से भरपूर होते है। 100 ग्राम फ्लेक्स सीड्स में लगभग 18.29 ग्राम प्रोटीन होता है (3)। प्रोटीन पचाने में कठिन होता है, इसलिए जब आप डायटरी फाइबर के साथ एक चम्मच फ्लेक्स सीड्स का सेवन करते हैं, तो प्रोटीन सामग्री आपकी भूख को दबाने में भी मदद करती है। ऐसा करने से आप अधिक खाने से बचेंगे और आपका वजन नियंत्रित रहेगा।

अलसी से वजन कैसे कम करें जानने के बाद आगे जानिए इसका सेवन कैसे करें।

मोटापा कम करने के लिए अलसी का उपयोग कैसे करें

साबुत अलसी की तुलना में वजन घटाने के लिए अलसी पाउडर या मिल्ड फ्लेक्स सीड्स अधिक प्रभावी हो सकते हैं। ये आसानी से अवशोषित (absorb) किए जा सकते हैं, जिससे अलसी में मौजूद जरूरी पोषक तत्व जैसे वसा, प्रोटीन और लिग्नन्स की अत्यधिक मात्रा आपको मिलेगी। आप सुपरमार्केट से साबुत फ्लेक्स सीड्स खरीद सकते हैं और घर में पीसकर अलसी पाउडर बना सकते हैं। अगर यह करना संभव नहीं है, तो आप मिल्ड फ्लेक्स सीड्स का विकल्प चुन सकते हैं। नीचे जानिए कि वजन कम करने के लिए अलसी कैसे खाएं।

1. सेब, दूध और फ्लेक्स सीड्स स्मूथी

Flax Seeds for Weight Loss in Hindi Pinit

Shutterstock

सामग्री :

  • आधा सेब
  • एक कप दूध
  • एक खजूर
  • एक बड़ा चम्मच अलसी पाउडर

कैसे बनाएं :

  • सेब और खजूर को काटें और उन्हें मिक्सी में डालें।
  • फिर मिक्सी में दूध डालें और ब्लेंड करके स्मूदी बनाएं।
  • स्मूदी को एक गिलास में डालें।
  • अब इसमें अलीस पाउडर का एक बड़ा चम्मच मिक्स करके सेवन करें।

2. पालक, ट्यूना और फ्लेक्स सीड्स

Flex Seeds to Lose Weight in Hindi Pinit

Shutterstock

सामग्री :

  • एक कप पालक
  • आधा कप स्मोक्ड ट्यूना
  • एक बड़ा चम्मच अलसी पाउडर
  • आधा कप टमाटर
  • एक बड़ा चम्मच कटा हुआ लहसुन
  • चार बड़े चम्मच जैतून का तेल
  • आधा नींबू का रस
  • एक बड़ा चम्मच डाइजोन सरसों
  • नमक स्वादानुसार
  • आधा चम्मच काली मिर्च

कैसे बनाएं :

  • एक सॉस पैन में पानी उबालें। जब पानी उबलने लगे तो नमक डालें।
  • अब पालक और लहसुन डालें और दो-तीन मिनट तक पकाएं।
  • पालक और लहसुन को निकालें और तुरंत एक मिनट के लिए ठंडे पानी में डाल दें।
  • इसी बीच एक कटोरे में जैतून का तेल, नींबू का रस, डाइजोन सरसों, नमक और काली मिर्च मिलाकर ड्रेसिंग तैयार करें।
  • पालक को ठंडे पानी से कटोरे में डालें।
  • अब टमाटर के दो हिस्से कर ट्यूना के साथ प्लेट में रखें। साथ में पालक को भी डालें।
  • अंत में ऊपर से ड्रेसिंग के तैयार मिश्रण व अलसी पाउडर का छिड़काव कर सेवन करें।

वजन कम करने के लिए अलसी की प्रतिदिन की खुराक क्या होनी चाहिए?

अलसी के बीज पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं, जिसका अधिक उपभोग करने की जरूरत नहीं। वजन घटाने के लिए स्वास्थ्य विशेषज्ञ अलसी का एक चम्मच खाने की सलाह देते हैं।

ध्यान देने योग्य बातें – Points to Remember

  • वजन घटाने के लिए अलसी का सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से संपर्क करें।
  • हमेशा अलसी का पाउडर ही इस्तेमाल में लाएं।
  • अगर आप खाना पकाने के लिए अलसी के तेल का उपयोग करते हैं, तो इसे ज्यादा गर्म न करें।
  • अगर आप पेट की समस्या से पीड़ित हैं, तो फ्लेक्स सीड्स के सेवन से बचें।
  • खाने के साथ प्रोटीन और वजन कम करने के लिए डाइटरी फाइबर जरूर लें।
  • प्रतिदिन तीन लीटर पानी पिएं। अगर आप वर्कआउट करते हैं, तो चार से पांच लीटर पानी पिएं।
  • वजन कम करने के लिए रोजाना आधे से एक घंटे व्यायाम करें।
  • जल्दी सोएं और जल्दी उठें।
  • रोजाना सात से आठ घंटे की नींद लें।

ये लोग अलसी से बचें – Who Should Avoid Them

  • अगर आप आंत के किसी रोग से पीड़ित हैं, तो अलसी का सेवन न करें।
  • हार्मोनल असंतुलन या एंडोमेट्रिओसिस (गर्भाशय के बाहर टिशू का विकसित होना) की अवस्था में अलसी का सेवन न करें।
  • अगर आप गर्भवती हैं या स्तनपान करा रही हैं, तो फ्लेक्स सीड्स का सेवन न करें।
  • अगर आप रक्त को पतला करने की दवा ले रही हैं, तो अलसी के सेवन से बचें।

ये थे अलसी के जरिए वजन कम करने के सबसे जरूरी टिप्स। अगर आप प्राकृतिक तरीके से अपने मोटापे को कम करना चाहते हैं, तो आज से ही अलसी को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाएं। इस बात का ध्यान अवश्य रखें कि वजन कम करने के लिए रोजाना एक ही चम्मच अलसी पाउडर लें। अगर इसके सेवन के दौरान आप किसी अन्य तरह की शारीरिक समस्या होती है, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। आप मोटापा करने से जुड़े अपने अनुभव हमारे साथ यहां साझा कर सकते हैं। अन्य जानकारी के लिए कमेंट बॉक्स में सवाल भी पूछ सकते हैं।

और पढ़े:

The following two tabs change content below.

Nripendra Balmiki

नृपेंद्र बाल्मीकि एक युवा लेखक और पत्रकार हैं, जिन्होंने उत्तराखंड से पत्रकारिता एवं जनसंचार में स्नातकोत्तर (एमए) की डिग्री प्राप्त की है। नृपेंद्र विभिन्न विषयों पर लिखना पसंद करते हैं, खासकर स्वास्थ्य संबंधी विषयों पर इनकी पकड़ अच्छी है। नृपेंद्र एक कवि भी हैं और कई बड़े मंचों पर कविता पाठ कर चुके हैं। कविताओं के लिए इन्हें हैदराबाद के एक प्रतिष्ठित मीडिया संस्थान द्वारा सम्मानित भी किया जा चुका है।

संबंधित आलेख