पाइनएप्पल डाइट प्लान की मदद से करें वजन कम – Pineapple Diet Plan for Weight Loss in Hindi

by

व्यायाम की कमी और खाने के प्रति लापरवाही की वजह से इस आधुनिक समय में अधिकतर लोग मोटापे का शिकार हो रहे हैं। समय पर मोटापे को नियंत्रित न किया जाए, तो भविष्य में कई तरह के गंभीर रोगों का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे में हम क्विक पाइनएप्पल डाइट विकल्प के तौर पर लेकर आए हैं, जो बढ़ते वजन को नियंत्रित करने में कुछ हद तक मददगार साबित हो सकता है। साथ ही यह डाइट शरीर में जरूरी पोषक तत्वों की पूर्ति का काम भी करेगी। स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम पोषक तत्वों से भरपूर डाइट प्लान और इससे होने वाले विभिन्न लाभ के बारे में विस्तार से बता रहे हैं। बस ध्यान रखें कि डाइट प्लान में शामिल किसी भी चीज से अगर एलर्जी हो तो उसके किसी विकल्प का सेवन करें।

चलिए, जानते हैं पाइनएप्पल डाइट वजन घटाने में क्यों फायदेमंद है।

वजन घटाने में पाइनएप्‍पल डाइट क्यों फायदेमंद है?

वजन घटाने में पाइनएप्पल डाइट लाभदायक हो सकती है। इसमें मौजूद कौन से तत्व व खासियत की वजह से वजन कम करने में मदद मिल सकती है, यह हम नीचे विस्तार से बता रहे हैं:

1. भूख को कम करे:

अनानास में फाइबर की मात्रा भरपूर होती है। फाइबर युक्त पदार्थ को चबाने में अधिक समय लगता है, जिससे लार और गैस्ट्रिक जूस बनता है। यह प्रक्रिया फूड इनटेक को नियंत्रित करती है और पेट भरे होने का एहसास कराती है। इस प्रकार फाइबर, अतिरिक्त भोजन की वजह से शरीर के बढ़ते वजन को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है (1)

2. पौष्टिक और कैलोरी में कम:

पाइनएप्पल कई सारे पोषक तत्वों से भरपूर होने के साथ ही कैलोरी में काफी कम होता है। इस वजह से माना जाता है कि यह शरीर के वजन को बढ़ने नहीं देता है (2)। कम कैलोरी युक्त डाइट वजन को तेजी से कम करने में मदद कर सकती है (3)

3. लेप्टिन (Leptin) :

लेप्टिन एक तरह का हार्मोन है, जो ब्रेन सिगलन के माध्यम से शरीर के वजन को नियंत्रित करने का काम करता है। वहीं, अधिक वजन वाले व्यक्तियों में लेप्टिन हार्मोन ज्यादा होता है और इस स्थिति में यह वजन नियंत्रण का अपना काम नहीं कर पाता (3) (4)। यहां पाइनएप्पल के लाभ देखे जा सकते हैं, क्योंकि यह लेप्टिन हार्मोन को कम करने में मदद कर सकता है (5)

4. वसा संश्लेषण (Synthesis) को कम और लिपोलिसिस को बढ़ाना:

पाइनएप्पल जूस वसा फैट सिंथेसिस (फैट के जमाव) को कम करके भी वजन नियंत्रित करने में मदद कर सकता है। इसके साथ ही यह लिपोलिसिस (फैट और लिपिड ब्रेकडाउन) को बढ़ाता है, जिससे मोटापा कम हो सकता है (6)

5. ब्रोमेलिन:

ब्रोमेलिन नामक तत्व की मौजूदगी की वजह से पाइनएप्पल को वजन नियंत्रित करने के लिए एक कारगर फल माना जा सकता है। यह तत्व वजन कम करने के साथ ही एंटीइंफ्लामेटरी एजेंट की तरह भी शरीर में काम करता है (5)

6. सक्रिय और ऊर्जावान:

अनानास दिनभर ऊर्जात्मक और सक्रिय रखकर भी वजन कम करने में मदद कर सकता है। दरअसल, इसमें विटिमिन-बी1 होता है (7)। एनसीबीआई में मौजूद एक शोध की मानें तो यह विटामिन व्यक्ति को ऊर्जात्मक रखने में मदद करता है (8)

7. पाचन

पाचन को भी बेहतर करने में अनानास मदद करता है। दरअसल, इसमें मौजूद ब्रोमेलिन तत्व पाचन एंजाइम की तरह काम करके आंत संबंधी विकार, अग्नाशय को निकालने वाली सर्जरी (Pancreatectomy) और ईपीआई (Exocrine pancreatic insufficiency) यानी भोजन पचाने वाले एंजाइम को बनाने की असमर्थता को ठीक करने में मदद करता है (7) (9)। ऐसे में माना जाता है कि पाइनएप्पल पाचन को बेहतर करके वजन को कम करने में मदद कर सकता है। एनसीबीआई की वेबसाइट पर मौजूद एक शोध में कहा गया है कि कई मामलों में पेट और आंत संबंधी समस्याओं (गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल) की वजह से मोटापा हो सकता है (10)। हालांकि, अन्य स्टडी में यह भी कहा गया है कि पेट संबंधी समस्या की वजह से होने वाले मोटापे के संबंध में अधिक रिसर्च की आवश्यकता है, जिससे यह स्पष्ट हो सके कि यह किस तरह वजन को बढ़ाने का काम करता है (11)

आगे हम पाइनएप्पल डाइट का नमूना प्लान बता रहे हैं।

पाइनएप्पल डाइट में पांच दिनों का नमूना प्लान – Sample 5 Days Diet Plan In Hindi

पहला दिन:

खाने का समयक्या खाएं
सुबह सोकर उठते ही (7:45 a.m)थोड़ी मात्रा में शहद, नींबू और एप्पल साइडर विनेगर के साथ एक कप गर्म पानी
नाश्ता  (8:30 a.m)एक कप पाइनएप्पल + एक कप ओटमील
लंच (12:00 – 12:30 p.m)1 से 2 ग्रील्ड टूना मछली की सामान्य स्लाइस या आधा कप पनीर या सोया चाप  + एक कप पाइनएप्पल
दोपहर के खाने के बाद (4:00 p.m)1 कप ताजा पाइनएप्पल जूस
रात का खाना (7:00 p.m)टमाटर+शतावरी+पाइनएप्पल सलाद (एक बाउल) के साथ एक बेक्ड चिकन ब्रेस्ट या एक छोटा कप ग्रिल मशरूम।

कैसे लाभदायक है :

शहद, नींबू और एप्पल साइडर विनेगर डिटॉक्स ड्रिंक की तरह काम करते हैं (12)। वहीं, नींबू और  शहद से जुड़े एक शोध (शॉर्ट टर्म लेमन-हनी जूस फास्टिंग) में इनके वजन नियंत्रण लाभ के बारे में पता चलता है (13)। इसके बाद नाश्ते में पाइनएप्पल और ओट्स का सेवन भी वजन को घटाने में मदद कर सकते हैं। जैसा कि हम ऊपर बता ही चुके हैं कि पाइनएप्पल में मौजूद लो कैलोरी और ब्रोमेलिन तत्व वजन को कम कर सकते हैं और इसके साथ ओटमिल का सेवन करने से यह और लाभकारी नाश्ता बन जाता है। दरअसल, ओटमिल फाइबर से भरपूर होता है, जो पेट को दिनभर भरा-भरा सा महसूस कराता है (14)। ऐसे में ओवर इटिंग से भी बचा जा सकता है। इसके बाद दोपहर में ली जाने वाली टूना मछली या पनीर में आवश्यक प्रोटीन होता है, जो वजन कम करने में मदद कर सकता है (15) (16) (17)। वहीं, चीन की एक शोध संस्था के अनुसार,  मशरूम में फाइबर के साथ-साथ एंटीओवेसिटि गुण भी होते हैं, जो बढ़ते वजन को कम करने में फायदेमंद हो सकता है (18)

कैसा महसूस होगा:

पहला दिन कठिन हो सकता है, खासकर अगर किसी को दिनभर ठोस अनाज खाने की आदत हो तो। वैसे यह डाइट चार्ट में स्वस्थ प्रोटीन और फाइबर शामिल हैं, इसलिए बार-बार भूख नहीं लगेगी।

 दूसरा दिन:

खाने का समयक्या खाएं
सुबह सोकर उठते ही  (7:45 a.m)एक कप मेथी दाने का पानी (रातभर भिगोकर रखे हुए)
नाश्ता  (8:30 a.m)एक अखरोट और भिगाए हुए दो बादाम  + एक कप पाइनएप्पल + 2 अंडा या दो बेसन के ऑमलेट
लंच (12:00 – 12:30 p.m) आधा कप पाइनएप्पल और एक छोटा बाउल लेमन चिकन सलाद या टोफू सलाद
दोपहर के खाने के बाद (4:00 p.m)नींबू और पुदीना मिलाकर बना हुआ ताजा पाइनएप्पल और तरबूज का एक कप जूस
रात का खाना (7:00 p.m)एक बाउल सॉटेड (Sauteed) मिक्स सब्जियां + 1 कप पाइनएप्पल + एक स्लाइस ग्रिल्ड सैल्मन मछली या आधा कप ग्रिलड मशरूम

कैसे लाभदायक है:

मेथी का पाउडर या पानी मोटापे से लड़ने में मदद करता है, यह भूख को कम करने में सहायक हो सकता है  (19)। मेथी की जगह सौंफ का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। सौंफ भूख को बढ़ने से रोकती है, जिससे वजन नियंत्रित किया जा सकता है (20)। इसके बाद पाइनएप्पल के जूस से पहले बादाम या अखरोट का सेवन भी वजन को नियंत्रित करने में सहायक माने जाते हैं। इनमें मौजूद प्रोटीन और फाइबर की वजह से बार-बार भूख लगने का एहसास नहीं होता है (21)। इसके बाद प्रोटीन के लिए दिन में पाइनएप्पल के साथ लेमन चिकन सलाद या फिर टोफू का सेवन करने से भी स्वस्थ वजन नियंत्रित रखने में सहायता मिल सकती है (22) (23) (24)। इसके अलावा, सब्जियां भी वजन कम करने में मदद कर सकती हैं (25)

कैसा महसूस होगा:

दूसरे दिन के अंत तक, शरीर हल्का लगेगा और अच्छा महसूस होगा। दिनभर ऊर्जात्मक भी महसूस करेंगे।

तीसरा दिन 

खाने का समयक्या खाएं
सुबह सोकर उठते ही (7:45 a.m)एक कप ग्रीन टी नींबू के साथ
नाश्ता  (8:30 a.m)1 कप पाइनएप्पल जूस + 1 मशरूम ऑमलेट
लंच (12:00 – 12:30 p.m)1 टूना मछली रैप+ एक कप पाइनएप्पल

या

आधा बाउल अंकुरित सलाद + 1 कप पाइनएप्पल

दोपहर के खाने के बाद (4:00 p.m) चुटकी भर काली मिर्च और नींबू की कुछ बूंदों के साथ आधा कप पाइनएप्पल सलाद
रात का खाना (7:00 p.m) एक कप चिकन या मशरूम सूप + एक बाउल कम तेल में हल्की भूनी हुई सब्जियां + एक कप पाइनएप्पल जूस

कैसे लाभदायक है:

ग्रीन टी का सेवन शरीर से विषाक्तता को दूर करने में मदद करता है (26)। इसके अलावा, इसमें मिलाए जाने वाले नींबू में मौजूद विटामिन-सी इम्यूनिटी को बढ़ाने और वजन को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है (27)। इसके अलावा, मशरूम में मौजूद एंटीओबेसिटी गुण की वजह से इससे बना ऑमलेट खाने से भी वजन को कंट्रोल करने में सहायता मिल सकती है (18)। वहीं, स्प्राउट्स में भरपूर प्रोटीन होता है और काली मिर्च में मौजूद पिपरीन (Piperine) भी वजन को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है (28)

कैसा महसूस होगा:

तीसरे दिन के अंत तक पाइनएप्पल डाइट की आदत पड़ जाएगी। इससे शरीर में मौजूद पानी का वजन कम हो सकता है और व्यक्ति स्लिम महसूस करेगा। अगर किसी तरह की कमजोरी महसूस हो तो पाइनएप्पल डाइट को यहीं रोककर नियमित आहार का सेवन कर सकते हैं।

चौथा दिन 

खाने का समयक्या खाएं
सुबह सोकर उठते ही (7:45 a.m)थोड़ी मात्रा में शहद और नींबू के साथ एक कप गर्म पानी
नाश्ता  (8:30 a.m)एक कप पाइनएप्पल जूस + एक कप क्विनोआ (एक तरह का अनाज) या ओट्स
लंच (12:00 – 12:30 p.m)चुटकी भर दालचीनी पाउडर और क्रीम मिक्स पाइनएप्पल + स्ट्रॉबेरी + कीवी  सलाद (1 बाउल)
शाम का नाश्ता (4:00 p.m)एक कप छाछ (बटर मिल्क)
रात का खाना (7:00 p.m) आधा बाउल टूना सलाद या पनीर + एक कप पाइनएप्पल

कैसे लाभदायक है:

जैसा कि हम ऊपर बता ही चुके हैं कि नींबू और शहद का पानी शरीर को डिटॉक्स करने में मदद करता है। वहीं, फाइबर से भरपूर ओट्स का सेवन करने के बाद पेट भरा-भरा सा लगता है और संतुष्टि का एहसास होता है। साथ ही बार-बार कुछ-न-कुछ खाने की इच्छा में भी कमी आती है। स्ट्रॉबेरी भी अन्य खाद्य पदार्थों की तरह ही वजन को कम करने में मदद कर सकती है (29)। इसके अलावा, दालचीनी पाउडर में भी मोटापे को नियंत्रित करने में सहायता मिल सकती है (30)

कैसा महसूस होगा:

दिन में केवल तीन बार अनानास और अन्य जरूरी पोषक तत्व लेने से पाचन तंत्र सही रहेगा। दिनभर भरा-भरा महसूस करेंगे, जिससे जंक फूड्स खाने की इच्छा नहीं होगी। साथ ही आप हल्का महसूस करने लगेंगे।

पांचवें दिन 

खाने का समयक्या खाएं
सुबह सोकर उठते ही (7:45 a.m)दालचीनी और अदरक की बनी चाय
नाश्ता (8:30 a.m)2 बादाम + 1 बॉयल अंडा या आधा कप सोया चाप + 1 कप पाइनएप्पल जूस + 1 मल्टी ग्रेन ब्रेड
लंच (12:00 – 12:30 p.m) 1 या 2 स्लाइस ग्रील्ड मैकेरेल मछली या एक बाउल मशरूम और शतावरी+ 1 कप पाइनएप्पल
दोपहर के खाने के बाद (4:00 p.m)आधा कप दही
रात का खाना (7:00 p.m)एक रोस्टेड चिकन ब्रेस्ट या आधा बाउल पनीर पालक और टमाटर सलाद + 1 कप कटा हुआ पाइनएप्पल

कैसे लाभदायक है:

ऊपर हम बता ही चुके हैं कि दालचीनी में वजन को नियंत्रित करने के गुण होते हैं। इसके साथ ही अदरक भी मोटापे को कम करने व पाचन क्रिया को बेहतर करने के लिए जाना जाता है। अदरक में मौजूद 6-जिंजरॉल केमिकल कंपाउंड की वजह से यह एंटीओबेसिटी प्रभाव प्रदर्शित करता है (31)। अंडा व बेसन में प्रोटीन की मात्रा काफी होती है, जो स्वस्थ वजन को बनाए रखने में मदद कर सकते हैं (22) (32) (33)। शतावरी में मौजूद लो-कैलोरी से भी वजन को नियंत्रित रखने में सहायता मिल सकती है (34) (35)

कैसा महसूस होगा:

पांचवें दिन के अंत तक स्लिम के साथ ही शरीर में सकारात्मक बदलाव महसूस करेंगी। यह बदलाव पाइनएप्पल डाइट अपनाने वाले सभी लोगों को काफी अच्छा लगेगा।

नोट: यह एक तरह का नमूना डाइट चार्ट है। इसमें बताए गए खाद्य पदार्थों की मात्रा शरीर की जरूरत के अनुसार कम-ज्यादा हो सकती है। किसी को अगर डाइट चार्ट में मौजूद किसी भी खाद्य पदार्थ से एलर्जी हो, तो उसका सेवन करने से बचें। साथ ही पाइनएप्पल डाइट से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए डाइटिशियन से जरूर संपर्क करें।

पाइनएप्पल डाइट चार्ट के बाद आगे जानिए कुछ जरूरी व्यायाम।

पाइनएप्पल डाइट से वजन घटाने के लिए कुछ व्यायाम – Exercises for Pineapple Diet in Hindi

वजन कम करने के लिए स्वस्थ भोजन के साथ ही शारीरिक रूप से सक्रिय रहना भी जरूरी है। मतलब साफ है कि स्वस्थ आहार के साथ ही व्यायाम किया जाए तभी वजन कम करने में पाइनएप्पल डाइट मदद कर सकती है। पाइनएप्पल डाइट के साथ ही इन व्यायामों को दिनचर्या में शामिल कर सकते हैं। अगर व्यायाम करने के तुरंत बाद भूख और थकावट महसूस होती है, तो आप अनानास का रस भी पी सकते हैं।

1. टहलना:

पाइनएप्पल डाइट प्लान के फायदे के लिए वजन घटाने की एक्सरसाइज करना भी जरूरी है। इममें सबसे आसान व्यायाम है टहलना। विशेषज्ञों की मानें तो वजन घटाने के लिए टहलना अच्छा विकल्प हो सकता है। घर के आस-पास व छत पर करीब 30 मिनट तक तेज कदमों से टहल सकते हैं। टहलने से कैलोरी घटने के साथ ही वजन भी नियंत्रित रहता है (36)। जानकारों के मुताबिक, मध्यम गति से चलने से 324 कैलोरी और तेज गति से चलने पर 371 कैलोरी बर्न होती है (37)

2. साइकलिंग:

पाइनएप्पल डाइट प्लान के साथ वजन घटाने के लिए साइकलिंग करने से और बेहतर परिणाम नजर आ सकते हैं। यह एक तरह का मध्यम व्यायाम माना जाता है। करीब 30 मिनट तक साइकिल चलाने से 145 कैलोरी तक घटाई जा सकती है (38)

3. डांसिंग:

डांसिंग को भी पाइनएप्पल डाइट प्लान के साथ दिनचर्या में शामिल किया जा सकता है। करीब आधे घंटे तक डांस करने से 165 और एक घंटे तक डांस करने से 330 कैलोरी को कम किया जा सकता है (38)

4. रस्सी कूदना:

पाइनएप्पल डाइट प्लान के फायदे के लिए व्यायाम के तौर पर रस्सी कूद भी कर सकते हैं। इस व्यायाम को 30 मिनट किया जा सकता है (39)। रस्सी कूदना एक तीव्र आवेग (Vigorus) व्यायाम होता, जो एरोबिक्स में शामिल होता है। एक घंटे तक रस्सी कूदने से करीब 480 कैलोरी को घटाया जा सकता है  (38)

5. जंपिंग जैक्स:

वजन कम करने में अनानास के फायदे जल्दी देखना चाहते हैं तो जंपिंग जैक्स व्यायाम को भी शामिल कर सकते हैं। 10 मिनट तक जम्पिंग जैक्स करना वजन घटाने में सहायक माना जाता है (40)। जंपिंग जैक्स करना बेहद आसान है। बस सावधान मुद्रा में खड़े होकर शरीर को जमीन से थोड़ा उछालना है। कूदते समय दोनों हाथ और पैरों को फैलाएं।

 पाइनएप्पल डाइट प्लान के फायदे के साथ ही कुछ नुकसान भी हो सकते हैं, जिसके बारे में हम नीचे बता रहे हैं।

पाइनएप्पल डाइट प्लान के नुकसान – Pineapple Diet Plan Side Effect In Hindi

पाइनएप्पल डाइट प्लान के नुकसान निम्नलिखित रूप में सामने आ सकते हैं –

  • अनानास का अधिक सेवन करने से पाचन तंत्र में फाइबर बॉल यानी बेजोर्स का निर्माण हो जाता है। बेजोर (Bezoar) एक तरह की न पची हुई ठोस सामग्री होती है, जो पाचन तंत्र में जमा होकर ब्लॉकेज का कारण बन सकती है(7)
  • वैज्ञानिकों ने पाया है कि कृत्रिम रूप से पकने वाले अनानास के नियमित सेवन से कमजोरी, चक्कर आना, स्किन अल्सर और दिल से संबंधित बीमारियां हो सकती हैं(41)
  • विषाक्त रसायन का प्रयोग करके अनानास की खेती की गई है तो इसकी वजह से कई बीमारियां हो सकती हैं। वैज्ञानिकों की मानें तो जहरीले रसायन का इस्तेमाल करके उत्पादित किए गये फलों के नियमित सेवन से लीवर और किडनी की समस्या का खतरा बढ़ सकता है(41)
  • गर्भावस्था में हानिकारक हो सकता है। दरअसल, इससे समय पूर्व प्रसव का खतरा बढ़ सकता है। इसी वजह से प्रेगनेंसी के समय अनानास के सेवन से बचने की सलाह दी जाती है(42)
  • पाइनएप्पल में पोलन यानी पराग होता है, जिससे ओरल एलर्जी हो सकती है(43)
  • पाइनएप्पल डाइट प्लान की वजह से कमजोरी का एहसास भी हो सकता है।

कच्चा पाइनएप्पल खाने के नुकसान (7):

  • ठीक तरीके से न पके हुए पाइनएप्पल का सेवन जहरीला हो सकता है।
  • गले में खुजली हो सकती है।
  • साथ ही दस्त भी हो सकता है। 

पाइनएप्पल डाइट प्लान वजन कम करने में और बढ़ते वजन को नियंत्रित करने में लाभदायक साबित हो सकता है, लेकिन तभी जब इसके साथ शारीरिक गतिविधि पर भी ध्यान दिया जाए। पाठक यहां बताए गये डाइट प्लान के साथ सुझाए गए व्यायाम में से किसी को भी चुन सकते हैं। रोजाना हल्का व्यायाम और पाइनएप्पल डाइट स्वस्थ वजन बनाए रखने और बढ़ते वजन को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं। बस आपको जंक फूड्स से बचना होगा, वरना यह डाइट प्लान का असर उतना प्रभावशाली नहीं होगा। यह लेख आपको कैसा लगा हमें जरूर बताएं। साथ ही पाइनएप्पल डाइट प्लान के फायदे से जुड़े इस लेख को पढ़ने के बाद भी अगर कोई सवाल आपको जहन में हों, तो उन्हें कमेंट बॉक्स के माध्यम से हमतक पहुंचा सकते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

क्या अनानास पेट की चर्बी को बर्न करता है?

हां, जैसा कि हम ऊपर बता ही चुके हैं कि पाइनएप्पल में एंटीओबेसिटी प्रभाव होते हैं, जो मोटापे को कम करने में मदद कर सकते हैं। ऐसे में पाइनएप्पल, पेट की चर्बी को भी कम करने में सहायक हो सकता है।

अगर मैं रोज अनानास खाऊं तो क्या होगा?

जी हां, संतुलित मात्रा में पाइनएप्पल रोजाना खाया जा सकता है। यह पोषक तत्वों से भरपूर होता है। एक शोध के मुताबिक इसका सेवन 9 हफ्तों तक लगातार करने से संक्रमण से बचाव और इसकी अवधि को कम किया जा सकता है (44)। अगर किसी को पाइनएप्पल से एलर्जी हो तो वो इसका सेवन न करे। इसके अलावा, पाइनएप्पल को अत्यधिक खाने से भी बचना चाहिए।

अनानास एक कीटो है?

नहीं, पाइनएप्पल कीटो नहीं है। कीटो डाइट में कम कार्बोहाइड्रेट और कम शुगर युक्त खाद्य पदार्थों के सेवन की सलाह दी जाती है (45) (46)। पाइनएप्पल में दोनों की मात्रा अधिक होती है, इसलिए इसे कीटो नहीं माना जाता है (47)

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

vinita pangeni

विनिता पंगेनी ने एनएनबी गढ़वाल विश्वविद्यालय से मास कम्यूनिकेशन में बीए ऑनर्स और एमए किया है। टेलीविजन और डिजिटल मीडिया में काम करते हुए इन्हें करीब चार साल हो गए हैं। इन्हें उत्तराखंड के कई पॉलिटिकल लीडर और लोकल कलाकारों के इंटरव्यू लेना और लेखन का अनुभव है। विशेष कर इन्हें आम लोगों से जुड़ी रिपोर्ट्स करना और उस पर लेख लिखना पसंद है। इसके अलावा, इन्हें बाइक चलाना, नई जगह घूमना और नए लोगों से मिलकर उनके जीवन के अनुभव जानना अच्छा लगता है।

ताज़े आलेख

scorecardresearch