वैक्सिंग क्या है, करने का तरीका, फायदे और नुकसान – All About Waxing In Hindi

Written by

शरीर के अनचाहे बालों को हटाने के लिए कई महिलाएं वैक्सिंग का सहारा लेती हैं। हालांकि, कई बार जानकारी के अभाव में उन्हें इसका खामियाजा भुगतना पड़ जाता है। यही वजह है कि स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम वैक्सिंग क्या है और इसे कैसे किया जाता है, इस बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी लेकर आए हैं। यही नहीं, यहां हम घर पर वैक्सिंग बनाने की विधि के साथ-साथ वैक्स के फायदे और नुकसान के बारे में भी बताएंगे।  

विषय सूची


शुरू करते हैं लेख 

सबसे पहले जानते हैं कि वैक्सिंग का मतलब क्या होता है।

वैक्सिंग क्या है? – What is Waxing in Hindi

शरीर के अनचाहे बालों को हटाने की एक आसान प्रक्रिया को वैक्सिंग कहते हैं। इसमें वैक्स यानी मोम का इस्तेमाल किया जाता है, जिसे गर्म करके या फिर ठंडा ही शरीर पर लगाया जाता है। इसके बाद इस पर एक स्ट्रीप चिपकाई जाती है, जिसे कुछ सेकेंड बाद त्वचा के बाल सहित उसे उखाड़ दिया जाता है। इस प्रक्रिया के बाद त्वचा चिकनी और मुलायम दिखने लगती है।

वैसे तो वैक्सिंग का उपयोग शरीर के संवेदनशील अंगों को छोड़ कर सभी क्षेत्रों पर किया जा सकता है, लेकिन आइब्रो, अपर लिप्स, बिकनी, पीठ, पैर और अंडरआर्म्स के लिए इसका इस्तेमाल सबसे ज्यादा किया जाता है। लेख में आगे हमने वैक्स के फायदों के बारे में विस्तार से बताया है।

स्क्रॉल करें

अब जानते हैं कि वैक्सिंग कितने प्रकार की होती है।

वैक्सिंग के प्रकार – Types of Waxing in Hindi

अनचाहे बालों से छुटकारा पाने के लिए वैक्सिंग पांच प्रकार से की जा सकती है, नीचे क्रमवार तरीके से हम उन्हीं प्रकारों के बारे में बता रहे हैं: 

1. कोल्ड वैक्स

यह वैक्सिंग का सबसे सरल प्रकार है। इसमें वैक्स को गर्म करने का झंझट नहीं होता है, बल्कि इसका इस्तेमाल सीधे स्किन पर किया जा सकता है। इसके लिए स्पैटुला की मदद से कोल्ड वैक्स को अनचाहे बाल वाले हिस्से पर लगाना होता है। इसके बाद वहां पर स्ट्रिप चिपकाकर हल्के हाथों से उसे थोड़ी देर तक रब करना होता है। 

ऐसा करने से कोल्ड वैक्स त्वचा की गर्मी से नर्म होकर स्किन में घुल जाती है। इसके बाद उस स्ट्रिप के एक कोने को पकड़ कर बाल बढ़ने के विपरीत दिशा में झटके से खींच देना होता है। वहीं, बाजार में वैक्स लगी हुई स्ट्रिप का भी इस्तेमाल भी अनचाहे बालों को हटाने के लिए किया जा सकता है।  

2. हॉट वैक्स

हॉट वैक्सिंग के इस्तेमाल से पहले इसके वैक्स को हल्का गर्म करना जरूरी होता है। जब इसका वैक्स अच्छी तरह से पिघल जाता है, तो फिर इसे हल्का ठंडा कर स्पैटुला की मदद से त्वचा पर लगाया जाता है। इसके बाद वहां पर स्ट्रिप चिपका कर उसे भी कोल्ड वैक्स के स्ट्रिप की ही तरह बाल बढ़ने के विपरीत दिशा में झटके से खींच देना होता है। त्वचा पर मौजूद छोटे बालों को हटाने के लिए इसे एक प्रभावी तरीका माना जाता है (1)। 

3. बिकिनी वैक्स

बिकिनी वैक्स को ब्राजिलियन वैक्स के नाम से भी जाना जाता है। इस वैक्स का इस्तेमाल जांघों के पास के प्यूबिक हेयर हटाने के लिए किया जाता है। हालांकि, अन्य वैक्सिंग के मुकाबले यह थोड़ी अधिक कष्टदायक होती है, क्योंकि प्यूबिक हेयर थोड़े कड़े होते हैं। वहीं, एक बार जब बिकिनी वैक्स के माध्यम से प्यूबिक हेयर रिमूव हो जाते हैं तो फिर दोबारा यहां के बाल मुलायम निकलने लगते हैं। 

एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन) की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध की मानें तो प्यूबिक हेयर को हटाने के लिए वैक्स का सहारा लेने से महिलाओं में एसटीडी रोग यानी यौन संचारित बीमारियों के होने का खतरा बढ़ सकता है (2)

4. सॉफ्ट वैक्सिंग

अपने नाम के ही अनुसार यह वैक्सिंग बेहद सॉफ्ट होती है। इसका उपयोग ठंडा और गर्म दोनों तरीकों से किया जा सकता है। अन्य वैक्सिंग की ही तरह इसे भी त्वचा पर स्पैटुला की मदद से लगाया जाता है। फिर एक मसलिन यानी महीन सूती कपड़े से वैक्स लगे अंग को ढक दिया जाता है। 

इसके बाद जब वैक्स पूरी तरह से सूख जाता है, तो ढके हुए कपड़े को हटाना होता है और फिर एक साफ सूती कपड़े से त्वचा के उस हिस्से को पोंछ लेना होता है। इस प्रक्रिया से भी त्वचा के अनचाहे बाल को आसानी से हटाया जा सकता है। 

5. हार्ड वैक्सिंग

यह वैक्सिंग उनके लिए बेहद उपयोगी मानी जा सकती है, जिनके पास समय की कमी होती है। दरअसल, हार्ड वैक्सिंग अन्य वैक्सिंग की तुलना में कम समय लेती है। इसमें किसी स्ट्रिप या कपड़े का उपयोग नहीं करना पड़ता है, लेकिन इसके वैक्स को भी इस्तेमाल से पहले हल्का गर्म करना होता है।

जब वैक्स गुनगुना हो जाता है, तो इसे वुडेन स्पैटुला की मदद अनचाहे बाल वाले हिस्से पर लगाया जाता है। फिर इसे सूखने के लिए कुछ सेकंड छोड़ दिया जाता है। जब वैक्स सूख जाता है, तो उसे उंगलियों की मदद से धीरे-धीरे करके हटाना होता है। इस प्रक्रिया में वैक्स की एक परत निकलती है और अनचाहे बाल आसानी से हट जाते हैं। 

आगे पढ़ें

वैक्सिंग के प्रकार जानने के बाद इसे कैसे करना चाहिए, अब वो जान लेते हैं।

वैक्सिंग करने का तरीका – How to do Waxing in hindi

अनचाहे बालों को हटाने के लिए वैक्सिंग करना बहुत ही आसान है। यहां हम स्टेप बाय स्टेप वैक्सिंग करने का तरीका बता रहे हैं, जो कुछ इस प्रकार है :

  • सबसे पहले तो शरीर के जिस हिस्से की वैक्सिंग करनी है, उसे बॉडी वॉश से अच्छी तरह साफ करके सुखा लें।
  • इसके बाद इस्तेमाल किए जाने वाले वैक्स को गुनगुना कर लें। अगर आप कोल्ड वैक्स इस्तेमाल कर रहीं है, तो उसे गर्म करने की जरूरत नहीं होती। उसे सीधे तौर पर उपयोग किया जा सकता है।
  • वैक्स के पिघल जाने के बाद वैक्सिंग वाले हिस्से पर हल्का-सा पाउडर लगा लें। यह त्वचा की नमी अच्छी तरह से सोख लेगा, जिससे वैक्सिंग करने में आसानी होगी।
  • अब बाल उगने की दिशा में एक स्पैटुला की मदद से उस हिस्से पर वैक्स की एक पतली-सी परत लगाएं।
  • इसके बाद वैक्स वाली जगह पर वैक्सिंग स्ट्रिप को दबाते हुए चिपकाएं, ताकि वह त्वचा पर अच्छी तरह से चिपक जाए।
  • अब चिपके हुए वैक्सिंग स्ट्रिप का एक कोना पकड़ कर उसे एक ही झटके में उखाड़ें। स्ट्रिप उखाड़ते समय उसकी दिशा बाल के बढ़ने के ठीक विपरीत होनी चाहिए।
  • वैक्सिंग की प्रक्रिया पूरी होने के बाद वैक्स किए हुए हिस्से को ठंडे पानी से धो लें। इसके बाद वहां पर मॉइस्चराइजर लगा लें। 
  • वहीं, वैक्सिंग के दौरान ध्यान रखें कि बिकनी लाइन और चेहरे के लिए कभी भी घर पर बने वैक्स का इस्तेमाल न करें। इसके लिए बाजार में उपलब्ध मुलायम वैक्स को ही उपयोग में लाएं।

पढ़ना जारी रखें

अब हम बताते हैं कि त्वचा के लिए वैक्स के फायदे क्या-क्या है।

वैक्सिंग करने के फायदे – Benefits of Waxing In Hindi

त्वचा के लिए वैक्स के फायदे कई सारे हैं, जिन्हें लेख में नीचे बताने जा रहे हैं:

1. त्वचा को मुलायम बनाए : वैक्सिंग त्वचा की कोमलता को बनाए रखने में मदद कर सकती है, खासकर कोल्ड वैक्सिंग। इस बात की पुष्टि एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध से होती है। इसमें बताया गया है कि कोल्ड वैक्स में सूदिंग के साथ-साथ त्वचा की नमी को बनाए रखने के गुण मौजूद होते हैं (3)। ऐसे में यह कहना गलत नहीं होगा कि वैक्सिंग त्वचा को मुलायम बनाए रखने में मदद कर सकती है।

2. त्वचा की चमक रखे बरकरार : अनचाहे बालों से छुटकारा पाने के साथ-साथ ग्लोइंग स्किन के लिए भी वैक्स के फायदे देखे जा सकते हैं। दरअसल, वैक्सिंग के जरिए डेड स्किन को आसानी से निकाला जा सकता है। इसके अलावा, यह स्किन टैन को भी कम करने में मदद कर सकती है। यह प्रक्रिया त्वचा की चमक को बरकरार रखने में सहायक हो सकती है।

3. बालों की ग्रोथ धीमी करे : यूं तो अनचाहे बालों को हटाने के लिए बाजार में कई सारे किट मौजूद हैं, लेकिन वैक्सिंग के जैसे वे लाभकारी नहीं माने जा सकते। दरअसल, ये किट अनचाहे बालों को भले ही निकाल देते हैं, मगर वहां दोबारा से बाल उसी गति से निकलने लगते हैं। 

वहीं, वैक्सिंग के साथ ऐसा नहीं है। इसकी खासियत यही है कि यह बालों को जड़ से निकालने के साथ-साथ उसकी ग्रोथ को भी कम कर सकती है। माना जाता है कि वैक्सिंग करने के लगभग 2 से 8 सप्ताह के बाद ही बाल निकलने शुरू होते हैं।

4. छोटे बालों का जड़ से सफाया : वैक्सिंग की प्रक्रिया में बाल जड़ से निकलते हैं। खासकर अगर हॉट वैक्सिंग का इस्तेमाल किया जाए तो। बताया जाता है कि कोल्ड वैक्सिंग के मुकाबले हॉट वैक्सिंग के जरिए छोटे से छोटे बालों को जड़ से निकाला जा सकता है (1)

स्क्रॉल करें

चलिए, अब जरा  घर पर वैक्सिंग बनाने की विधि के बारे में विस्तार से जानते हैं।

घर पर वैक्सिंग बनाने की विधि – How To Make Waxing At Home In Hindi

पार्लर में वैक्सिंग कराना थोड़ा महंगा पड़ सकता है। ऐसे में पार्लर का खर्चा बचाने के लिए घर में भी वैक्स को आसानी से बनाया जा सकता है। तो चलिए जानते हैं वैक्सिंग बनाने की विधि :

सामग्री:

  • एक कप चीनी
  • एक कप शहद
  • आधा चम्मच नींबू का रस
  • एक चम्मच पानी

बनाने की विधि:

  • सबसे पहले एक पैन को गर्म करें।
  • इसके बाद पैन में चीनी डालें और उसे धीमी आंच पर पिघलाएं। इस दौरान बीच-बीच में चीनी को चलाते रहें ताकि वह जले नहीं।
  • जब चीनी अच्छी तरह से पिघल जाए, तो उसे एक अलग बर्तन में निकाल लें।
  • अब इसमें शहद और नींबू का रस डालकर, उसे अच्छी तरह से मिलाएं।
  • जब यह मिश्रण ठंडा हो जाए, तो इसे एक डिब्बे में रखकर फ्रिज में रख दें।
  • इस तरह तैयार हो जाएगा होममेड वैक्स, जिसका इस्तेमाल आसानी से घर में किया जा सकता है।

पढ़ते रहें

लेख के इस हिस्से में जानिए वैक्स करते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

वैक्स करने के लिए सावधानियां – Precautions For Waxing in Hindi

इसमें कोई दो राय नहीं कि वैक्सिंग की प्रक्रिया बेहद आसान है, लेकिन इसे करते समय कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है। तो चलिए जानते हैं कि वैक्सिंग करने से पहले कौन-कौन सी सावधानियां बरतनी चाहिए:  

  • वैक्सिंग से पहले त्वचा को अच्छी तरह से साफ जरूर करें।
  • वैक्स को पिघलाते समय उसके तापमान का ध्यान जरूर रखें। ज्यादा गर्म वैक्स त्वचा पर लगाने से स्किन जल सकती है।
  • वैक्स करते वक्त हमेशा नई वैक्सिंग स्ट्रिप का ही इस्तेमाल करें।
  • इसके अलावा, त्वचा पर वैक्सिंग स्ट्रिप को हमेशा सही दिशा में ही लगाएं। बता दें कि त्वचा पर स्ट्रीप चिपकाते समय उसकी दिशा बाल बढ़ने की ओर होनी चाहिए। वहीं, खींचते समय स्ट्रिप की दिशा ठीक उसके विपरीत होनी चाहिए।
  • वैक्सिंग से पहले वैक्स वाले हिस्से पर पाउडर जरूर लगाएं। इससे वैक्स के दौरान चिपचिपाहट महसूस नहीं होती है।
  • वैक्सिंग करने के बाद उस हिस्से को अच्छी तरह से हल्के गीले और साफ सूती कपड़े या नैपकिन से पोंछ लें।
  • एक ही स्थान पर बार-बार वैक्स का इस्तेमाल न करें, इससे त्वचा लाल हो सकती है।
  • पीरियड्स के समय वैक्सिंग करने से बचें।
  • अगर स्किन पर किसी प्रकार का घाव है या त्वचा छिली या जली हो, तो ऐसे में वैक्सिंग से परहेज करें।
  • यही नहीं, वैक्सिंग की प्रक्रिया के दौरान अपने रूम के तापमान का भी ध्यान रखें। अगर रूम में अधिक गर्मी है, तो पसीना आ सकता है, जिससे वैक्स ठीक तरह से काम नहीं करेगा।

पढ़ना जारी रखें

लेख के अंत में जानें वैक्सिंग के नुकसान त्वचा पर क्या-क्या हो सकते हैं। 

वैक्सिंग के नुकसान – Side Effects of Waxing in Hindi

त्वचा पर वैक्सिंग के नुकसान निम्नलिखित हो सकते हैं: 

  • वैक्सिंग की प्रक्रिया दर्दनाक हो सकती है, खासकर जब स्ट्रिप को खिंचा जाता है। हालांकि, यह दर्द लंबे समय तक नहीं होता है, लेकिन तेज हो सकता है।
  • कुछ लोगों को वैक्सिंग से एलर्जी की समस्या हो सकती है।
  • वैक्सिंग की वजह से त्वचा लाल हो सकती है या फिर वहां जलन महसूस हो सकती है।
  • वैक्सिंग कराने के बाद त्वचा से हल्की मात्रा में खून निकल सकता है। ऐसी संभावना मोटे बालों वाले क्षेत्रों में वैक्सिंग करते समय अधिक होती है।
  • रोजाना या लंबे समय तक वैक्सिंग कराने से त्वचा की लोच गायब हो सकती है।
  • अगर अधिक गर्म वैक्स का इस्तेमाल किया जाए, तो इससे त्वचा जल भी सकती है।
  • संवेदनशील त्वचा वाले लोगों को वैक्सिंग के बाद दाने हो सकते हैं। इसलिए, अगर पहली बार वैक्सिंग करने जा रहे लोगों को पैच टेस्ट जरूर करना चाहिए।
  • वैक्सिंग की प्रक्रिया थोड़ी धीमी होती है। अगर कोई एक बार में शरीर के बड़े हिस्से के बालों को हटाना चाहता है, तो इसके लिए वैक्सिंग कारगर साबित नहीं हो सकती है। इसका इस्तेमाल छोटे-छोटे भागों पर ही लगा कर किया जा सकता है, जिसमें काफी लंबा समय लग सकता है।

त्वचा की कोमलता को बनाए रखने के साथ-साथ अनचाहे बालों से छुटकारा पाने के लिए वाकई में वैक्स के फायदे देखे जा सकते हैं। इस लेख में हमने घर पर वैक्सिंग बनाने की विधि के अलावा वैक्सिंग करने का तरीका भी बताया है। ऐसे में अब आप अपनी स्किन केयर रूटीन में वैक्सिंग को आसानी से जगह दे सकती है। वहीं, ध्यान रखें कि अगर पहली बार खुद से वैक्सिंग कर रही हैं, तो किसी अनुभवी की देखरेख में ही करें। 

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल:

क्या वैक्सिंग करना सेहत के लिए अच्छा है?

हां, वैक्सिंग करना सेहत के लिए अच्छा माना जा सकता है। इससे अनचाहे बालों के साथ-साथ डेड स्किन भी त्वचा से आसानी से निकल जाती है।

क्या वैक्सिंग करने से बालों का बढ़ना रुक जाता है?

नहीं, वैक्सिंग करने से बालों का बढ़ना नहीं रुकता बल्कि, इसे बालों के बढ़ने की रफ्तार धीमी हो जाती है।

क्या वैक्सिंग करने से त्वचा में निखार आ सकता है?

हां, वैक्सिंग करने से त्वचा में निखार आ सकता है। दरअसल, वैक्सिंग की मदद से टैनिंग और डेड स्किन से छुटकारा पाया जा सकता है। ऐसा माना जाता है कि यह प्रक्रिया त्वचा में निखार लाने में मदद कर सकती है।

वैक्सिंग को शेविंग से बेहतर क्यों माना गया है?

वैक्सिंग को शेविंग से बेहतर इसलिए माना गया है, क्योंकि यह शेविंग के मुकाबले त्वचा के लिए अधिक सुरक्षित है। इससे बालों के साथ-साथ डेड स्किन को भी हटाया जा सकता है। साथ ही यह बालों के बढ़ने की गति को भी धीमी करती है। वहीं, शेविंग से त्वचा के कटने या डैमेज होने की संभावना अधिक होती है। साथ ही इससे बालों की ग्रोथ में भी कमी नहीं आती है।

क्या वैक्स डेड स्किन को हटा देता है?

हां, वैक्स त्वचा की डेड स्किन को निकालने में मददगार साबित हो सकता है।

संदर्भ (Sources)

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. Therapy of hypertrichosis
    https://onlinelibrary.wiley.com/doi/abs/10.1111/j.1610-0387.2007.06098.x
  2. Prevention and Treatment of Injuries and Infections Related to Pubic Hair Removal
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/28784212/
  3. Cold wax hair removal (depilatory) compositions
    https://pubchem.ncbi.nlm.nih.gov/patent/US-2004175340-A1
Was this article helpful?
The following two tabs change content below.
अंकित रस्तोगी ने साल 2013 में हिसार यूनिवर्सिटी, हरियाणा से एमए मास कॉम की डिग्री हासिल की है। वहीं, इन्होंने अपने स्नातक के पहले वर्ष में कदम रखते ही टीवी और प्रिंट मीडिया का अनुभव लेना शुरू कर दिया था। वहीं, प्रोफेसनल तौर पर इन्हें इस फील्ड में करीब 6 सालों का अनुभव है। प्रिंट, टीवी और डिजिटल मीडिया में इन्होंने संपादन का काम किया है। कई डिजिटल वेबसाइट पर इनके राजनीतिक, स्वास्थ्य और लाइफस्टाइल से संबंधित कई लेख प्रकाशित हुए हैं। इनकी मुख्य रुचि फीचर लेखन में है। इन्हें गीत सुनने और गाने के साथ-साथ कई तरह के म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट बजाने का शौक भी हैं।

ताज़े आलेख