वेट डैंड्रफ क्या है, कारण और हटाने के घरेलू उपाय – Wet Dandruff Treatment at Home in Hindi

Written by , (एमए इन मास कम्युनिकेशन)

आंकड़ों पर गौर करें, तो रूसी की समस्या लगभग 50 फीसदी से अधिक आबादी को प्रभावित करती है (1)। मगर बहुत कम लोग ही वेट डैंड्रफ के बारे में जानते होंगे। वेट डैंड्रफ को ऑयली डैंड्रफ भी कहते हैं, जिसे मेडिकल टर्म में पीटीरिआसिस स्टीटॉयड (Pityriasis Steatoides) के नाम से जाना जाता है। यह रूसी का ही एक प्रकार होता है। बस यह सामान्य रूसी से थोड़ा अलग होता है, जिसमें स्कैल्प से अलग हुए त्वचा के छोटे टुकड़े सफेद या पीले रंग के नजर आते हैं और स्कैल्प पर चिपके रहते हैं (2)। जानकारी के अभाव के कारण लोग सामान्य रूसी और वेट डैंड्रफ में अंतर नहीं कर पाते हैं। यही वजह है कि स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम वेट डैंड्रफ के बारे में बता रहे हैं। साथ ही यहां हम वेट डैंड्रफ के कारण और इससे निजात पाने के घरेलू उपाय की भी जानकारी देंगे।

शुरू करते हैं लेख

तो आइए लेख में आगे बढ़कर हम सबसे पहले वेट डैंड्रफ के प्रकार जान लेते हैं।

वेट डैंड्रफ कितने प्रकार के होते हैं?

अगर आप सोच रहे हैं कि वेट डैंड्रफ कितने प्रकार के होते हैं, तो बता दें कि वेट डैंड्रफ अपने आप में ही रूसी का एक प्रकार होता है। वहीं, रूसी मुख्य रूप से दो प्रकार की होती है, जिसमें ऑयली डैंड्रफ और ड्राई डैंड्रफ शामिल हैं (2)। इसके अलावा नीचे हम स्कैल्प की स्थिति के आधार पर डैंड्रफ के कुछ प्रकार बता रहे हैं, जिन्हें ऑयली डैंड्रफ के तौर पर देखा जाता है।

  1. ऑयली डैंड्रफजैसा लेख के शुरू में ही बता चुके हैं कि वेट डैंड्रफ को ही ऑयली डैंड्रफ कहते हैं और इसे चिकित्सीय भाषा में पीटीरिआसिस स्टीटॉयड कहा जाता है। सिर के स्कैल्प पर सीबम के अधिक उत्पादन के कारण यह समस्या हो सकती है। इसके कारण स्कैल्प पर सूजन की समस्या भी हो सकती है, जो स्कैल्प में जख्म होने का भी जोखिम बढ़ा सकती है। खास यह है कि यह समस्या मुख्य रूप से युवा पुरुषों में अधिक देखने को मिल सकती है। साथ ही डैंड्रफ का यह प्रकार एंड्रोजेनिक एलोपेशीया (Androgenetic Alopecia – पुरुषों का गंजापन) का जोखिम भी बढ़ा सकता है। वैसे आमतौर पर इसकी समस्या सिर के स्कैल्प पर अधिक होती है। वहीं गंभीर स्थितियों में यह समस्या भौंहों के बीच, नाक के किनारे, कान के पीछे, स्तनों को ऊपर और कभी-कभी अंडरआर्म्स में भी हो सकती है (2)।
  1. सेबोरेहिक डर्मेटाइटिस या गंभीर ऑयली डैंड्रफ – सेबोरेहिक डर्मेटाइटिस (Seborrheic Dermatitis) एक ऐसी समस्या है, जिसमें त्वचा के साथ-साथ स्कैल्प भी प्रभावित होता है। लगभग 5 फीसदी वयस्कों में यह समस्या देखी जा सकती है। इस समस्या में सिर की त्वचा में सूजन आ जाती है (3)। साथ ही इसमें स्कैल्प की त्वचा लाल और पपड़ीदार हो जाती है, जिससे स्कैल्प पर खुजली हो सकती है। वहीं ऑयली डैंड्रफ की तरह इस स्थिति में सफेद या पीली रूसी स्कैल्प पर चिपकी रहती है (4)। इस वजह से सेबोरेहिक डर्मेटाइटिस को ऑयली डैंड्रफ के गंभीर प्रकार के रूप में देखा जाता है।

नीचे स्क्रॉल करें

अब आगे हम वेट डैंड्रफ होने के कारण समझने का प्रयास करेंगे।

वेट डैंड्रफ होने के कारण – What Causes Wet Dandruff in Hindi

सेबोरेहिक डर्मेटाइटिस या वेट डैंड्रफ होने के कारण निम्न हैं :

  • फंगस होना वेट डैंड्रफ का मुख्य कारण मालासेजिया (Malassezia) फंगस को माना जाता है (5)। मालासेजिया फंगस मुख्य रूप से सिर की त्वचा (स्कैल्प) को प्रभावित करता है। गर्मियों के मौसम में अधिक तापमान के कारण स्कैल्प पर पसीना अधिक आता है, जो इस फंगस के विकास को बढ़ावा दे सकता है (6)।
  • अतिरिक्त सीबम का उत्पादन होनाअधिक सीबम (त्वचा द्वारा निकलने वाला प्राकृतिक तेल) भी डैंड्रफ पैदा करने वाले फंगस (Malassezia) को बढ़ावा देने का काम कर सकता है। इस आधार पर स्कैल्प पर उपस्थित तैलीय ग्रंथियों का अधिक सक्रिय होना भी वेट डैंड्रफ का एक कारण माना जा सकता है (4)।
  • बालों की देखभाल करना अगर बालों की देखभाल और उनकी साफ-सफाई उचित तरीके से न की जाए, तो इस कारण भी डैंड्रफ की वजह बनने वाले मालासेजिया जैसे फंगस के विकास को बढ़ावा मिल सकता है (5)। ऐसे में बालों और स्कैल्प की साफ-सफाई न करने की वजह से भी वेट डैंड्रफ की समस्या हो सकती है।

पढ़ते रहें लेख

लेख के इस भाग में हम वेट डैंड्रफ हटाने के घरेलू उपाय के बारे में जानकारी हासिल करेंगे।

वेट डैंड्रफ हटाने के घरेलू उपाय – Home Remedies for Wet Dandruff in Hindi

नीचे हमने क्रमवार वेट डैंड्रफ से निजात पाने के लिए कुछ घरेलू नुस्खों की जानकारी दे रहे हैं। हालांकि, एक बात का ध्यान रखें कि यहां बताए गए घरेलू उपाय इस समस्या को कम करने में कारगर हो सकते हैं, लेकिन इन्हें वेट डैंड्रफ का उपचार नहीं कहा जा सकता है। इस समस्या का पूर्ण इलाज डॉक्टरी परामर्श पर ही निर्भर करता है।

1. एलोवेरा जेल

सामग्री :

  •     5 बड़े चम्मच एलोवेरा जेल

उपयोग करने का तरीका :

  • ताजी पत्तियों से निकाले गए एलोवेरा जेल को स्कैल्प पर लगाएं।
  • फिर स्कैल्प की मालिश करें।
  • इसके करीब 30 मिनट बाद बालों को शैम्पू कर लें।

कैसे फायदेमंद है :

एलोवेरा जेल के फायदे में से एक यह भी है कि यह वेट डैंड्रफ से रहत दिलाने में मदद कर सकता है। इस बात की पुष्टि डैंड्रफ से जुड़े एक शोध से होती है। इस शोध में माना गया है कि कई एंटीडैंड्रफ उत्पादों में एलोवेरा को मुख्य रूप से शामिल किया जाता है। वजह यह है कि इसमें एंटी डैंड्रफ प्रभाव पाया जाता है (7)। इस आधार पर यह माना जा सकता है कि एलोवेरा के फायदे वेट डैंड्रफ की समस्या दूर करने में कारगर हो सकते हैं।

सावधानी :

कुछ मामलों में एलोवेरा से एलर्जी का जोखिम हो सकता है। इसलिए एलोवेरा को इस्तेमाल करने से पहले पैच टेस्ट जरूर कर लें (8)।

2. सेब का सिरका

 सामग्री :

  •     4 चम्मच सेब का सिरका (बालों की लंबाई के अनुसार मात्रा कम या ज्यादा की जा सकता है)
  •     4 चम्मच पानी

उपयोग करने का तरीका :

  •     एक कटोरी में सेब का सिरका और पानी मिलाएं।
  •     इसके बाद बालों को शैंपू से धोएं।
  •     फिर बालों और स्कैल्प में सेब के सिरके वाला पानी लगाएं।
  •     करीब 15 मिनट बाद साफ पानी से बालों को धो लें।

कैसे फायदेमंद है :

वेट डैंड्रफ से राहत के लिए सेब के सिरके का उपयोग किया जा सकता है। दरअसल, सेब के सिरके में एंटीमाइक्रोबियल व एंटीफंगल गुण होते हैं (9)। वहीं फंगस वेट ड्रैंडफ का मुख्य कारण माना जाता है (5)। इसके अलावा एक अन्य शोध में भी सीधे तौर पर स्वीकार किया गया है कि सेब के सिरके में एंटीडैंड्रफ (डैंड्रफ से राहत दिलाने वाला) प्रभाव मौजूद होता है (10)। इस आधार पर वेट डैंड्रफ के लिए सेब का सिरका इस्तेमाल करना लाभकारी माना जा सकता है।

सावधानी :

कुछ मामलों में सेब का सिरका त्वचा पर जलन या चुभन का कारण बन सकता है। इसलिए पैच टेस्ट करने के बाद ही इसका इस्तेमाल करें (11)।

3. नींबू का रस और आंवले का रस

सामग्री :

  •     2 चम्मच नींबू का रस
  •     5 चम्मच आंवाले का रस

उपयोग करने का तरीका :

  •     नींबू के रस को आंवले के रस के साथ मिलाएं।
  •     इस तैयार मिश्रण को नहाने से पहले अच्छी तरह स्कैल्प पर लगाएं।
  •     फिर आधे घंटे बाद बालों को शैंपू से धो लें।

कैसे फायदेमंद है :

नींबू के फायदे की बात करें, तो इसके अर्क में एंटीफंगल गुण होता है, जो मालासेजिया संक्रमण (वेट डैंड्रफ होने का एक कारण) को रोकने में प्रभावी हो सकता हैं। इसके अलावा, नींबू के अर्क में लगभग 5 से 6 फीसदी की मात्रा में एसिडिक प्रभाव भी होता है, जो संक्रमण और फंगस को कम करने में मदद कर सकता है (12)। वहीं आंवले के रस के फायदे की बात करें, तो इसमें एंटीडैंड्रफ (डैंड्रफ से राहत दिलाने वाला) प्रभाव होता है, जो सीधे तौर पर वेट डैंड्रफ का कारण बनने वाले मालासेजिया संक्रमण को दूर करने में प्रभावी हो सकता है (13)। इस आधार पर वेट डैंड्रफ के खिलाफ नींबू और आंवले के मिश्रण अधिक लाभकारी माना जा सकता है।

सावधानी :

नींबू का रस इस्तेमाल करने से संवेदनशील त्वचा वाले लोगों को स्किन से जुड़ी एलर्जी की समस्या हो सकती है (14)।

4. बेकिंग सोडा

सामग्री :

  •     2 से 3 चम्मच बेकिंग सोडा

उपयोग करने का तरीका :

  •     नहाने से पहले सिर की त्वचा पर बेकिंग सोडा का पाउडर लगाएं।
  •     अब इसे 10 मिनट के लिए ऐसे ही छोड़ दें।
  •     इसके बाद गुनगुने पानी से बालों को अच्छी तरह साफ कर लें।

कैसे फायदेमंद है :

वेट डैंड्रफ का कारण बनने वाले फंगल संक्रमण को दूर करने में बेकिंग सोडा मदद कर सकता है। दरअसल, बेकिंग सोडा में एंटीफंगल गुण होता है (15)। वहीं वेट डैंड्रफ का मुख्य कारण मालासेजिया फंगस को माना जाता है (6)। इस वजह से ऐसा माना जा सकता है कि वेट डैंड्रफ की समस्या को खत्म करने में बेकिंग सोडा के फायदे प्रभावी हो सकता है।

सावधानी

बेकिंग सोडा का अधिक मात्रा में इस्तेमाल त्वचा पर जलन या चुभन का कारण बन सकता है (16)। इसलिए इसे अधिक मात्रा में न करें।

5. मेथी के बीज (मेथी दाना

सामग्री :

  •     आधा चम्मच मेथी दाना

उपयोग करने का तरीका :

  •     मेथी के बीज को रात भर के लिए पानी में भिगो दें।
  •     सुबह इसे पानी से छानकर इसका पेस्ट बना लें।
  •     फिर इसे अपनी स्कैल्प पर अच्छी तरह से लगा लें।
  •     लगभग 20 मिनट के बाद गुनगुने पानी से बालों को अच्छी तरह से धो लें।

कैसे फायदेमंद है :

जैसा लेख में बताया गया है कि मालासेजिया फरफर एक तरह का फंगस होता है, जो रूसी का कारण बन सकता है (6)। ऐमे में मेथी के बीज का उपयोग करना इस समस्या से निजात दिलाने में फायदेमंद हो सकता है। एक शोध के अनुसार, मेथी के बीज में एंटी डैंड्रफ गुण होता है, जो रूसी का कारण बनने वाले फंगस को दूर करने में मदद कर सकता है (17)। मेथी के बीजों के अलावा, वेट डैंड्रफ की समस्या दूर करने के लिए मेथी के पत्तों का उपयोग भी किया जा सकता है। एनसीबीआई पर प्रकाशित एक अन्य शोध इसकी पुष्टि करता है। शोध में जिक्र मिलता है कि मेथी की पत्तियों के अर्क में डैंड्रफ का कारण बनने वाले फंगल संक्रमण को कम करने में मदद कर सकता है (18)। इस आधार पर वेट डैंड्रफ के घरेलू उपाय में मेथी के बीज के साथ-साथ इसकी पत्तियों का पेस्ट भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

सावधानी

मेथी के बीज से तैयार पेस्ट को लंबे समय तक बालों में न लगा रहने दें और इसे गुनगुने पानी से साफ करें। नहीं तो इसे बालों से निकालने में परेशानी हो सकती है।

लेख में आगे बढ़ें

यहां अब हम वेट डैंड्रफ के इलाज से जुड़ी जानकारी देंगे।

वेट डैंड्रफ का इलाज – Wet Dandruff Treatment in Hindi

लेख में बताए गए वेट डैंड्रफ हटाने के घरेलू उपाय से लाभ न मिलने की स्थिति में डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए। वेट डैंड्रफ के कारणों और स्थिति के आधार पर डॉक्टर कुछ मेडिकल उपचार की सिफारिश कर सकते हैं। यह उत्पाद कुछ इस प्रकार हैं :

  1. एंटी डैंड्रफ शैंपू बालों और स्कैल्प से जुड़ी समस्याओं के इलाज के लिए शैंपू का इस्तेमाल करना प्रभावी हो सकता है। शैंपू बालों से जुड़ा एक कॉस्मेटिक होता है। यह बालों की सफाई करने से लेकर, अतिरिक्त तेल हटाने और बालों को मॉइस्चराइज भी करने में मदद कर सकते हैं। यह रूसी के कारणों (जैसे :- मालासेजिया और सेबोर्रहिया) और स्कैल्प के पीएच स्तर को संतुलित बनाए रखने में भी मदद कर सकते हैं। हालांकि, यह बालों के प्रकार और समस्याओं के अनुसार ही इस्तेमाल किया जाना चाहिए (5)। वहीं मेडिकल उपचार के तौर पर त्वचा विशेषज्ञ एंटी डैंड्रफ (डैंड्रफ से राहत दिलाने वाला) और एंटी इन्फ्लामेट्री (सूजन कम करने वाला) प्रभाव वाले उत्पादों व शैंपू का इस्तेमाल करने की सलाह मुख्य रूप से दे सकते हैं (19)।

साथ ही इस बात का विशेष ध्यान रखें कि वेट डैंड्रफ का इलाज करने के लिए एंटी डैंड्रफ शैंपू खरीदते समय उनमें मौजूद निम्न सामग्रियों का ध्यान रखना चाहिए, जो हैं (20):

  • जिंक पाइरिथियोन या जिंक ओमाडीन (zinc Pyrithione or Zinc Omadine)
  • सेलेनियम सल्फाइड (Selenium Sulphide)
  • पिरोक्टोन ओलामाइन (Piroctone Olamine)। यह एक मेडिकेटेड शैंपू है, जिसे ‘सेकंड जनरेशन’ एंटी डैंड्रफ एजेंट के रूप में जाना जाता है। इसके अलावा यह जिंक पाइरिथियोन की तुलना में कम विषाक्त होता है।
  1. टार युक्त शैंपूटार युक्त शैंपू का इस्तेमाल करने से मालासेजिया की समस्या को कम किया जा सकता है (21)।
  1. एंटी फंगल शैंपूवेट डैंड्रफ के इलाज के लिए जरूरी है कि इसके कारणों की रोकथाम की जाए। वहीं इसका एक कारण मालासेजिया की रोकथाम करने में एंटीफंगल युक्त शैंपू का इस्तेमाल करना भी प्रभावकारी माना जा सकता है (22)।
  1. इम्यूनिटी बढ़ाने वाली क्रीम एनसीबीआई के शोध के अनुसार, नए उपचारों में इम्यून मॉड्यूलेटर (इम्यूनिटी बढ़ाने वाला) के तौर पर कैल्सिनुरिन इनहिबिटर (Calcineurin Inhibitors) और मेट्रोनिडाजोल (Metronidazole) जैसी त्वचा पर लगाने वाली क्रीम का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। यह गंभीर ऑयली डैंड्रफ के प्रकार सेबोरेहिक डर्मेटाइटिस के उपचार में प्रभावी हो सकती हैं (4)। हालांकि, इनका इस्तेमाल डॉक्टरी सलाह पर ही करना चाहिए।
  1. विलायती मेहंदी (Myrtus Communis) – विलायती मेंहदी में एंटी माइक्रोबियल, एंटीफंगल और एंटीऑक्सीडेंट जैसे प्रभाव होते हैं। इन्हीं प्रभावों को देखते हुए इसका इस्तेमाल कई कॉस्मेटिक उत्पादों में किया जाता है, जिसमें शैंपू भी शामिल हैं। अध्ययनों के अनुसार इसका एंटी डैंड्रफ प्रभाव रूसी के कारण मालासेजिया फंगस के खिलाफ प्रभावी हो सकता है (23)। इसे देखते हुए एक हर्बल उपचार के तौर पर इसका इस्तेमाल करना वेट डैंड्रफ के इलाज में प्रभावी हो सकता है।

और भी है बहुत कुछ

लेख के अगले भाग में हम डैंड्रफ से बचाव के कुछ आसान उपाय जानेंगे।

वेट डैंड्रफ से बचने के उपाय

नीचे दिए गए बिंदुओं के आधार पर हम वेट डैंड्रफ से बचाव के उपायों के बारे में जान सकते हैं, जो कुछ इस प्रकार हैं :

  1. हर्बल तेल का इस्तेमाल लेख में यह पहले ही बता चुके हैं कि वेट डैंड्रफ का एक कारण मालासेजिया फरफर फंगस भी हो सकता है (6)। वहीं, बालों की देखभाल में तेल सबसे गुणकारी माने जा सकते हैं। हर्लब तेलों का इस्तेमाल स्कैल्प से जुड़े इस फंगल इन्फेक्शन को दूर रखने में मदद कर सकते हैं। साथ ही ये बालों को मॉइस्चराइजिंग करने में भी मदद करते हैं। इसके लिए निम्नलिखित हर्बल तेलों का इस्तेमाल कर सकते हैं (1)।
  1. स्वस्थ आहार लेना – बालों के साथ-साथ स्कैल्प की सेहत के लिए भी स्वस्थ आहार जरूरी होता है। इसके लिए अपने आहार में पालक, गाजर, अंडा, दलिया, स्ट्रॉबेरी, अमरूद, दही और शकरकंद जैसे खाद्य शामिल कर सकते हैं। ये बालों के साथ-साथ स्कैल्प से जुड़ी समस्याओं को भी कम करने में मदद कर सकते हैं (2)।
  1. शैंपू करनाजैसा लेख में बताया गया है कि वेट डैंड्रफ की समस्या सीबम के अधिक उत्पादन के कारण भी हो सकती है, ऐसे में इस तरह के लोगों को नियमित रूप से बालों में शैंपू करना चाहिए। ताकि स्कैल्प पर मौजूद अतिरिक्त तेल हटाया जा सके और हेयर शाफ्ट को नुकसान पहुंचने से बचाया जा सके (24)।
  1. उपयुक्त शैंपू का चुनाव करनातैलीय त्वचा के लोगों को ऐसे शैंपू का चुनाव करना चाहिए, जो बालों व स्कैल्प पर जमे हुए अधिक तेल को साफ करने में कारगर हो।
  1. हेयर उत्पाद के प्रति सतर्कता बार-बार शैंपू या हेयर उत्पाद न बदलें। यह बालों पर बुरा प्रभाव डाल सकता है।
  1. हेयर कॉस्मेटिक का कम इस्तेमाल हेयर जेल, स्प्रे या केमिकल युक्त शैंपू का इस्तेमाल करने से बचें। इनके उपयोग से स्कैल्प से जुड़ी परेशानियां अधिक बढ़ सकती हैं।

अंत तक पढ़ें

लेख के अंत में हम वेट डैंड्रफ से होने वाले नुकसान के बारे में जानकारी हासिल करेंगे।

वेट डैंड्रफ से होने वाले नुकसान – Side Effects of Wet Dandruff in Hindi

वेट डैंड्रफ के कारण सबसे ज्यादा बालों को नुकसान पहुंच सकता है, जो निम्नलिखित हो सकते हैं (2):

  •   जैसा लेख में बताया गया कि तैलीय रूसी की समस्या में बालों का झड़ना गंभीर हो सकता है, जो गंजेपन का भी कारण बन सकता है।
  •    यह समस्या स्कैल्प से बढ़कर भौंहों और अन्य हिस्सों में भी फैल सकती है।
  •    नाखूनों से खुजलाने से स्कैल्प पर खरोंच लगने या कटने का भी जोखिम हो सकता है।
  •    जैसा लेख में बताया है कि ऑयली डैंड्रफ की स्थिति में स्कैल्प पर एक पपड़ीदार परत जम जाती हैं, जो बालों के रोम छिद्र बंद कर सकती है। इससे बालों का विकास भी प्रभावित हो सकता है।

उम्मीद करते हैं कि इस लेख में बताए गए वेट डैंड्रफ हटाने के घरेलू उपाय आपके लिए किफायती साबित होंगे। हालांकि, ध्यान रखें कि वेट डैंड्रफ होने के कारण पता करने पर ही इनका उचित उपचार किया जा सकता है। अगर आपकी समस्या हाल ही में शुरू हुई है, तो लेख में बताए गए वेट डैंड्रफ हटाने के घरेलू उपाय आप आजमां सकते हैं। वहीं अगर आपकी समस्या गंभीर और पुरानी है, तो बिना देर किए डॉक्टर से मिलें। बालों और त्वचा से जुड़ी ऐसी ही अन्य स्थितियों की जानकारी और उनका उपचार जानने के लिए पढ़ते रहें स्टाइलक्रेज।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

वेट डैंड्रफ होने पर क्या मुझे हर दिन अपने बाल धोने चाहिए?

हां, हर दिन माइल्ड शैंपू से बालों को धोने से स्कैल्प से अतिरिक्त तेल को साफ करने व स्कैल्प की कोशिकाओं को बनाने में मदद मिल सकती है। अगर माइल्ड शैंपू इसमें प्रभावी नहीं होती है, तो डैंड्रफ हटाने वाला शैंपू भी इस्तेमाल किया जा सकता है। हालांकि, इसके लिए भी आपको अपनी स्कैल्प के प्रकार के हिसाब से ही शैंपू का चुनाव करना चाहिए (25)। ताकि वेट डैंड्रफ की समस्या का आप बेहतर तरीके से निपटारा कर सकें।

स्कैल्प पर पीले रंग की रूसी होने का क्या मतलब होता है?

लेख में पहले ही बताया जा चुका है कि सिर पर पीले रंग की रूसी होना सेबोरेहिक डर्मेटाइटिस या वेट डैंड्रफ इशारा हो सकता है (4)।

क्या यौवनावस्था के कारण रूसी होती है?

हां, दरअसल किशोरावस्था के दौरान शरीर में हार्मोन का स्तर बढ़ता है, जो स्कैल्प पर अधिक तेल के उत्पादन का कारण बन सकता है। इस वजह से रूसी की समस्या हो सकती है (4)।

मेरे सिर पर पपड़ी क्यों पड़ती है?

जैसा लेख में बताया गया है कि वेट डैंड्रफ की समस्या में सिर की त्वचा पर पपड़ी पड़ने की समस्या हो सकती है (2)। इसके अलावा अगर नियमित रूप से स्कैल्प व बालों की साफ-सफाई का ध्यान न रखा जाए, तो धूल-मिट्टी जमने के कारण भी सिर की त्वचा पर पपड़ी की समस्या हो सकती है, जो मालासेजिया फंगस का भी कारण बन सकता है (5)।

Sources

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. AN OVERVIEW OF DANDRUFF AND NOVEL FORMULATIONS AS A TREATMENT STRATEGY
    https://ijpsr.com/bft-article/an-overview-of-dandruff-and-novel-formulations-as-a-treatment-strategy/?view=fulltext
  2. Review on Hair Problem and its Solution
    https://www.researchgate.net/publication/342174156_Review_on_Hair_Problem_and_its_Solution
  3. Adult Seborrheic Dermatitis
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3100109/
  4. Seborrheic Dermatitis and Dandruff: A Comprehensive Review
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4852869/
  5. Shampoos: Ingredients, efficacy and adverse effects
    https://citeseerx.ist.psu.edu/viewdoc/download?doi=10.1.1.861.6483&rep=rep1&type=pdf
  6. Malassezia—Can it be Ignored?
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4533528/
  7. Formulation and evaluation of herbal anti-dandruff shampoo
    https://citeseerx.ist.psu.edu/viewdoc/download?doi=10.1.1.428.7679&rep=rep1&type=pdf
  8. .

  9. Anaphylaxis to topical Aloe vera in a birch pollen allergic child
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4072281/
  10. Authenticating apple cider vinegar’s home remedy claims: antibacterial, antifungal, antiviral properties and cytotoxicity aspect
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/29224370/
  11. SHAMPOOS BASED ON SYNTHETIC INGREDIENTS VIS-A-VIS SHAMPOOS BASED ON HERBAL INGREDIENTS: A REVIEW
    http://citeseerx.ist.psu.edu/viewdoc/download?doi=10.1.1.1079.5916&rep=rep1&type=pdf
  12. Apple cider vinegar soaks [0.5%] as a treatment for atopic dermatitis do not improve skin barrier integrity
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/31328306/
  13. Analysis on the Natural Remedies to Cure Dandruff/Skin Disease-causing Fungus – Malassezia furfur.
    https://www.researchgate.net/profile/Saneesh-Kumar-2/publication/261071142_Analysis_on_the_Natural_Remedies_to_Cure_DandruffSkin_Disease-causing_Fungus_-_Malassezia_furfur/links/00b7d5332a4ed64d4f000000/Analysis-on-the-Natural-Remedies-to-Cure-Dandruff-Skin-Disease-causing-Fungus-Malassezia-furfur.pdf
  14. Antifungal activity of Amla extracts against dandruff causing pathogens (Malassezia sp.)
    https://ijarbs.com/pdfcopy/jan2016/ijarbs27.pdf
  15. Citrus Allergy from Pollen to Clinical Symptoms
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3537725/
  16. Antifungal activity of sodium bicarbonate against fungal agents causing superficial infections
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/22991095/
  17. Final Report on the Safety Assessment of Sodium Sesquicarbonate, Sodium Bicarbonate, and Sodium Carbonate
    https://journals.sagepub.com/doi/pdf/10.3109/10915818709095491
  18. Effectiveness of Fenugreek Seed Paste on Dandruff among Adolescent Girls in Selected Women’s Hostel, Coimbatore
    https://ijneronline.com/AbstractView.aspx?PID=2014-2-2-13
  19. Fenugreek Leaf Extract and Its Gel Formulation Show Activity Against Malassezia furfur
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/31524496/
  20. Optimizing treatment approaches in seborrheic dermatitis
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/23441240/
  21. Dandruff and itching scalp
    https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/conditionsandtreatments/dandruff-and-itching-scalp
  22. DANDRUFF: THE MOST COMMERCIALLY EXPLOITED SKIN DISEASE
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2887514/
  23. Dandruff and Chemo-Antidandruff Agents
    http://rjtcsonline.com/HTMLPaper.aspx?Journal=Research%20Journal%20of%20Topical%20and%20Cosmetic%20Sciences;PID=2011-2-1-1
  24. The myrtus communis L. solution versus ketoconazole shampoo in treatment of dandruff: A double blinded randomized clinical trial
    https://www.researchgate.net/publication/325683934_The_myrtus_communis_L_solution_versus_ketoconazole_shampoo_in_treatment_of_dandruff_A_double_blinded_randomized_clinical_trial
  25. Hair Cosmetics: An Overview
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4387693/
  26. Anti-dandruff activity of synthetic and herbal shampoos on dandruff causing isolate: Malassezia
    https://www.researchgate.net/publication/313800573_Anti-dandruff_activity_of_synthetic_and_herbal_shampoos_on_dandruff_causing_isolate_Malassezia
Was this article helpful?
thumbsupthumbsup
The following two tabs change content below.
कविता सिंह ने पंजाब तकनीकी विश्वविद्यालय से मास कम्युनिकेशन में स्नातक हैं। इन्होंने वर्ष 2014 में एक प्रख्यात न्यूज चैनल... more

ताज़े आलेख