व्हीटग्रास जूस के फायदे और नुकसान – Wheatgrass Juice Benefits and Side Effects in Hindi

Written by

स्वस्थ रहने के लिए लोग अलग-अलग फलों और सब्जियों का जूस पीते रहते हैं। ऐसा ही एक जूस व्हीटग्रास का भी है। स्वास्थ्य के लिहाज से व्हीटग्राम जूस को फायदेमंद बताया जाता है और कई तरह के दावे भी इसको लेकर किए जा रहे हैं। इससे जुड़ी सच्चाई जानने के लिए स्टाइलक्रेज के इस लेख को पढ़ें। यहां हम बताएंगे कि वैज्ञानिक रिसर्च व्हीटग्रास जूस के फायदे के बारे में क्या कहते हैं। साथ ही व्हीटग्रास जूस बनाने की विधि, उपयोग और नुकसान की भी जानकारी यहां मिलेगी।

विषय सूची


विस्तार से पढ़ें लेख

सबसे पहले व्हीटग्रास जूस के फायदों पर नजर डालें।

व्हीटग्रास जूस के फायदे – Benefits of Wheatgrass Juice in Hindi

व्हीटग्रास जूस यानी गेहूं के जवारे से बने जूस को कुछ लोग संजीवनी भी कहते हैं। क्या हैं इसके फायदे और गुण, जिस वजह से यह संजीवनी कहलाता है, जानने के लिए लेख में आगे बढ़ें। बस ध्यान दें कि इसे किसी भी गंभीर बीमारी का इलाज नहीं समझा जाना चाहिए।

1. एनीमिया के लिए

एनीमिया से बचाव में व्हीटग्रास जूस फायदेमंद साबित हो सकता है। इससे संबंधित एक रिसर्च में जिक्र मिलता है कि पौष्टिक डाइट का सेवन न करने से एनीमिया होता है। ऐसे में व्हीटग्रास में मौजूद  मिनरल्स, विटामिन, एंटीऑक्सीडेंट, अमीनो एसिड समेत कई एंजाइम फायदेमंद साबित हो सकते हैं (1)।

इसमें क्लोरोफिल भी होता है, जो हीमोग्लोबिन से मिलता-जुलता है, क्योंकि दोनों ही क्रोमो प्रोटीन हैं। इसी वजह से व्हीटग्रास को ग्रीन ब्लड भी कहा जाता है। एक रिसर्च में पाया गया कि 21 दिनों तक ताजा व्हीटग्रास जूस पीने से हीमोग्लोबिन की मात्रा बढ़ सकती है (1)। ऐसे में एनीमिया की समस्या से जूझ रहे लोग व्हीटग्रास का सेवन कर सकते हैं।

2. मोटापा

वजन कम करने के लिए भी व्हीटग्रास जूस का उपयोग किया जा सकता है। छोटे स्तर पर किए गए क्लिनिकल ट्रायल में इसे मोटापा कम करने में फायदेमंद पाया गया है (2)। एक अन्य शोध में कहा गया है कि यंग व्हीटग्रास और अन्य क्लोरोफिल प्लांट वजन कम करने में प्रभावी और सुरक्षित होते हैं (3)। ऐसे में वजन नियंत्रित करने में व्हीट ग्रास जूस लाभदायक साबित हो सकता है।

3. कोलेस्ट्रॉल

एक रिसर्च पेपर की मानें, तो व्हीटग्रास में हाइपोलिपिडेमिक प्रभाव होता है, जो कोलेस्ट्रॉल कम कर सकता है। शोध में बताया गया है उच्च कोलेस्ट्रॉल स्तर संबंधी समस्या यानी हाइपरकोलेस्ट्रोलेमिया से जूझ रहे चूहों को व्हीटग्रास जूस देने के बाद मल के द्वारा अतिरिक्त कोलेस्ट्रॉल को बाहर निकालने में मदद मिली (4)। एक अन्य अध्ययन के अनुसार, इसमें मौजूद कोलिन कंपाउंड कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम कर सकता है (3)।

4. सूजन में कमी

सूजन कम करने के तरीकों में से एक व्हीटग्रास जूस भी है। बताया जाता है कि व्हीटग्रास में एंटी इंफ्लेमेटरी प्रभाव होता है, जिससे सूजन कम हो सकती है। इस प्रभाव के कारण जोड़ों से संबंधित सूजन और दर्द दोनों को कम किया जा सकता है। यही नहीं, यूरिक एसिड का स्तर बढ़ने से होने वाली सूजन को कम करने के लिए भी व्हीटग्रास जूस को जाना जाता है (3)।

5. एलर्जी में राहत

एलर्जी को कम करने के लिए भी व्हीटग्रास जूस को फायदेमंद माना जाता है (3)। एक रिसर्च पेपर में लिखा है कि व्हीटग्रास जूस से एलर्जिक राइनाइटिस (नाक में होने वाली एलर्जी) के असर को कम किया जा सकता है। इसमें व्हीटग्रास में मौजूद क्लोरोफिल को फायदेमंद माना जाता है (5)। साथ ही व्हीटग्रास जूस एमएसएम (MSM) सल्फर एलर्जी से राहत दिला सकता है (6)।

6. ब्लड प्रेशर

व्हीटग्रास से ब्लड प्रेशर भी नियंत्रित रहता है (6)। कहा जाता है कि इसमें मौजूद क्लोरोफिल उच्च रक्तचाप को कम करता है। इसे ब्लड प्रेशर रेगुलेट करने का सुरक्षित और प्रभावी तरीका बताया गया है (3)। व्हीटग्रास जूस को हाई ब्लड प्रेशर ही नहीं, सामान्य रक्तचाप वाले भी पी सकते हैं। दरअसल, इसे उच्च स्तर को कम करने के साथ ही ब्लड प्रेशर को सामान्य बनाए रखने के लिए जाना जाता है (6)।

7. बालों के लिए

व्हीटग्रास का उपयोग बालों के लिए भी फायदेमंद साबित हो सकता है। इसमें मौजूद प्रोटीन शरीर में जाकर अमीनो एसिड के रूप में टूटता है। ये अमीनो एसिड बालों को स्वस्थ बनाए रखने में मदद कर सकता है (3)। साथ ही इसमें जिंक भी होता है, जो बालों को पोषण देता है। यही नहीं, व्हीटग्रास जूस बालों को सफेद होने से भी बचा सकता है (6)।

पढ़ते रहें लेख

व्हीटग्रास जूस के फायदे के बाद अब इसके उपयोग के तरीके जानिए।

व्हीटग्रास जूस का उपयोग – How to Use Wheatgrass Juice in Hindi

गेहूं के जवारे के जूस का उपयोग कई तरीकों से किया जा सकता है। उनमें से कुछ इस प्रकार हैं।

  • व्हीटग्रास जूस को ऐसे ही सामान्य तरीके से पी सकते हैं।
  • कुछ लोगों को व्हीटग्रास जूस का स्वाद पसंद नहीं होता है, तो शहद मिलाकर इसे पी सकते हैं।
  • नींबू और थोड़ा चाट मसाला डालकर भी व्हीटग्रास जूस का सेवन किया जा सकता है।
  • व्हीटग्रास जूस को फ्रूट जूस के साथ मिलाकर मिक्स जूस बना सकते हैं।
  • इसे फेस पैक में मिक्स करके त्वचा पर भी लगा सकते हैं।
  • व्हीटग्रास जूस को सुबह खाली पेट पीना अच्छा माना जाता है।

सुरक्षित मात्रा : दिन में दो बाj 100 से 200 मिलीलीटर व्हीटग्रास जूस पीने की सलाह दी जाती है (7)। यह मात्रा व्यक्ति की शारीरिक स्थिति और उम्र के हिसाब से अलग-अलग हो सकती है। ऐसे में एक बार डायटीशियन से इस संबंध में संपर्क जरूर करें।

लेख में बने रहें

अब जानिए कि घर में व्हीटग्रास जूस किस तरह से बनाया जा सकता है।

व्हीटग्रास जूस बनाने की विधि – How to make Wheatgrass Juice in hindi

सामग्री :

  • एक गिलास पानी
  • दो चम्मच व्हीटग्रास पाउडर
  • एक चम्मच नींबू का रस

जूस बनाने की विधि :

  • सबसे पहले तीनों सामग्री को एक मिक्सर में डाल लें।
  • अब इसे 2 से 3 मिनट तक अच्छी तरह ब्लेंड करें।
  • इसके बाद थोड़ा सा और पानी डालें और थोड़ी देर मिक्स करें।
  • फिर इसे एक गिलास में निकालकर छान लें।
  • बस तैयार है व्हीटग्रास जूस

लेख अंत तक पढ़ें

अब हम व्हीटग्रास जूस पीने से संबंधित कुछ जरूरी टिप्स दे रहे हैं।

व्हीटग्रास जूस का सेवन करने के टिप्स- Tips to Consume Wheatgrass Juice in hindi

व्हीटग्रास जूस को पीने से पहले कुछ महत्वपूर्ण बातों को ध्यान में रखना जरूरी होता है। इन जरूरी बातों के बारे में हम नीचे कुछ बिंदुओं की मदद से बता रहे हैं :

  • गेहूं के जवारे का जूस हमेशा ताजा ही पीना चाहिए।
  • शुरुआत में व्हीटग्रास जूस को कम मात्रा में लें। इसकी मात्रा को धीरे-धीरे बढ़ा सकते हैं।
  • अगर इसके सेवन से किसी को एलर्जी होती है, तो इसका सेवन बंद कर दें।
  • एक ही बार में अधिक मात्रा में इसे पीने से बचें। हमेशा इसकी सीमित मात्रा का ही सेवन करना लाभकारी होता है।
  • निरंतरता हर चीज में जरूरी है। ठीक ऐसा ही व्हीटग्रास जूस के साथ भी है, इसलिए फायदे पाने के लिए रोजाना एक निर्धारित समय तक इसका सेवन करें। एक दिन व्हीटग्रास जूस पीने और दूसरे दिन न पीने से इसके लाभ सही तरह से नहीं मिल पाएंगे।

स्क्रॉल करें

लेख के इस हिस्से में व्हीटग्रास जूस के नुकसान जान लीजिए।

व्हीटग्रास जूस के नुकसान – Side Effects of Wheatgrass Juice in Hindi

सीमित मात्रा में व्हीटग्रास जूस का सेवन करने से किसी तरह के

  • कुछ संवेदनशील लोगों को व्हीटग्रास जूस से एलर्जी हो सकती है (6)।
  • अधिक मात्रा में इसका सेवन करने से जी मिचला सकता है (6)।
  • व्हीटग्रास जूस की अधिकता से उल्टी हो सकती है (6)।
  • गर्भवतियों को डॉक्टर की सलाह पर ही इसका सेवन करना चाहिए (6)।
  • अधिक संवेदनशील लोगों को व्हीटग्रास जूस के कारण जीभ में सूजन हो सकती है (6)।

नियमित रूप से व्हीटग्रास जूस के सेवन से कई समस्याओं को खुद से दूर रखा जा सकता है। साथ ही इसे बनाना भी बेहद आसान है। ऐसे में अब आप चाहें तो व्हीटग्रास जूस को अपने हेल्दी ड्रिंक में शामिल कर सकते हैं। बस इसके उपयोग के समय मात्रा का ध्यान जरूर रखें, वरना इसके दुषपरिणाम भी नजर आ सकते हैं। स्वास्थ्य से जुड़े ऐसे ही आर्टिकल पढ़ते रहें स्टाइलक्रेज की वेबसाइट पर।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

रोजाना गेहूँ के ज्वारे के रस पीने से क्या होगा?

रोजाना व्हीटग्रास पीने से त्वचा खिली-खिली रहेगी। यही नहीं, गेहूँ के ज्वारे के रस के फायदे में  मोटापे और कोलेस्ट्रॉल को कम करना और खून बढ़ाना भी शामिल है।

क्या गेहूँ के ज्वारे के रस के फायदे पाने के लिए इसे रात में पी सकते हैं?

हां, इसका सेवन रात को भी किया जा सकता है। यह नींद को बेहतर कर सकता है (3)।

व्हीटग्रास जूस किसे नहीं पीना चाहिए?

संवेदनशील लोगों को व्हीटग्रास जूस नहीं पीना चाहिए। इसके अलावा, जिनका ब्लड शुगर कम हो, उन्हें भी इसे पीने से बचना चाहिए। दरअसल, व्हीटग्रास जूस को रक्त शर्करा कम करने के लिए जाना जाता है (6)।

कितने दिनों तक व्हीटग्रास जूस सुरक्षित रहता है?

फ्रिज में सात दिनों तक व्हीटग्रास जूस को रखा जा सकता है, लेकिन इस जूस को ताजा पीने की ही सलाह दी जाती है।

गेहूं के जवारे जूस के फायदे पाने के लिए इसे कैसे पिएं?

गेहूं के जवारे जूस के फायदे पाने के लिए इसे ताजा और सादा ही पीना चाहिए।

Sources

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Check out our editorial policy for further details.

  1. THE EFFECT OF WHEATGRASS JUICE ON HEMOGLOBIN LEVEL W.S.R. TO SAMANYA-VISHESHA SIDDHANTA
    https://www.ijapr.in/index.php/ijapr/article/view/117
  2. The Medical Use of Wheatgrass: Review of the Gap Between Basic and Clinical Applications
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/26156538/
  3. A pilot study on wheat grass juice for its phytochemical, nutritional and therapeutic potential on chronic diseases.
    https://www.chemijournal.com/vol2issue4/dec2014/2-3-9.1.pdf
  4. Hypolipidemic effect of fresh Triticum aestivum (wheat) grass juice in hypercholesterolemic rats
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/21485304/
  5. Wheatgrass Juice Administration and Immune Measures during Adjuvant Chemotherapy in Colon Cancer Patients: Preliminary Results
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC7345549/
  6. Green Blood Therapy of Wheat Grass – Nature’s Finest Medicine’- A Literature Review
    http://www.iosrjournals.org/iosr-jpbs/papers/Vol11-issue2/Version-4/I1102045764.pdf
  7. A study on wheat grass and its Nutritional value
    https://www.researchgate.net/publication/279370893_A_study_on_wheat_grass_and_its_Nutritional_value
Was this article helpful?
The following two tabs change content below.
विनिता पंगेनी ने एनएनबी गढ़वाल विश्वविद्यालय से मास कम्यूनिकेशन में बीए ऑनर्स और एमए किया है। टेलीविजन और डिजिटल मीडिया में काम करते हुए इन्हें करीब चार साल हो गए हैं। इन्हें उत्तराखंड के कई पॉलिटिकल लीडर और लोकल कलाकारों के इंटरव्यू लेना और लेखन का अनुभव है। विशेष कर इन्हें आम लोगों से जुड़ी रिपोर्ट्स करना और उस पर लेख लिखना पसंद है। इसके अलावा, इन्हें बाइक चलाना, नई जगह घूमना और नए लोगों से मिलकर उनके जीवन के अनुभव जानना अच्छा लगता है।

ताज़े आलेख