सामग्री और उपयोग

व्हे प्रोटीन (प्रोटीन पाउडर) के फायदे, उपयोग और नुकसान – Whey Protein Benefits, Uses and Side Effects in Hindi

by

क्या आप दुबले शरीर के कारण लोगों के सामने हंसी का पात्र बनते हैं? अगर हां, तो अब बारी है शरीर के दुबलेपन को दूर कर लोगों का मुंह बंद करने की। शरीर के कमजोर होने का कारण प्रोटीन की कमी हो सकती है। ज्यादातर प्रोटीन के स्रोत वाले खाद्य पदार्थ में सोया, मांस ,अंडे, दूध और नट्स शामिल होते हैं। इसके अलावा, व्हे प्रोटीन पाउडर भी प्रोटीन की पूर्ति का माध्यम हो सकता है। इसे ज्यादातर जिम जाने वाले इस्तेमाल करते है। स्टाइलक्रेज के इस आर्टिकल में हम आपको प्रोटीन पाउडर के फायदे बताएंगे।

व्हे प्रोटीन के फायदे के बारे में जानने के लिए इस लेख को पढ़ते रहें।

व्हे प्रोटीन के फायदे – Benefits of Whey Protein in Hindi

व्हे प्रोटीन न सिर्फ आपके दुबलेपन को दूर करता है, बल्कि आपको कई बीमारियों से भी बचाता है। यहांं हम प्रोटीन के विभिन्न फायदों के बारे में विस्तार से बता रहे हैं। शुरुआत हम सेहत से जुड़े फायदोंं के साथ कर रहे हैं।

सेहत/स्वास्थ्य के लिए व्हे प्रोटीन पाउडर के फायदे – Health Benefits of Whey Protein in Hindi

1. वजन घटाने के लिए

व्हे प्रोटीन के लेकर आम धारण यह है कि इसका इस्तेमाल वजन बढ़ाने के लिए किया जाता है और यह बात काफी हद तक ठीक भी है, लेकिन हम इससे आगे की बात आपको बताते हैं। आप जानकर हैरान होंगे कि व्हे प्रोटीन के उपयोग से वजन को कम भी किया जा सकता है। इसके सेवन से पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन मिलता है, जो शरीर में ऊर्जा बनाए रखने का काम कर सकता है। इससे भूख शांत रहती है, जिससे वजन को कम करने में मदद मिलती है। ध्यान रहे कि इस प्रोटीन को लेने के साथ-साथ नियमित व्यायाम करना भी जरूरी है (1)।

2. कैंसर

इससे से कोई इनकार नहीं कर सकता है कि कैंसर प्राणघातक बीमारी है। हर कोई इससे बचना चाहता है। ऐसे में अन्य प्राकृतिक व आयुर्वेदिक उत्पादों के साथ-साथ व्हे प्रोटीन पर भी भरोसा किया सजा सकता है। हालांकि, इसमें एंटी-कैंसर गुण पाए जाते हैं, लेकिन इस संबंध में अभी और वैज्ञानिक अध्ययन की जरूरत है (2)।

3. मधुमेह के लिए

व्हे प्रोटीन के फायदे मधुमेह के रोगियों के लिए भी हो सकते हैं। व्हे प्रोटीन इंसुलिन को सक्रिय करने का काम करता है और ब्लड शुगर को कम करने का काम करता है। इससे मधुमेह की समस्या से निजात पाया जा सकता है। इस समस्या के लिए व्हे प्रोटीन लेने के साथ-साथ आपको अपना वजन व कोलेस्ट्रोल को भी नियंत्रित रखना होगा (3)।

4. स्वस्थ हृदय के लिए

एक शोध के अनुसार, व्हे प्रोटीन को हृदय से संबंधित रोगों को दूर करने के लिए उपयोगी माना गया है। इसमें ल्यूटिन पाया जाता है, जो हृदय रोग के जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है (4)।

5. मांसपेशियों के लिए

मांसपेशियों को मजबूती देने में प्रोटीन की भूमिका अहम होती है। वहीं, बॉडी बिल्डर और एथलीट को प्रोटीन की सबसे ज्यादा जरूरत होती है। इसलिए, वो प्रोटीन के सप्लीमेंट के रूप में व्हे प्रोटीन का सहारा लेते हैं (5)।

6. प्रतिरोधक प्रणाली के लिए

प्रोटीन पाउडर प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में भी मदद कर सकता है। व्हे प्रोटीन में अमीनो एसिड सिस्टीन होता है, जो इम्यून सिस्टम को मजबूत करने के लिए ग्लूटाथिओन के स्तर को बढ़ता है। ग्लूटाथिओन एक तरह का एंटीऑक्सीडेंट है, जो प्रतिरोधक प्रणाली को बेहतर कर शरीर को संक्रमण से बचाता है (6)।

7. हड्डियों के लिए

हड्डियों की मजबूती बनाए रखने के लिए सबसे अहम पोषक तत्व कैल्शियम होता है। यह आपको कई तरह के खाद्य पदार्थ से प्राप्त हो सकता है। वहीं, व्हे प्रोटीन में कैल्शियम की भरपूर मात्रा पाई जाती है (7)। इसलिए, हड्डियों की मजबूती के लिए व्हे प्रोटीन पाउडर का उपयोग किया जा सकता है।

8. एनीमिया

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि शरीर में आयरन की कमी से एनीमिया हो सकता है। ऐसे में व्हे प्रोटीन का इस्तेमाल आपके लिए लाभदायक हो सकता है। व्हे प्रोटीन में आयरन की मात्रा पाई जाती है, जिससे एनीमिया की समस्या को दूर करने में मदद मिल सकती है (8) (9)।

9. अस्थमा

अस्थमा के मरीजों के लिए भी व्हे प्रोटीन का उपयोग फायदेमंद हो सकता है। जैसा कि इस आर्टिकल में ऊपर बताया गया है कि व्हे प्रोटीन के प्रयोग से इम्यून सिस्टम को बेहतर किया जा सकता है। इम्यून सिस्टम बेहतर होने से हमारे फेफड़े अच्छी तरह से काम करेंगे और अस्थमा से राहत मिल सकती है। यहां हम स्पष्ट कर दें कि अस्थमा के संबंध में व्हे प्रोटीन पर वैज्ञानिक अध्ययन अभी कम हुआ है (10)।

[ पढ़े: दमा (अस्थमा) के कारण, लक्षण और घरेलू इलाज ]

10. फिटनेस

अगर आप अपनी फिटनेस पर ध्यान देते हैं, तो व्हे प्रोटीन आपको फिट रखने में मदद कर सकता है। व्हे प्रोटीन शरीर को ऊर्जा प्रदान करने और व्यायाम की क्षमता को बढ़ाने का काम कर सकता है। साथ ही यह शरीर के फैट को घटाने में भी सहायक हो सकता है। इससे आप फिट रह सकते हैं (11)।

11. लीवर

लीवर शरीर का जरूरी भाग होता है। इसमें खराबी आने पर शरीर को भारी नुकसान का सामना करना पड़ सकता है। लीवर को सुरक्षित रखने में व्हे प्रोटीन में मौजूद बीटा-लैक्टोग्लोबुलिन और अल्फा-लैक्टाल्बुमिन सहायक हो सकता है। बीटा-लैक्टोग्लोबुलिन और अल्फा-लैक्टाल्बुमिन (प्रोटीन का एक प्रकार) लीवर को खराब होने से बचाने का काम करते हैं। साथ ही ये ऑक्सिडेटिव स्ट्रेस के प्रभाव को कम कर लिवर में आई सूजन को कम कर सकते हैं (12)।

12. आंखों के लिए

आंखों के लिए प्रोटीन पाउडर के फायदे हो सकते हैं। प्रोटीन पाउडर में ल्यूटिन (एक तरह का विटामिन) पाया जाता है, जो रेटिना के ऑप्टिकल डेंसिटी को बढ़ाने का काम कर सकता है। साथ ही ल्यूटिन बढ़ती उम्र के साथ आंखों से संबंधित होने वाले जोखिम को भी कम कर सकता है। इसमें मोतियाबिंद और आंखों की रोशनी का कम होना भी शामिल हो सकता है (4)।

ऊपर सेहत के लिए व्हे प्रोटीन के फायदे जाने, आगे हम त्वचा के लिए इसके फायदे जानेंगे।

त्वचा के लिए व्हे प्रोटीन पाउडर के फायदे – Skin Benefits of Whey Protein Powder in Hindi

1. टोनर की तरह

जब त्वचा में गंदगी जमा हो जाती है, तो उसे साफ करने के लिए टोनर का इस्तेमाल किया जाता है। टोनर में एंटी माइक्रोबियल गुण होते हैं, जो त्वचा को साफ करने का काम करते हैं (13)। वहीं, व्हे प्रोटीन में एंटी माइक्रोबियल गुण पाए जाते हैं (14)। इसलिए, ऐसा माना जा सकता है कि व्हे प्रोटीन का उपयोग टोनर की तरह भी किया जा सकता है।

कैसे करें उपयोग :
  • एक चम्मच व्हे प्रोटीन को आधे कप पानी में मिला लें।
  • फिर इस मिश्रण को रूई की सहायता से त्वचा पर लगाए।
  • कुछ घंटों बाद पानी से साफ कर लें।

2. मुंहासों के इलाज में

मुंहासे होने पर चेहरे की सुंदरता खराब हो जाती है। ऐसे में व्हे प्रोटीन का इस्तेमाल कर मुंहासे से छुटकारा पाया जा सकता है। व्हे प्रोटीन में एंटीमाइक्रोबियल गुण होते हैं, जो मुंहासे को दूर करने का काम कर सकते हैं (14) (15)।

कैसे करें उपयोग :
  • व्हे प्रोटीन को दूध या पानी में मिला लें।
  • फिर इसे पी लें।
  • इसे त्वचा पर लगाया भी जा सकता है।

3. त्वचा की लोच के लिए

उम्र बढ़ने के साथ-साथ त्वचा पर ढीलापन आने लगता है। ऐसे में व्हे प्रोटीन का इस्तेमाल कर त्वचा की लोच (Skin Elasticity) को बेहतर किया जा सकता है। व्हे प्रोटीन में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जो त्वचा को सूरज की पराबैंगनी किरणों से बचाते हैं और लोच को बरकरार रखते हैं (16)।

कैसे करें उपयोग :
  • व्हे प्रोटीन को दूध या पानी में मिला लें।
  • फिर इसे पी लें।
  • इसके सेवन का असर त्वचा पर कुछ दिनों में दिखाई देने लग सकता है।
  • आप चाहें तो व्हे प्रोटीन में थोड़ा-सा पानी डालकर पेस्ट भी बना सकते हैं और उसे त्वचा पर लगा सकते हैं।

4. बेहतर त्वचा

एक शोध के अनुसार, त्वचा को बेहतर बनाने में विटामिन (सी, ए और ई) मुख्य भूमिका निभा सकते हैं (17)। वहीं, व्हे प्रोटीन को विटामिन (सी, ए और ई) का अच्छा स्रोत माना गया है (9)। इसलिए, ऐसा माना जा सकता है कि व्हे प्रोटीन के फायदे त्वचा को हर प्रकार से बेहतर बनाने में मदद कर सकते हैं।

कैसे करें उपयोग :
  • एक चम्मच व्हे प्रोटीन को एक गिलास दूध या पानी के साथ अच्छे से मिला लें।
  • फिर इसे पिएं।
  • आप इसे पानी में मिक्स करके पेस्ट भी बना सकते हैं और इस पेस्ट को चेहरे पर लगा सकते हैं।

5. त्वचा के पीएच स्तर को बनाए रखे

व्हे प्रोटीन का उपयोग कर त्वचा में एल्कलाइन को बढ़ाया जा सकता है (18)। एल्कलाइन के बढ़ने पर त्वचा का पीएच स्तर संतुलित रहता है (19)। इसलिए, प्रोटीन पाउडर के फायदे में त्वचा का पीएच स्तर संतुलित रखना भी शामिल है।

कैसे करें उपयोग :
  • दो कप व्हे प्रोटीन को पानी से भरे बाथ टब में मिलाएं।
  • फिर इस पानी से स्नान कर लें।

6. एंटी एजिंग

35 की उम्र के बाद चेहरे पर बढ़ती उम्र का असर साफ नजर आने लगता है। ऐसे में व्हे प्रोटीन का उपयोग एंटी एजिंग की तरह काम कर सकता है। इसके लिए इसमें पाया जाने वाला विटामिन-ई सहायक हो सकता है, जिसका उपयोग कई एंटी-एजिंग क्रीम में किया जाता है (9) (20)।

कैसे करें उपयोग :
  • एक चम्मच व्हे प्रोटीन को आधा कप पानी या दूध के साथ मिला लें।
  • फिर उसे चेहरे पर लगा लें।
  • कुछ घंटों बाद पानी से चेहरा धो लें।

ऊपर आपने त्वचा के लिए व्हे प्रोटीन के फायदे पढ़े, आइए अब बालों के लिए इसके फायदे जान लेते हैं।

बालों के लिए व्हे प्रोटीन पाउडर के फायदे – Hair Benefits of Whey Protein in Hindi

1. बालों का विकास

बालों के विकास में व्हे प्रोटीन का उपयोग लाभदायक हो सकता है। बालों के विकास में मुख्य भूमिका निभाने वाले पोषक तत्वों में विटामिन-सी, विटामिन-बी, जिंक, आयरन, मैग्नीशियम और कैल्शियम होते हैं (21)। वहीं, व्हे प्रोटीन में ये पोषक तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं (9)।

कैसे करें उपयोग :
  • व्हे प्रोटीन को दूध में मिलाकर सेवन करें।
  • इससे बालों को जरूरी पोषण मिल जाएंगे।

2. कंडीशनर

व्हे प्रोटीन को कंडीशनर की तरह भी उपयोग किया जा सकता है। यह सब इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व के कारण ही संभव हो सकता है। इसमें विटामिन सी की अच्छी मात्रा पाई जाती है, जो बालों में नमी बनाए रखने का काम कर सकता है (9)।

कैसे करें उपयोग :
  • एक चम्मच व्हे प्रोटीन को एक कप पानी में घोल लें।
  • फिर इसे स्नान से 10 मिनट पहले बालों में लगा लें।
  • यह बालों के लिए कंडीशनिंग का काम करेगा।

3. स्वस्थ स्कैल्प के लिए

अगर आपके बाल लगातार झड़ रहे हैं, तो इसके पीछे अस्वस्थ स्कैल्प हो सकता है। ऐसा विटामिन (ई, सी और ए) की कमी के कारण हो सकता है (22)। व्हे प्रोटीन में ये सभी विटामिन्स पाए जाते हैं, जो एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करते हैं। इससे स्कैल्प को स्वस्थ बनाए रखा जा सकता है (9)।

कैसे करें उपयोग :
  • एक गिलास दूध में एक चम्मच व्हे प्रोटीन पाउडर मिला लें।
  • फिर इसका सेवन करें।

इस लेख के अगले भाग में हम व्हे प्रोटीन में मौजूद पोषक तत्वों के बारे में बता रहे हैं।

व्हे प्रोटीन के पौष्टिक तत्व – Whey Protein Nutritional Value in Hindi

व्हे प्रोटीन के लाभ पहुंचाने का मुख्य कारण उसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व हो सकते हैं। इसे नीचे दिए जा रहे टेबल के माध्यम से समझा जा सकता है (9):

पोषक तत्वमात्रा प्रति 100 g
पानी0.86 g
ऊर्जा359 kcal
प्रोटीन58.14 g
टोटल लिपिड (फैट)1.16 g
कार्बोहाइड्रेट29.07 g
शुगर, टोटल1.16 g
मिनरल्स
कैल्शियम ,Ca698 gm
आयरन ,Fe1.26 mg
मैग्नीशियम , Mg 233 mg
फास्फोरस ,P581 mg
पोटैशियम ,K872 mg
सोडियम ,Na372  mg
जिंक ,Zn8.72 mg
विटामिन्स
विटामिन सी , टोटल एस्कॉर्बिक एसिड34.9 mg
थाइमिन0.872 mg
राइबोफ्लेविन0.988 mg
नियासिन11.628 mg
विटामिन बी -61.163 mg
फोलेट DFE395 µg
विटामिन बी-123.49 µg
विटामिन ए ,RAE872 µg
विटमिन ए ,।U2907 ।U
विटामिन ई (अल्फा-टोकोफ़ेरॉल)7.85 mg
विटामिन के (पिल्लोक्विनोने )46.5 µg
लिपिड
फैटी एसिड, टोटल सैचुरेटेड0.581 g
फैटी एसिड, टोटल मोनोसैचुरेटेड0.149 g
फैटी एसिड, टोटल पॉलीसैचुरेटेड0.021 g
कोलेस्ट्रोल12 mg

आइए, अब व्हे प्रोटीन के फायदों के बारे में भी जान लेते हैं।

व्हे प्रोटीन का उपयोग – How to Use Whey Protein in hindi

अगर आप सोच रहे हैं कि व्हे प्रोटीन पाउडर को कैसे यूज किया जाता है, तो उसकी जानकारी हम यहां दे रहे हैं।

कैसे सेवन करें :
  • व्हे प्रोटीन को पानी में मिलकर पी सकते हैं।
  • इसे दूध में मिलाकर भी पिया जा सकता है।
कब सेवन करें :
  • सुबह और शाम वर्कआउट करने के बाद लेना बेहतर होगा।
कितना सेवन करें :
  • वैसे तो इसके पैकेट पर लिखा होता है कि इसका कितना सेवन करना चाहिए, लेकिन आप प्रतिदिन इसके 1-2 चम्मच ले सकते हैं।

व्हे प्रोटीन का सेवन जिस तरह लाभदायक होता है, वैसे ही इसके कुछ नुकसान भी हो सकते हैं। इसके बारे में हम आगे बता रहे हैं।

व्हे प्रोटीन के नुकसान – Side Effects of Whey Protein in Hindi

कई स्थिति ऐसी होती हैं, जब व्हे प्रोटीन के नुकसान हो सकते हैं।

    • व्हे प्रोटीन का अधिक मात्रा में सेवन करने से मुंहासे होने का जोखिम बढ़ जाता है (23)।
    • व्हे प्रोटीन का अधिक मात्रा में सेवन मधुमेह का कारण बन सकता है।
    • लंबे समय तक प्रोटीन का सेवन करने से किडनी से संबंधित समस्याएं हो सकती हैं (24)।

अब आप जिम या फिर अन्य किस भी प्रकार के वर्क आउट के साथ व्हे प्रोटीन को जरूर शामिल करें। इससे आप न सिर्फ सेहतमंद रहेंगे, बल्कि यह आपकी त्वचा और बालों के लिए भी लाभदायक हो सकता है। ध्यान रहे कि यह प्रोटीन तभी फायदा करेगा, जब इसे सही मात्रा में लिया जाए, अन्यथा फायदे की जगह नुकसान हो सकता है। उम्मीद करते हैं कि यह लेख आपके लिए फायदेमंद सिद्ध होगा। आप नीचे दिए कमेंट बॉक्स के जरिए हमें संपर्क कर सकते हैं।

और पढ़े:

×
This article changed my life!
This article was informative.
Change

×
This article contains incorrect information.
This article doesn’t have the information I’m looking for.
Change

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

Bhupendra Verma

भूपेंद्र वर्मा ने सेंट थॉमस कॉलेज से बीजेएमसी और एमआईटी एडीटी यूनिवर्सिटी से एमजेएमसी किया है। भूपेंद्र को लेखक के तौर पर फ्रीलांसिंग में काम करते 2 साल हो गए हैं। इनकी लिखी हुई कविताएं, गाने और रैप हर किसी को पसंद आते हैं। यह अपने लेखन और रैप करने के अनोखे स्टाइल की वजह से जाने जाते हैं। इन्होंने कुछ डॉक्यूमेंट्री फिल्म की स्टोरी और डायलॉग्स भी लिखे हैं। इन्हें संगीत सुनना, फिल्में देखना और घूमना पसंद है।

ताज़े आलेख